होली रंगों का त्यौहार पर विशेष जानकारी Holi Essay in Hindi

0

Rango Ka Tyohar Holi Essay In Hindi

रंगों का पर्व होली पर विशेष निबन्ध

वैसे तो हमारे देश में हर त्यौहार मनाने के पीछे कोई न कोई धार्मिक, ऐतिहासिक या पौराणिक महत्व जरुर रहता है जिन परम्पराओ का पालन हमारे देश में सदियों होता चला आ रहा है और इन परम्पराओ पर आधारित ये त्यौहार हमारे भारतीय संस्कृति का अभिन्न अंग है जिन्हें हम बहुत ही जोश और पूरी उर्जा के साथ लोगो के साथ मिलकर अपने इन त्योहारो को मनाते है और इसी कड़ी में सबसे रंगबिरंगा रंगों का त्यौहार है होली | Holi

सोचिये जरा अगर हमारे जीवन में रंग न हो तो ये धरती आकाश सम्पूर्ण नीरस और रंगहीन लगेगी, लोगो में जीवन तो होगा लेकिन बिना रंगों के ये धरती सुनी लगेगी न आकाश का रंग नीला होगा न ही धरती पर हरियाली की रंग हरा होंगा और न ही सूर्य में लाल रंग होगा और न ही दिन के उजाले में सूर्य की किरणों में चमकीला रंग होगा फिर भला इन रंगो के बिना सबकुछ फीका फीका लगेगा और इसी रंगो पर आधारित है हम सभी का सबसे प्यारा त्यौहार रंगों की होली जो की इस रंगों के त्यौहार में हर कोई रंगों में रंग जाता है तो लोगो में आपसी प्यार और सद्भावना का विकास होता है

तो आप सभी को अच्छीएडवाइस डॉटकॉम की तरफ से होली | Holi की ढेर सारी रंगबिरंगी हार्दिक शुभकामनाये सबके जीवन में खुशियों का रंगबिरंगा बहार हो यही हम ईश्वर से कामना करते है

तो आईये जानते है होली के इस सुबह अवसर पर रंगों के त्यौहार होली के बारे में और फिर खो जाते है रंगो में अपनी दुनिया को खुशनुमा और रंगीन बनाने में .

होली का त्यौहार

Holi Festival in Hindi

HOLI

भारत देश में हिन्दू धर्म में होली हिन्दुओ का एक प्रमुख त्यौहार है जो की होली का त्यौहार पूरे भारत में मनाया जाता है और होली के दिन हर कोई रंगों में रंग जाता है जिसके नज़ारे देखने में वाकई अद्भुत और प्रसन्न करने वाला होली का दिन होता है होली का पर्व यानी हिंदी महीने फागुन महीने में पूर्णिमा को मनाया जाता है जो की बसंत ऋतू में यह त्यौहार पड़ने के कारण पूरा वातावरण सुंदर और हरियाली के रंगों से भर जाता है होली के त्यौहार की शुरुआत तो माँ सरस्वती के पूजा वाले दिन बसंत पंचमी से ही शुरू हो जाती है बसंत पंचमी के ही दिन जगह जगह होलिका की स्थापना की जाती है जो की होली के ठीक एक दिन पहले होलिका का त्यौहार के रूप में होलिकादहन | HolikaDahan किया जाता है

फिर इसके पश्चात अगले दिन सुबह से ही लोग एक दुसरे के उपर रंग गुलाल लगाते है और सभी लोग एक दुसरे से आपसी मतभेदों को भुलाकर इस दिन पूरे जोश के साथ रंगो का त्यौहार होली खेलते है चूकी भारत एक कृषी प्रधान देश है ऐसे में जब होली के समय पूरी धरती खेतो में गेहू की खेती की हरे रंग की हरियाली और सरसों की खेती से पूरा धरती सोने के समान पिला हो जाता है जो की धरती की सुन्दरता में चार चाँद लगा देते है जिसे देखकर हर किसी का मन प्रफुल्लित हो जाता है और किसान अपने खेतो में लहराते हुए फसलो को देखकर फुले नही सरमाते है हर कोई फागुन के इस मस्त मौसम में मस्त हो जाता है

होली मनाने की पौराणिक कहानी | होली क्यू मनाया जाता है

Holi Kyu Manaya Jata Hai Holi Ki Kahani

हमारे देश भारत में कई प्रकार के त्यौहार मनाये जाते है जिनमे हर त्यौहार मनाये जाने के ऐतिहासिक या पौराणिक कारण होते है ठीक उसी प्रकार होली मनाये जाने के पीछे भी एक पौराणिक कहानी है आईये होली के इस पौराणिक कहानी जानते है

HOLIKA DAHAN

प्राचीन काल में हिरण्यकशिपु नाम का एक प्रतापी असुर राजा था जिसने अपनी तपस्या से प्रसन्न करके सृष्टी रचयिता परमपिता ब्रह्मा से उसने यह वरदान प्राप्त किया था की उसे कोई भी नर पशु दांनव या ईश्वर नही मार सकते है जिसके बाद हिरण्यकशिपु  खुद अपने आप को भगवान समझने लगा था और फिर इसके बाद वह लोगो पर अत्याचार करने लगा था उसके इस आतंक के डर से लोग भगवान का नाम छोड़कर हिरण्यकशिपु  की पूजा करने लगे थे लेकिन खुद हिरण्यकशिपु  के पुत्र भक्त प्रह्लाद | Bhakt Prahlad अपने पिता के जगह देवताओ के इष्ट भगवान विष्णु की पूजा करते थे जिससे यह बात जानकर हिरण्यकशिपु  बहुत ही क्रोधित हुआ और प्रह्लाद को मारने के लिए अनेको उपाय किया फिर भी वह ईश्वर की भक्ति के कारण प्रह्लाद को मारने में विफल रहा,

और फिर प्रह्लाद को मारने के लिए अपनी बहन होलिका को प्रह्लाद के साथ अग्नि में प्रवेश करने की आज्ञा दे दिया होलिका को यह वरदान प्राप्त था की वह कभी भी अग्नि में जल नही सकती है लेकिन जब वह प्रह्लाद के साथ अग्नि में प्रवेश की तो प्रह्लाद का ईश्वर की भक्ति के कारण प्रह्लाद का बाल भी बांका न हुआ और इसके विपरीत होलिका अग्नि में जलकर मर गयी जिस कारण ईश्वर की भक्ति के कारण अच्छाई की बुराई पर जीत हुई और फिर प्रह्लाद की इसी भक्ति के कारण तभी से हर साल होलिका मनाया जाने लगा जो की समाज में यह पर्व बुराई पर अच्छाई की जीत की याद दिलाता है

इसके अतिरिक्त होली का पर्व द्वापरयुग में कृष्ण और राधा के बीच प्रेम को भी दर्शाता है भगवान् श्रीकृष्ण राधा के संग फूलो और रंगों की होली खेलते थे जिसकी याद साल होली बड़े ही प्रेम से भाररतीय जनमानस द्वारा मनाया जाता है और आज भी मथुरा के बरसाने की होली जगप्रसिद्द है

होली कब और कैसे मनाया जाता है

Holi Kab Aur Kaise Manaya Jata Hai

होली हिन्दुओ का बहुत ही प्राचीन पर्व है इसकी शुरुआत कब से हुई है इसका कोई लिखित प्रमाण नही मिलता है लेकिन हिन्दू धर्म के सभी धर्मग्रंथो में होली मनाने का उल्लेख जरुर मिलता है

वैसे तो होली का त्यौहार बसंत ऋतू के आगमन से ही शुरू हो जाता है होली का मुख्य त्यौहार दो दिनों मनाया जाता है पहले दिन जिसे होलिकादहन के नाम से जानते है होलिकादहन के लिए होलिका की स्थापना बसंत पंचमी के दिन ही की जाती है बंसत पंचमी के दिन लोग जगह जगह खाली स्थानों में होलिका का विधिवत पूजा पाठ करके होलिका की स्थापना की जाती है फिर होलिकादहन के लिए इस दिन से लोग लकड़िया इक्कठा करते है और प्राय यह भी देखा जाता है की किस गाव महल्ले में सबसे बड़ी होलिका बनाने में होड़ लगी रहती है

HOLIऔर फिर होली के ठीक एक दिन पहले लोग होलिकादहन की तैयारी करते है होलिकादहन के दिन सरसों पीसकर उबटन लगाने की की परम्परा है और फिर उबटन लगाने के पश्चात जो हमारे शरीर से उबटन छूटकर निकलता है उसे होलिकादहन में जलाया जाता है ऐसी मान्यता है की ऐसा करने से हमारा शरीर स्वस्थ और निरोगी रहता है फिर फिर रात में लोग होलिका जलाने के लिए इक्कठा होते है फिर विधिवत पूजापाठ के बाद होलिका को जलाया जाता है और फिर मान्यताओ के अनुसार होलिकादहन के बाद लोग रात में खाना नही खाते है क्यूकी यह एक तरह से होलिका को जलाने की रस्मे है और हिन्दू धर्म में किसी का दाह संस्कार के बाद तुरंत भोजन नही किया जाता है सो सभी लोग होलिकादहन के पहले ही अपना भोजन कर लेते है

और फिर होलिकादहन के पश्चात अगले दिन सुबह से ही होली के त्यौहार की शुरुआत हो जाती है होली के दिन सभी लोग आपसी मतभेदों को भुलाकर आपस में एक दुसरे को रंग लगाते है और फिर पूरे मस्ती के साथ पूरा दिन बिताते है हर कोई होली के रंग में इस कदर डूब जाता है की हर जगह बस होली की खुशिया ही देखने को मिलती है चारो तरफ रंगों की फुहार और रंगों के गुलाल से गली मुहल्ला रंगीन हो जाते है हर जगह होली के गानों का आयोजन किया जाता है गावो में तो लोग फागुन का एक से एक गाने गाते है जिसे सुनकर हँसी और मन में मस्ती का भाव आ जाता है बड़े भी बच्चे बन जाते है होली के त्यौहार को लेकर बच्चो में उत्साह देखने लायक होता है बच्चे तो चाहे कोई भी हो अगर उनके सामने से कोई भी गुजरता है तो रंग लगाना नही भूलते है

और फिर होली का त्यौहार हो तो खाने पीने की बात न हो तो यह थोडा अधुरा ही लगता है होली के इस रंग भरे त्यौहार पर तरह तरह की मिठाईया बनाई जाती है जिनमे सबसे ज्यादा प्रसिद्द गुझिया होती है यह प्राय सभी घरो में बनायीं जाती है होली के त्यौहार पर लोग घरो में अनेक प्रकार के पापड़, पकवान और व्यंजन बनाते है और जो भी घर पर आता है हर सभी को बड़े ही प्यार से इन व्यजनो को खिलाया जाता है इस तरह होली का त्यौहार रंग के त्यौहार तो कहलाता ही है इसे लोग खुशियों और आपसी प्रेम और सौहार्द् का भी त्यौहार कहते है

होली के त्यौहार पर सावधानिया

Holi Ke Tyohar Par Savdhaniya

जैसे जैसे हमारा समाज विकास की ओर बढ़ता जा रहा है वैसे वैसे समाज में अनेको तरह की बुराईया भी जन्म ले रही है जिसका असर इन त्योहारों पर भी देखने को मिलता है होलिकादहन के त्यौहार से ऐसी मान्यता है की होलिकादहन से हमारे वातावरण में फैले अनेको प्रकार के कीटाणु अग्नि के ताप के प्रभाव से जलकर मर जाते है यह बात वैज्ञानिक दृष्टी पर भी खरी उतरती है लेकिन आजकल त्योहारों पर अंधाधुंध तरह तरह पटाखों के धुएं से कही न कही हमारा वायुमंडल भी दूषित हो जाता है जो की बहुत ही सोचनीय है

इसके अतिरिक्त होली का त्यौहार प्रेम के रंगों का त्यौहार माना जाता है लेकिन चंद कुछ लोग इन त्योहारों पर तरह तरह के शराब मदिरा और अन्य प्रकार के नशा का भी सहारा लेते है जो की कही न कही रंगो के त्यौहार में खलल पैदा करते है और कुछ लोग चंद पैसे के लाभ की खातिर रंगों में तरह तरह के रसायनों का प्रयोग कर देते है जो की हमारे शरीर के त्वचा के लिए नुकसानदायक होता है इसलिए हम सभी का अपने त्योहारों की गरिमा बनाये रखने के लिए यह फर्ज बनता है की हम सभी ऐसे नशे से दूर रहे या जो लोग चंद ख़ुशी की खातिर नशे का सहारा लेते है उन्हें ऐसे करने से रोकने के लिए समझाए और अपने फायदों के लिए लोगो के स्वास्थ्य से लोग खिलवाड़ न करे हमे उन्हें रोकने के लिए भी कोशिश करनी चाहिए तभी हमारा ये प्यारा रंगों का त्यौहार हर किसी के जिन्दगी में खुशिया भर सकता है

और अंत में आप सभी से यही कहना है – बुरा न मानो होली है

आप सभी को होली पर दी गयी विशेष जानकरी कैसा लगा प्लीज हमे कमेंट बॉक्स में जरुर बताये और आप सभी को अच्छीएडवाइस की तरह से Happy Holi……….

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here