हिमा दास की प्रेरणादायक जीवन परिचय Hima Das Biography in Hindi

0

Hima Das Jivan Parichay Biography in Hindi

सफलता के ट्रैक पर उड़नपरी हिमा दास का प्रेरणात्मक जीवनी

वो कहते है न जिन्दगी के इस रेस में जो जितना तेज दौड़ेगा निश्चित ही सफलता के बड़े बड़े ट्रैक उसके कदमो के नीचे होंगे, कुछ ऐसा ही अपना देश है भारत, यहाँ के लोग अगर ठान ले तो पूरे विश्व ने अपने सफलता का परचम जरुर लहराते है और अपने सफलता से पूरे देश का गौरव का मान बढ़ाते है तो आज सबसे चर्चित हस्ती बन गयी है हिमा दास, जी हा भारतीय रेसर Hima Das ने आईएएऍफ़ विश्व अंडर-20 एथलेटिक्स चैम्पियनशिप 400 मीटर की दौड़ प्रतिस्पर्धा में पहला स्थान पर जीतकर इतिहास बना दिया है वे ऐसी पहली एथलीट बन गयी है जिन्होंने गोल्ड मेडल जीत लिया है

तो चलिए असम के एक छोटे से किसान परिवार से आने वाली हिमा दास आज हम सभी भारतीयों के लिए गर्व बन गयी है तो चलिए हिमा दास के जीवनी को जानते है जिनसे हम सभी अपने जीवन में आगे बढ़ने का प्रेरणा ले सकते है

गोल्डन गर्ल हिमा दास का जीवन परिचय

Golden Girl Hima Das Biography in Hindi

Hima Das

पूरा नाम (Full Name) :- हिमा रोंनजीत दास (Hima Das)

उपनाम (Nick Name) :- ढिंग एक्सप्रेस, मोन जय, गोल्डन गर्ल

जन्मतारीख (Date of Birth) :- 9 जनवरी 2000

जन्मस्थान (Birth Place) :- ढिंग, नगाँव, असम

माता का नाम (Mother Name) :- जोनाली दास

पिता का नाम (Father Name) :- रोनजीत दास

नागरिकता (Nationality) :- भारतीय

धर्म (Religion) :- हिदू

वैवाहिक स्थिति (Marital Status) :- अविवाहित

कोच (Coach) :- निपोन दास

शौक (Hobbies) :- फ़ुटबाल खेलना, शूटिंग, फिल्मे देखना, गाना सुनना

प्रसिद्धि (Record) :- वर्ष 2018 आईएएएफ वर्ल्ड U-20 चैम्पियनशिप में उन्होंने 400 मीटर की रेस में स्वर्ण पदक जीता और विश्व चैंपियनशिप में खिताब जीतने वाली वह पहली भारतीय ट्रैक एथलीट बनी,

हिमा दास का जीवनी 

Hima Das Biography in Hindi

हिमा दास का जन्म 9 जनवरी 2000 को ढिंग, नगाँव, असम में हुआ था इनके पिता रोनजीत दास जो की किसान और इनकी माता जोनाली दास जो की एक गृहणी है इनका परिवार खेती के सहारे जीवन गुजर बसर करता है हिमा दास अपने 5 भाई बहनों में सबसे छोटी है

बचपन से कुछ अलग करने की चाहत रखने वाली हिमा दास हर लड़कियों से शुरू से ही अपनी पहचान अलग रखती है उन्हें बचपन से फ़ुटबाल खेलने का शौक है और यहाँ तक की अपने स्कूल में लडको के साथ मिलकर फ़ुटबाल खेला करती थी जिस कारण से इस खेल में अत्यधिक दौड़ लगाने से इनकी दौड़ने की स्टेमिना काफी बढ़ गया था जिस कारण से वे बहुत तेज रफ़्तार से दौड़ने लगी थी

हिमा दास के रेसर बनने की कहानी

Hima Das As Racer Life in Hindi

चुकी बचपन से हिमा दास को खेलो के प्रति जबरदस्त झुकाव था, यहाँ तक की घर वालो के मना करने के बावजूद वे खेलो में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेती थी जिसे देखकर लोग दंग रह जाते थे लेकिन हिमा दास इन सबकी बातो की परवाह किये बगैर वे कुछ अलग करना चाहती थी जिस कारण से अपने फिजिकल एजुकेशन के टीचर द्वारा उन्हें रेसर बनने का सलाह मिला जिसे हिमा दास ने रेसर में अपना कैरियर बनाना शुरू किया और फिर वे हर तरफ दौड़ प्रतिस्पर्धा में भाग लेने लगी थी और मिट्टी के ट्रैक पर ही दौड़ने का प्रैक्टिस करने लगी थी.

और फिर 2017 में उनकी मुलाकात उनके कोच निपोन दास अंतर जिलास्तर के प्रतिस्पर्धा के दौरान हुआ, इस प्रतिस्पर्धा में हिमा दास ने 100 और 200 मीटर के दौड़ में भाग लिया और इन दोनों प्रतिस्पर्धा में अव्वल रही जिसे देखकर हर कोई दंग रह गया था और सबसे अचरज की बात है इस प्रतिस्पर्धा को जीतने के लिए अपने सस्ते से जूते का उपयोग किया था

और फिर यही से निपोन दास ने हिमा दास का गुरु बनना स्वीकार किया और फिर ट्रेनिग देने के लिए गुवाहाटी ले गये जो की हिमा दास के घर से लगभग 150 किलोमीटर दूर था जिसको लेकर हिमा दास के घर वाले ले जाने को तैयार नही थे, बाद में हिमा दास और उनके कोच के समझाने पर उनके घर वाले तैयार हो गये फिर इसके बाद निपोन दास ने शुरू शुरू में 200 मीटर फिर स्टेमिना के बढने पर 400 मीटर दौड़ की ट्रेनिंग देने लगे और इस तरह हिमा दास अपने साहस और कुछ कर गुजरने की इच्छा के दम पर खुद को एक रेसर के रूप में स्थापित किया

हिमा दास का बेहतरीन रेसर बनने का रिकॉर्ड

Hima Das Racer Record in Hindi

हिमा दास वर्ष 2018 आईएएएफ वर्ल्ड U-20 चैम्पियनशिप में उन्होंने 400 मीटर की रेस में स्वर्ण पदक जीता और विश्व चैंपियनशिप में खिताब जीतने वाली वह पहली भारतीय ट्रैक एथलीट बनी और पूरे विश्व में भारत का मान बढाया.

हिमा दास से जुड़े सबसे ताजा न्यूज़ खबर

Hima Das Latest News in Hindi

और वर्तमान में हिमा दास का शानदार प्रदर्शन लगातार जारी है। उन्होंने 15 दिनों के भीतर चौथा स्वर्ण पदक जीत लिया है। हिमा दास अपना ही रेकॉर्ड तोड़ने में लगी हुई हैं। हिमा ने चेक गणराज्य में हुए टाबोर ऐथलेटिक्स टूर्नमेंट में 200 मीटर स्पर्धा का स्वर्ण जीता। इसके बाद हिमा ने बुधवार को हुई रेस को 23.25 सेकेंड में पूरा करके गोल्ड मेडल जीत लिया है और अपने हमवतन वी.के विसमाया 23.43 सेकेंड का समय निकालते हुए दूसरे पायदान पर रहीं।

इससे पहले उन्होंने 2 जुलाई को पोलैंड में हुई पहली रेस को 23.65 सेकेंड में जीता था। इससे पहले हिमा ने क्लांदो मेमोरियल ऐथलेटिक्स प्रतियोगिता में शनिवार को तीसरा गोल्ड जीता था। और फिर 8 जुलाई को वह पोलैंड में हुए कुंटो ऐथलेटिक्स टूर्नमेंट में 200 मीटर रेस में स्वर्ण पदक अपने नाम कर चुकी हैं। इस तरह भारत की उड़नपरी अपने ही बनाये हुए रिकॉर्ड को तोड़ते नित नये रिकॉर्ड स्थापित भी कर रही है जो की हम सभी भारतीयों के लिए गर्व का क्षण है

हम सभी भारतीयों का उन्हें दिल से सलाम और उनके जीवन संघर्ष से प्रेरणा लेते हुए हम सभी अपने जीवन के ट्रैक पर अच्छे से दौड़ते हुए अपने जीवन को सफल बना सकते है

तो आप सभी को सफलता के ट्रैक पर उड़नपरी हिमा दास का प्रेरणात्मक जीवन परिचय | Hima Das Jivan Parichay Biography in Hindi कैसा लगा कमेंट जरुर बताये और इस पोस्ट को जरुर शेयर करे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here