सावन माह का महत्व और शिव पूजा पर विशेष Savan Month Shiv Puja

0

Savan Month Ka Mahatva Aur Savan Ka Mahina Shiv Puja

सावन मास का महत्व और भगवान शिव की पूजा

हिन्दू धर्म के पौराणिक मान्यताओं के आधार पर भारत भूमि सदैव से देवो की भूमि रहा है हिन्दू धर्म के मान्यताओं के आधार पर यहा पर समय समय अनेक देवी देवताओ ने जन्म लेकर और अपने कर्म से इस धरती को धन्य किया है जिस कारण से पौराणिक महत्व से हिन्दू धर्म में हर दिन, माह का अपना विशेष महत्व है और इन्ही कारणों से सावन महिना का अपना विशेष महत्व है,

तो चलिए इस सावन महीने के महत्व और शिव पूजन के बारे में जानते है

हिन्दू धर्म में सावन मास

Month of Savan in Hindu religion in Hindi

Savan Month Shiv Puja

एक तरफ जहा सावन के मास के आने से पहले ही वर्षा ऋतू का आगमन हो जाता है जिस कारण से लोगो की तपती गर्मी से निजात मिलने लगती है और दूसरी तरफ सुखी वीरान पड़ी धरती बारिश के बूंदों के पड़ते ही अपने ऊपर हरियाली की चादर ओढ़ने लगती है जिससे समूचा जगत मनमोहक और सुकून देने वाला होता है और चारो तरफ हरियाली को देखने से मन प्रफुल्लित हो जाता है

और ऐसे में समाज के हर तबके फिर एक नई उर्जा के साथ अपने कार्यो में लग जाते है एक तरफ जहा विद्यार्थियों के फिर से स्कूल खुलते है और हरियाली और वर्षा किसानो के लिए फिर से अन्न पैदा करने के लिए एक नई आशा लेकर आती है तो दूसरी तरफ सावन माह के आने से फिर से हिन्दू धर्म के धार्मिक त्योहारों का फिर से आगमन हो जाता है जिससे व्यापार के नये अवसर भी लाते है यानी सावन महीना साल के 6 महीने बीतने के बाद भले ही आते है लेकिन ये मास पूरे साल के लिए एक नया लेखा जोखा तैयार कर देते है जिस कारण से इस मास से फिर लोग अपने नये कार्यो की शुरुआत करते हुए फिर लग अपने कार्यो में लग जाते है.

सावन माह का महत्व

Importance of Savan Month in Hindu religion in Hindi | Savan Maah ka Mahatva

चुकी जैसा की हम सभी जानते है की सावन माह के आते ही बरसात का आगमन हो जाता है जिससे किसानो के लिए यह महिना खेती की हिसाब से वरदान माना जाता है अगर इस धरती पर वर्षा ही न हो तो फिर जीवन का अस्तित्व ही खतरे में आ जायेगा ऐसे में इस धरती पर जीवन रूपी पानी के लिए वर्षा का होना बहुत जरुरी है जो की अर्थव्यवस्था के हिसाब से भी इस महीने का महत्व बढ़ जाता है

भले ही अत्यधिक वर्षा से इस महीने में अर्थव्यवस्था पटरी से उतर जाती हो लेकिन यही महीना साल भर की अर्थव्यवस्था कैसा रहेगा तय हो जाती है यानि अगर इस महीने में बारिश ही नही हो तो फिर साल भर अन्न की मारामारी, पानी की किल्लत, सूखे और अत्यधिक गर्मी जैसे अनेक समस्याओ से गुजरना पड़ेगा और अगर बारिश ही नही होगा तो फिर धरती पर अन्न ही पैदा नही होगे तो ऐसे में सारी अर्थव्यवस्था पटरी से उतर जाएगी जिस कारण से इस सावन का सामाजिक, आर्थिक दृष्टि से बहुत अधिक बढ़ जाता है

सावन माह धार्मिक का महत्व

Importance of Savan Month in Hindu religion in Hindi | Savan Maah ka Mahatva

जैसा की आप सभी सभी सावन महीने के आर्थिक और सामजिक महत्व को जान चुके है अब इस सावन के हिन्दू धर्म के पौराणिक मान्यताओ के आधार पर धार्मिक महत्व को जानते है

सावन माह में भगवान शिव जी की पूजा का विशेष महत्व होता है क्युकी इस मास में भगवान भोलेनाथ की पूजा करने से इसे काफी फलदायक माना जाता है धार्मिक महत्व को देखते हुए जैसा की बताया गया है की भगवान शिव अपने नाम के अनुसार काफी भोले है वे जल्द ही अपने भक्तो पर प्रसन्न होते है और सावन के सोमवार का महत्व तो और काफी बढ़ जाता है क्युकी सावन के सोमवार को शिव जी विशेष रूप से पूजन अर्चन किया जाता है

सावन मास और भगवान शिव की पूजा

Month of Savan and Shiv Puja in Hindi | Shiv Puja in Savan

सावन महीने में भगवान शिव पूजा का विशेष महत्व होता है इस महीने में 4 सोमवार तो निश्चित ही पड़ते है तो ऐसे में जो लोग पूरे महीने भक्ति के लिए समय नही दे सकते है वे सावन के चारो सोमवार को पुजन अर्चन करके भगवान शिव की कृपा पा सकते है

सावन के हर सोमवार को भगवान शिव के मंदिरों में सुबह से ही काफी भीड़ देखने की मिलती है और सावन के सुहागिन महिलाये अपने पति की लम्बी आयु खासकर हर सोमवार को व्रत जरुर रखती है जबकि अविवाहित कन्याये भगवान शिव की कृपा से अच्छे वर के लिए भी व्रत रखती है क्युकी सावन के इस महीने में भगवान शिव की कृपा बहुत जल्दी प्राप्त हो जाती है

इसके अतिरिक्त भारत के प्रसिद्द शिव मंदिरों में लोग गंगाजल लेकर शिव कावर यात्रा करते है जिसमे कावर यात्रा में गंगा जी लोग जल भरकर शिव मंदिरों तक पैदल यात्रा करते है जिनमे भारत के भारत के बाबा बैजनाथ धाम की यात्रा बहुत अत्यधिक प्रसिद्द है जिसमे लगभग 110 किलोमीटर पैदल यात्रा करना होता है जो काफी रोमांचित और सुखद अनुभव वाला यात्रा होता है और कहा जाता है की वही लोग ऐसे यात्रा को कर पाते है जिनपर भगवान शिव की कृपा होती है

शिव पूजा क्यों किया जाता है | शिव पूजा का कहानी

Why Shiv Puja Celebrate in Hindi | Shiv Puja Kahani

सावन में शिव पूजा का विशेष महत्व है इस मास में शिव पूजा के पीछे कई धार्मिक कहानिया भी है जो इस प्रकार है

कहा जाता है जब देवता और दानव मिलकर समुंद्र मंथन किये थे तो उसी समुंद्र मंथन से हलाहल विष निकला था जिसे सृष्टि की रक्षा के लिए विष को वातावरण में मिलने से बचाने के लिए भगवान शिव सबसे आगे आये और उन्होंने इस विष को पी लिया था और इस विष को अपने कंठ के नीचे धारण कर लिया था यानि इस विष की नीचे जाने ही नही दिया था जिस कारण से विष के प्रभाव से भगवान भोले का कंठ नीला पड़ गया था जिस कारण से उनका एक नाम नीलकंठ भी पड़ गया था

इसके बाद विष का प्रभाव का ताप शिव जी के ऊपर बढ़ने लगा जिस कारण यह घटना इसी सावन मास में घटा था जिस कारण से शिव जी के ऊपर से विष का प्रभाव कम करने के लिए पूरे महीने घनघोर वर्षा करते रहे, जिस कारण से शिव जी के ऊपर से विष का प्रभाव कुछ कम हुआ लेकिन अत्यधिक वर्षा से सृष्टि को बचाने के लिए भगवान शिव ने अपने मस्तक पर चन्द्र धारण किया जो की चन्द्रमा शीतलता का प्रतिक है भगवान शिव को इससे शीतलता मिली जिस कारण तब से हर वर्ष सावन ने इसी महीने में भगवान शिव को जल चढ़ाने की परम्परा की शुरुआत हुई, जिस कारण से भगवान शिव अपने भक्तो पर जल्दी प्रसन्न होते है

तो आप सभी को सावन माह के महत्व और शिव पूजा विधि विधान के महत्व के बारे में दी गयी जानकारी कैसा लगा कमेंट में हमे जरुर बताये और इस पोस्ट को शेयर भी जरुर करे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here