AchhiAdvice.Com

The Best Blogging Website for Help, General Knowledge, Thoughts, Inpsire Thinking, Important Information & Motivational Ideas To Change Yourself

Biography Information

भारत की महिला पहलवान गीता फोगाट की जीवनी

अगर इरादे बुलंद हो तो दुनिया की कोई भी ताकत कितना भी मजबूत संघर्ष का कितना भी बड़ा अखाड़ा क्यों ना हो तो उसे कोई भी पटखनी नही दे सकता है ऐसा ही सच कारनामा कर दिया है भारत की महिला पहलवान गीता फोगट ने, जी हां Geeta Phogat भारत के उस राज्य की बेटी है जहा बेटियों को पैदा होना भी पाप माना जाता है लेकिन Geeta Phogat ने शायद अब इस परिभाषा को बदल दिया है तभी तो अब Geeta Phogat के बारे में यह कहावत मशहूर हो चुकी है “हमारी छोरियों छोरो से कम है के”

About Geeta Phogat Biography in Hindi

गीता फोगट की जीवन परिचय

गीता फोगट family

तो चलिए अब गीता फोगट  कौन है और उनके Family Member कौन कौन है उनके जीवन परिचय, Biography जानते है.

गीता फोगट की जीवनी

Geeta Phogat Biography in Hindi

गीता फोगट की जीवनी
नाम :- गीता फोगट | Geeta Phogat
जन्मतिथि :- 15 दिसम्बर 1988
जन्मस्थान :- बलाली गाँव, भिवानी जिला, हरियाणा भारत
पिता :- महावीर सिंह फोगट | Mahavir Singh Phogat
माता :- दया कौर | Daya Kaur
बहने: कुल 4 बहने :- गीता फोगट, बबिता फोगट, संगीता फोगट, रितु फोगट
भाई :- दुष्यंत फोगट | Dushyant Phogat
चचेरी बहन :- विनेश फोगट | Vinesh Phogat
वैवाहिक जीवन :- विवाहित | Married
पति : पवन कुमार | Pawan Kumar
कार्यक्षेत्र: महिला पहलवानी | Wrestler
वजन: 55 किलोग्राम | 55 Kgs.
धर्म: हिन्दू | Hindu
नागरिकता: भारतीय | Indian

गीता फोगट का जीवन परिचय

Geeta Phogat Biography in Hindi

गीता फोगट | Geeta Phogat एक ऐसी महिला रेसलर पहलवान है जिन्होंने भारत की तरफ से किसी महिला द्वारा कामनवेल्थ गेम में गोल्ड मेडल जीतने वाली पहली महिला है और इस तरह ओलम्पिक में भी भाग लेने वाली पहली महिला पहलवान है.

इस तरफ गीता फोगट की पूरी Family Ground पहलवानी पर आधारित है इनके पिता अपने समय के प्रसिद्द पहलवान भी है जो की अपने पहलवानी के दम पर द्रोणाचार्य पुरष्कार भी जीता है जबकि इनके चचेरे भाई विनेश फोगट और छोटी बहन बबिता फोगट भी कामनवेल्थ गेम में स्वर्ण पदक जीत चुके है और यहाँ तक की अन्य दोनों बहने संगीता और रितु भी अन्तर्राष्ट्रीय स्तर की महिला पहलवान है और गीता फोगट की जिस व्यक्ति से शादी हुई है उनका नाम है पवन कुमार जो की दिल्ली के रहने वाले है और वे भी पहलवानी करते है इस तरफ गीता फोगट का पूरा फेमिली पहलवानी से जुड़ा है.

गीता फोगट Family मेम्बर

Geeta Phogat Family Member Details in Hindi

गीता फोगट के Family में कौन कौन है चलिए जानते है.

पिता :- महावीर सिंह फोगट | Mahavir Singh Phogat

गीता फोगट के पिता पेशे से पहलवान है जो की खेलो में अपने प्रदर्शन के दम पर द्रोणाचार्य पुरस्कार जीत चुके है बचपन से कुछ अलग करने की चाहत रखने वाले महावीर सिंग फोगट ने अपने सपने को बेटियों के रूप में सच कर दिखाया, इनकी बेटियों ने खेलो में अपने पहलवानी के दम वो कारनामा कर दिखाया जिसकी कल्पना भी कोई जल्दी नही कर सकता है एक तरफ जहा बेटियों को अभिशाप समझा जाता है.

ऐसे में महावीर सिंह ने अपने बेटियों को बेटो से भी बढकर प्यार दिया और ऐसी पहलवानी में प्रशिक्षण किया की आज के समय लोग उनको सलाम ठोकते है जबकि एक समय ऐसा भी था की लोग उन्हें अपने इस निर्णय के चलते लोग उन्हें पागल तक समझने लगे थे लेकिन लोगो से बेपरवाह गीता फोगट के पिताजी हमेसा अपने पथ पर आगे बढ़ते रहे और उस सपने को सच कर दिखाया जिससे पूरा देश गौरवान्वित करने लगा है.

माता : दया कौर | Daya Kaur

गीता फोगट की माँ का नाम दया कौर है जो की एक गृहणी है हमेसा की सोच की तरह समाज में बेटो की चाहत में 4 बेटियों को जन्म दिया जो की आज यही बेटिया अपने माँ का नाम पूरे देश में रोशन कर रही है.

बहने: कुल 4 बहने – Geeta Phogat, Babita Phogat, Sangita Phogat, Ritu Phogat

गीता फोगट की कुल 4 बहने है जिनका नाम बबिता फोगट, संगीता फोगट, रितु फोगट है इन सभी का मुख्य कार्यक्षेत्र पहलवानी है और इन चारो ने अपने पहलवानी के दम पर अनेक अन्तराष्ट्रीय पुरष्कार जीत चुकी है और अपने पहलवानी का चारो तरफ सिक्का मनवा चुकी है.

भाई: दुष्यंत फोगट | Dushyant Phogat

गीता फोगट के सगे भाई का नाम दुष्यंत फोगट है

चचेरी बहन :- विनेश फोगट | Vinesh Phogat

गीता फोगट के चचेरी बहन विनेश फोगट भी कामनवेल्थ गेम में स्वर्ण पदक जीत चुकी है

पति : पवन कुमार | Pawan Kumar

गीता फोगट की शादी दिल्ली के रहने वाले पवन कुमार से हुआ है जिनका पेशा भी पहलवानी है.

गीता फोगट की जीवनी संक्षेप मे

Geeta Phogat short Biography in Hindi

गीता फोगट की जीवनी संक्षेप मे 
गीता फोगट एक प्रमुख भारतीय महिला पहलवान हैं, जिन्हें फ्रीस्टाइल पहलवानी के क्षेत्र में महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त है।
उनका जन्म 15 दिसंबर 1988 को हरियाणा के बलाला गाँव में हुआ था।
गीता का पिता महावीर सिंह फोगट भी एक पहलवान रहे हैं, जो उन्हें पहलवानी में प्रेरित किया।
उनके परिवार ने पहले पहलवानी को लड़कियों के लिए समर्थन नहीं किया था, लेकिन उन्होंने अपनी मेहनत और उत्साह से सभी को चौंका दिया।
गीता ने बहुत ही जटिल सामरिक परिस्थितियों का सामना किया, लेकिन वह निरंतर अपने लक्ष्यों की ओर बढ़ती रही।
उन्होंने अपनी पहलवानी करियर की शुरुआत में कई राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय पदक जीते।
गीता को प्राथमिकता से प्रमुख प्रतियोगिताओं में भाग लेने का मौका मिला, जिससे वह बड़ी सफलता प्राप्त कर सकी।
उन्होंने 2010 कॉमनवेल्थ गेम्स में स्वर्ण पदक जीता, जो उनकी करियर की एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर था।
गीता ने 2012 में लंदन ओलंपिक में भारतीय महिला पहलवान के रूप में भाग लिया, जो भारतीय महिलाओं के लिए ऐतिहासिक मोमेंट था।
उन्होंने अपने प्रदर्शन से न केवल अपने परिवार का नाम रोशन किया, बल्कि पूरे देश का गर्व बढ़ाया।
गीता फोगट ने अपने जीवन में कई उपलब्धियाँ हासिल की हैं, जिसमें अंतर्राष्ट्रीय मेडल्स भी शामिल हैं।
उन्होंने अपने प्रेरणादायक प्रदर्शन से आने वाली पीढ़ियों को भी प्रेरित किया है।
उन्होंने अपने कौशल और मेहनत से पहलवानी के क्षेत्र में नाम कमाया है।
गीता फोगट को “धाकड़ छोरी” के रूप में भी जाना जाता है, जो उनकी मेहनत और संघर्ष को दर्शाता है।
उन्होंने अपनी करियर में अपने पिता महावीर सिंह फोगट का भी परिचय किया।
गीता फोगट ने अपने प्रेरणादायक कहानी को भारतीय फिल्म “दंगल” में भी प्रस्तुत किया।
उन्होंने अपने प्रेरणादायक प्रदर्शन से अंतर्राष्ट्रीय पहचान बनाई।
गीता फोगट को भारतीय महिला पहलवान के रूप में सम्मानित किया गया है, जो उनकी पहचान का एक अहम हिस्सा है।
उन्होंने भारतीय महिलाओं के लिए एक महत्वपूर्ण मिशन प्रारंभ किया है, जिसमें महिला शक्ति को प्रोत्साहित किया जाता है।
उन्होंने अपनी पहचान के साथ-साथ भारतीय पहलवानी को भी एक नया आयाम दिया है।
गीता फोगट ने भारतीय महिलाओं को खेल क्षेत्र में नई ऊंचाइयों तक पहुंचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।
उनके प्रेरणादायक प्रदर्शन ने भारतीय महिलाओं की खेल क्षमताओं को स्थायित्व प्रदान किया है।
गीता फोगट का जीवन एक प्रेरणादायक संघर्ष, मेहनत, और उत्कृष्टता की कहानी है, जो हर कोई स्वीकार करता है।
गीता ने अपने धैर्य, संघर्ष और संघर्ष के माध्यम से अपने लक्ष्यों को हासिल किया।
उनका जीवन एक प्रेरणादायक उदाहरण है कि किसी भी कठिनाई के बावजूद सपने को पूरा करना संभव है।

तो आप सबको गीता फोगट और गीता फोगट Family के बारे में ये ये जानकारी कैसा लगा कमेंट में जरुर बताये और इस पोस्ट को शेयर भी जरुर करे.

शेयर करे

LEAVE A RESPONSE

Your email address will not be published. Required fields are marked *