AchhiAdvice.Com

The Best Blogging Website for Help, General Knowledge, Thoughts, Inpsire Thinking, Important Information & Motivational Ideas To Change Yourself

Technology Information

सर्वर क्या है, इसके प्रकार और काम – Server Work in Hindi

Server Kya Hai in Hindi

सर्वर क्या है

अगर आप इंटरनेट चलाते है, तो आपने कही न कही सर्वर का नाम जरूर सुना होगा, तो ऐसे मे Server एक प्रोग्राम या हार्डवेयर डिवाइस होता है जो की दूसरे कंप्यूटर को Data प्रदान करता है। यह डिवाइस सिस्टम को LAN (लोकल एरिया नेटवर्क) और WAN (वाइड एरिया नेटवर्क) पर Data देता है। तो आर्टिकल मे सर्वर क्या है इसके प्रकार और सर्वर कैसे काम करता है पूरी जानकारी के बारे मे जानेगे, तो चलिये Server Kya Hai के बारे मे जानते है।

सर्वर क्या होता है

Server Kya Hai Hindi

Server Kya Haiसर्वर एक ऐसा कंप्यूटर होता है जो नेटवर्क यानि इंटरनेट के माध्यम से अन्य कंप्यूटरों को सेवाएं प्रदान करता है। इसका मुख्य कार्य होता है अनुरोधों का स्वीकृति और उत्तर देना।

जब आप इंटरनेट ब्राउज़ या सर्च करते हैं, तो जो सर्वर सबसे पहले आपके अनुरोध को स्वीकृत करता है और आपको जानकारी प्रदान करता है, वह सर्वर कहलाता हैं।

सर्वर कई प्रकार के सेवाएं प्रदान कर सकता है, जैसे कि वेब सर्वर (जो वेब पृष्ठों को प्रदान करता है), इनमे डेटाबेस सर्वर (जो डेटा संग्रहित करने और प्रबंधित करने के लिए होता है), फ़ाइल सर्वर (जो फ़ाइलों को संग्रहित करता है), मेल सर्वर (जो ईमेल संदेशों को प्रबंधित करता है), और बहुत से और सेवाएं को संपादित करता है।

सर्वरों का उपयोग नेटवर्क अनुरोधों को पूरा करने के लिए होता है, जो आमतौर पर क्लाइंट कंप्यूटरों द्वारा किए जाते हैं।

एक सामान्य उदाहरण है जब आप अपने ब्राउज़र में एक वेबसाइट का पता लिखते हैं, तो आपका कंप्यूटर एक वेब सर्वर से ही जुड़कर उस वेबसाइट की जानकारी प्राप्त करता है।

सर्वर और क्लाइंट (जो उपयोगकर्ता के कंप्यूटर को कहा जाता है) मिलकर एक नेटवर्क का बनावट प्रदान करते हैं जिसे “क्लाइंट-सर्वर मॉडल” कहा जाता है।

इसके अलावा Web Server (वेब सर्वर), Application Server (एप्लीकेशन सर्वर), Mail Server (मेल सर्वर), File Server (फाइल सर्वर), Chat Server (चैट सर्वर), Fax Server (फैक्स सर्वर), Multimedia Server (मल्टीमीडिया सर्वर), List Server (लिस्ट सर्वर), FTP Server (एफटीपी सर्वर), Proxy Server (प्रॉक्सी सर्वर), Database Server (डाटाबेस सर्वर) होते है।

सर्वर काम कैसे करता है

Server Work in Hindi

सर्वर काम करते समय, वह नेटवर्क के माध्यम से आने वाले अनुरोधों का सबसे पहले पढ़ता है और उनका उत्तर देता है। यह कुछ बुनियादी पद्धतियों पर आधारित होता है, तो चलिये सर्वर काम कैसे करता है इसके बारे मे विस्तार से जानते है:-

अनुरोध प्राप्ति (Request Reception):- सर्वर, नेटवर्क के माध्यम से आने वाले अनुरोधों को सुनता है। उपयोगकर्ता के कंप्यूटर या उपकरण से अनुरोध को पाने के लिए एक प्रोटोकॉल का पालन करता है, जैसे HTTP (HyperText Transfer Protocol) वेब अनुरोधों के लिए उपयोग करता है।

अनुरोध विश्लेषण करना (Request Analysis):- फिर इसके सर्वर अनुरोध को विश्लेषण करता है और उसमें शामिल जानकारी को समझता है। यह जानकारी आमतौर पर अनुरोध के प्रकार, इसका उद्देश्य, और अन्य संदर्भित विवरणों को शामिल करती है।

सेवा प्रदान करना (Service Provision):- सर्वर उपयोगकर्ता के अनुरोध के आधार पर आवश्यक सेवाएं प्रदान करता है। इसमें विभिन्न प्रकार की सेवाएं शामिल होती हैं, जैसे वेब पृष्ठों का प्रदर्शन, डेटाबेस से जानकारी की प्राप्ति, या अन्य कस्टम कार्यों का निर्देश आदि।

प्रतिक्रिया करना (Response):- सर्वर उपयोगकर्ता के अनुरोध का उत्तर तैयार करता है और उसे नेटवर्क के माध्यम से उपयोगकर्ता के कंप्यूटर तक भेजता है। इसमें आमतौर पर जानकारी का संदर्भ, यदि आवश्यक हो, और कोड हो सकता है जिससे उपयोगकर्ता के कंप्यूटर या उपकरण में सही रूप से प्रतिक्रिया दी जाती है।

नेटवर्क बंद करना (Close Connection):- अनुरोध का उत्तर दिया जाने के बाद, सर्वर नेटवर्क कनेक्शन को समाप्त करता है या खत्म करता है।

इस प्रक्रिया के माध्यम से, सर्वर नेटवर्क के माध्यम से अनेक प्रकार की सेवाएं प्रदान कर सकता है और उपयोगकर्ता को आवश्यक जानकारी प्रदान कर सकता है। इस तरह यह एक कारगर तरीके से सुरक्षित और दुरस्त तरीके से इस काम को करने में सक्षम होता है।

सर्वर क्या काम करता है

Work of Server in Hindi

सर्वर नेटवर्क में कई प्रकार की सेवाएं प्रदान करता है और उपयोगकर्ताओं के अनुरोधों का संबोधन करता है। यहाँ कुछ प्रमुख कार्य और सेवाएं हैं जो सर्वर कर सकता है:

वेब सेवाएं (Web Services):- सबसे सामान्य सेवा हैं वेब सेवाएं। वेब सर्वर वेबसाइटों की सेवा प्रदान करता है और उपयोगकर्ताओं को वेब पृष्ठों तक पहुँचने की सुविधा देता है।

डेटाबेस सेवाएं (Database Services):- सर्वर डेटाबेस से संबंधित सेवाएं प्रदान कर सकता है, जो डेटा को संग्रहित करने, प्रबंधित करने और प्राप्त करने में मदद करती हैं।

ईमेल सेवाएं (Email Services):- सर्वर ईमेल सेवाएं प्रदान करके उपयोगकर्ताओं को ईमेल के माध्यम से संदेश भेजने और प्राप्त करने की सुविधा देता है।

फ़ाइल सर्विसेज (File Services):- सर्वर फ़ाइल संग्रहित करने और साझा करने की सुविधा देता है। इसमें फ़ाइल स्टोरेज, फ़ाइल सेवाएं, और नेटवर्क फ़ाइल साझा करने की सेवाएं शामिल हो सकती हैं।

प्रिंट सर्वाइसेज (Print Services):- सर्वर प्रिंटर सेवाएं प्रदान करके नेटवर्क के अन्य उपयोगकर्ताओं को नेटवर्क के माध्यम से प्रिंट करने की अनुमति देता है।

सिक्योरिटी सेवाएं (Security Services):- सर्वर सुरक्षा सेवाएं प्रदान करता है जो नेटवर्क और उपयोगकर्ताओं की सुरक्षा में मदद करती हैं, जैसे कि फ़ायरवॉल्स, एंटीवायरस स्कैनिंग, और अन्य सुरक्षा कार्यक्षमताएँ।

संग्रहण सेवाएं (Storage Services):- सर्वर डेटा को संग्रहित करने और प्रबंधित करने की सेवाएं प्रदान कर सकता है, जो उपयोगकर्ताओं को उनके डेटा तक पहुँचने में मदद करती हैं।

अनुकूलन सेवाएं (Customization Services):- सर्वर उपयोगकर्ताओं के लिए विशेष रूप से तैयार की गई सेवाएं प्रदान कर सकता है, जो उनकी आवश्यकताओं और आवश्यकताओं के अनुसार तैयार की गई हैं।

तो इस तरह इन सेवाओं के माध्यम से सर्वर नेटवर्क के माध्यम से उपयोगकर्ताओं को एक सुरक्षित और सही रूप से कनेक्ट करने में मदद करता है और उन्हें उच्च स्तर की सेवाएं प्रदान करता है।

सर्वर के प्रकार

Types of Server in Hindi

सर्वर कई प्रकार के हो सकते हैं, और इनमें से प्रत्येक का अपना उद्देश्य और कार्य होता है। यहाँ कुछ प्रमुख सर्वर के प्रकार हैं, तो चलिये सर्वर के प्रकार को जानते है:-

वेब सर्वर (Web Server):- यह सर्वर वेबसाइटों को डिलीवर करने के लिए जिम्मेदार होता है। जब आप वेब ब्राउज़र में किसी वेबसाइट का पता दालते हैं, तो वेब सर्वर आपके ब्राउज़र को वेबसाइट के पृष्ठों को प्रदर्शित करता है।

उदाहरण के लिए, Apache, Nginx और Microsoft IIS वेब सर्वर के उदाहरण हैं।

डेटाबेस सर्वर (Database Server):- यह सर्वर डेटाबेस प्रबंधन सिस्टम को होस्ट करता है और उपयोगकर्ताओं को डेटा को संग्रहित करने, प्रबंधित करने और उससे संबंधित सेवाओं का उपयोग करने की सुविधा देता है। MySQL, Oracle, Microsoft SQL Server, और PostgreSQL डेटाबेस सर्वर के उदाहरण हैं।

फ़ाइल सर्वर (File Server):- यह सर्वर फ़ाइलों को संग्रहित करने और उन्हें नेटवर्क के अन्य कंप्यूटरों के साथ साझा करने के लिए जिम्मेदार होता है। NFS (Network File System) और SMB (Server Message Block) फ़ाइल सर्वर के उदाहरण हैं।

मेल सर्वर (Mail Server):- यह सर्वर ईमेल संदेशों को संग्रहित करने, प्रबंधित करने, और प्रेषित करने के लिए जिम्मेदार होता है। यह सीधे ईमेल से संबंधित काम करता है और उदाहरण के लिए Microsoft Exchange Server, Postfix, और Sendmail मेल सर्वर के उदाहरण हैं।

फ़ाइल स्टोरेज सर्वर (Storage Server):- यह सर्वर बड़े स्तर पर डेटा संग्रहित करने के लिए होता है और उपयोगकर्ताओं को विभिन्न प्रकार के संग्रहण सेवाओं का उपयोग करने की सुविधा देता है।

गेम सर्वर (Game Server):- इसमें गेम खेलने के लिए नेटवर्क के भीतर या बाहर खेलों की सेवा प्रदान करने का कार्य होता है।

धनतंतु सर्वर (Database Server):- धनतंतु सर्वर यानि डाटाबेस सर्वर वित्तीय लेन-देन और अन्य धनव्यापारिक सेवाओं को प्रबंधित करता है।

ध्यान निर्देशक सर्वर (Application Server): यह सर्वर विशेष एप्लिकेशन्स को होस्ट करता है जो उपयोगकर्ताओं को विशिष्ट कार्यों के लिए उपयोग करने में मदद करते हैं, जैसे कि विशेष लेखन, बैंकिंग, और अन्य विशेष कार्य।

इनमें से हर एक सर्वर कोई खास सेवा प्रदान करता है और सुरक्षित रूप से उपयोगकर्ताओं को सेवाएं प्रदान करने का कार्य करता है, जो नेटवर्क में जुड़े होते हैं।

Dedicated और Non Dedicated सर्वर क्या होता है

Different between Dedicated and Non Dedicated Server in Hindi

“Dedicated server” और “Non-dedicated server” दोनों ही सर्वर के प्रकार हैं और इनमें अंतर होता है कि कैसे और किस प्रकार से वे उपयोगकर्ताओं की सेवा प्रदान करते हैं।

Dedicated Server (निर्धारित सर्वर):

Single Tenant System (एकल किरायेदारी प्रणाली): Dedicated server एकल किरायेदारी प्रणाली होता है, यह एक ही उपयोगकर्ता या ग्राहक के लिए समर्पित होता है।

High Performance: Dedicated servers में सामान्यत: उच्च प्रदर्शन और अधिक संग्रहण साध्य होती है क्योंकि सभी संसाधनें एक ही उपयोगकर्ता के लिए उपलब्ध होती हैं।

Customization: उपयोगकर्ता अपनी आवश्यकताओं के अनुसार सर्वर की विभिन्न विशेषताओं को अनुकूलित कर सकता है।

Security: Dedicated servers अकेले उपयोगकर्ता के लिए होते हैं, जिससे सुरक्षा में अधिक संरक्षित होते हैं।

Non-Dedicated Server (Non-Dedicated या Shared Server)

Multiple Tenants (एक से अधिक किरायेदारी प्रणाली): Non-dedicated server में एक से अधिक उपयोगकर्ता या ग्राहक संग्रहित हो सकते हैं। इसे “shared server” भी कहा जाता है।

Limited Performance: क्योंकि संसाधनें साझा होती हैं, इसलिए नॉन-डेडिकेटेड सर्वरों का प्रदर्शन अधिक सीमित हो सकता है, खासकर अगर अन्य उपयोगकर्ताएं भारी बोझ डालती हैं।

Cost-Effective: Non-dedicated servers कम लागत में आते हैं, क्योंकि उपयोगकर्ताएं संसाधित संसाधनों का भागीदारी करती हैं।

Limited Customization: उपयोगकर्ताओं को अपनी आवश्यकताओं के अनुसार सर्वर को अनुकूलित करने का पूरा अधिकार नहीं हो सकता है, क्योंकि संसाधित सेटिंग्स सभी उपयोगकर्ताओं के लिए साझा होती हैं।

Shared Resources: सर्वर के संसाधित होने के कारण, संसाधित संसाधनों का उपयोग करते समय प्रतिबंधितियों की संभावना होती है।

इसके अलावा, कई होस्टिंग प्रदाता एक हाइब्रिड मॉडल प्रदान करते हैं जिसमें कुछ संसाधित संसाधनें एक उपयोगकर्ता के लिए निर्दिष्ट हो सकती हैं, जबकि अन्य संसाधित संसाधनें उपयोगकर्ताओं के बीच साझा की जा सकती हैं।

सर्वर डाउन क्यों होता है

Reason of Server down in Hindi

सर्वर डाउन होने के कई कारण हो सकते हैं, और इनमें से कुछ प्रमुख कारण इस प्रकार हैं, तो चलिये सर्वर डाउन क्यों होता है इसके बारे मे जानते है –

हार्डवेयर समस्या: यदि सर्वर के हार्डवेयर में कोई खराबी होती है, जैसे कि हार्ड डिस्क की खराबी, रैम की समस्या, या अन्य किसी हार्डवेयर आपत्ति, तो यह सर्वर को डाउन कर सकता है।

सॉफ़्टवेयर समस्या: अगर सर्वर पर चल रहे सॉफ़्टवेयर में कोई तकनीकी समस्या होती है, तो यह सर्वर को डाउन कर सकती है। इसमें ऑपरेटिंग सिस्टम, वेब सर्वर सॉफ़्टवेयर, डेटाबेस सॉफ़्टवेयर, या किसी अन्य आवश्यक सॉफ़्टवेयर की समस्याएँ शामिल हो सकती हैं।

नेटवर्क समस्या: यदि सर्वर को नेटवर्क से जुड़ने में कोई समस्या होती है, तो यह डाउन हो सकता है। नेटवर्क समस्याएँ इंटरनेट कनेक्टिविटी, राउटिंग समस्याएँ, या फायरवॉल सेटिंग्स में शामिल हो सकती हैं।

ऊर्जा संकट: यदि सर्वर को पर्याप्त ऊर्जा प्रदान नहीं की जाती है, तो यह डाउन हो सकता है।

सुरक्षा समस्या: यदि सर्वर को सुरक्षा संबंधित किसी समस्या का सामना करना पड़ता है, जैसे कि एक अधिवेशन, धारकी या नेटवर्क हमला, तो सिस्टम व्यवस्था को सुरक्षित रखने के लिए सर्वर को डाउन कर दिया जा सकता है।

सबस्क्रिप्शन या लाइसेंस की समस्या: कुछ सर्वर सॉफ़्टवेयर या सेवाएं समय सीमा, उपयोगकर्ता सीमा, या अन्य लाइसेंस की आवश्यकता होती हैं और यदि इनमें से कोई समस्या उत्पन्न होती है तो सर्वर को डाउन किया जा सकता है,

रैंसमवेयर या भयानक सॉफ़्टवेयर: अगर सर्वर को किसी आक्रमणकारी सॉफ़्टवेयर, जैसे कि रैंसमवेयर, मलवेयर या वायरस से ग्रस्त हो जाता है, तो इसे सुरक्षित रखने और डेटा सुरक्षित रखने के लिए डाउन किया जा सकता है।

इन सभी कारणों से, सर्वर को उचितता, सुरक्षा, और सही तरीके से प्रबंधन के लिए नियमित रूप से मॉनिटर और अनुरक्षित करना महत्वपूर्ण है।

सर्वर क्या है से जुड़े प्रश्न उत्तर

Server Kya Hai In Hindi FAQs

“सर्वर” एक टेक्निकल शब्द है जो विभिन्न कंप्यूटर नेटवर्क और इंटरनेट संबंधित समाप्रेषण तंत्रों के साथ संबंधित है। तो चलिये यहां सर्वर क्या है से जुड़े सामान्य प्रश्न और उनके उत्तर दिए जा रहे हैं, इन्हे जानते है:-

सर्वर क्या है?

उत्तर: सर्वर एक कंप्यूटर होता है जो नेटवर्क के अन्य कंप्यूटरों को सेवाएं प्रदान करता है, जैसे कि फ़ाइल स्टोरेज, डेटाबेस, वेब पेज, या अन्य सेवाएं।

वेब सर्वर क्या होता है?

उत्तर: वेब सर्वर एक सर्वर है जो वेब साइटों को नेटवर्क के उपयोगकर्ताओं को दिखाने के लिए संबंधित है। जब आप वेब ब्राउज़र का उपयोग करके किसी वेब साइट पर जाते हैं, तो उस साइट का डेटा वेब सर्वर से प्राप्त होता है और आपको प्रदर्शित होता है।

स्वरुपित सर्वर और हॉस्टेड सर्वर में अंतर क्या है?

उत्तर: स्वरुपित सर्वर वह सर्वर है जो आपके स्वयं के इंफ्रास्ट्रक्चर पर होता है, जबकि होस्टेड सर्वर एक तैयारी की जा रही सेवा है जिसे आप एक तैयारी की जा रही प्लेटफ़ॉर्म से किराए पर ले सकते हैं।

स्वरुपित सर्वर की आवश्यकता क्यों होती है?

उत्तर: स्वरुपित सर्वर की आवश्यकता उस समय होती है जब आपको पूर्ण नियंत्रण और सुरक्षा चाहिए और जब आपकी आवश्यकताएं इसे विचारने के लिए पुर्णता चाहती हैं।

वीपीएन (VPN) क्या है और यह सर्वर के साथ कैसे जुड़ा होता है?

उत्तर: वीपीएन एक सुरक्षित नेटवर्क कनेक्शन है जो आपको इंटरनेट के माध्यम से सुरक्षित रूप से जोड़ता है। यह आपको आपके डेटा को एक सुरक्षित टनल के माध्यम से भेजने की अनुमति देता है, जिससे आपकी ऑनलाइन गतिविधियों को सुरक्षित रखा जा सकता है। वीपीएन का उपयोग सर्वर के साथ सुरक्षित कनेक्शन स्थापित करने के लिए किया जा सकता है,

ये सर्वर से जुड़े कुछ सामान्य प्रश्न और उत्तर हैं, जो आपके सर्वर के प्रति जानकारी को बढ़ाता है,

निष्कर्ष :- तो इस आर्टिकल मे सर्वर क्या है इसके प्रकार और सर्वर कैसे काम करता है पूरी जानकारी के बारे मे आप सभी अच्छे से जान गए होंगे, तो आपको यह आर्टिकल कैसा लगा, कमेंट बॉक्स मे जरूर बताए और आपको सर्वर से जुड़ा कोई प्रश्न पूछना है, तो कमेंट बॉक्स मे पूछ सकते है, और इस आर्टिकल को दूसरों के साथ शेयर जरूर करे।

इन पोस्ट को भी पढे :-

शेयर करे

LEAVE A RESPONSE

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Read in Your Language »