हरियाली तीज या हरतालिका तीज, तारीख, पूजा विधि, व्रत कथा, कहानी और महत्व पर निबन्ध

0

Hariyali Teej जिसे हरतालिका तीज के नाम से भी जाना जाता है जो की हिन्दू धर्म का एक प्रसिद्द त्यौहार है जो की सावन महीने के शुक्ल पक्ष के तृतीया को मनाया जाता है वैसे तो हिन्दू धर्म में अनेको त्यौहार है जिन सभी का अपना धार्मिक, सामाजिक और पौराणिक महत्व है उन्ही त्योहारों में से एक त्यौहार है हरियाली तीज जो को सुहागन स्त्रिया अपने पति के दीर्घायु यानी लम्बी आयु की कामना से इस त्यौहार और व्रत का पालन करती है और इसे धूमधाम से मनाती है

तो चलिए इस वैवाहिक बंधन के पवित्र त्योहार हरियाली तीज या हरतालिका तीज के बारे में जानते है यह कब मनाया जाता है इसकी पूजा विधि क्या है हरियाली तीज या हरतालिका तीज से जुडी पौराणिक कहानी और महत्व पर प्रकाश डालते है

हरियाली तीज या हरतालिका तीज

Hariyali Teej or Hartalika Teej in Hindi

Hariyali teej or Hartalika Teejहरियाली तीज जिसे हरतालिका तीज, कजली तीज के नाम से भी जाना जाता है यह उत्सव सुहागिन औरते और कुंवारी कन्याये दोनों ही धूमधाम से मनाती है एक तरफ जहा सुहागिन स्त्रिया अपने पति के लिए इस दिन नीराजल व्रत रहती है तो दूसरी तरफ अविवाहित कन्याये अच्छे वर पाने के लिए इस व्रत का पालन करती है

चूँकि हरियाली तीज सावन के महीने में मनाया जाता है जिस तरह इस महीने में धरती हरियाली की पूरी चादर ओढ़ लेती है चारो तरफ हरियाली ही हरियाली ही दिखाई देता है जिसे देखकर हर किसी का मन प्रकृति के प्रति मनमुग्ध हो जाता है तो ऐसे में इस व्रत को हरियाली तीज के नाम से भी जाना जाता है

तो दूसरी तरफ भारत के उत्तर पूर्वी इलाको में इस त्यौहार को कजली तीज के नाम से भी मनाया जाता है त्यौहार के इस मौसम में चारो तरफ हरियाली ही हरियाली होती है सभी पेड़ हरे भरे हो जाते है पेड़ो पर झूले पड़ जाते है मन मयूर नित्य करने लगता है सभी स्त्रिया मिलकर झूले झूलती है और लोकगीत के जरिये अपनी खुशियों का इजहार करती है पूरा दृश्य मनोरम हो जाता है जिस कारण से इन लोकगीत कजली के काफी प्रसिद्द होने के कारण इसे कजली तीज के नाम से भी मनाया जाता है

और कुछ भागो में इसे हरतालिका तीज के नाम से इस त्यौहार को मनाया जाता है यानी सावन के इस पवित्र महीने बिछड़े प्रेमी प्रेमिका फिर से मिल जाते है यानि इस त्यौहार के प्रमुख आराध्य देव भगवान शंकर और माता पार्वती के मिलन के रूप में इसे त्यौहार के रूप में मनाया जाता है जिसे हरतालिका तीज के नाम से जानते है

हरियाली तीज या हरतालिका तीज कब है

Hariyali teej or Hartalika Teej Kab hai

अब आप यही सोच रहे होंगे की की ये हरियाली तीज या हरतालिका तीज कब मनाया जाता है तो हिन्दू धर्म के पंचांग के अनुसार हरियाली तीज या हरतालिका तीज सावन महीने के शुक्ल पक्ष के तृतीया यानि तीसरे दिन मनाया जाता है

और इस तरफ 2019 में हरियाली तीज या हरतालिका तीज 3 अगस्त शनिवार को मनाया जायेगा.

हरियाली तीज या हरतालिका तीज से जुडी पौराणिक कहानी | व्रत कथा

Hariyali Teej or Hartalika Teej History Kahani in Hindi

हरियाली तीज या हरतालिका तीज मनाने के पीछे बहुत ही पौराणिक कहानी है जो की इस प्रकार है:-

हिन्दू धर्म की मान्यताओ के अनुसार माता पार्वती सैकड़ो वर्ष की तपस्या और 107 जन्मो के के पश्चात पार्वती के रूप में पर्वतराज हिमालय के घर जन्म लेती है जो की फिर से शिव को पति के रूप में प्राप्त करने के लिए राजसी सुख सुविधा को छोड़कर घने जंगलो में बिना कुछ खाए वर्षो वर्षो तक तपस्या में लीन रहती है जिस कारण से उनके पिता बहुत ही दुखी रहते थे

लेकिन माता पार्वती किसी की प्रवाह किये बिना लगातार अपने तपस्या में लींन रहती थी और फिर सावन माह की शुक्ल पक्ष के तृतीया वाले दिन उसी जंगल में मिट्टी से भगवान शिव की शिवलिंग बनाकर पूजा पाठ करती है जिससे भगवान शिव प्रसन्न होते है और फिर अपनी वधु के रूप माता पार्वती को स्वीकार करते है

और साथ में भोलेनाथ यह भी आशीर्वाद देते है की अब इस दिन जो भी मेरी भक्ति और पूजा पाठ करेगा उसे मनोवांछित पति और दीर्घायु की कामना पूरी होंगी

तभी से इस पौराणिक महत्व के चलते हरियाली तीज या हरतालिका तीज का त्यौहार बहुत ही धूमधाम से मनाया जाने लगा.

हरियाली तीज या हरतालिका तीज पूजा विधि

Hariyali Teej or Hartalika Teej Puja Vidhi in Hindi

हरियाली तीज या हरतालिका तीज सुहागिन स्त्रियों का त्यौहार है तो इस दिन जो भी स्त्री इस त्यौहार को मनाती है वे पूरे दिन व्रत रखती है

हरियाली तीज या हरतालिका तीज के दिन महिलाये सुबह जल्दी स्नान करके तैयार होती है और फिर पूरे दिन बिना कुछ खाए पिए व्रत रखती है और फिर शाम के समय में सोलह श्रृंगार के साथ खुद को सजाती है एक दुसरे के हाथो में पहले से मेहदी लगाकर रखती है ताकि इस दिन खुद का सोलह श्रृंगार कर सके, इस त्यौहार में बिन मेहँदी के त्यौहार सुना सुना लगता है

और फिर माँ पार्वती और भोलेनाथ की पूजा के लिए पूरे विधि के साथ मंदिर जाती है इस हरियाली तीज या हरतालिका तीज के दिन महिलाये शाम को मंदिर पर इक्कठा होती है और फिर श्रृंगार के सामान के साथ फल–फूल और पूजा के सामानों को माँ पार्वती को चढ़ाती है और हरियाली तीज या हरतालिका तीज व्रत कथा सुनती है और एक दुसरे को सिंदूर लगाती है और पूरे विधि विधान के साथ पूजा अर्चना करती है और ईश्वर से पति की लम्बी आयु की कामना करती है

फिर वापिस घर आने के बाद पति के हाथो ही जल ग्रहण कर अपने व्रत को तोडती है और इस तरफ देखा जाय तो करवा चौथ के तरह वह त्यौहार भी पति की दीर्घायु के लिए मनाया जाता है

हरियाली तीज या हरतालिका तीज का महत्व

Hariyali Teej or Hartalika Teej Mahatva in Hindi

हरियाली तीज या हरतालिका तीज पत्निया अपने पति के लम्बी आयु की कामना के साथ इस त्यौहार को मनाती है हर त्यौहार की तरह इस त्यौहार का अपना विशिष्ट महत्व है अक्सर पति पत्नी में लड़ाई झगडे होते रहते है तो इस त्यौहार के जरिये पत्नी अपने पति के लिए प्यार पा सकती है और वैवाहिक जीवन सुमधुर हो जाते है

इस दिन महिलाये भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा करते है जिस कारण से ये महिलाये भगवान शिव के आशीर्वाद की अधिकारी बन जाती है जिस कारण से उनके परिवार में सुख शांति और समृद्धि का माहौल का निवास होता है

इसके अतिरिक्त हरियाली तीज या हरतालिका तीज का सामाजिक महत्व है जिस कारण से किसान को धरती का अन्नदाता कहा गया है वे भी वर्षा के भरोशे रहते है ऐसे में यह सावन की बारिश धरती को हर भरा बन देता है और साथ में किसानो की खेती के लिए यह धरती और वर्षा का जल अनुकूल होता है जिस कारण से किसान कजली लोकगीत गाते है और इसे कजली तीज या हरियाली तीज के रूप में त्यौहार मनाया जाता है

तो आप सभी को इस हरियाली तीज या हरतालिका तीज के त्यौहार की जानकारी कैसा लगा कमेंट में जरुर बताये और इस पोस्ट को जरुर शेयर करे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here