कहानी बुरी शिक्षा का बुरा नतीजा

0

Bure Shiksha ka Bura Natija Moral Kahani in Hindi

बहुत समय पहले की बात है एक नगर में एक रामू नाम का एक व्यापारी रहता था जो की बहुत की कंजूस और चालक किस्म का इन्सान था वह हमेसा ज्यादा से ज्यादा धन कमाने के बारे में ही सोचता था इसलिए ज्यादा से ज्यादा धन के लिए वह सारे उपाय लगाता था जिससे उसकी आमदनी ज्यादा से ज्यादा हो सके, जिसके लिए वह अपने दुकान के वस्तुओ में मिलावट करके बेचता था और ऐसा करने के लिए अपने परिवार वालो को भी कहता था

और जब भी मिलावट करके वह वस्तुओ को बेचता था तो कभी कभी उसका बेटा जिसका नाम श्याम था वह पूछता भी था की पिताजी आप सभी चीजो में मिलावट करके क्यू बेचते है तो रामू कहता था की यदि वह लोगो को शुद्ध चीजे बेचेगा तो ज्यादा शुद्ध चीजो से लोगो के नुकसान हो सकता है और सेहत भी बिगड़ सकती है शुद्ध चीजे लोगो के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है इसलिए लोगो के सेहत का ख्याल करके वह मिलावट करके चीजो को बेचता था और इस तरह अपने बेटे और अपने परिवार वालो को भी ऐसा करने के लिए प्रोत्साहित करता था और तो मिलावट का काम अपने बेटे श्याम को भी सीखा दिया था

Kahani in Hindi

जिससे अक्सर उसके दुकान में लोगो के मिलावट की शिकायते भी आती रहती थी जिससे श्याम सोच में पड़ जाता था की पिताजी तो शुद्ध चीजे खाने से सेहत के लिए हानिकारक है लेकिन इसके उल्टा लोग शिकायत ही करने आते है और वह अक्सर देखता था की पिताजी घर के लिए जो वस्तुए निकालते थे उसमे तो कोई मिलावट नही करते थे जिससे श्याम चुपके से घर के वस्तुओ में मिलावट कर देता था जिससे यह बात किसी को पता नही चलता था लेकिन रामू जब खाने बैठता था तो उसको यह अहसास जरुर हो जाता था की घर के खाने के वस्तुओ में मिलावट हुई है लेकिन खुद पर विश्वास होने के कारण रामू मिलावट की बात किसी से कह नही पाता था

फिर धीरे धीरे कुछ समय बीतने के पश्चात एक दिन रामू बीमार पड़ गया और उसकी ऐसी कमजोर स्थितिआ गयी की वह अब खाट से भी उठने लायक नही रहा इसलिए अब उसे खाट में पड़े ही भोजन और दूध पीकर जीवन गुजरना पड़ रहा था

और इस तरह दूध भोजन आदि श्याम अपने पिताजी को दिया करता था उसे ख्याल आता था की पिताजी ने कहा की शुद्ध चीजे खाने से बीमार पड़ सकते है इसलिए वह जब भी दूध आदि देता था तो शुद्धता होंने वाले नुकसान को ध्यान में रखते हुए वह आधा दूध खुद पीकर बाकी में पानी में मिलाकर पिताजी को दिया करता था जिस कारण से रामू को भी आभास होता था की दूध में पानी की मिलावट है लेकिन घर का दूध होने के कारण उसे मिलावट होने की स्थिति पर शक नही होता था

लेकिन उसकी दिन प्रतिदिन कमजोरी बढती ही रही थी तो उसे शक होने लगा था की हो ना हो दूध में मिलावट जरुर हो रहा है तो इसी बात का पता लगाने के लिये एक दिन चुपके से अपने श्याम पर ध्यान देने लगा तो देखा की उसका बेटा दूध लाने से पहले खुद ही आधा दूध पीकर बाकि में पानी मिलाकर ला रहा है रामू यह स्थिति देखकर दंग रह गया था उसे अपने बेटे को ऐसा करते हुए देखकर विश्वास नही हो रहा था लेकिन फिर भी हैरान था

इतने में श्याम दूध लेकर अपने पिताजी के पास आ गया तो रामू ने तुरंत पूछ लिया “जो तुम मुझे दूध लाते हो उसमे पानी क्यू मिलाते हो, क्या तुम्हे पिने के लिए घर में और दूध नही है क्या? पिताजी से यह प्रश्न सुनकर श्याम बोला “पिताजी आप ही तो कहते है की शुद्ध चीजे खाने पिने से सेहत के हानिकारक होता है इसका बुरा असर होता है इसलिए माँ तो दूध में पानी तो नही मिलाती थी लेकिन मैंने आपके सेहत के सुधार के लिए दूध में पानी मिलाकर देता था ताकि आपके सेहत पर इस शुद्ध दूध से कोई नुकसान नही पहुचे, जिस कारण से आपकी बीमारी और भी ना बढ़ जाय, इसलिए मै ऐसा करता हु”

श्याम की बाते सुनकर अब रामू को अपने गलती का अहसास हो चुका था की उसने अपने बेटे और अपने घर वालो को गलत शिक्षा दिया है जिसक दुष्परिणाम आज उसे खुद उठाना पड़ रहा है अगर वह सही शिक्षा दिया होता तो उसे मिलावट की चीजो को खाना ही पड़ता, जिससे वह इतना भयंकर तरीके से बीमार तो नही पड़ता, लेकिन अब क्या अब तो देर हो चुकी थी जो होना था हो चुका था, अब तो सिर्फ पछतावे और गलती को सुधारकर ही सही से जीवन व्यतीत कर सकता था,

इसके बाद रामू ने प्रण लिया की अब वह कभी धन के लिए ऐसे गलत काम नही करेगा और मिलावट का काम छोड़ देंगा और इस तरफ रामू अपने परिवार वालो को भी अपनी सारी गलती बता दिया और आगे से सबको अच्छे राह पर चलने की सीख देने लगा. इस तरह रामू खुद को अच्छाई करने का शिक्षा दे दिया था

कहानी से शिक्षा

इस कहानी से यही पता चलता है की रामू ने जो गलत रास्ता अपनाया था उसका बुरा असर खुद के बिगड़े सेहत और बीमारी के रूप में मिल चुका था फिर उसने अपनी गलती का पश्चाताप करते हुए कभी भी मिलावट करने की शिक्षा पा चुका था और इस सही शिक्षा को अपने घर वालो को भी दिया

इस तरह इस कहानी से यही शिक्षा मिलती है की हमे धन कमाने के लिए कभी भी गलत मार्ग का सहारा नही लेना चाहिए, और कभी भी लोगो को धोखा नही देना चाहिए क्युकी अगर हम किसी के छल कपट करते है तो निश्चित ही ऐसा छल कपट और धोखा खुद के साथ हो सकता है इसलिए हमे अपने आने वाली पीढ़ी को हमेसा सही कार्य करने की शिक्षा देनी चाहिए जिसका परिणाम भी आगर चलकर सुखद देखने को मिल सकते है और बुरे काम का हमेसा बुरा ही नतीजा निकलता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here