पम्मी की वैलेंटाइन के गिफ्ट की कहानी Valentine Hindi Story

0

Valentine Day Moral Hindi Story

वैलेंटाइन Day पर सीख देती हिन्दी स्टोरी

जैसा की फरवरी आते ही सभी के मन Valentine Day का भाव आने लगता है जो की हर साल 14 February को मनाया जाता है तो चलिए इसी Valentine पर आप सबके लिए सीख देती एक Kahani लेकर आये है जिससे आप भी सीख ले सकते है और Valentine सही मायनो में क्या है इसे भी समझ सकते है तो चलिए वैलेंटाइन के इस सीख देती Kahani को जानते है

पम्मी की वैलेंटाइन पर सीख देने वाली कहानी

Pamy Valentine Day Kahani

Valentine Day hindi story

पम्मी जो की अभी 5वी क्लास में पढ़ती थी क्लास के दौरान उसकी टीचर मैडम Valentine Day के बारे में बता रही थी जो की यह Valentine Day हर साल 14 फरवरी को मनाया जाता है और इस Valentine Day के दिन सभी अपने चाहने वालो से अपने प्यार का इजहार करते है और अपनों को उपहार स्वरूप कुछ ना कुछ देकर अपने प्यार को जताते है और इस प्यार के इस उपहार में ग्रीटिंग्स, प्यारी सी स्माइल या कुछ भी हो सकता है जिसका मोल अनमोल होता है जिसका कर्ज चुकाया नही जा सकता है

पम्मी अपने टीचर की बाते सुनकर Valentine Day को लेकर काफी उत्साहित हो गयी और मन ही मन सोचने लगी की इस बार वह भी Valentine Day मनाएगी और अपने सबसे अधिक प्यार करने वालो के लिए कोई ना कोई गिफ्ट जरुर देगी और इस तरफ अपने प्यार का इजहार करके धन्यवाद भी देगी

और फिर स्कूल से आने के बाद वह सोचने लगी की आखिर उसे कौन सबसे अधिक प्यार करता है किसे अपने Valentine Day का कार्ड दे, जिसके बारे में वह बार बार सोचती रही लेकिन उसे कुछ भी ना सूझ रहा था तो फिर वह अपने पास बैठी ही दादी से बोली “ दादी क्या आप मेरी सहायता करेगी, मैंने अपनी मैडम से Valentine Day के बारे में सुना है और इस दिन जो अपना सबसे प्यारा होता है उसे उपहार देते है बता सकती है की मेरी वैलेंटाइन कौन हो सकता है”

पम्मी की यह बात सुनकर दादी बोली “पम्मी तुम्हारे दोस्त, तुम्हारे बेस्ट टीचर, या तुम्हारे सगे सम्बन्धी या तुम जिसे सबसे अधिक मानती हो, जो तुम्हे आगे बढने का रास्ता दिखलाते है वही तुम्हारा वैलेंटाइन हो सकता है उसे तुम अपना वैलेंटाइन बना सकती हो और उसे अपना उपहार दे सकती है और इस तरह तुम्हारी दादी भी तुम्हारी वैलेंटाइन बन सकती है”

तो फिर पम्मी दादी की बात काटते हुए बोली “दादी आप रहने दीजिये मेरी टीचर ने बता दिया है की मेरा वैलेंटाइन कौन हो सकता है”

तो इस पर दादी बोली “ठीक है जब तुम्हे तुम्हारी Valentine मिल जाए तो मुझे भी जरुर बताना”

फिर दादी की बातो को सुनकर पम्मी अपने कमरे में चली गयी और सोचने लगी की वह क्या अपने दोस्तों को उपहार दे नही नही, वे सभी तो मेरी हँसी भी उड़ाते है नही नही वे मेरे वैलेंटाइन नही हो सकती, फिर पम्मी सोचने लगी टीचर भी अच्छा सिखाती है लेकिन वे मारती भी तो है वे भी मेरी Valentine नही हो सकती है फिर सोचने लगी की दादी को ही वैलेंटाइन बना ले लेकिन वे भी तो प्यार और डाट दोनों करती है और दादी की डाट के लिए उन्हें वैलेंटाइन नही बना सकती.

और इस तरह धीरे धीरे Valentine Day नजदीक आने लगा था लेकिन पम्मी अभी तक कुछ भी निर्णय नही ले पा रही थी की किसे वह अपना वैलेंटाइन बना सकती है किसे वह अपना Valentine Gift दे सकती है

और इस तरह एक शाम बालकनी में खड़े होकर इसी Valentine Day के बारे में ही सोच रही थी की कैसे वह अपना Valentine Day Wish कर सकती है शाम ढल चुका था सभी पक्षी अपने घरो की तरफ लौट रहे थे जिसे देखकर पम्मी सोचने लगी सभी पक्षी तो अपने माँ के पास अब जा रहे है तो उसे सहसा यह सोचने लगी अरे वह भी तो अपने मम्मी से दूर ही रहती है मम्मी तो दूर गाँव में रहती है लेकिन इतना दूर रहते हुए भी वे हरपल मेरा ही ख्याल करती रहती है

फिर अब पम्मी को इस तरह अपना वैलेंटाइन मिल गया था अब उसकी मम्मी ही उसकी वैलेंटाइन बन सकती है है जो हर समय उसका ख्याल रखती है हमेसा मेरा ही अच्छा सोचती है और अब उसे अपनी मम्मी की याद भी बहुत सताती रहती है और मम्मी की हर बाते हर समय याद देती रहती है

इसके बाद पम्मी बोल उठी “ओह मेरी प्यारी मम्मी तुम कहा हो तुम्ही मेरी Valentine बनोगी, प्लीज मेरे पास जल्दी आ जाओ” और इस तरह से पम्मी को अपने मम्मी के प्यार का अहसास हो गया था फिर वह वैलेंटाइन डे के दिन अपनी दादी के साथ गाँव पहुच गयी और तुरंत अपने मम्मी से गले लिपट गयी तो उसकी मम्मी थोड़ी हैरान थी की आखिर उसकी प्यारी बेटी को क्या हो गया.

फिर पम्मी की मम्मी ने उसकी हाथो में ग्रीटिंग्स कार्ड देखा, पम्मी कुछ नहीं बोल रही थी फिर मम्मी ने वह ग्रीटिंग्स कार्ड लेकर पढने लगी जिसपर लिखा था “मेरी प्यारी मम्मी, आप दुनिया की सबसे बेस्ट मम्मी हो, आपको मेरी तरफ से Happy Valentine Day. मै हमेसा आपके साथ रहना चाहती हु कभी भी मुझे अब अकेली मत छोड़ना, आपके प्यार को हमेसा पाना चाहती हु आपकी प्यारी बेटी पम्मी”

यह पढकर पम्मी के माँ के आँखों में भी प्यार के आशु छलक आये और एकबार फिर से वे एक दुसरे को गले लगा लिए और बोली “मेरी प्यारी बेटी पम्मी, मै भी तुम्हे बहुत मिस करती हु तुमसे बहुत प्यार करती हु तुम्हे हरपल याद करती हो तुम तो मेरी प्यारी वैलेंटाइन हो, तुम्हे भी Happy Valentine”

और इस तरह पम्मी को अपने वैलेंटाइन के रूप में उसकी बेस्ट मम्मी फिर से मिल गयी थी  

कहानी से शिक्षा

हमारा देश सदियों से अच्छी शिक्षा देने वाला और अच्छी चीजो को अपने आप में आत्मसात करने वाला देश है भले ही अलग अलग सभ्यता की अलग अलग परम्परा क्यों ना हो लेकिन हम सभी भारतीय उसे अपने ही परम्परा में ढाल लेते है इसी कारण सभी हिन्दुस्तानी पूरे विश्व में एक अलग पहचान बनाते है

ऐसा लोग सोचते है वैलेंटाइन सिर्फ लड़का लड़की के प्यार के इजहार का दिन होता है लेकिन सही मायनो में देखा जाय तो यह सच्चे प्यार की निशानी होती है और हमारे देश में माँ बाप से बढकर कोई और हो ही नही सकता अपनी सारी खुशिया अपने बच्चो के लिए कुरबान कर देते है

इसलिए यदि हम भी इस वैलेंटाइन डे को यादगार बनाना चाहते है हम सभी इस कहानी के पम्मी के तरह ही अपने माता पिता को अपने प्यार का इजहार कर सकते है और और उनके नजरो में खुद को और भी ऊचा बना सकते है

तो आप सबको यह वैलेंटाइन की Kahani कैसा लगा कमेंट में जरुर बताये और इस कहानी को शेयर भी जरुर करे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here