शेर और सियार के हितोपदेश की कहानी in Hindi

0

Sher Siyar Ki Hitopadesha Kahani in Hindi

शेर सियार की हितोपदेश कहानी

एक गाव के नजदीक सियार और सियारिन रहते थे वे अपना घर बनाने के तलाश में निकले तो उन्हें पास के जंगल में एक खाली गुफा दिखाई दिया जो की वह गुफा किसी शेर का था वह शिकार की तलाश में दूर चला गया था खाली गुफा पाकर सियार और सियारिन उस गुफा में रहने लगे

लेकिन जब शेर शिकार करके वापस अपने गुफा की तरफ लौटने लगा तो पास आते देखकर सियार बहुत ही डर गया और डर के मारे उसे अब समझ नही आ रहा था की वह अब क्या करे तो यह सब देखकर सियारिन ने समझाते हुए कहा की अब हमे डरने के बजाय पास आये मुसीबत का सामना हिम्मत और अक्ल से करना चाहिए

तो सियार ने अपने एक योजना बनाई और योजना के मुताबिक जब शेर नजदीक आएगा तो वह पूछेगा की उसके बच्चे क्यू रो रहे है तो तुम कहना की बच्चे भूखे है और इन्हें शेर का ही मांस चाहिए.

Sher Siyar Ki Hitopadesh Kahani in Hindi

तो शेर के गुफा के पास आने के बाद सियार और सियारिन ने ऐसा ही किया और दोनों बात करने लगे सियार की बातो को सुनकर शेर को आश्चर्य हुआ की जिसके बच्चे शेर का मांस खाते होंगे तो ये दोनों कितने ताकतवर होंगे इसके बाद शेर चुपचाप वहां से चला गया

फिर थोड़ी देर बाद शेर वापस आया तो सियार सियारिन से बोलने लगा की बच्चे तो रोज रोज रोते है इन्हें रोज शेर का मांस कहा से लाऊंगा दुबारा यह बाते सुनकर भयभीत भी हो गया और फिर चुपचाप वहा से भाग लिया

शेर को जंगल में भागता देखकर एक बन्दर ने शेर को रोका और पूछा आप जंगल के राजा होकर भी इतने डरे हुए होकर कहा भागे जा रहे है तो शेर बन्दर से बोला की मेरे गुफा में एक सियार सियारिन का परिवार आ गया है जिसके बच्चे तो शेर का मांस खाते है

तो यह बाते सुनकर बन्दर हँसने लगा की आप राजा और ताकतवर होकर एक सियार से डर रहे है चलिए मै आपके साथ चलता हु फिर देखता हु की आखिर कौन सियार के परिवार है जो शेर का मांस खाते है लेकिन भयभीत शेर बोला मै एक ही शर्त पर वहा चल सकता हु की अगर तुम मेरे पूछ से बाधकर आगे आगे चलो तब मै चलूँगा ऐसा कहने पर बन्दर तैयार हो गया और शेर ने बन्दर को अपने पूछ में बाधकर गुफा की तरफ चल दिया

शेर और बन्दर को गुफा के पास आने के बाद सियार सियारिन आपस में बात करने लगे की बन्दर को बोला था की वह दो शेर लायेगा लेकिन ये क्या बन्दर तो सिर्फ एक ही शेर ला रहा है अब शेर को पूरा विश्वास हो गया की बन्दर भी उसे सियार के जालो में फसा रहा है और बिना एक पल गवाए वहा से भागने लगा जिसके चलते बन्दर भी पूछ में बधे होने के कारण घिसटने के कारण बन्दर मर गया और शेर किसी तरह वहा से अपनी जान बचाकर भाग लिया इसके बाद सियार सियारिन उस गुफा में शांतिपूर्वक रहने लगे.

कहानी से शिक्षा

शेर और सियार की कहानी के माध्यम से हम सभी को यही सीख मिलती है अगर जीवन में चाहे कितना बड़ा दुःख और विपत्ति के क्षण क्यू न आ जाये अगर इन विपत्ति का सामना हिम्मत और बुद्धि से किया जाय तो बड़े से बड़े दुखो पर भी विजयी पाया जा सकता है इसलिए हमे अपने जीवन में चाहे दुःख कितना भी बड़ा शेर की तरह ही क्यू न हो और ताकतवर भी हो लेकिन अगर हम सभी बुद्धि और चतुराई से सामना करे तो निश्चित ही हम सभी हमेसा विजयी रह सकते है और जो लोग मूर्खो का साथ देते है उनकी भी मति मारी जाती है उन्हें अंत में स्वत का नुकसान भी उठाना पड़ता है

जीवन को अच्छी सीख देने वाली इन हिंदी कहानियो को भी जरुर पढ़े:-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here