बाबा साहेब डा. भीमराव अम्बेडकर का जीवनी Dr Bhimarao Ambedkar Biography


Bhartiya Samvidhan Niramata Dr Bhimrao Ambedkar Biography in Hindi

भारत के सविंधान निर्माता डॉक्टर भीमराव अम्बेडकर का जीवन परिचय

जब हमारे देश भारत में छुआछुत, भेदभाव, उचनीच जैसे अनेक सामाजिक कुरीतियाँ अपने चरम अवस्था पर थी ऐसे में इन बुराईयों को दूर करने में भीमराव अम्बेडकर का अतुल्य योगदान माना जाता है जिसके कारण भीमराव अम्बेडकर को दलितों का मसीहा भी कहा जाता है भारत के सविंधान में प्रमुख योगदान देने वाले डॉ भीमराव अम्बेडकर को बाबासाहेब के नाम भी जाना जाता है

पूरे जीवन संघर्ष का साथ देने वाले भीमराव अम्बेडकर का जीवन हम सभी के लिए अनुकरणीय है भीमराव अम्बेडकर का मानना था की हमारा जीवन वो नदी है जिसके लिए कोई भी बने बनाये रास्ते की जरूरत नही है यदि हम जिधर निकल जाए वही हमारा जीवन रूपी नदी अपना रास्ता बना लेंगी अर्थात जीवन में हम सब ठान ले तो निश्चित ही हम सभी अपने जीवन का लक्ष्य पा सकते है

भीमराव अम्बेडकर दलितों के सबसे बड़े मसीहा थे अपने पूरे जीवन भर भारत के लोगो के कल्याण के लिए अपना जीवन न्योछावर करने वाले भीमराव अम्बेडकर आज भी हम सभी के लिए प्रेरणाश्रोत्र है तो आईये भीमराव अम्बेडकर के जीवन के बारे में जानते है

भीमराव अम्बेडकर का जीवन परिचय

Dr BR Ambedkar Biography Jivan Parichay in Hindi

भीमराव अम्बेडकर का जन्म 14 अप्रैल 1891 को भारत के वतर्मान राज्य मध्यप्रदेश के इंदौर जिले के महू में हुआ था इनके पिताजी रामजी मालोजी सकपाल और माता का नाम भीमाबाई था जो को भीमराव अम्बेडकर अपने मातापिता की 14वी संतान थे इनके पिता रामजी सकपाल इंडियन आर्मी में सूबेदार थे जो की सेवानिर्वित्त होने के बाद 1894 में महाराष्ट्र राज्य के सतारा जिले में बस गये, भीमराव अम्बेडकर हिन्दू धर्म के महार जाति से आते थे जिनका मतलब उस समय अछूत जाति से होता था जिनके कारण उनके जीवन पर छुआछुत और सामाजिक भेदभाव का गहरा प्रभाव पड़ा.

छुआछुत का प्रभाव भीमराव अम्बेडकर को बचपन से ही देखने को मिला जब वे अपने स्कूल में पढ़ते थे तो ऊची जाति के लोग इन्हें छूना भी गलत मानते थे जिसके वजह से भीमराव अम्बेडकर को कई बार अपमानित भी होना पड़ा, इनके जाति के बच्चो को स्कूल में एकदम पीछे बैठने दिया जाता था और पढाई के दौरान अध्यापक भी इन बच्चो की पढाई पर ध्यान नही देते थे

छुआछुत की भावना इस तरह प्रबल थी की स्कूल का चपरासी भी इनको पानी दूर से ही पिलाता था और जिस दिन यदि चपरासी स्कूल नही आता तो भीमराव अम्बेडकर और अन्य इन जाति के बच्चो को बिना पानी पिये ही रहना पड़ता था शायद इससे बड़ी छुआछुत की भयानकता क्या हो सकती है की बिन चपरासी के प्यासे रहना पड़ता हो जिसपर भीमराव अम्बेडकर ने स्वय अपनी दुर्दशा को ‘ना चपरासी ना पानी’ लेख के माध्यम से बताया है लेकिन इन सब से परे भीमराव अम्बेडकर गौतम बुद्ध के विचारो से बचपन से ही बहुत अधिक प्रभावित थे और बौद्ध धर्म को बहुत मानते थे

इसे भी पढ़े – योगी आदित्यनाथ योगी से मुख्यमंत्री बनने की कहानी Yogi Adityanath

भीमराव अम्बेडकर के माँ की मृत्यु के बाद इनके पिता ने 1898 में दूसरी शादी कर लिया और फिर इनके पिता मुंबई में आ गये और फिर उन्होंने भीमराव अम्बेडकर का प्रवेश पहले अछूत छात्र के रूप में एलिफिस्टन कॉलेज में कराया जहा से परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद भीमराव अम्बेडकर ने आगे की पढाई बम्बई विश्वविद्यालय से किया जहा उन्होंने राजनीती विज्ञान और अर्थशात्र से स्नातक की पढाई पूरी की इसके पश्चात भीमराव अम्बेडकर को बडौदा में एक नौकरी मिल गयी और 1913 में बडौदा में ही वह जे महाराजा ने उन्हें सम्मानित भी किया

लेकिन इसी वर्ष पिता की मृत्यु के उपरांत भीमराव अम्बेडकर को पहली बार बडौदा के महाराज ने उन्हें उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए अमेरिका भेजा जहा पर न्यूयार्क सिटी | Newyork City में उन्हें पहली बार अपनी जाति को लेकर छुआछुत का अहसास नही हुआ जिससे प्रभावित होकर भीमराव अम्बेडकर ने यह प्रण लिया की वे अपने देश जाकर छुआछुत को दूर करेगे.

इसके पश्चात मास्टर ऑफ़ डिग्री और कोलम्बिया विश्वविद्यालय से नेशनल डीविन्डेड फॉर इंडिया ए हिस्टोरिकल एंड एनालिटिकल स्टडी” के लिए Doctorate की उपाधि से सम्मानित किया गया इसके पश्चात लन्दन जाने के बाद वे फिर भारत वापस लौट आये

छुआछुत और बाल विवाह का प्रभाव भीमराव अम्बेडकर के जीवन में देखने को मिलता है सं 1906 में मात्र 15 साल की आयु में इनका विवाह रमाबाई से कर दिया गया जो उस समय रमाबाई मात्र 9 साल की थी रमाबाई से भीमराव अम्बेडकर से एक पुत्ररत्न की प्राप्ति हुई जिनका नाम इन्होने यशवंत रखा और 1935 में लम्बी बीमारी के चलते इस दुनिया से भीमराव अम्बेडकर का साथ छोडकर चली गयी

और फिर सविंधान निर्माण के दौरान भीमराव अम्बेडकर को अनेक प्रकार की बीमारियों ने घर लिया था जिसके चलते बाम्बे में इलाज के दौरान इनकी मुलाकात डॉक्टर शारदा कबीर से हुई जिनके साथ भीमराव अम्बेडकर ने 15 अप्रैल 1948 को अपनी दूसरी शादी कर लिया और फिर लम्बी बीमारी और आखो की रौशनी में धुधलापन व अन्य कई तरह की बीमारियों के चलते भीमराव अम्बेडकर इस दुनिया से 6 दिसम्बर 1956 को विदा हो गये

भीमराव अम्बेडकर के कार्य और उपलब्धिया

बचपन से छुआछुत और जातिपाती जैसी तमाम बुराईयों के चलते भीमराव अम्बेडकर ने अपना पूरा जीवन इन बुराईयो को दूर करने में लगा दिया जिसके कारण इनके जन्मदिवस को अम्बेडकर जयंती | Ambedkar Jayanti के रूप में मनाया जाता है इसके अतिरिक्त भीमराव अम्बेडकर को भारतीय सविंधान का रचयिता भी माना जाता है

बचपन से जाति और छुआछुत का दंश झेलने वाले भीमराव अम्बेडकर चाहते थे समाज के हर तबके के लोगो का अपने देश में एक जैसा व्यवहार हो इसके लिए दलितों के हक के लिए हमेसा लड़े और इनकी समानता के लिए सविंधान में कानून भी बनाये जिसके कारण भीमराव अम्बेडकर को गरीबो और पिछडो का मसीहा भी कहा जाता है

बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर जयंती

Baba Saheb Bhimarao Ambedkar Jayanti

भीमराव अम्बेडकर के जन्म दिवस के उपलक्ष्य में मनाया जाने वाला पर्व अम्बेडकर जयंती के नाम से जाना जाता है जिसके कारण लोगो द्वारा इसे समानता दिवस या ज्ञान दिवस के रूप में भी जाना जाता है अपने पूरे जीवन भर समानता का पाठ पढ़ाने वाले भीमराव अम्बेडकर को ज्ञान और समानता का प्रतिक भी माना जाता है जिसके कारण भीमराव अम्बेडकर को मानवाधिकारो का सबसे बड़ा प्रवर्तक भी कहा जाता है

भीमराव अम्बेडकर जयंती के मनाने के पीछे मूल कारण लोगो में समानता के अधिकारों का विकास हो और सबका साथ सबका विकास हो अम्बेडकर के कार्यो से प्रभावित होकर अब संयुक्त राष्ट्र में भी इनकी जयंती मनाया जाने लगा है और सयुक्त राष्ट्र ने भीमराव अम्बेडकर को “विश्व का प्रणेता” कहकर उनके सम्मान में संबोधित किया है जो की हर भारतीयो के लिए एक गर्व की बात है

⇒ पढ़े : –डॉ भीमराव अम्बेडकर के 35 अनमोल विचार Bhim Rao Ambedkar Vichar

तो आप सभी को भीमराव अम्बेडकर की जीवनी पर दी गयी यह जानकारी कैसा लगा प्लीज् कमेंट बॉक्स में जरुर बताये

इन महापुरुषों की जीवनी भी जरुर पढ़े


27 Comments

  1. बाबा साहव भीमराव अम्बेडकर भारत के महान नेता थे उन्हें दलितों का मसीहा कहते हैं उन्हें संबिधान भी लिखा है
    ॐ जय भीम ॐ

  2. Baba saheb humare liye hamare janam daata hai humari rago mai unka khoon hai us khoon ko kranti mai bahao jisse humare baba saheb ko humpe garv ho dosto baba saheb ke ahsano ko kabhi mat ginna bs kisi bhi ek ahsan ka badla chuka dena baba saheb bahut garv mahsus karege
    Jai bhim dosto

  3. मैं ऋणी हूँ बाबा साहेब का उनका कर्ज कैसे चुकाऊँ उनका कर्ज उतारने के लिए इस जीवन की घडि़या कम पड जायेगी
    कैसे करु अदा तेरे एहसानो के मूल्यो को,जब सौदा ही अनमोल हो
    अब तो कसम खा लो दलित भाईयो, हमारी जुबां पर एक ही बोल हो
    जय जय जय भीम जय भीम जय भीम

    1. वेलकम अनिमेश ऐसे ही आप हमारे लिखने का हौसला बढ़ाते रहे..धन्यवाद

  4. मुझे लगता है इसमें कई बातें छुट गई है जैसे स्कूल में चप्पल रखने के स्थान पर बैठते थे,अम्बेडकर सरनेम कहा मिला, नौकरी करते थे तो चपरासी भी फाइलो को फेंककर देता इत्यादि ।

  5. बाबा साहब ने सिर्फ दलितों के लिये नही सभी के लिये कूछ ना कुछ किया है महिलाओ के लिये शिक्षा का अधिकार दिलवाया जिसकी वजह से देश की महिलाएँ आज सिर उठाकर जी रही है पर बूहत कम महिलाओ को ये पता है संविधान बनने से पहले महिलाओ को पढ़ने का अधिकार नही था बाबा साहब को सिर्फ दलितों के मसीहा तक ही सीमित कर दिया है

    1. सही कहा अजय आपने । महान लोग किसी एक का भला नही करते है वे सबका भला चाहते है

  6. आम्बेडकर जी के जीवन से हर कोई प्रेरणा ले सकता है। शेयर करने के लिए धन्यवाद
    जन्म: 14 अप्रैल 1891
    निधन हो गया: 1956 6 दिसंबर
    भारत को संविधान देने वाले महान नेता डा. भीम राव अंबेडकर का जन्म 14 अप्रैल 1891 को मध्य प्रदेश के एक छोटे से गांव में हुआ था। डा. भीमराव अंबेडकर के पिता का नाम रामजी मालोजी सकपाल और माता का भीमाबाई था। अपने माता-पिता की चौदहवीं व अंतिम संतान के रूप में जन्में डॉ. भीमराव अम्बेडकर जन्मजात प्रतिभा संपन्न थे। भीमराव अंबेडकर का जन्म महार जाति (Mahar (dalit) caste in wikipedia article also) में हुआ था जिसे उस समय अछूत और निम्न वर्ग माना जाता था बचपन से भीमराव अंबेडकर (dr br ambedkar) अपने परिवार के साथ सामाजिक और आर्थिक रूप से गहरा भेदभाव होता देखते आ रहे थे। भीमराव अंबेडकर के बचपन का नाम रामजी सकपाल था। अंबेडकर के पूर्वज लंबे समय से ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी की सेना में कार्यरत थे और उनके पिता ब्रिटिश भारतीय सेना की मऊ छावनी में सेवा में थे भीमराव के पिता सदैव अपने बच्चों की शिक्षा पर जोर देते थे।

    1. बहुत ही बढ़िया विक्की जो आपने भीमराव अम्बेडकर के बारे में जानकारी शेयर किया ,
      आपको अच्छीAdvice की तरफ से धन्यवाद…….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *