सकरात्मक विचारो की शक्ति Hindi Kahani

0

Positive Thinking की हिन्दी Kahani

एक बार की बात है एक महात्मा किसी गाव के पास ठहरे महात्मा की प्रसिद्धि की चर्चा दूर दूर तक फैली हुई थी जिनके आगमन के बारे में जानकर गाववालो ने महात्मा जी के दर्शन का मन बनाया और इसके बाद सभी गाववाले महात्माजी के पास पहुच गये.

तो गाववालो के आने की बात सुनकर महात्माजी बहुत खुश हुए और थोड़ी देर बाद महात्मा जी तैयार होकर गाववालो के सामने उपस्थित हुए महात्मा जी के ललाट पर तेज था जिसे देखकर सभी अत्यंत प्रसन्न हुए और सबने प्रार्थना किया की हे महात्मा आप हमे ज्ञान की कुछ अच्छी बाते बताईये, तो गाववालो के कहने पर महात्मा जी बोले ठीक है आप लोग बैठ जाईये और जिसको जो पूछना है पूछ सकता है इसके बाद महात्मा जी अपने सिंहासन पर बैठ गये

Power of Positive Thinking Story in Hindi

तो उन गाववालो में से एक व्यक्ति महात्मा जी पूछता है की हे महाराज आप ही बताईए की हम सभी अपने दुखो और चिन्ताओ से कैसे छुटकारा पा सकते है तो महात्मा जी ने एक अपनी गठरी मगाया और गठरी को अपने हाथ में उठाकर बोले की आप लोग बताये की इस गठरी का वजन कितना होगा तो सबने अपने अपने हिसाब से उस गठरी का वजन बताया

तो सबकी बात सुनकर महात्मा जी ने कहा की देखो गठरी का वजन चाहे कितना भी हो कोई फर्क नही पड़ता है फर्क तो सिर्फ इस बात का पड़ता है की इस गठरी को मै इसे कितने समय तक अपने हाथ में उठाये रखता हु

अगर इसे मै अपने हाथ में एक मिनट तक उठाये रखता हु तो कोई फर्क नही पड़ेगा लेकिन अगर इसी गठरी को अपने हाथो में घंटो तक उठाये रखता हु तो हो सकता है की मेरा हाथ दर्द करने लगे और देर तक उठाने से मेरा हाथ अकड भी जाए

लेकिन सोचो अगर इसे मै सारे दिन या हर दिन इस गठरी को उठाये रखता हु तो निश्चित ही मै दर्द और परेशानी में पड़ सकता हु और ऐसा करने से मेरे हाथ कमजोर होकर अपाहिज हो सकते है और हाथ उठाने में असमर्थ भी हो सकते है

तो आप सभी बताईये की इन सभी परिस्थितियों में क्या गठरी का वजन कम हुआ शायद नही, ठीक उसी प्रकार यदि हम अपने जीवन में भी गठरी रुपी दुःख और चिंता को लेकर परेशान रहे तो क्या हमारी दुःख और चिंता कभी कम होगी क्या, शायद कभी नही, हा लेकिन हम सभी अपने दुःख और चिंता को अपने पास कुछ समय तक ही रखे तो हमे उतना कष्ट नही होगा जितना की हम अपने दुखो और चिन्ताओ को जिन्दगी भर ढोते रहे,

इसलिए हमे अपने जीवन में कभी भी चिंता के साथ अपना जीवन कष्टमय नही बनाना चाहिए और यदि हम सब Positive Thinking के साथ अपना जीवन व्यतीत करे तो निश्चित ही अपना जीवन सुखमय बना सकते है    

सीख –

दोस्तों अक्सर हम सभी के साथ ऐसा होता है की अगर हमारे जीवन में थोडा सा भी दुःख आता है तो उस दुःख के कारण अत्यंत चिंतित हो जाते है और अपना सारा कामधाम छोड़कर बस उसी दुखो की चिंता लिए फिरते है जिसके कारण हमारे बने बनाये अनेको काम बिगड़ जाते है इसलिए हमे कभी भी अपने जीवन में अपने दुखो की चिंता नही करनी चाहिए

दुनिया में आप चाहे किसी को भी देख ले हर एक के जीवन में दुःख कभी न कभी जरुर आते है लेकिन वही व्यक्ति ज्यादा सुखी होता है वो अपने इन दुखो के कारण चिंतित नही रहता है इसलिए हम सभी को अपने जीवन में हमेसा Positive Thinking के साथ आगे बढ़ते रहना चाहिए क्यू की सकरात्मक सोच की शक्ति से हमारे चिन्ताओ का समूल नाश हो जाता है

आप सभी को जीवन की सोच बदलने वाली Positive Think की ये Hindi Kahani कैसा लगा प्लीज हमे जरुर बताईये.

जीवन की सोच को को सकरात्मक दिशा में ले जाने वाली इन हिंदी कहानियो को भी जरुर पढ़े:-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here