HomeMoral Storyगुब्बारे वाला की कहानी | Gubbare Wale Ki Hindi Kahani

गुब्बारे वाला की कहानी | Gubbare Wale Ki Hindi Kahani

Gubbare Wale Ki Hindi Kahani

गुब्बारे वाला की कहानी

अक्सर हम किसी सफल व्यक्ति को देखते है, तो उसकी भेषभूषा और रंग रूप बनावट से प्रभावित होते है, और सोचते है, काश हम भी ऐसे होते है, तो शायद हम भी वैसे ही सफल होते, लेकिन वास्तविकता यह होती है, की वह व्यक्ति अपने भेषभूषा और रंगरूप से नही बल्कि अपने गुणो के कारण ही सफल होता है, तो चलिये आज इस पोस्ट इसी सोच पर आधारित गुब्बारे वाला की कहानी Gubbare Wala Hindi Kahani बताने जा रहे है, जो की हम सभी को यह कहानी प्रेरणा देती है,

गुब्बारे वाला की कहानी

Gubbare Wala Hindi Kahani

Gubbare Wala Hindi Kahaniएक आदमी गुब्बारे बेच कर जीवन-यापन करता था.  वह गाँव के आस-पास लगने वाली हाटों में जाता और गुब्बारे बेचता . बच्चों को लुभाने के लिए वह तरह-तरह के गुब्बारे रखता…लाल, पीले ,हरे, नीले…. और जब कभी उसे लगता की बिक्री कम हो रही है वह झट से एक गुब्बारा हवा में छोड़ देता, जिसे उड़ता देखकर बच्चे खुश हो जाते और गुब्बारे खरीदने के लिए पहुँच जाते.

इसी तरह तरह एक दिन वह हाट में गुब्बारे बेच रहा था और बिक्री बढाने के लिए बीच-बीच में गुब्बारे उड़ा रहा था. पास ही खड़ा एक छोटी बच्ची ये सब बड़ी जिज्ञासा के साथ देख रहा थी. इस बार जैसे ही गुब्बारे वाले ने एक सफ़ेद गुब्बारा उड़ाया वह तुरंत उसके पास पहुंचा और मासूमियत से बोली, ” अगर आप ये काला वाला गुब्बारा छोड़ेंगे…तो क्या वो भी ऊपर जाएगा ?”

Follow AchhiAdvice at WhatsApp Join Now
Follow AchhiAdvice at Telegram Join Now

गुब्बारा वाले ने थोड़े अचरज के साथ उसे देखा और बोला, ” हाँ  बिलकुल जाएगा.  बेटी! गुब्बारे का ऊपर जाना  इस बात पर नहीं निर्भर करता है कि वो किस रंग का है बल्कि इसपर निर्भर करता है कि उसके अन्दर क्या है.”

गुब्बारे वाले की यह बात सुनकर छोटी च्ची को यह समझ आ गया था की गुब्बारा रंग बल्कि अपनी गुणो के आधार पर ऊपर उड़ता है, यानि खाली गुब्बारे को उड़ाया जाय तो वह नहीं उड़ेगा, बल्कि वह अंदर भरी गयी हवा के साथ ही उड़ सकता है।

कहानी से शिक्षा

ठीक इसी तरह हम इंसानों के लिए भी ये बात लागु होती है. कोई अपनी जीवन में क्या हासिल करेगा, ये उसके बाहरी रंग-रूप पर नहीं निर्भर करता है, ये इस बात पर निर्भर करता है कि उसके अन्दर क्या है. अंतत: हमारा गुण हमारा सफलता निर्धारण करता है .

तो आप सभी तो यह प्रेरणा देने वाली गुब्बारे वाला की कहानी (Gubbare Wala Hindi Kahani) कैसा लगा, कमेंट बॉक्स मे जरूर बताए और लोगो को प्रेरणा देने के लिए इस कहानी को शेयर भी जरूर करे,

इन कहानियो को भी पढे :-  

शेयर करे
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here