AchhiAdvice.Com

The Best Blogging Website for Help, General Knowledge, Thoughts, Inpsire Thinking, Important Information & Motivational Ideas To Change Yourself

Hindi Poem Festival हिन्दी कविता

नव वर्ष के आगमन पर नये साल की कविता

Happy New Year Kavita Poem Poetry In Hindi

नये साल पर कविता

इस पोस्ट मे आप सबके लिए नए साल के आगमन के शुभ अवसर पर नए साल की कविता, नव वर्ष पर कविता, Happy New Year Kavita,  New Year Poem in Hindi, Happy New Year Poetry लिख रहे है, जिन्हे आप इन हैप्पी न्यू इयर पोएम को अपने दोस्तो, रिस्तेदारों को सोशल मीडिया पर भेजे, और इन्हे फेसबूक, ट्वीट्टर, व्हाट्सएप्प पर शेयर करे।

तो आईये नये साल की ख़ुशी में कुछ ऐसी ही नये साल की कविता | Happy New Year Kavita, Happy New Year Poem, Happy New Year Hindi Poetry आप सबके बीच शेयर कर रहे है, जिसे आप भी अपनों को नए साल की शुभकामनाये देने के लिए इन नये साल की कविता, Happy New Year Poem को जरुर शेयर करे.

नये साल की कविता

Happy New Year Kavita Poem Poetry in Hindi

जैसे ही हमारे जीवन में जब कुछ नया होता है तो हम सभी उसके लिए बहुत ही उत्सुक रहते है तो क्यू न फिर हम अपने आने वाले इस नये साल | Happy New Year को नये जोश के अपने नये लक्ष्य बनाये और जो लक्ष्य बनाये उसे आने वाले इस साल में अपनी मेहनत और लगन से उसे पाने की भरपूर कोशिश करे, क्यूकी वक्त अगर बीत जाता है, तो वह फिर दुबारा नही आता है तो क्यू ना आने वाले अच्छे वक्त का इंतजार करने के बजाय आज से ही अपने लक्ष्य को पूरा करने मे जुट जाये, तभी हमारा आने वाला नया साल ढेरो खुशिया दे सकता है.

Happy New Year Kavita Poem Poetry

सुनहरे सपनों की झंकार, लाया है नववर्ष

खुशियों के अनमोल उपहार लाया है नववर्ष

आपकी राहों में फूलों को बिखराकर लाया है नववर्ष

महकी हुई बहारों की ख़ुशबू लाया है नववर्ष

अपने साथ नयेपन का तूफान लाया है नववर्ष

स्नेह और आत्मीयता से आया है नववर्ष

सबके दिलों पर छाया है नववर्ष

आपको मुबारक हो दिल की गराईयों से नववर्ष।

नये साल की कविता

नया साल है नई उमंग,

नई आस है जीवन में।

नई सोच है, नई तरंगे,

नई प्यास है जीवन में।

करना है कुछ नया नया अब,

नई बहार है जीवन में।

सपनों को सच करना है अब,

नई चाह है जीवन में।

करना है कुछ खुद से वादा,

आगे बढ़ना है जीवन में।

बीते पल में जो मिली निराशा,

भूलना है उसे जीवन में।

नया साल है नई उमंग,

नई आस है जीवन में।

Happy New Year Poem in Hindi

नए वर्ष में नई पहल हो

कठिन ज़िंदगी और सरल हो

अनसुलझी जो रही पहेली

अब शायद उसका भी हल हो

जो चलता है वक्त देखकर

आगे जाकर वही सफल हो

नए वर्ष का उगता सूरज

सबके लिए सुनहरा पल हो

समय हमारा साथ सदा दे

कुछ ऐसी आगे हलचल हो

सुख के चौक पुरें हर द्वारे

सुखमय आँगन का हर पल हो

सभी के लिए ये नया साल मंगलमय हो॥

New Year Hindi Poetry

नए साल की शुभकामनाएँ!

खेतों की मेड़ों पर धूल भरे पाँव को

कुहरे में लिपटे उस छोटे से गाँव को

नए साल की शुभकामनाएं!

जाँते के गीतों को बैलों की चाल को

करघे को कोल्हू को मछुओं के जाल को

नए साल की शुभकामनाएँ!

इस पकती रोटी को बच्चों के शोर को

चौंके की गुनगुन को चूल्हे की भोर को

नए साल की शुभकामनाएँ!

वीराने जंगल को तारों को रात को

ठंडी दो बंदूकों में घर की बात को

नए साल की शुभकामनाएँ!

इस चलती आँधी में हर बिखरे बाल को

सिगरेट की लाशों पर फूलों से ख़याल को

नए साल की शुभकामनाएँ!

कोट के गुलाब और जूड़े के फूल को

हर नन्ही याद को हर छोटी भूल को

नए साल की शुभकामनाएँ!

उनको जिनने चुन-चुनकर ग्रीटिंग कार्ड लिखे

उनको जो अपने गमले में चुपचाप दिखे

नए साल की शुभकामनाएँ!

नये साल की कविता

भूल कर बीती बातों को,

एक नए मुकाम को पाना है,

नए साल में हमको,

एक नया इतिहास बनाना है,

ऊपर उठना है अब हमको,

हौसला ये बनाना है,

रुकना नहीं है अब हमको,

आगे कदम बढ़ाना है,

नए साल में हमको,

एक नया इतिहास बनाना है।

Happy New Year Kavita

अभिनंदन नववर्ष तुम्हारा

है उल्लासित फिर जग सारा

नई डगर है नया सवेरा, खुशियों से भरा नज़ारा

अभिनंदन नववर्ष तुम्हारा ….

ओस सुबह की है फिर चमकी, बिखरा करके छ्टा निराली

चेहरे दमके बगियाँ महकी, घर घर होली और दीवाली

फिर खिलकर फूल सतरंगे, हो प्रतिबिंबित तब सरिता में

प्रकृति को क्या खूब सँवारा…..

अभिनंदन नववर्ष तुम्हारा ….

हो उत्साहित गोरन्वित हम, लिए सोच में वही नयापन

निकल पड़े कुछ कर पाने को, नई दिशाएँ दर्शाने को

कर पाऊँ हर सपने को सच, जो तुम थामो हाथ हमारा ….

अभिनंदन नववर्ष तुम्हारा ….

Happy New Year Poem in Hindi 2024

हंसे और मुस्कुराएं, नए साल में।

खुशियां मनाएं, नए साल में।

गीत गुनगुनाएं, नए साल में।

सबके दिलों में घर बनाएं, नए साल में।

भूल गए हैं हम जो हमें,

याद आएं हम नए साल में।

मिटे नहीं फासले हमारे, नए साल में।

Happy New Year Poem in Hindi

नव वर्ष तुम्हारा स्वागत है,

खुशियों की बस इक चाहत है।

नया जोश, नया उल्लास,

खुशियाँ फैले, करे उजास।

नैतिकता के मूल्य गढ़ें,

अच्छी-अच्छी बातें पढें।

कोई भूखा पेट न सोए,

संपन्नता के बीज बोए।

ऐ नव वर्ष के प्रथम प्रभात,

दो सबको अच्छी सौगात।

Happy New Year Hindi Kavita

स्वागत है नव वर्ष तुम्हारा,

अभिनंदन नववर्ष तुम्हारा,

देकर नवल प्रभात विश्व को,

हरो त्रस्त जगत का अंधियारा

हर मन को दो तुम नई आशा

बोलें लोग प्रेम की भाषा,

समझें जीवन की सच्चाई,

पाटें सब कटुता की खाई,

जन-जन में सद्भाव जगे,

औ घर-घर में फैले उजियारा !

नव वर्ष पर कविता

सुनहरे पलों की झंकार,

ले कर आया नया साल।

रंग बिरंगे फूलों की खुशबू,

ले कर आया नया साल।

उमंगों का अनमोल उपहार,

ले कर आया नया साल।

उम्मीदों का नया सवेरा,

ले कर आया नया साल।

हैप्पी न्यू ईयर कविता

नव वर्ष तुम्हारा स्वागत है,

खुशियों की बस इक चाहत है।

नया जोश, नया उल्लास,

खुशियां फैले, करे उजास।

नैतिकता के मूल गढ़ें,

अच्छी – अच्छी बातें पढ़ें।

कोई भूखा पेट न सोए,

सम्पन्नता के बीज बोएं।

नए वर्ष की पहली सुबह,

दे सबको अच्छी सौगात।

हैप्पी न्यू इयर पोएम

नया साल क्या लाएगा.. नया साल भी सताएगा

ख्वाब दिखायेगा, कदम बहकायेगा

ठोकरे देकर संभालना सिखाएगा

याद दिलाएगा, हमे रुलाएगा

वास्ते देकर फिर चुप कराएगा

आरज़ू जगायेगा, नींदें उड़ाएगा

दिलासे देकर फिर सुलाएगा

यादें महकाएगा, गीत लिखवाएगा

आंसू छलकाकर अकेला छोड़ जायेगा

उम्मीदे लाएगा, हसरतें जगायेगा

जीना सिखाएगा, यादें दे जायेगा

नया साल क्या लाएगा… नया साल भी गुजर जायेगा

नये साल की नई कविता

नये वर्ष का करें सभी हम,

मिलकर सारे ऐसा स्वागत,

भूल सारे वैर भाव हम,

मन में हो प्रीती की चाहत.

नहीं किसी का बुरा करें हम,

सीखें मानवता से रहना,

सच्ची -मीठी वाणी बोलें,

कटुवचन न कभी कहना!

नये -नए संकल्प करें हम

अब है आगे हमको बढ़ना,

भूखे -प्यासे दीन -दुखी की ,

आगे बढ़ कर सेवा करना.

सबके लिए हो मंगलमय इस,

नए वर्ष का इक -इक पल,

भविष्य स्वर्णिम और सुखद हो,

सबके लिए हो उज्जवल कल.

नव वर्ष 2024 पर कविता

नव वर्ष की शुभकामनाएं
हैपी न्यू इयर, हैपी न्यू इयर।

दिलों में हो फागुन, दिशाओं में रुनझुन
हवाओं में मेहनत की गूंजे नई धुन
गगन जिसको गाए हवाओं से सुन-सुन
वही धुन मगन मन, सभी गुनगुनाएं।

नव वर्ष की शुभकामनाएं
हैपी न्यू इयर, हैपी न्यू इयर।
नया साल हो आप सबको मुबारक।

ये धरती हरी हो, उमंगों भरी हो
हरिक रुत में आशा की आसावरी हो
मिलन के सुरों से सजी बांसुरी हो
अमन हो चमन में, सुमन मुस्कुराएं।

नव वर्ष की शुभकामनाएं
हैपी न्यू इयर, हैपी न्यू इयर।
नया साल हो आप सबको मुबारक।

न धुन मातमी हो न कोई ग़मी हो
न मन में उदासी, न धन में कमी हो
न इच्छा मरे जो कि मन में रमी हो
साकार हों सब मधुर कल्पनाएं।
नव वर्ष की शुभकामनाएं
हैपी न्यू इयर, हैपी न्यू इयर।
नया साल हो आप सबको मुबारक।

New Year Poem in Hindi 2024

अभिनंदन नववर्ष तुम्हारा
है उल्लासित फिर जग सारा
नई डगर है नया सवेरा, खुशियों से भरा नज़ारा
अभिनंदन नववर्ष तुम्हारा ….

ओस सुबह की है फिर चमकी, बिखरा करके छ्टा निराली
चेहरे दमके बगियाँ महकी, घर घर होली और दीवाली
फिर खिलकर फूल सतरंगे, हो प्रतिबिंबित तब सरिता में
प्रकृति को क्या खूब सँवारा…..
अभिनंदन नववर्ष तुम्हारा ….

हो उत्साहित गोरन्वित हम, लिए सोच में वही नयापन
निकल पड़े कुछ कर पाने को, नई दिशाएँ दर्शाने को
कर पाऊँ हर सपने को सच, जो तुम थामो हाथ हमारा ….
अभिनंदन नववर्ष तुम्हारा ….

Happy New Year Poetry in Hindi

आप खुशियाँ मनाएँ नए साल में

बस हँसे, मुस्कुराएँ नए साल में

गीत गाते रहें, गुनगुनाते रहें

हैं ये शुभ-कामनाएं नए साल में

रेत, मिटटी के घर में बहुत रह लिए

घर दिलों में बनायें नए साल में

अब न बातें दिलों की दिलों में रहें

कुछ सुने, कुछ सुनाएँ नए साल में

जान देते हैं जो देश के वास्ते

गीत उनके ही गायें नए साल में

भूल हमको गए हैं जो पिछले बरस

हम उन्हें याद आयें नए साल में.

Naye Saal Ki Kavita

सर्द रातों की एक हवा जागी

और बर्फ़ की चादर ओढ़

सुबह के दरवाज़े पर दस्तक दी उसने

उन्ही आँखों से सुबह की अंगड़ाई में भीगी ज़मीन से ज्यों फूटा

एक नया कोपल

नए जीवन और नई उमंग

नई खुशियों के संग

दफ़ना कर कई काली रातों को

झिलमिलाते किरनों में भीगता

नई आशाओं की छाँव में

नए सपनों का संसार बसाने

बर्फ़ीली रात की अंगड़ाई के साथ

बसंत के आने की उम्मीद लिए

आज सब पीछे छोड़ चला

वो अपनाने नए आकाश को

नए सुबह की नई धूप में

नई आशाओं की नई किरन के संग

आज फिर आया है नया साल

पीछे छोड़ जाने को परछाइयाँ…

Happy New Year Poem in Hindi

नया साल की सुबह सुहानी,

छोड़ो यारो बात पुरानी,

नया साल और नयी सुबह

नयी नयी हैं अभी वजह

चलती रहे यही ज़िंदगानी

नया साल की सुबह सुहानी

छोड़ो यारो बात पुरानी,

प्यार मोहब्बत की हो बस कहानी

ये नया साल रहे सबसे कूल

माफ़ कर गलतिया जाओ भूल

नाराजगी का ना रहे कोई नाम

2024 में आपके बने सारे काम

नया साल की सुबह सुहानी,

छोड़ो यारो बात पुरानी….

हैप्पी न्यू ईयर शायरी 2024

Happy New Year Kavita Poem

जिन्दगी का एक ओर वर्ष कम हो चला,

कुछ पुरानी यादें पीछे छोड़ चला..

कुछ ख्वाईशैं दिल मे रह जाती हैं..

कुछ बिन मांगे मिल जाती हैं ..

कुछ छोड़ कर चले गये..

कुछ नये जुड़ेंगे इस सफर मे ..

कुछ मुझसे बहुत खफा हैं..

कुछ मुझसे बहुत खुश हैं..

कुछ मुझे मिल के भूल गये..

कुछ मुझे आज भी याद करते हैं..

कुछ शायद अनजान हैं..

कुछ बहुत परेशान हैं..

कुछ को मेरा इंतजार हैं ..

कुछ का मुझे इंतजार है..

कुछ सही है

कुछ गलत भी है.

कोई गलती तो माफ कीजिये और

कुछ अच्छा लगे तो याद कीजिये।

नए साल की कविता

सुनहरे पलों की झंकार,
ले कर आया नया साल।
रंग बिरंगे फूलों की खुशबू,
ले कर आया नया साल।
उमंगों का अनमोल उपहार,
ले कर आया नया साल।
उम्मीदों का नया सवेरा,
ले कर आया नया साल।

नव वर्ष 2024 पर कविता

ये नव वर्ष हमें स्वीकार नहीं
है अपना ये त्यौहार नहीं
है अपनी ये तो रीत नहीं
है अपना ये व्यवहार नहीं
धरा ठिठुरती है सर्दी से
आकाश में कोहरा गहरा है
बाग़ बाज़ारों की सरहद पर
सर्द हवा का पहरा है
सूना है प्रकृति का आँगन
कुछ रंग नहीं , उमंग नहीं
हर कोई है घर में दुबका हुआ
नव वर्ष का ये कोई ढंग नहीं
चंद मास अभी इंतज़ार करो
निज मन में तनिक विचार करो
नये साल नया कुछ हो तो सही
क्यों नक़ल में सारी अक्ल बही
उल्लास मंद है जन -मन का
आयी है अभी बहार नहीं
ये नव वर्ष हमे स्वीकार नहीं
है अपना ये त्यौहार नहीं
ये धुंध कुहासा छंटने दो
रातों का राज्य सिमटने दो
प्रकृति का रूप निखरने दो
फागुन का रंग बिखरने दो
प्रकृति दुल्हन का रूप धार
जब स्नेह – सुधा बरसायेगी
शस्य – श्यामला धरती माता
घर -घर खुशहाली लायेगी
तब चैत्र शुक्ल की प्रथम तिथि
नव वर्ष मनाया जायेगा
आर्यावर्त की पुण्य भूमि पर
जय गान सुनाया जायेगा
युक्ति – प्रमाण से स्वयंसिद्ध
नव वर्ष हमारा हो प्रसिद्ध
आर्यों की कीर्ति सदा -सदा
नव वर्ष चैत्र शुक्ल प्रतिपदा
अनमोल विरासत के धनिकों को
चाहिये कोई उधार नहीं
ये नव वर्ष हमे स्वीकार नहीं
है अपना ये त्यौहार नहीं
है अपनी ये तो रीत नहीं
है अपना ये त्यौहार नहीं…..

नये साल की कविता

उमंग के सहारे उतरेंगे इस साल

सागर के उस किनारे उतरेंगे इस साल

सोच नई होगी, होगी आशाओँ की लड़ियाँ

किस्मत की हर पन्नों पर बिखेरेगें, चाहतों की फूल झड़ियाँ

बुलंद होंगे इरादे, होगी हौसलों की कमाल

सागर के उस किनारे उतरेगें इस साल

नई पन्नो पर लिखेंगे नया इतिहास

धरती के जीतनी होंगी सपनों की प्यास

कल को भूल के आज का करेंगे एहसास

हम सब दूर सही पर हैं अपने पास

सागर के उस किनारे  उतरेगें इस साल

उमंग के सहारे उतरेंगे इस साल

Naye Saal Ki Kavita

नव वर्ष के आगमन पर
प्रेम गीत गाएं

सहज सरल मन से
सब को गले लगाए

उंच नीच भेद भाव के
अंतर को मिटाएं

नव वर्ष के आगमन पर
प्रेम गीत गाएं

शिक्षा का उजियारा हम
घर घर पहुंचाएं

पर्यावरण की चिंता करे
पेड़ फिर लगाए

नव वर्ष के आगमन पर
प्रेम गीत गाएं

स्वच्छता अभियान को
समझें समझाएं

योग प्राणायाम कर स्वस्थ
हम हो जाएं

नव वर्ष के आगमन पर
प्रेम गीत गाएं

देश प्रेम का जज्बा सभी
जन मन में लाएं

माँ भारती के चरणों में
शीश सब झुकाएं

नव वर्ष के आगमन पर
प्रेम गीत गाएं..

Happy New Year 2024 –

शेयर करे

LEAVE A RESPONSE

Your email address will not be published. Required fields are marked *