पेड़ हमारे सबसे अच्छे मित्र पर निबंध Trees Our Best Friend Essay in Hindi

0

Trees Our Best Friend Essay Nibandh – पेड़ हमारे मित्र, पेड़ो की उपयोगिता को देखते हुए यह कहना तनिक भी गलत नही होगा, पेड़ो से हमे वायु, फल, फूल, सब्जी, लकड़िया, वर्षा में सहायक, औषधि और ऐसे अनेको चीज मिलते है, इन पेड़ो से प्राप्त वस्तुओ से हम विभिन्न प्रकार की अपनी दैनिक जीवन की वस्तुए बनाते है, और उनका उपयोग करते है.

तो चलिए पेड़ो की इन्ही उपयोगिता और महत्व को देखते हुए निबन्ध के इस पोस्ट में पेड़ हमारे सबसे अच्छे मित्र पर हिन्दी निबंध बताने जा रहे है, जिसे आप अपने कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12 में पेड़ हमारे मित्र पर निबन्ध लिखना चाहते है, तो आप अपने कक्षा में Trees Our Best Friend Essay पर Short Essay या Long Essay, हिन्दी निबंध लिख सकते है, तो चलिए अब इस इन पेड़ हमारे सबसे अच्छे मित्र हिन्दी निबन्ध, Trees Our Best Friend Essay Nibandh को जानते है.

पेड़ हमारे सबसे अच्छे मित्र पर हिन्दी निबंध

Trees Our Best Friend Essay Nibandh in Hindi

Trees Our Best Friend Essay Nibandh in Hindiहम इंसानों के जीवन में पेड़ का होना बहुत अधिक महत्व है, इन पेड़ो से अनाज, फल, सब्जिया, औषधि, फर्नीचर, तरह तरह के और भी अन्य उपयोगी चीजे प्राप्त होती है, जो सभी वस्तुए हमारे जीवन के लिए महत्वपूर्ण मायने रखती है, इसके अलावा पेड़ो से हमे गोद, कपास के पेड़ो से रुई जिनसे कपड़े बनते है, पेड़ो के पत्तियो, छालो से कागज बनते है, जो सभी चीजे इन पेड़ो से ही हमे प्राप्त होता है,

इसके अलावा सबसे महत्वपूर्ण चीज वायु यानि आक्सीजन भी इन पेड़ो से ही हमे मिलता है, तभी इस पृथ्वी ग्रह पर जीवन सम्भव है, इसके अलावा ये पेड़ पौधे पारिस्थितिक तन्त्र (Eco System) में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है, जिस कारण से यही पेड़ बरसात के लिए सहायक होते है, जिस कारण से हमे पीने के लिए पानी प्राप्त होता है, जिस कारण इन पेड़ो से जीवन जीवन के लिए वायु, जल और भोजन महत्वपूर्ण चीजे मिलती है, इसलिए पेड़ो को सबसे अच्छा मित्र कहा जाता है.

इसके अलावा पेड़ो से धरती हरी भरी दिखती है, और यही पेड़ धरती को और भी सुंदर बनाते है, इन पेड़ो पर अनेक प्रकार के पक्षी अपने घोसले बनाकर रहती है, तथा पेड़ो की छाव में अनेक जीव जन्तु और इन्सान अपने सुंदर सुंदर घर भी बनाते है, और छोटे बड़े पेड़ – पौधों के जरिये बगीचे बनाये जाते है, जिससे नाना प्रकार के पेड़ होते है, जिनसे हमे फल, फूल और औषधि प्राप्त होती है.

जीवन जीने के लिए धरती पर आक्सीजन का होना बहुत जरुरी है, जिसे हम प्राणवायु भी कहते है, इन्ही पेड़ो से हमे आक्सीजन मिलता है, पेड़ धरती के मिट्टी के बाध कर रखती है, जिससे अत्यधिक वर्षा में ये उपजाऊ मिट्टी बह नही पाते है, और यही पेड़ धरती की उर्वरा शक्ति बढ़ाने में अहम भूमिका निभाते है, इन पेड़ो की पत्तिया जब सुखकर टूट जाती है, फिर सूखने या सड़ने के बाद एक प्रकार से जैविक खाद बन जाती है, जो मिट्टी में मिलकर धरती को उपजाऊ बनाती है.

लेकिन वर्तमान में देखा जाय तो एक तरफ ये पेड़ हमारे जीवन जीने के लिए कितने उपयोगी है, लेकिन दूसरी तरह इंसानों की बढ़ती इच्छा और आबादी की पूर्ति के लिए इन पेड़ो का अंधाधुंध शोषण किया जा रहा है, घरो को बनाने के लिए बड़े बड़े जंगल काटे जा रहे है, उन जंगलो की भूमि पर शहर बसाये जा रहे है, जिस कारण से लाखो की संख्या पेड़ो के कटने से अनेको जीव जन्तुओ का घर छीनता जा रहा है,

यात्री और पेड़ की कहानी A Moral Story Hindi Kahani

पेड़ो के कटने से पारिस्थितिक तंत्र में अनियमितता आने लगी है, जिस कारण से वर्षा की कमी, सुखा, बाढ़ जैसी भयंकर प्राकृतिक आपदाओ का सामना भी करना पड़ रहा है, लेकिन इन्सान अपनी लालची प्रवित्ति के कारण इन आपदाओ से सीख नही ले पा रहा है, अगर ये सब ऐसे ही चलता रहा, तो एक दिन ऐसा भी आयेगा जब पूरी धरती पेड़ विहीन हो जाएगी, फिर लोगो को जीने के लिए न ही आक्सीजन मिल पायेगा, और ना ही पानी और भोजन मिल पायेगा.

आज के समय में सबसे ज्यादा प्रदूषण वाहनों से धुएं से निकलता है, जिनमे सबसे अधिक कार्बन डाई ऑक्साइड की मात्रा होती है, लेकिन यही पेड़ इन जहरीली गैसों से अपना भोजन बनाते है, और उसके बदले आक्सीजन छोड़ते है, जिस कारण से इन पेड़ो की उपयोगिता और भी बढ़ जाती है

उपसंहार –

हमारे जीवन में पेड़ की उपयोगिता को देखते हर सभी को अपने स्तर पर पर्यावरण बचाने हेतु, पेड़ो के संरक्षण हेतु, पेड़ पौधों को लगाने हेतु सरकारी और गैर सरकारी स्तर पर वृक्षारोपण कार्यक्रमों पर जोर देने की आवश्यकता है,

तो ऐसे में हम सभी का यही कर्तव्य बनता है की इन पेड़ो की उपयोगिता को देखते हुए इन्हें कटने से बचाना चाहिए, और पेड़ पौधे लगाने पर जोर देने की आवश्यक है, तभी फिर से इस धरती को हरा भरा और खुशहाल बनाया जा सकता है.

इन्हें भी पढ़े :-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here