बूढ़े माता पिता का सम्मान दिल को छूने वाली कहानी Heart Touching Story Hindi

0

Respect Your Parents Heart Touching Story in Hindi

माता पिता की कहानी | माता पिता का कहानी

किस तरह हमारे माँ बाप बचपन में अपनी सारी खुशियों को त्यागते हुए हमे पालते है बड़े करते है और हर बात का अच्छी तरह से ख्याल करते है और कभी भी अपने बच्चो से दुखी भी नही होते है और यहाँ तक की उनकी हर शरारत और परेशान करने वाली बातो से तंग न होते है बल्कि उन्हें हर हाल में अच्छे बनने की राह में लगाये रहते है

लेकिन जैसे वक्त के करवट के साथ समय बीतता जाता है और यही बच्चे बड़े बन जाते है पैसा कमाने लगते है और खुद को इतना बड़ा समझने लगते है की उन्हें अपने स्वार्थ के आगे कोई नही दिखता है ऐसे में उनके वही माँ बाप बोझ भी लगने लगते है और बुढ़ापे में माँ बाप की सेवा करने और उन्हें खुश करने के बजाय उनमे ही दोष निकालने लगते है ऐसे सन्तान होने ना होने के बराबर ही होते है जो बुढ़ापे में अपने माँ बाप की सेवा नही कर सकते है दो वक्त समय निकाल कर उन्हें साथ कुछ पल नही बिता सकते है ऐसे बच्चे माँ बाप के बुढ़ापे की लाठी बनने के बजाय उल्टा माँ बाप को बोझ समझने लगते है

तो चलिए जिस प्रकार हमारे माँ बाप हमारे वजूद के कारण होते है फिर वही माँ बाप इन बच्चो के लिए बोझ लगने लगते है इसी सोच पर यह दिल को छु लेने वाली कहानी माँ बाप का सम्मान को पढ़ते है जिन्हें हम सभी बहुत बड़ी सीख ले सकते है

बूढ़े मा बाप का सम्मान दिल को छू जाने वाली कहानी

Respect Your Parents Heart Touching Hindi Kahani

Heart Touching Story kahani

एक 80 वर्षीय व्यक्ति अपने 45 वर्षीय उच्च शिक्षित बेटे के साथ अपने घर में सोफे पर बैठा था। अचानक उनकी खिड़की पर एक कौवा बैठ गया।

पिता ने अपने बेटे से पूछा, “यह क्या है?” बेटे ने जवाब दिया “यह एक कौवा है”। कुछ मिनटों के बाद, पिता ने अपने बेटे से दूसरी बार पूछा, “यह क्या है?” बेटे ने कहा “पिता, मैंने अभी आपको “यह एक कौवा है” कहा है। थोड़ी देर बाद, बूढ़े पिता ने फिर से अपने बेटे से तीसरी बार पूछा, यह क्या है? ”इस समय बेटे के स्वर में कुछ जलन महसूस हुई,

तब उसने अपने पिता से झुझलाते हुए बोला “यह एक कौवा है, एक कौवा”। थोड़ी देर बाद, पिता ने फिर से अपने बेटे से चौथी बार पूछा, “यह क्या है?”इस बार बेटा अपने पिता पर चिल्लाया, “आप मुझसे बार-बार एक ही सवाल क्यों पूछते रहते हैं, हालांकि मैंने आपको कई बता चुका हु की “यह एक कौवा है” क्या आप इसे समझ नहीं पा रहे हैं?

थोड़ी देर बाद पिता अपने कमरे में गए और एक पुरानी डायरी लेकर वापस आए, जिसे उन्होंने अपने बेटे के जन्म के बाद से बनाए रखा था। एक पेज खोलने पर, उन्होंने अपने बेटे को उस पेज को पढ़ने के लिए कहा। जब बेटे ने इसे पढ़ा, तो निम्नलिखित शब्द डायरी में लिखे गए थे,“आज मेरा तीन साल का छोटा बेटा सोफे पर मेरे साथ बैठा था,

जब खिड़की पर एक कौवा बैठा था। मेरे बेटे ने मुझसे 23 बार पूछा कि यह क्या है, और मैंने उसे 23 बार जवाब दिया कि यह एक कौवा था। मैंने उसे हर बार प्यार से गले लगाया और उसने मुझसे 23 बार फिर से वही सवाल पूछा। मुझे इस बात से बिल्कुल भी चिढ़ नहीं हुई कि मैंने अपने मासूम बच्चे के लिए प्यार महसूस किया है”।

जबकि छोटे बच्चे ने उससे 23 बार पूछा “यह क्या है”, पिता को 23 बार पूरे सवाल का जवाब देने में कोई जलन महसूस नहीं हुई और आज जब पिता ने अपने बेटे से सिर्फ 4 बार यही सवाल पूछा, तो बेटे को चिढ़ और गुस्सा महसूस हुआ,

इसे पढकर उस बेटे को अपने किये गये व्यवहार का पता चल गया था जिससे चलते अब वह मन ही मन ही बहुत शर्मिंदा हो रहा था शायद उसे अब किये गये अपने बूढ़े पिता के प्रति व्यवहार पता चल गया था इसलिए यदि आपके माता-पिता जब बुढ़ापे में होते है उन्हें न तो पीछे छोड़ें और न ही उन्हें एक बोझ के रूप में देखें,

बल्कि उनके साथ एक दयालु शब्द बोलें, शांत, आज्ञाकारी, विनम्र और उनके प्रति दयालु बनें। अपने माता-पिता के प्रति विचारशील रहें। आज इस बात को कहें, “मैं अपने माता-पिता को हमेशा खुश देखना चाहता हूं। जब से मैं छोटा बच्चा था, उन्होंने मेरी देखभाल की। उन्होंने हमेशा मुझ पर अपने निस्वार्थ प्रेम की वर्षा की है।

उन्होंने आज समाज में मुझे एक व्यक्ति के रूप में प्रस्तुत करने के लिए तूफान और गर्मी को देखे बिना सभी पहाड़ों और घाटियों को पार किया ”। भगवान से प्रार्थना करें, “मैं अपने बूढ़े माता-पिता की सर्वोत्तम तरीके से सेवा करूंगा। मैं अपने प्यारे माता-पिता को सभी अच्छे और दयालु शब्द कहूंगा, चाहे वे कैसे भी व्यवहार करें।

तो आप सभी इस कहानी को पढने के बाद सीख जरुर मिली होगी तो आपको यह कहानी कैसा लगा कमेन्ट में जरुर बताये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here