वीर छत्रपति शिवाजी महाराज के अनमोल विचार


Famous Dialogues Quotes Anmol Vichar of Chhatrapati Shivaji in Hindi

वीर शिवाजी के प्रसिद्ध अनमोल विचार कथन

सन 1674 में मराठा साम्राज्य की नीव रखने वाले छत्रपति शिवाजी महाराज | Chhatrapati  Shivaji Maharaj भारत के एक महान योद्धा थे जिन्हें युद्ध के कुशल रणनीतिकार माना जाता है भारतीय स्वतंत्रता में अटूट विश्वास रखने वाले शिवाजी महाराज ने अपने समय के सभी राजाओ को स्वतंत्रता और खुद के स्वाभिमान के प्रति जागरूक भी किया जिस कारण से ही उन्हें मराठा साम्राज्य की नीव रखने के उन्हें “छत्रपति” की उपाधि से नवाजा गया

तो चलिए आज हम स्वतंत्रता के प्रति अगाध प्रेम रखने वाले भारत के महान योद्धा वीर छत्रपति शिवाजी महाराज | Veer Chhatrapati Shivaji Maharaj के अनमोल विचारो | Anmol Vichar को जानते है

महान योद्धा वीर छत्रपति शिवाजी महाराज के प्रेरक अनमोल विचार

Chhatrapati Shivaji Maharaj Quotes Anmol Vichar in Hindi

तो महान के महान शौर्य शक्तिशाली मराठा वीर योद्धा छत्रपति शिवाजी के अनमोल विचारो | Anmol Vichar को जानते है जो इस प्रकार है

1:- स्वतंत्रता एक ऐसा वरदान है जिसे पाने का हर कोई अधिकारी है

छत्रपति शिवाजी महाराज| Shivaji Maharaj

2:- जब आपके हौसले बुलंद होंगे तो पहाड़ जैसी विपत्ति और संघर्ष भी मिट्टी के ढेर के समान ही प्रतीत होगा

छत्रपति शिवाजी महाराज| Shivaji Maharaj

3:- हमे अपने शत्रु को कभी कमजोर नही समझना चाहिए और अपने से अधिक बलवान समझकर भयभीत भी नही होना चाहिए

छत्रपति शिवाजी महाराज| Shivaji Maharaj

4:- कभी भी अपना सर नही झुकाना चाहिए बल्कि हमेसा ऊचा ही रखना चाहिए

छत्रपति शिवाजी महाराज| Shivaji Maharaj

5:- यद्दपि तलवार तो किसी के हाथ में हो सकता है लेकिन साम्राज्य तो वही स्थापित कर सकता है जिसमे इच्छाशक्ति होती है

छत्रपति शिवाजी महाराज| Shivaji Maharaj

6:- यह जरुरी नही की विपत्ति का सामना दुश्मन के सम्मुख से करने में वीरता है वीरता तो हमेसा विजय में ही निहित होती है

छत्रपति शिवाजी महाराज| Shivaji Maharaj

7:- इस दुनिया में हर व्यक्ति को स्वतंत्र रहने का अधिकार है और उस अधिकार को पाने के लिए वह किसी से लड़ सकता है

छत्रपति शिवाजी महाराज| Shivaji Maharaj

8:- यह जरुरी नही की गलती करके ही सीखा जाए, दुसरो की गलती से सीख लेते हुए भी सीखा जा सकता है

छत्रपति शिवाजी महाराज| Shivaji Maharaj

9:- एक छोटे कदम से छोटे से लक्ष्य की शुरुआत भी बड़े बड़े लक्ष्य को आसानी पा सकते है

छत्रपति शिवाजी महाराज| Shivaji Maharaj

10:- बदला लेने की भावना मनुष्य को अंदर ही अंदर जलाती रहती है लेकिन इसपर संयम से प्रतिशोध पर काबू पाया जा सकता है

छत्रपति शिवाजी महाराज| Shivaji Maharaj

11:- अंगूर को जब तक पेरा नही जाता तबतक रस नही बनता ठीक उसी प्रकार जबतक मनुष्य कष्ट और कठिनाई के दौर से नही गुजरता तबतक उसकी प्रतिभा सबके सामने नही आती है

छत्रपति शिवाजी महाराज| Shivaji Maharaj

12:- जो व्यक्ति धर्म, सत्य श्रेष्ठता और ईश्वर के सामने झुकता है उस व्यक्ति का आदर समस्त संसार में किया जाता है

छत्रपति शिवाजी महाराज| Shivaji Maharaj

13:- जो व्यक्ति अपने आत्मबल को जान सकता है, खुद को जान सकता है, मानव जाति के कल्याण को सोच रखता है वही व्यक्ति पूरे विश्व पर राज्य कर सकता है

छत्रपति शिवाजी महाराज| Shivaji Maharaj

14:- जीवन में सिर्फ अच्छे दिन हमेसा नही रह सकते है जिस प्रकार दिन के बाद रात आती है ठीक उसी प्रकार सुख के बाद दुःख आते ही आते है

छत्रपति शिवाजी महाराज| Shivaji Maharaj

15:- आपका शत्रु चाहे कितना बलवान क्यू ना हो उसे सिर्फ मजबूत इरादों और बुलंद हौसले से ही पराजित किया जा सकता है

छत्रपति शिवाजी महाराज| Shivaji Maharaj

16:- एक वीर योद्दा हमेसा विद्वानों के सामने ही झुकता है

छत्रपति शिवाजी महाराज| Shivaji Maharaj

17:- जो मनुष्य अपने बुरे समय में भी अपने कार्यो में लगा रहता है उसके लिए बुरा समय भी अच्छे समय में बदल जाता है

छत्रपति शिवाजी महाराज| Shivaji Maharaj

18:- हर इन्सान को सबसे पहले अपने राष्ट्र, फिर गुरु और माता पिता के तरफ ध्यान देना चाहिए क्युकी राष्ट्र से बढ़कर कुछ भी नही है

छत्रपति शिवाजी महाराज| Shivaji Maharaj

19:-जब लक्ष्य, जीत की बनाया जाता है तो तो उस जीत को हासिल करने के लिए कठिन से कठिन परिश्रम और किसी भी कीमत को चुकाने के लिए हमेसा तैयार रहना चाहिए

छत्रपति शिवाजी महाराज| Shivaji Maharaj

20:- एक सफल व्यक्ति अपने कर्तव्य की पराकाष्ठा के लिए सम्पूर्ण मानव जाति की चुनौती स्वीकार कर लेता है

छत्रपति शिवाजी महाराज| Shivaji Maharaj

21:- किसी भी कार्य को करने से पहले उसके परिणाम को सोच लेना भी बेहतर होता है क्योकि आने वाली पीढ़ी आपकी ही अनुसरण करती है

छत्रपति शिवाजी महाराज| Shivaji Maharaj

22:- अगर व्यक्ति के पास दृढ़ इच्छाशक्ति और आत्मबल है तो वह सम्पूर्ण जगत पर अपना विजय पताका फहरा सकता है

छत्रपति शिवाजी महाराज| Shivaji Maharaj

23:- आप जहा कही भी रहते है आपको अपने पूर्वजो का इतिहास जरुर मालूम होना चाहिए

छत्रपति शिवाजी महाराज| Shivaji Maharaj

24:- आत्मबल हमेसा करने की सामर्थ्य देता है और सामर्थ्य विद्या से आती है विद्या जो की हमेसा स्थिरता प्रदान करती है और स्थिरता हमेसा विजय की ओर ले जाती है

छत्रपति शिवाजी महाराज| Shivaji Maharaj

25:- एक स्त्री के सभी अधिकारों में सबसे महान अधिकार उसकी माँ होने में है

छत्रपति शिवाजी महाराज| Shivaji Maharaj

26:- जब पेड़ इतना दयालु हो सकता है की पत्थर मारने पर फल देता है तो एक राजा होने के नाते तो मुझे उस पेड़ से भी अधिक दयालु और सबका हितैषी होना चाहिए

छत्रपति शिवाजी महाराज| Shivaji Maharaj

27:- जो व्यक्ति सिर्फ अपने देश और सत्य के सामने झुकते है उनका आदर सभी जगह होता है

छत्रपति शिवाजी महाराज| Shivaji Maharaj

28:- जरुरी नही की दुश्मन से लड़कर ही जीत हासिल किया जाए बल्कि उसे बिना लड़े भी जीत हासिल किया जा सकता है

छत्रपति शिवाजी महाराज| Shivaji Maharaj

29:- शत्रु चाहे कितना बड़ा और शक्तिशाली क्यों ना हो उसे सही नियोजन और आत्मबल और उत्साह के जरिये ही हराया जा सकता है

छत्रपति शिवाजी महाराज| Shivaji Maharaj

30:- वीर व्यक्ति हमेसा विद्वानों के आगे झुकते है

छत्रपति शिवाजी महाराज| Shivaji Maharaj

तो आप सबको यह पोस्ट Shivaji Maharaj Famous Dialogues Quotes in Hindi | वीर छत्रपति शिवाजी महाराज के अनमोल विचार कैसे लगे कमेंट में जरुर बताये और इस पोस्ट को शेयर भी जरुर करे

इन अनमोल विचारो को भी पढ़े


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *