सकरात्मक सोच की शक्ति की कहानी | Positive Thinking Kahani


Story of Positive Thoughts in Hindi

सकरात्मक सोच की शक्ति का जादू एक प्रेरक हिन्दी कहानी

हम सभी के जीवन में कुछ ऐसे भी क्षण आते है जिसमे हम इन्सान चारो तरफ से परेशानियों से घिर जाते है और ऐसे स्थिति में हम कोई निर्णय नही ले पाते है की हमे करना क्या है और फिर फिर घबराहट की स्थिति में कोई ऐसा गलत कदम भी उठा लेते है जिसकी वजह से हमे  अनेक कठिनाईयों का सामना भी करना पड़ता है

लेकिन यदि हम इन परिस्थितियों को नियति मानकर अपने कर्म में डटे रहे और हार जीत, लाभ हानि, यश अपयश की चिंता किये बिना अपने उत्तरदायी पर अपना ध्यान केन्द्रित करते है तो निश्चित ही समय बीतने के बाद हमे इन सभी परेशानियों से मुक्ति मिल जाती है और फिर हमे सुखद का अहसास होता है ऐसा सिर्फ आपके ईश्वर के विश्वास होने के कारण ही होता है क्युकी अगर ईश्वर श्रृष्टि का संचालन करता है तो हम सभी का देखरेख भी ईश्वर के हाथो में होता है जरूरत होती है तो सिर्फ हमे अपने ईश्वर में विश्वास की…

तो आईये इसी सकरात्मक सोच के शक्ति के जादू पर आधारित कहानी Positive Thinking Ki Hindi Kahani को पढ़ते है

सकरात्मक सोच की मार्मिक कहानी

गर्भवती हिरनी की कहानी

Story of Positive Thinking in Hindi | Positive Thinking Ki Kahani

एक बार की बात है एक जंगल में हिरनी जो की गर्भवती थी और अपने बच्चे को जन्म देने के लिए उपयुक्त स्थान ढूढ़ रही थी फिर वह हिरनी चलते चलते उसे नदी के किनारे ऊँची और घनी घास की झाड़ी दिखाई दिया जिसे देखकर हिरनी को बच्चे जन्म देने के लिए उपयुक्त स्थान लगा

फिर जैसे ही वह झाड़ियो के बीच पहुची उसे प्रसव पीड़ा शुरू होने लगी और इसी बीच आसमान में घने बादल बरसने के लिए भी एकदम उतारू हो चुके थे और बिजली का भी कड़कना शुरू हो गया था

जिसे देखकर हिरनी घबराने लगी और फिर उसे दांयी तरफ देखा तो एक शिकारी पहले से ही अपने बाण पर तीर लगाकर शिकार की तलाश में था और फिर वह हिरनी बांयी तरफ मुड़नी चाही तो तो उसे पहले से घात लगाये शेर दिख गया इस प्रकार आगे भी जंगल में घासों के बीच आग लग चुकी थी और हिरनी के पीछे तो नदी का अथाह जल दिखाई दे रहा था

ऐसे स्थिति में वह मादा हिरनी चारो तरफ से अपने आते मौत से घिर गयी थी बेचारी मादा हिरनी ऐसी स्थिति में भी क्या करती एक तरह जहा वह प्रसव पीड़ा से व्याकुल थी तो दूसरी तरफ चारो ओर से वह मौत से घिर गयी थी

अब ऐसी स्थिति में क्या मादा हिरनी का बचना मुश्किल था सामने भयंकर आग तो पीछे नदी का बहता पानी जो की उसको डुबाने के लिए काफी था ऐसी स्थिति में क्या मादा हिरनी शेर के हाथो मारी जाएगी या फिर शिकारी के हाथो वह उसका शिकार बनेगी, अब ऐसे स्थिति में मादा हिरनी ने अपने आपको नियति के हवाले छोड़ दिया और सोचने लगी जो भी होगा वह ईश्वर की इच्छा से ही होंगा फिर इसके बाद इन सब बातो से बेपरवाह होकर अपने बच्चे को जन्म देने में लग गयी फिर कुदरत का करिश्मा देखिये जैसे ही शिकारी ने हिरनी के ऊपर बाण चलाना चाहा उसकी आँखे बिजली की चमक से चौंधिया गयी जिसकी वजह से उसका बाण निशाने पर न लगते हुए शेर की तरफ घूम गया और इस तरह वह तीर शेर के आँखों में जा लगा जिसके वजह से शेर दहाड़ता हुआ इधर उधर भागने लगा

घायल शेर को देखकर शिकारी भी वहा से भाग लिया और इसी बीच जोरो से बारिस भी होने लगा जिसकी वजह से घास में लगी आग भी बुझ गयी और फिर आराम से हिरनी ने अपने बच्चे को जन्म दिया और इस प्रकार हिरनी के सामने आये सभी मुसीबत एक साथ खत्म हो गये

कहानी से शिक्षा

तो देखा आपने किस प्रकार हिरनी अपने आये मुसीबतों पर ध्यान न देते हुए अपने कर्म में लीन रही और उसपर आये सभी कठिनाई के क्षण एक साथ अंत हो गया, ठीक ऐसा ही हम सभी के जीवन में कई क्षण आते है जिसमें हम खुद को चारो तरफ से कठिनाईयों से घिरा हुआ पाते है और ऐसे स्थिति में कोई ठोस निर्णय भी नही ले पाते है तब हमे ऐसे स्थिति में सबकुछ ईश्वर की इच्छा मानकर उसपर ही छोड़ देना ही उचित होता है क्योकि कहा भी गया है जो होता है वो अच्छे के लिए होता है

क्युकी जैसा की हम सभी जानते है की हमारे जीवन मृत्यु का निर्णय तो ईश्वर के हाथो में है फिर हमे क्यों इन बातो की व्यर्थ में चिंता करनी चाहिए क्योकि ईश्वर जो भी करता है वो हमारे भले के लिए ही करता है इसलिए हमे हमेसा ईश्वर के निर्णयों का सम्मान करते हुए जीवन के पथ पर आगे बढ़ते रहना चाहिए

और यदि हम अपने जीवन पथ पर ऐसे ही आगे बढ़ते है तो कुछ ऐसे लोग भी मिलेगे जो की हमारे निर्णयों की प्रंशसा करेगे ऐसे लोगो से हमे जीवन में आगे बढने की प्रेरणा मिलती है और कुछ ऐसे लोग भी मिलेगे जो की हमारे निर्णयों की आलोचना भी करते है तो हमे इनका भी सम्मान करना चाहिए क्युकी ये वही लोग होते है जो की हमारी कमियों को गिनाते है फिर इनसे सीख लेते हुए अपनी गलतियों और कमियों को सुधारा जा सकता है

इसलिए कहा भी गया आपकी सकरात्मक सोंच आपको कही अधिक शक्तिशाली बनाती है इसलिए हमेसा सकरात्मक सोंचे और खुद को हमेसा सकरात्मक रखे, क्युकी याद आपको अपने ईश्वर पर विश्वास है तो ईश्वर आपकी मदद जरुर करता है

“Be Positive”

तो आप सबको यह कहानी Positive Thinking Ki Hindi Kahani कैसा लगा कमेंट बॉक्स में जरुर बताये और इस पोस्ट को शेयर करना न भूले

इन कहानी को भी पढ़े-

  1. किसान और राजा के न्याय की कहानी
  2. बुराई पर अच्छाई की जीत एक अच्छी हिंदी कहानी
  3. समय का महत्व एक आलसी राजा की कहानी
  4. अपने दिमाग से सोचने की सीख
  5. धन से बढकर मेहनत की सफलता


2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *