दादाजी के कुर्सी की कहानी | Grandfather Table Moral Stories in Hindi

0

Short moral stories in Hindi on Grandfather in Hindi | Grandparents Hindi stories with moral

दादाजी की कुर्सी एक सीख देती प्रेरक कहानी | दादाजी की कहानी 

एक बुढा आदमी जो की अपने बेटे से दूर गाव में रहता था जबकि उस बूढ़े का बेटा, बहु और पोता दूर शहर में रहते थे समय जैसे जैसे बीतता जा रहा था उस बूढ़े आदमी दिन प्रतिदिन कमजोर होता जा रहा था सो उसने अब अपने बेटे के पास रहने के लिए शहर चला गया

शहर में उसके बेटे का एक बड़ा घर था जिसमे उसका परिवार खुशहाल से जीवन व्यतीत कर रहा था उस बूढ़े आदमी के आ जाने से उस परिवार में कुल 4 सदस्य हो गये थे दिन भर बीतने के बाद बहु बेटा और पोता के साथ वह बुढा आदमी खाने के लिए टेबल पर बैठे, खाने के टेबल पर सब शीशे के बर्तन और और चम्मच थे बहु ने सबको खाना लगा दिया अब सब खाने लगे

लेकिन वह बुढा कमजोर आदमी जो की चम्मच से खाना भी नही उठा पा रहा और जब चम्मच से खाना उठाने की कोशिश कर रहा था शीशे के बर्तन गिरकर फर्श पर चकनाचूर हो गया यह सब देखकर बहु बहुत ही नाराज हो गयी और कहने लगी की आपसे तो खाना भी नही उठता है ऐसे में कभी ये टेबल भी गिरा सकते है जो की इतना महंगा और कीमती है कल से आपका टेबल कोने में लगा देते है और जिससे आप आसानी से खाना खा सकते है

hindi stories with moral

फिर अगले दिन बेटा और बहु ने मिलकर अपने बूढ़े पिता के लिए खाने के लिए लकड़ी की टेबल लाये और उसे कोने में लगा दिया और फिर सबको खाना रोज की तरह निकाला गया घर के सभी सदस्य बड़े टेबल पर आराम से खाना खा रहे थे जबकि समय का मारा वह बुढा आदमी लकड़ी के बर्तन में दिए खाने को चुपचाप अपने बहु बेटे को देखकर खा रहा था लेकिन चाहकर भी उन लोगो को कुछ नही बोल पा रहा था मन ही मन उसकी आखो से आसू निकल रहे थे

यह सब देखकर उस बूढ़े आदमी के पोते को मन ही मन कुछ सोचने लगा था फिर अगले दिन शाम को उसका पोता गार्डन में खेलने चला गया और फिर वहा लकडियो को इक्कठा करके एक जगह बैठ गया और उन लकडियों से कुछ बनाने लगा था इतने में उस लड़के के माता पिता ढूढ़ते हुए बगीचे में आये और अपने बेटे को देखा तो उसकी माँ बोली बेटा यह क्या कर रहा है तो वह लड़का बोला “माँ जब आप लोग बूढ़े हो जायेगे तो आप लोगो को भी खाने के लिए कोने में लकड़ी की कुर्सी की जरूरत पड़ेगी सो मै अभी से आप लोगो के लिए कुर्सी और टेबल बना रहा हु”

अपने बेटे की बात सुनकर उस लड़के के माँ बाप अवाक् रह गये उनके मुह से कोई शब्द नही नही निकल रहा था अबी वे समझ गये गये थे जो हाल इस समय उनके उस बूढ़े बाप का है एक दिन वे भी समय के साथ ऐसे हो जायेगे तो फिर उनके साथ भी यही होंगा

अब उनकी आखे खुल गयी थी और अपने किये पर पछतावा हो रहा था वे तुरंत अपने उस बुड्ढे बाप के पास आये और वे दोनों ने माफ़ी मांग लिया और फिर कोने से कुर्सी को भी हटा दिया और दोनों ने मिलकर अपने अपने हाथो से अपने बूढ़े बाप को खाना खिलाने लगे थे

कहानी से शिक्षा

इस धरती पर जिसने भी जन्म लिया है उसे समय के साथ एक दिन बुढा भी होना है लेकिन अक्सर हम समय के साथ माँ बाप को भूल जा रहे है जरा सोचिये जब हम पैदा हुए थे तो क्या इतने सक्षम थे क्या की अपना सारा काम खुद से करते थे खुद से खाना खाते थे नही ना, लेकिन एक माँ बाप बिना किसी स्वार्थ के अपने बच्चो को अपने से भी ज्यादा ख्याल रखते है उन्हें पाल पोसकर बड़ा करते है और फिर यही सोचते है उनका बेटा उनके बुढ़ापे की लाठी बनेगा उनका सहारा बनेगा

लेकिन चंद खुशियों और पैसो के लिए आज के ज़माने में लोग अपने बूढ़े माँ बाप को युही भुला दे रहे है जरा सोचिये वे आपसे क्या चाहते है कुछ समय उनके साथ भी गुजारिये, उनके कार्यो में थोडा मदद कर दे बस यही चाहते है लेकिन आज के समय में अब हम सब इतना भी नही कर पा रहे है क्यूकी हम सब भूल जाते है हम जैसा करेगे एक दिन वैसा हमारे साथ भी वक्त करेगा

हमे इस कहानी से यही शिक्षा मिलती है की हम जैसा करेगे वैसा एक दिन वक्त भी हमारे साथ करेगा सो इस दुनिया में माँ बाप की सेवा से बढकर कोई सेवा नही है हम सबका यही फर्ज बनता है की इस सेवा के मौके को कभी हाथ से न जाने दे क्यूकी माँ बाप की जिसने सेवा कर लिया उसने भगवान की सेवा कर ली .

यह छोटी सी कहानी दादाजी के खाने की कुर्सी Grandfather Table Moral Teach Story in Hindi आप सबको कैसा लगा प्लीज कमेंट में बॉक्स में जरुर बताये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here