15 अगस्त 2019 स्वन्त्रन्ता दिवस पर भाषण Independence Day Essay

0

आजादी एक ऐसा शब्द जो की जुबान पर आते ही अपने आप में हर किसी के मन में एक अजब फुर्ती और उर्जा का संचार करता है और जब अपने देश भारत की आजादी की बात होती है तो न जाने कितने वीर जवान, बूढ़े, बच्चे, महिलाये हर कोई इस आजादी को पाने में अपनी जान गवा दी तब कही जाकर हम भारतीयों को अंग्रेजी शासन की गुलामी से खुले आकाश में चैन की सांस लेने को आजादी मिला…

आजादी की वो तारीख 15 अगस्त सन 1947 शायद ही कोई भारतीय भूल पायेगा. इस तारीख से पहले हमारा देश अंग्रेजो के अधीन था यानी हम भारतीयों पर अंग्रेजो का शासन था, एक ऐसा क्रूरतम शासन जिसकी कल्पना कोई सपने में भी नही करना चाहेगा लेकिन इस अंग्रेजी क्रूर शासन के आगे हमारे देश के लाखो लोगो ने अपनी प्राण देश की आजादी के लिए हसते हसते न्योछावर कर दिया. तब कही जाकर हमारे देश भारत को आजादी मिला

आओ झुक कर सलाम करे उनको
जिनके हिस्से में ये मुकाम आता है
खुशनसीब होता है वो खून
जो देश के काम आता है

15 August – स्वन्त्रन्ता दिवस

15 August in Hindi | Happy Independence Day Essay in Hindi | Bhartiya Swatantra Diwas in Hindi

15 August Independence Dayहमारा देश 15 अगस्त 1947 को अंग्रेजो की गुलामी से आजाद हुआ, स्वन्त्रन्ता दिवस हम भारतीयों के लिए एक महत्वपूर्ण दिन है अंग्रेजो से आजादी मिलने के बाद प्रतिवर्ष 15 अगस्त को स्वन्त्रन्ता दिवस के रूप में मनाया जाता है स्वन्त्रन्ता दिवस हम भारतीयों का राष्ट्रीय त्योहार है लगभग 150 वर्षो के अन्तराल के बाद लाखो शहीदों के बलिदान के पश्चात् भारत देश को आजादी मिला. जिसके कारण प्रतिवर्ष अपने देश को आजादी मिलने की ख़ुशी के साथ साथ इन बलिदानियों के त्याग और बलिदान को याद करने का दिन है यानी 15 अगस्त का दिन भारतीय इतिहास का स्वर्णिम दिन है यह भारत के एक नये युग की बेला की शुरुआत थी जिसके कारण प्रतिवर्ष लाल किले पर तिरंगा पहराने के बाद हमारे देश के प्रधानमन्त्री का भाषण होता है जो देश की आजादी को निरंतर बनाये रखने की प्रतिज्ञा लेते है इस प्रकार स्वन्त्रन्ता दिवस हर भारतीय के लिए एक विशेष दिन होता है

15 अगस्त स्वन्त्रन्ता दिवस के नारे

15 August Independence Day Slogan in Hindi

हर जीव, इन्सान जब पैदा होता है तो खुली हवा में सांस लेना चाहता है लेकिन किसी अन्य द्वारा थोपी गयी गुलामी किसी को पसंद नही होती है जिसके चलते आजादी के परवानो ने अनेक नारों को दिया जो सबको आजादी पाने का मकसद बन गया इन्ही नारों में जिसे महसूस करते हुए पहली बार बाल गंगाधर तिलक ने भी यही अंग्रेजो से कहा था ‘स्वराज हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है इसे लेकर रहेगे” आजादी पाने की ऐसी सबकी ललक थी की खुद सुभाष चन्द्र बोस ने कहा की “ तुम मुझे खून दो मै तुम्हे आजादी दूंगा” और राम प्रसाद बिस्मिल तो अंग्रेजो से सीधा लोहा लेते हुए कहते थे की  “सरफ़रोशी की तमन्ना, अब हमारे दिल में है, देखना है ज़ोर कितना बाजु-ए कातिल में है”

हर भारतीय का सिर्फ एक ही सपना था की भारत देश को आजादी मिले चाहे उसके बदले उन्हें अपनी जान की कीमत ही क्यू न चुकानी पड़े. जिसके कारण राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी ने सीधा अंग्रेजो से कहा “अंग्रेजो भारत छोडो” तो बंकिमचन्द्र चटर्जी ने एक ही मन्त्र दिया जो आजादी का मन्त्र बन गया वह है “वन्दे मातरम”

और यही नही देश के युवा भी खुद को आजादी के संघर्ष जोड़ते हुए खुद को आगे लाये जिनमे प्रमुख रूप से भगत सिंह ने इन्कलाब जिंदाबाद का नारा दिया तो पहली बार मंगल पांडे ने ही कहा था “मारो फिरंगियों को” तो इसी आजादी को पाने के लिए जहा सभी ड्रम के लोग एक तिरंगे के नीचे हो जाते थे जिसे इस तिरंगे की महत्ता को देखते हुए श्याम लाल गुप्ता ने कहा था – “विजयी विश्व तिरंगा प्यारा झंडा उचा रहे हमारा” तो भारतेन्दु हरिश्चन्द्र ने अंग्रेजो की अंग्रेजी से तंग आकर हिंदी के विकास के लिए एक सम्पूर्ण भारत की कल्पना करते हुए कहा – “हिंदी हिन्दू हिदुस्तान” तो मोहम्मद इक़बाल ने भी कहा था – “इन्कलाब जिंदाबाद” इस नारे के साथ ही सारे भारतीय अंग्रेजो पर टूट पड़ते थे. ये वही नारे थे जो आजादी के समय भारतीयों के लिए उर्जा का काम करते थे तो आज भी यही नारे सुनकर हर भारतीय का सीना गर्व से चौड़ा हो जाता है

15 अगस्त स्वन्त्रन्ता दिवस कैसे मनाया जाता है

15 August Independence Dayकोई भी त्योहार हो चाहे वः धार्मिक हो या राष्ट्रीय सबसे ज्यादा उत्साह त्योहारों को लेकर बच्चो में ही देखने को मिलता है, और हम सब जानते है की त्यौहार तो बच्चो की खुशियों के लिए ही होते है 15 अगस्त स्वन्त्रन्ता दिवस के दिन सभी बच्चो का स्कूल खुला रहता है इस दिन विद्यालयों में अध्यापन का कार्य नही होता है इसके बदले हर स्कूलों में 15 अगस्त स्वन्त्रन्ता दिवस मनाया जाता है

15 अगस्त स्वन्त्रन्ता दिवस की तैयारी स्कूलों में 15 से 20 दिन पहले से ही शुरू हो जाता है सभी लडके लड़किया 15 अगस्त स्वन्त्रन्ता दिवस के इस शुभ अवसर पर गीत गाने, भाषण देने, झाकी निकालने की पहले से ही प्रेक्टिस शुरू कर देते है और फिर 15 अगस्त स्वन्त्रन्ता दिवस के दिन सभी बच्चे सुबह जल्दी उठकर नहा धोकर स्कूली ड्रेस में तैयार होकर अपने हाथो में तिरंगा लिए फूल माला साथ लेकर स्कूल जाते है

स्कूलों में इस दिन खास तैयारिया की जाती है सभी बच्चे स्कूल के मैदान में इक्कठा होते है जहा तिरंगा फहराया जाता है और फिर राष्ट्रगीत और राष्ट्रगान सभी एक साथ गाते है और फिर वीर शहीदों के याद में नारे लगाये जाते है जिन नारों में “भारत माता की जय” विशेष रूप में बोला जाता है फिर इसके पश्चात लड़के लडकिया अपने देशभक्ति गीत संगीत गाते है और भाषण देते है विभिन्न प्रकार के नाटक मंचन, सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन होता है और बहुत से स्कूलों में देशभक्ति की झाकिया भी निकाली जाती है जिसे देखकर मन में देशभक्ति का भवव संचार होता है, और अंत में बच्चो में मिठाईया और पुरस्कार भी वितरित किये जाते है जिसे पाकर बच्चे बहुत ही प्रसन्न होते है और सभी में इस प्रकार देशभक्ति की भावना का संचार होता है

इसके अतिरिक्त चूकी 15 अगस्त स्वन्त्रन्ता दिवस हमारा राष्ट्रीय त्योहार है तो सभी सरकारी इमारतो, सरकारी गैर सरकारी संघटनो द्वारा सुबह प्रातकाल तिरंगा पहराया जाता है पूरे देश में हर जगह तिरंगा ही नजर आता है पूरा देश तिरंगामय हो जाता है फिर आपस में सभी लोग एक दुसरे को बधाई देते है और देश के विकास का प्रण लेते है और फिर मिष्ठान का वितरण भी किया जाता है, हर जगह हर कोई अपने आपको सभी इस दिन तिरंगे से जोड़ना चाहते है जो कही न कही अद्भुत नजारा पेश करती है

15 अगस्त स्वन्त्रन्ता दिवस का महत्व

15 August Independence Day Ka Mahatva

भले ही हम आजाद देश में पैदा हुए है लेकिन जरा सोचिये जब हमारा देश गुलाम रहा होंगा तो लोगो पर क्या बीतती रही होंगी, कोई भी अपने मन से खुले में चैन की साँस ले नही पा रहा होंगा, हर तरफ सिर्फ बंदिशे ही रही होंगी कोई चाहकर भी अपने हक की आवाज़ को उठा नही सकता, उसी आजादी को पाने के लिए हमारे देश के लाखो लोग कुर्बान हो गये तो कितने वीर हसते हसते फासी के फंदे को चुमते हुए मौत को गले लगा लिया तब जाकर हमारे देश को आजादी मिला, वो भी ऐसी आजादी जिसकी कीमत हमने लाखो लोगो की जान गवानी पड़ी

अब ऐसे में हम सभी भारतीयो का यही फर्ज बनता है सभी लोग एक दुसरे के साथ मिलकर रहे और आपसी मतभेदों को भुलाकर देश के दुश्मनों का मुकाबला करने के लिए हमेसा निस्वार्थ भाव से तत्पर रहे तभी हम अपनी इस मिली आजादी की अखंडता को बनाये रख सकते है और तभी विश्व पटल पर भारत को फिर से विश्वगुरु बना सकते है

जैसा की कहा भी गया है –

अपनी आज़ादी को हम हरगिज़ मिटा सकते नहीं

सर कटा सकते हैं लेकिन सर झुका सकते नहीं.

तो हम सभी का यही फर्ज बनता है अप अपनी इस आजादी को बनाये रखने के लिए हमेसा देश की अखंडता को बनाये रखे जिससे जो भी वीर अमर स्वन्त्रन्ता सेनानी हमारे देश की आजादी के लिए शहीद हुए है उनको भी हमपर गर्व हो.

“जय हिन्द जय भारत”

15 अगस्त स्वन्त्रन्ता दिवस पर लिखा गया यह निबन्ध “15 अगस्त स्वन्त्रन्ता दिवस पर विशेष जानकारी Independence Day” आप सबको कैसा लगा प्लीज कमेंट बॉक्स के माध्यम से अपना राय जरुर दे

एक बार फिर से आप सभी को 15 अगस्त स्वन्त्रन्ता दिवस की हार्दिक शुभकामनाये

Happy Independence Day to All Readers….

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here