विश्व जनसँख्या दिवस World Population Day in Hindi


11 July World Population Day Essay in Hindi

विश्व जनसँख्या दिवस 2018 पर विशेष हिन्दी निबंध

विश्व जनसँख्या दिवस | World Population Day हर साल 11 जुलाई को मनाया जाता है क्या आपको मालूम है की पूरे विश्व की जनसंख्या | Population कितनी है तो आपको यह जानना बहुत जरुरी है की इस समय हमारी पृथ्वी पर इंसानों की आबादी 7 अरब से भी ज्यादा है वो भी केवल धरती के मात्र एक तिहाई हिस्से पर, बाकी धरती के 70% भाग से अधिक हिस्सा जल से भरा हुआ है और ऐसे में दिन प्रतिदिन जहा इन्सान की आबादी बढती ही चली जा रही है तो क्या हर इन्सान के मूलभूत आवश्यकताओ को पूरा किया जा सकेगा यह एक बहुत बड़ा भयावह प्रश्न है ?

तो आईये जानते है विश्व जनसँख्या दिवस | World Population Day, Population in India, World Population, World Population 2018 के बारे में और इसका हम सबके लिए क्या महत्व है और किस प्रकार हम जनसंख्या नियन्त्रण में अपना योगदान दे सकते है

विश्व जनसँख्या दिवस 2018

World Population Day 2018

11 जुलाई 1987 को हमारी पृथ्वी पर कुल आबादी 5 अरब हो गयी थी जिसके बाद बढती आबादी के जनसंख्या विस्फोट को रोकने के लिए संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम के प्रस्ताव द्वारा 11 जुलाई को विश्व जनसँख्या दिवस / World Population Day दिवस घोषित किया गया जिसका मुख्य उद्देश्य लोगो को जनसंख्या के प्रति सचेत करना और मानव और संसाधन के आपसी मांग के तालमेल को बनाये रखना है

विश्व जनसँख्या दिवस क्यों मनाया जाता है

World Population Day Kyo Manaya Jata Hai

आज के समय में यह एक बहुत ही गंभीर प्रश्न है की आखिर हमे विश्व जनसँख्या दिवस | World Population Day मनाने की क्यों जरूरत पड़ी, एक तरफ जहा 1950 में दुनिया की कुल आबादी मात्र 2.50 अरब थी और फिर 37 सालो के अन्तराल के बाद 1987 में हमारी दुनिया की कुल आबादी 5 अरब तक पहुच गयी यानी इन 37 सालो में हमारी आबादी एक झटके में दोगुनी हो गयी, और धरती के संसाधन उतने के उतने ही रहे है, ऐसे में हर इन्सान की भूख मिटाना मुश्किल हो सकता है जिस कारण लोगो को बढती आबादी के प्रति सचेत करने के उद्देश्य से प्रतिवर्ष 11 जुलाई को विश्व जनसँख्या दिवस | World Population Day मनाया जाने लगा.

विश्व जनसँख्या दिवस कैसे मनाया जाता है

World Population Day Kaise Manaya Jata Hai

आज के दौर में किसी भी राष्ट्र के लिए उसकी लगातार बढती जनसँख्या सबसे बड़ी चिंता का विषय बनता जा रहा है खासकर एशियाई महाद्वीप में जिस प्रकार से जनसंख्या का लगातार विस्फोट हो रहा है उसे देखते हुए आने वाले वर्षो में बहुत बड़ा नुकसान उठाना पड़ सकता है जिसकी कल्पना मात्र भी कितना भयानक हो सकता है ऐसे में बढती आबादी को रोकने के लिए विश्व जनसँख्या दिवस | World Population Day के जरिये ही लोगो को जागरूक किया जा सकता है

लगातार बढती आबादी के मुद्दों पर इस दिन लोगो को जागरूक करने के लिए जगह जगह सार्वजानिक स्थानों पर विविध प्रकार के कार्यक्रम आयोजित किये जाते है जिनमे नाटक, प्रदर्शनी, चित्रकारी, रैली, भाषण, नुक्कड़ नाटक मंच, नारे और आपसी चर्चे मुख्य होते है जिन सबका मुख्य उद्देश्य बढती आबादी के प्रति लोगो को सचेत करना मुख्य उद्देश्य होता है और किस प्रकार लोग कम बच्चे पैदा करके देश और राष्ट्र निर्माण में अपना योगदान दे सकते है विश्व जनसँख्या दिवस | World Population Day का यह मुख्य उद्देश्य होता है

विश्व जनसँख्या दिवस मनाने का मुख्य उद्देश्य

Main Aim of World Population Day 2018

आज के समय में जनसंख्या विस्फोट का आतंक ऐसे बढ़ता जा रहा है की कोई भी देश इस पर विचार करने और इसे रोकने के लिए जरुर सोचना पड़ता है चूकी अक्सर हम सभी यही नारे सुनते है “ हम दो हमारे दो ” और अब तो “ हम दो हमारे एक ” “छोटा परिवार सुखी परिवार” लेकिन यह नारे दीवारों, पोस्टरों और सुनने में ही अच्छे लगते है क्यूकी घर आते ही यह सब नारे लोग भुलाकर अपने अगले बच्चे की तैयारी में जुट जाते है

और यदि ऐसे ही लगातार जनसख्या बढ़ता रही तो ऐसे में एक समय ऐसा भी आएगा की लोगो के पास खाने के लिए भोजन नही रहेगा तो फिर इन्सान इन्सान का ही भक्षण करना शुरू कर देंगा. ऐसे में यदि आज के ज़माने में लोग खुद को इतना विकसित मानने लगे है फिर अपनी आबादी को नही नियंत्रित करेगे तो फिर इन्सान अपने पतन का रास्ता खुद तैयार कर सकता है ऐसे में विश्व जनसँख्या दिवस | World Population Day मनाने के पीछे मुख्य उद्देश्य बढती आबादी को रोकना ही मेन मकसद है

विश्व जनसँख्या दिवस के प्रति जागरूकता 

विश्व जनसँख्या दिवस 2018 का थीम 

World Population Day Awareness in Hindi

World Population 2018 Theme

वास्तव में यदि हम सभी विश्व जनसँख्या दिवस | World Population Day के प्रति जागरूक हो जाये तो काफी हद तक अपने निजी जीवन की परेशानियों को दूर कर सकते है और साथ में अपने राष्ट्र निर्माण और विकसित बनाने में अपना योगदान दे सकते है तो ऐसे में लोगो को विश्व जनसँख्या दिवस | World Population Day के प्रति जागरूक होना बहुत जरुरी है

1 – यदि लड़का और लडकी खुद पढ़े लिखे और समझदार हो तो काफी हद तक वे खुद से परिवार नियोजन पर ध्यान दे सकते है

2 – युवाओ को उचित उपायों द्वारा अनुकूल उपायों के बारे में जानकरी देने से वे अपनी Family Planning को नियंत्रित कर सकते है

3 – बेहतर लिंगानुपात से भी जनसँख्या को नियंत्रित किया जा सकता है इसके प्रति लोगो को जागरूक करना अति आवश्यक है

4 – बेटी बेटा एक समान जैसी सोच के जरिये भी लोगो को एक दो संतान होने के बाद बेटे की चाहत में अधिक संतान पैदा होने को भी नियंत्रित किया सकता है

5 – लड़का लड़की को शिक्षित करके भी काफी हद तक जनसंख्या नियंत्रण में सहायता मिलती है

विश्व जनसँख्या दिवस मनाने के फायदे

World Population Day Benefit in Hindi

विश्व जनसँख्या दिवस | World Population Day 2018 के तहत यदि लोगो को अपनी बढती आबादी के प्रति सचेत किया जाय तो काफी हद तक जनसँख्या विस्फोट पर नियंत्रण पाया जा सकता है तो आईये जानते विश्व जनसँख्या दिवस मनाने के फायदे जानते है

1 – यदि बढती आबादी पर नियंत्रण पा लिया जाय तो निश्चित ही कोई राष्ट्र अपने देश को विकसित बना सकता है क्यूकी एक निश्चित आबादी उस राष्ट्र की शक्ति होती है

2 – यदि किसी भी व्यक्ति के कम संताने रहेगी तो निश्चित ही अपनी अपने संतानों की परवरिश और पढाई लिखाई बहुत ही अच्छे ढंग से कर सकता है

3 – यदि लडकियों को शिक्षित किया जाय और उन्हें परिवार नियोजन के उपायों के बारे में बताया जाय तो वे खुद से अपने परिवार का जिम्मा अच्छे से संभाल सकती है

4 – लड़के लड़की की पढाई की असमानता को दूर करने के बाद भी काफी हद तक सुव्यवस्थित समाज का निर्माण किया जा सकता है

पढ़े – सोच बदलो देश बदलेंगा स्वच्छता अभियान Toilet Movie Review In Hindi

5 – यदि किसी भी व्यक्ति की कम संताने रहेगी तो वह अपने परिवार का पालन पोषण भी अच्छे ढंग से कर सकता है

विश्व जनसँख्या दिवस के नारे

World Population Day Slogan in Hindi

विश्व जनसँख्या दिवस | World Population Day पर अनेक नारे भी दिए गये है जिनका मुख्य उद्देश्य जनसंख्या विस्फोट को रोकना है

1 – हम दो हमारे दो

2 – हम दो हमारे एक

3 – छोटा परिवार सुखी परिवार

4 – हिन्दू हो या मुसलमान, सबका हो अपना एक संतान

5 – जनसख्या पर रोक लगाना है खुद को विकसित बनाना है

6 – छोटा परिवार सुखी जीवन का आधार

7 – कम बच्चे छोटा परिवार यही है हमारे विकसित होने का आधार

8 – खुद को आगे बढ़ाना है जनसंख्या पर रोक लगाना है

तो हम सबका यही फर्ज बनता है की अपने बेटे बेटियों में फर्क न समझते हुए खुद को जनसख्या वृद्धि में न लगाये और दुसरो को भी बढती आबादी से होने वाले नुकसान के बारे में सचेत करते हुए लोगो को भी जागरूक करते है

तो आप सभी को यह पोस्ट कैसा लगा प्लीज हमे कमेंट बॉक्स के जरिये बताये और शेयर भी जरुर करे

इन्हें भी जरुर पढ़े – 


Loading...

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *