RTO Officer कैसे बने | आरटीओ ऑफिसर बनने की तैयारी कैसे करे

आज के समय मे युवा पढ़-लिखकर सरकारी नौकरी पाना चाहता है, ऐसे यदि आप आरटीओ ऑफिसर के पद पर अपना कैरियर बनाना चाहते है, तो आरटीओ ऑफिसर एक बढ़िया कैरियर ऑप्शन है, तो ऐसे मे यह प्रश्न उठता है की आरटीओ ऑफिसर क्या है? आरटीओ ऑफिसर कैसे बने? (How To Become RTO Officer?), आरटीओ ऑफिसर कैसे बने? आरटीओ ऑफिसर बनने की तैयारी कैसे करे, आरटीओ ऑफिसर बनने के लिए क्या करे? (What To Do To Become A RTO Officer In Hindi), तो इस पोस्ट मे जानेगे की आरटीओ ऑफिसर कैसे बने? और साथ मे यह भी जानेगे की आरटीओ ऑफिसर बनने के लिए क्या करना पड़ेगा? आरटीओ ऑफिसर की सैलरी (Salary) कितनी होती है? आरटीओ ऑफिसर के तैयारी के लिए सेलेबस क्या है? आरटीओ ऑफिसर बनने की योग्यता (Eligibility) क्या है? इसकी आरटीओ ऑफिसर की चयन प्रक्रिया (RTO Officer Officer Selection Process) क्या है? आरटीओ ऑफिसर का काम क्या होता है? आरटीओ ऑफिसर मे कैरियर का स्कोप क्या है? तो चलिये अब अब जानते है की RTO Officer Kaise Bane और RTO Officer Ki Taiyari Kaise Kare.

इस पोस्ट के मुख्य टॉपिक छिपाए

आरटीओ ऑफिसर क्‍या है? (What is RTO in Hindi)

RTO Officer Kaise Bane - RTO Officer Ki Taiyari Kaise Kareआरटीओ यानी क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय भारतीय सरकार का संगठन होता है, जो की भारत के विभिन्न राज्यों के लिए ड्राइवरों के डेटाबेस को बनाये रखते है और भारत के विभिन्न राज्यों के लिए वाहनों के डेटाबेस को बनाये रखते है, उन्हें RTO Officer कहा जाता है।

पूरे देश में मोटर वाहन के लिए एक केंद्रीय अधिनियम है। जो की यह पुरे मोटर वाहन विभाग इस अधिनियम के विभिन्न प्रावधानों को लागू करने के लिए जिम्मेदार होता है। मोटर वाहन विभाग की स्थापना मोटर वाहन अधिनियम 1988 की धारा 213 (1) के तहत किया गया है। इस विभाग का आयोजन परिवहन आयुक्त द्वारा किया जाता है।

भारत के प्रत्येक राज्य और शहर का अपना आरटीओ (क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय) होता है। मोटर वाहन अधिनियम 1988 में रखे गए कार्यो और वाहनो और ड्राईवरों की गतिविधियो को पूरा करने के लिए प्रत्येक R.T.O जिम्मेदार होता है।

आरटीओ ऑफिसर फुल फार्म (RTO Officer Full Form in Hindi)

RTO Officer Ki Full Form अँग्रेजी मे Regional Transport Officer” होता है, जबकि RTO Officer की हिन्दी मे फुल फार्म क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय होता है।

  • RTO Officer Ki Full Form In English – Regional Transport Officer
  • RTO Officer ki Full Form In Hindi – क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय

आरटीओ ऑफिसर कैसे बने (How to become RTO Officer in Hindi)

आरटीओ के अंतर्गत गाड़ियों का जो पंजीकरण (Vehicle No Registration) किया जाता है, और ड्राईवरो के लिए Driver License Register किया जाता है, ये सभी कार्य भारतीय सरकार के आरटीओ विभाग द्वारा किया जाता है, और ये जो कार्य करते है, उन्हे RTO ऑफिसर कहा जाता है, फिर ऐसे मे RTO Officer बनने के लिए आरटीओ ऑफिसर के लिए योग्यता (RTO Officer Eligibility) को पूरा करना होता है।

फिर ऐसे मे आरटीओ बनने के लिए आरटीओ ऑफिसर पद के लिए सीधा चयन नही किया जाता है, इसके लिए आपको सबसे पहले RTO या IMV के पद पर चयन होना पड़ता है। इसके कुछ सालो के कार्यो के उपरांत अनुभव के आधार पर प्रोन्नति द्वारा आरटीओ के पद पर नियुक्ति किया जाता है।

आरटीओ ऑफिसर के लिए योग्यता (RTO Officer Qualification In Hindi)

आरटीओ ऑफिसर बनने वाले उम्मीदवारों को किसी भी वर्ग से मान्यता प्राप्त विद्यालय या संस्थान से स्नातक (Graduation) पास होना जरूरी हैं | इसमे पद के अनुसार 10वी, 12वी की पढ़ाई के आधार पर भर्ती की जाती है, आरटीओ पद के लिए आवेदन करने में महिलाएं व पुरुष दोनो कर सकते है, जो की यह एक सामान्य योग्यता है।

आरटीओ ऑफिसर के लिए शैक्षणिक योग्यता (Education Qualification for RTO officer)

  1. आरटीओ ऑफिसर बनने के लिए पद के आधार पर उम्मीदवार को 10वीं, 12वी या स्नातक पास होना चाहिये।
  2. अगर आप इसमें और  भी High Post प्राप्त करना चाहते है तो आपको Recognized University से Graduation पास होना चाहिए।
  3. आरटीओ ऑफिसर बनने के लिए महिलाएं और पुरुष दोनों ही आवेदन कर सकते है।

आरटीओ अफसर बनने के लिए आयु सीमा (Age Limit For RTO Officer in Hindi)

आरटीओ ऑफिसर के लिए आयु सीमा (Age Limit) 21 से 30 साल तक के बीच होना चाहिए। जबकि अन्य पिछड़ा वर्ग (OBC) उम्मीदवार के लिए 3 साल की छुट होती है, और Sc/St के लिए आवेदकों को 5 साल की छुट का प्रावधान होता है।

आरटीओ अफसर बनने के लिए शारीरिक योग्यता (Physical Standard for RTO Officer)

आरटीओ अफसर बनने के लिए शारीरिक रूप से फिट होना जरूरी होता है, जो की आरटीओ के लिए Physical Test परीक्षा का एक भाग भी होता है।

आरटीओ ऑफिसर बनने की चयन प्रक्रिया (RTO Officer Selection Process in Hindi)

आरटीओ ऑफिसर बनने के लिए 3 अलग अलग चयन की प्रक्रियाओ से गुजरना पड़ता है, जिन सभी चरणों मे सफलता प्राप्त कारने ने बाद आरटीओ ऑफिसर के पद पर पर नौकरी के लिये चुने जाते है।

  1. लिखित परीक्षा (Written Exam)
  2. शारीरिक परीक्षण (Physical Test)
  3. साक्षात्कार (Interview)

आरटीओ ऑफिसर बनने के लिए लिखित परीक्षा (RTO Written Exam)

आरटीओ ऑफिसर बनने के लिए आवेदन करने के बाद उम्मीदवारों की सबसे पहले लिखित परीक्षा (Written Exam) लिया जाता है, यह परीक्षा 2 घंटे की होती हैं जिसमे 200 अंको के पेपर की परीक्षा देना होता है, जिसमे सामान्य ज्ञान, राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय वर्तमान घटनाक्रम, भारत का इतिहास, भूगोल, हिंदी व्याकरण, आर्थिक और सामाजिक विकास, पर्यावरण और पारिस्थितिकी, सामान्य विज्ञान, अंग्रेजी भाषा आदि से सम्बंधित सवाल पूछे जाते है, जो की ये विषये इस प्रकार है –

  1. सामान्य ज्ञान (General Knowledge)
  2. राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय वर्तमान घटनाक्रम (National And International Current Events)
  3. भारत का इतिहास (History Of India)
  4. आर्थिक और सामाजिक विकास (Economic And Social Development)
  5. पर्यावरण और पारिस्थितिकी (Environment And Ecology)
  6. भूगोल (Geography)
  7. सामान्य विज्ञान (General Science)
  8. अंग्रेजी भाषा (English Language)

आरटीओ ऑफिसर बनने के लिए शारीरिक परीक्षण (RTO Physical Test)

आरटीओ की लिखित परीक्षा में जो उम्मीदवार सफल घोषित होते है, उन उम्मीदवारों को चयन (RTO Selection Process) की दूसरे चरण के तहत शारीरिक परीक्षण (Physical Test) के लिए बुलाया जाता हैं, जहा पर इस चरण की परीक्षा मे पास होने के लिए शारीरिक रूप से स्वस्थ्य व फिट होना जरूरी होता हैं, जिसमे अलग अलग तरह से Physical Test लिए जाते हैं, जिसमे आपके शारीरिक परीक्षण के प्रदर्शन के आधार पर आपको अंक प्रदान किये जाते है,

इस परीक्षा के तहत उम्मीदवार का मेडिकल टेस्ट भी किया जाता है, आरटीओ के मेडिकल टेस्ट के अंतर्गत उम्मीदवार के घुटने, पैर फ़्लैट, अंगूठो में हेलिक्स, हड्डियों में कहीं असमानता, छाती अंदर धंसी न हो, उभरे और स्वस्थ मसल्स, पैर धनुषाकार, जोड़ो में कहीं भी असामान्यता, अभ्यर्थी का मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य अच्छा होना सुनने की क्षमता, आँखों कलर के अंधेपन या कलर ब्लैकनेस से मुक्ति हो, आँखों की दूर की नजर और पास की नजर सामान्य हो, आँखे थोड़े से प्रकाश में ही कोई प्रोब्लम न हो इस प्रकार की जाँच की जाती है। जिसमे आपके मेडिकल परीक्षण के आधार पर आपको अंक प्रदान किये जाते है,

आरटीओ ऑफिसर बनने के लिए साक्षात्कार (RTO Interview)

आरटीओ ऑफिसर बनने के लिए जो उम्मीदवार लिखित परीक्षा व फिजिकल टेस्ट दोनों में सफलता कर लेते है, उन्हे फिर चयन प्रक्रिया के आखिरी यानि तीसरे चरण के तहत साक्षात्कार (Interview) के लिए बुलाया होता हैं व इसमें आपकी बुद्धि, क्षमता, मूल्यों और गुणों के आधार पर आपके दिमाग की जांच की जाती है, फिर साक्षात्कार के दौरान कुछ ऐसे ही प्रश्न आपसे पूछे जायेगे, जिनका आप किस तरह से उनके सवालों के जवाब देते हैं, आपके योग्यता के आधार पर आपको इसमें अंक दिए जाते है.

फिर तीनों चरणों की परीक्षा के मेरिट अंको के आधार पर आरटीओ ऑफिसर के पद के लिए चुन लिया जाता है।

आरटीओ ऑफिसर के लिए सेलेबस (RTO Officer Exam Syllabus in Hindi)

आरटीओ ऑफिसर बनने के लिए लिखित परीक्षा देना होता है, जिसमे कई तरह के प्रश्न पूछे जाते है, जो की ये सभी नीचे दिये इन विषयो से संबन्धित सवाल पूछे जाते है, ऐसे मे अगर जो उम्मीदवार आरटीओ ऑफिसर के परीक्षा की तैयारी कर रहे है, उन्हे इन विषयो को फोकस करते हुए पढ़ाई करना चाहिए।

  1. सामान्य ज्ञान (General Knowledge)
  2. राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय वर्तमान घटनाक्रम (National And International Current Events)
  3. भारत का इतिहास (History Of India)
  4. आर्थिक और सामाजिक विकास (Economic And Social Development)
  5. पर्यावरण और पारिस्थितिकी (Environment And Ecology)
  6. भूगोल (Geography)
  7. सामान्य विज्ञान (General Science)
  8. अंग्रेजी भाषा (English Language)

आरटीओ के परीक्षा की तैयारी कैसे करे (How to Prepare Exam for RTO in Hindi)

किसी भी सरकारी पद के लिए लिखित परीक्षा का आयोजन किए जाते है, जो की ये परीक्षाए काफी कठिन मानी जाती है, ऐसे मे इन परीक्षाओ को पास करने के लिए बहुत पहले से तैयारी करना चाहीये, तभी इन प्रतियोगी परीक्षा मे सफलता प्राप्त करने के अवसर बढ़ जाते है, तो चलिये आरटीओ बनने के लिए RTO Ki Taiyari Kaise Kare जानते है-

  1. आरटीओ के परीक्षा की तैयारी के लिए रोजाना 8 से 10 घंटे तैयारी करते है, तो आपके तैयारी के लिए काफी अच्छा होता है।
  2. जैसा की आप सभी जानते है, की किसी भी सरकारी परीक्षा मे लाखो उम्मीदवार भाग लेते है, जिस कारण इन परीक्षाओ मे कंपटीशन बहुत अधिक होता है, तो जिसके तैयारी के लिए भी खूब मन लगाकर पढ़ाई और तैयारी करना चाहिए। ऐसे मे आरटीओ की परीक्षा के लिए भी खूब मेहनत से पढ़ाई करना चाहिए।
  3. आरटीओ के चयन परीक्षा की तैयारी टाइमटेबल बनाना चाहिए, और उसके अनुसार सभी विषयो की तैयारी रोजाना करना चाहिए।
  4. आरटीओ की परीक्षा की तैयारी करते हुए हमेशा खुद पर विश्वास बनाए रखे और अपने अंदर सकरात्मकता का भाव बनाए रखना चाहिए, और खुद के अंदर कभी भी Negative सोच नही लानी चाहिए, और ऐसे नकरात्मक लोगो से दूर रहना चाहिए।
  5. आरटीओ के लिए पिछले साल हुए Question Paper के सवाल को हल करने की कोशिश करे, जिसके लिए पिछले पांच से छ सालो के Question Paper Solve करना चाहिए, ऐसे करने से यह पता चल जाता है, की आरटीओ की परीक्षा मे किस तरह के प्रश्न पूछे जाते है और कैसे दिये गए समय मे हल सकते है।
  6. आरटीओ की तैयारी मे जनरल नालेज से बहुत ज्यादा प्रश्न पुछे जाते है, तो ऐसे मे अपने सामान्य ज्ञान पर पकड़ मजबूत बनाना चाहिए।
  7. आरटीओ की परीक्षा की तैयारी के लिए नियमित रूप से Current Affairs और अखबार जरूर पढ़ना चाहिए और कुछ समय निकाल कर टीवी मे न्यूज़ चैनल भी एक घंटे के लिए देखना चाहिए, जिससे देश की वर्तमान घटनाओ के बारे मे भी जानकारी हो जाती है,
  8. आरटीओ ऑफिसर पद के इंटरव्यू के लिए अपनी अच्छी पर्सनालिटी बनाये। जो की यह तैयारी आरटीओ के फ़ाइनल राउंड यानि इंटरव्यू मे काफी मदद करेगी।
  9. आरटीओ की परीक्षा काफी कठिन माना जाता है, ऐसे मे परीक्षा मे सफलता पाने के लिए अपने Weak points को पहचानते हुए उन्हें सुधारने की कोशिश करना चाहिए।
  10. आरटीओ की परीक्षा की तैयारी के लिए Self-Study के साथ साथ किसी अच्छे इंस्टिट्यूट को भी ज्वाइन कर सकते है। जिससे इस आरटीओ के परीक्षा की तैयारी के अच्छा मार्गदर्शन मिल जाता है। आरटीओ की परीक्षा की तैयारी के लिए इंटरनेट के जरिये Online Course या यूट्यूब विडियो की भी मदद ले सकते है, जहा पर आपको परीक्षा तैयारी के लिए विडियो मिल जाएगे।
  11. आरटीओ परीक्षा की तैयारी के लिए NCERT पैटर्न की किताबे काफी अच्छी मानी जाती है, तो ऐसे मे पटवारी की परीक्षा की तैयारी के लिए एनसीईआरटी पैटर्न की किताबों से तैयारी करना चाहिए।
  12. आरटीओ परीक्षा की तैयारी करते हुए खुद से अपना ऑनलाइन Mock Test भी ले सकते हो इससे आपको अंदाज़ा हो जायेगा की आपकी तैयारी कितने अच्छे से हो रही है।

तो ऐसे मे यदि इन बताए गए आरटीओ परीक्षा की तैयारी टिप्स आरटीओ की परीक्षा के लिए उपयोग करते है, तो निश्चित ही आप आरटीओ ऑफिसर की परीक्षा मे सफलता पा सकते है।

आरटीओ मे कितने पद होते है (RTO Post in Hindi)

आरटीओ विभाग मे कार्यो के आधार पर तीन तरह के Post होते है।

  1. लिपिक या लिपिक पद (Clerical Or Clerk Post)
  2. सहायक या उप सहायक अभियंता पद (Assistant or Sub Assistant Engineer Post)
  3. न्यायिक पद (Judicial Post)

तो ऐसे मे आरटीओ मे इन पदो के जरिये भर्ती होकर अपना आरटीओ मे कैरियर बना सकते है।

आरटीओ ऑफिसर का वेतन (RTO Officer Salary)

आरटीओ मे कार्यो के आधार पर अनेक पद होते है, और उन RTO Officer के Rank के आधार पर इनका वेतन भी अलग अलग होता है, तो सामान्यता RTO Officer की Salary 20,000 से 40,000 रुपए प्रतिमाह तक की होती है। इसके अलावा इसके अलावा सरकारी कर्मचारियों को मिलने वाली और सुविधाएं जैसे घर, मंहगाई भत्ता, यात्रा भत्ता, इलाज, पेंशन आदि आरटीओ ऑफिसर को भी दिया जाता हैं।

आरटीओ का काम क्या होता है? (Work of RTO in Hindi)

जब कोई व्यक्ति नया वाहन खरीदता हैं तो उसे गाड़ी के कुछ ज़रुरी क़ागज़ात बनवाने होते है। तभी आप इन वाहनो को सड़क परिवहन के नियमो के अनुसार इन्हे चला सकते है, जिनके ये सभी कागजात गाड़ी चलाने वाले के पास होने जरूरी होते है, तो ऐसे मे इन कागजात और नियमो को पालन करवाने की ज़िम्मेदारी आरटीओ विभाग की होती है, तो RTO के कार्य क्या क्या होते है, जानते है –

ड्राइविंग लाइसेन्स (Driving License)

सड़क परिवहन के नियम के अनुसार किसी भी वाहन को चलाने के लिए आपके पास Driving license होना जरूरी होता हैं, ऐसे मे अगर Driving license के वाहन चलाते हैं, तो नियम तोड़ने के जुर्म मे जुर्माना भी वसूला जा सकता हैं व Driving license बनाने के लिए आपको RTO office जाना होता हैं, जहा ये Driving License RTO विभाग के ऑफिसर द्वारा ही बनाया जाता हैं, यानि ड्राइविंग लाइसेन्स बनाना RTO का महत्वपूर्ण कार्य होता है.

वाहनो का रजिस्ट्रेशन (Vehicle Registration)

किसी भी प्रकार के छोटे या बड़े वाहन खरीदने पर उसका Registration करना अनिवार्य होता हैं, और जब किसी वाहन का Registration करते हैं तो उस वाहन के रजिस्ट्रेशन के बाद एक Number Plate दिया जाता है, जिन्हे वाहन या गाड़ी पर लगाना होता है, और ये सभी प्रक्रिया वाहनो के रजिस्ट्रेशन के बाद होता हैं व आप बिना रजिस्ट्रेशन के किसी भी गाड़ी को चलते है, तो यह गैर कानूनी होता है, जिसके लिए जुर्माना भी लगाया जाता है, तो ऐसे मे गाड़ी के रजिस्ट्रेशन का कार्य RTO विभाग द्वारा ही किया जाता है, जो की आरटीओ ऑफिसर का वाहनो के लिए रजिस्ट्रेशन नंबर रजिस्टर करना और उन्हे देना इनका मुख्य कार्य होता है।

प्रदूषण परीक्षण (Pollution Test)

बहुत से ऐसे भी गाड़ी हो जाते है, जो की काफी पुरानी और खराब अवस्था मे होते है, जिनके इंजिन से अनियनियंत्रित रूप से जहरीले धुए निकलते है, जिस कारण से इनसे प्रदूषण फैलता है, ऐसे मे कई बार आरटीओ ऑफिसर इस प्रकार के वाहनों को रोक कर उनका Pollution Test लिया जाता हैं व अगर कोई वाहन इस तरह की अवस्था से अधिक Pollution फैला रहा हो तो उस वाहन के मालिका या ड्राइवर से इसके लिए जुर्माना लिया जाता हैं ये कार्य भी RTO के द्वारा होता है. और वाहनो के लिए PUC (Pollution Under Certificate) भी आरटीओ ऑफिसर द्वारा निकाला जाता है।

वाहनो का बीमा (Insurance)

किसी भी बड़े, छोटे प्रकार के वाहन आदि का इंश्योरेंस का काम भी RTO विभाग द्वारा किया जाता है। किसी को भी अपने वाहन का बीमा करवाना हो या इससे जुड़ा कोई कार्य हो तो उस व्यक्ति को RTO Office जाना होता है. जहा ये सभी बीमा का कार्य आरटीओ ऑफिसर करते है।

निष्कर्ष :-

तो अब आप जान गए होंगे की RTO Officer Kaise Bane और साथ इसकी इसकी तैयारी, सिलेबस, योग्यता और सैलरी के बारे मे भी विस्तार से जान गए, तो हमने आरटीओ ऑफिसर कैसे बने के इस पोस्ट मे जो भी कुछ जाना, वो इस प्रकार है –

  • आरटीओ ऑफिसर क्या है?
  • आरटीओ का फुल फार्म क्या होता है
  • आरटीओ ऑफिसर बनने के लिए योग्यता
  • आरटीओ ऑफिसर बनने के लिए शैक्षणिक योग्यता
  • आरटीओ ऑफिसर बनने के लिए आयु सीमा
  • आरटीओ ऑफिसर कैसे बने?
  • आरटीओ ऑफिसर के लिए चयन प्रक्रिया
  • आरटीओ के लिए सेलेबस
  • आरटीओ की तैयारी कैसे करें
  • आरटीओ की सैलरी कितनी होती है (RTO Officer Salary)
  • आरटीओ ऑफिसर बनने के लिए क्या करना पड़ेगा
  • आरटीओ में पदों की रैंकिंग
  • आरटीओ के कार्य

तो इस पोस्ट मे RTO Officer Kya Hai? IPS Officer Kaise Bane? RTO Officer Ki Taiyari Kaise Kare के बारे मे अच्छे से जान गए, तो ऐसे मे आपको यह पोस्ट आप सभी को काफी पसंद आई होगी, तो आपको यह पोस्ट कैसा लगा, कमेंट मे हमे जरूर बताए और इस पोस्ट को अपने दोस्तों और अन्य लोगों के साथ अधिक से अधिक शेयर करें…

अन्य कैरियर से संबन्धित इन पोस्ट को भी पढे :- 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

close button