पटवारी (Patwari) कैसे बने | पटवारी की तैयारी कैसे करे

आज के समय मे सरकारी नौकरी पाना हर युवा का सपना होता है, ऐसे यदि आप पटवारी के पद पर अपना कैरियर बनाना चाहते है, तो पटवारी एक बढ़िया और सम्मान के पद का कैरियर ऑप्शन है, जो की गाँव, कस्बो मे रहकर लोगो के बीच कार्य करने का मौका मिलता है, तो ऐसे मे यह प्रश्न उठता है की पटवारी क्या है? पटवारी कैसे बने? (How To Become Patwari?), लेखपाल कैसे बने? पटवारी बनने की तैयारी कैसे करे, पटवारी बनने के लिए क्या करे? (What To Do To Become A Patwari In Hindi), तो इस पोस्ट मे जानेगे की पटवारी कैसे बने? और साथ मे यह भी जानेगे की पटवारी बनने के लिए क्या करना पड़ेगा? पटवारी की सैलरी (Salary) कितनी होती है? पटवारी के तैयारी के लिए सेलेबस क्या है? पटवारी बनने की योग्यता (Eligibility) क्या है? इसकी पटवारी की चयन प्रक्रिया (Patwari Officer Selection Process) क्या है? पटवारी का काम क्या होता है? पटवारी मे कैरियर का स्कोप क्या है? तो चलिये अब अब जानते है की Patwari Kaise Bane और Patwari Ki Taiyari Kaise Kare.

पटवारी क्या होता है? (What is Patwari in Hindi)

Patwari Kaise Bane Patwari Ki Taiyari Kaise Kareपटवारी जो की एक सरकारी अधिकारी का पद होता है, जिसे लेखपाल भी कहते है, जो देश के ग्रामीण क्षेत्रों में भूमि के मालिकाना हक के बारे में रिकॉर्ड रखता है। की किस जमीन के भूखंड का मालिक कौन है, इसका रिकॉर्ड पटवारी के पास होता है, यानि पटवारी को भूमि रिकॉर्ड अधिकारी के रूप में भी जाना जाता है। किसी भी जमीन के भूखंड को मापना और भूमि का रिकॉर्ड रखना पटवारी का मुख्य कार्य है। जो की यह पद राज्य सरकार के अंतर्गत आते है।

हर पटवारी पद के लिए अलग अलग क्षेत्र दिया जाता है, यानि हर क्षेत्र या ब्लॉक स्तर पर उस क्षेत्र का पटवारी यानि लेखपाल होता है, और यह क्षेत्र किस पटवारी के अंतर्गत होता है, जिला और राज्य स्तर पर निर्धारित किए जाते है, एक पटवारी का कार्य अपने आने वाले क्षेत्र में जमीन से जुड़ी सभी समस्याओं को हल करने की जिम्मेदार पटवारी यानी लेखपाल का होता है। इसके अलावा पटवारी को सरकार के आदेश अनुसार कार्य करने पड़ते हैं। इसके अलावा और ग्रामीण क्षेत्रों में भूमि से संबंधित रिकॉर्ड रखने के साथ-साथ भूमि माप, सही जमीन का निर्धारण का मालिकाना हक, जमीन की खरीद, बिक्री, आय प्रमाण पत्र, जाति पत्र, निवासी कागजात और कृषि से संबंधित सभी मुख्य कार्य पटवारी के अंतर्गत आते है, और साथ ही पटवारी ग्रामीण क्षेत्रों का पूरा लेखा-जोखा रखता है, कई अलग-अलग राज्यो मे पटवारी को अलग-अलग नामों से जाना जाता है जैसे, लेखपाल, पटेल, पटनायक, ग्राम लेखाकार, तलाटी आदि।

पटवारी कैसे बने? (How to Become Patwari in Hindi)

यदि आप पटवारी के पद पर कार्य करते हुए अपना कैरियर बनाना चाहते है, तो पटवारी बनने के लिए सबसे पहले अपने राज्य के सरकारी बोर्ड से 12th पास करना अनिवार्य होता है, और साथ मे 12वीं की परीक्षा मे आर्ट्स, कॉमर्स या साइंस जैसे किसी भी सब्जेक्ट को लेकर पास होना जरूरी है, इसके बाद स्नातक स्तर की पढ़ाई किसी विश्वविद्यालय से ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल करना होता है, इसके बाद पटवारी के पद के लिए कम्प्युटर कोर्स भी अनिवार्य हो गया है, तो ऐसे मे साथ में कंप्यूटर का कोर्स भी करना जरूरी होता है, जहा कुछ सालो पहले 12वीं पास करके भी पटवारी या लेखपाल पद के लिए अप्लाई कर सकते  थे, और पटवारी बन सकते थे, लेकिन वर्तमान मे अब इसके लिए अब आपके पास ग्रेजुएशन यानि स्नातक स्तर की डिग्री होना आवश्यक कर दिया गया है। और साथ मे कम्प्युटर कोर्स का भी होना अनिवार्य है।

पटवारी पद के लिए समय समय पर राज्य सरकरे नोटिस निकलती रहती है, तो ऐसे मे आप पद बनना चाहते है, तो इसके लिए राज्य सरकार के नोटिफिकेशन का इंतजार करना होता है। ऐसे मे राज्य सरकार समय समय पर पटवारी के खाली पदों के लिए सूचनायें जारी करती है, इस नोटिफिकेशन में सरकार पटवारी भर्ती परीक्षा की पूरी जानकारी देती है। इसमें मौजूद निश्चित तिथि में ही आपको इसकी परीक्षा के लिए अप्लाई करना होता है। और पटवारी पद की भर्ती के सभी मानको को पूरा करते हुए पटवारी पद की परीक्षा मे बैठ सकते है, और ऐसे इस परीक्षा को पास करते हुए पटवारी बन सकते है।

पटवारी या लेखपाल बनने के लिए इसे शॉर्ट मे ऐसे समझ सकते है

  1. बारहवीं क्लास पास करें।
  2. स्नातक स्तर की पढ़ाई पास करे
  3. कंप्यूटर कोर्स करें।
  4. पटवारी पद के लिए आवेदन करे
  5. पटवारी के परीक्षा की तैयारी करे
  6. पटवारी के परीक्षा को पास करे
  7. पटवारी के पद पर जॉइन करे

पटवारी बनने के लिए योग्यता (Eligibility for Patwari in Hindi)

पटवारी या लेखपाल की नौकरी को पाने के लिए विशेष योग्यताओं का होना बहुत महत्तपूर्ण है, ऐसे मे पटवारी के लिए क्या क्या योग्यताए (Eligibility) होनी चाहिए, और क्या क्या शैक्षणिक योग्यता (Educational Qualifications) होना चाहिए, इसके बारे मे जानते है –

पटवारी के लिए शैक्षणिक योग्यता (Educational Qualifications for Patwari in Hindi)

  • पटवारी बनने के लिए आपको अच्छे अंको के स्कूल से 12 वीं कक्षा उत्तीर्ण करना अनिवार्य है.
  • 12 वीं कक्षा के बाद पटवारी बनने के लिए स्नातक होना अनिवार्य कर दिया गया है, ऐसे मे पटवारी बनने के लिए किसी भी मान्यता प्राप्त कॉलेज से किसी भी स्ट्रीम से स्नातक की पढ़ाई करना आवश्यक हो गया है, तभी आप पटवारी के पद के लिए अप्लाई कर सकते है।
  • अब पटवारी बनने के लिए कंप्यूटर का बेसिक ज्ञान होना बहुत ज़रूरी है, ऐसे मे किसी भी मान्यता प्राप्त संस्थान से सीसीसी कंप्यूटर कोर्स का डिप्लोमा होना अनिवार्य हो गया है.
  • पटवारी बनने के लिये कंप्यूटर कोर्स करने के दौरान NIELIT प्रमाणित CCC (Course on Computer Concepts) सर्टिफिकेट भी प्राप्त कर लेना चाहिए, पटवारी पद के आवेदन करने के लिए इसकी भी जरुरत पड़ती है।

पटवारी के लिए आयु सीमा (Age limit for Patwari in Hindi)

पटवारी पद के आवेदन के लिए उम्मीदवार की आयु 18 से 40 वर्ष के बीच होनी चाहिए। तथा आरक्षित वर्ग के उम्मीदवार को उम्र में नियमानुसार छुट भी दी जाती है। और यह पटवारी पद के लिए Age Limit अलग-अलग राज्यों में अलग अलग आयु सीमा और छुट हो सकती है।

पटवारी बनने के लिए परीक्षा प्रक्रिया (Examination process for becoming a Patwari)

पटवारी बनने के परीक्षा के तहत इसके दो भागों की परीक्षा को पास करना होता है, जो की इस प्रकार है-

  1. लिखित परीक्षा (Written Exam)
  2. साक्षात्कार (Interview)

तो चलिये अब पटवारी बनने के इन दोनों चरणों की परीक्षा के बारे मे विस्तार से जानते है-

पटवारी पद के लिए लिखित परीक्षा (Written Exam)

पटवारी बनने के लिए लिखित परीक्षा देना होता है, इस लिखित परीक्षा में 100 अंकों के साथ बहुविकल्पीय प्रश्न (Objective Question) पूछे जाते हैं, जिसके लिए आपको 90 मिनट का समय मे इस प्रश्न पत्र को हल करना होता है, ऐसे मे यदि इस परीक्षा में 100 में से 80 अंक भी प्राप्त कर लेते है, तो आपकी पटवारी बनने के मेरिट लिस्ट मे आने की संभावना बढ़ जाती है, मेरिट के आधार अधिकतम अंक वाले उम्मीदवार को आगे साक्षात्कार (Interview) के लिए बुलाया जाता है.

पटवारी बनने के तहत लिखित परीक्षा मे (Written Exam Test) मे सामान्य ज्ञान, मात्रात्मक क्षमता, हिंदी भाषा, पंचायत प्रणाली, ग्राम अर्थव्यवस्था और कंप्यूटर से संबन्धित प्रश्न पूछे जाते है।

पटवारी पद के साक्षात्कार (Interview)

जैसे ही आप पटवारी बनने के लिए लिखित परीक्षा पास करते हैं, तो अधिकतम अंको को प्राप्त करने की की मेरिट लिस्ट के आधार पर साक्षात्कार के लिए बुलाया जाता है, जहा साक्षात्कार में आपसे कुछ प्रश्न पूछे जाते हैं, जिनका आपको सही उत्तर देना होता है, इसके अलावा दस्तावेज़ (Education Documents) को साक्षात्कार के साथ सत्यापित किया जाता है, ऐसे मे यदि पटवारी के लिए इस इंटरव्यू को पास कर लेते है, तो आपको पटवारी के पद के लिए नियुक्त किया जाता है.

यानि पटवारी का पद हासिल करने के लिए लिखित परीक्षा (Written Exam) और इंटरव्यू दोनों की तैयारी करना होता है, क्योंकि लिखित परीक्षा और interview में मिले अंकों के आधार पर ही पटवारी पद के लिए चयन और नियुक्ति की जाती है।

पटवारी के लिए परीक्षा पैटर्न (Exam Pattern for Patwari)

पटवारी के लिए परीक्षा पैटर्न किस आधार पर होता है, यह जानना जरूरी होता है, तभी पटवारी के लिए परीक्षा की तैयारी कर सकते है, तो पटवारी की लिखित में हिन्दी, अंग्रेजी सहित कुल 5 विषयों का पेपर होता हैं जो इस प्रकार हैं:-

  1. हिन्दी (Hindi)
  2. अंग्रेजी (English)
  3. गणित (Mathematics)
  4. कंप्यूटर (Computer)
  5. सामान्य ज्ञान एवं सामयिकी (General Knowledge & current affairs)

इन विषयो के आधार पर पटवारी की लिखित परीक्षा इनसे संबन्धित प्रश्‍नों को शामिल जाता है, यानि लिखित परीक्षा मे कुल 100 वैकल्पिक प्रश्न होते हैं जो कि आपको 90 मिनट मे हल करना होता हैं |

पटवारी के लिए सिलेबस  (Syllabus for Patwari)

यदि आप पटवारी परीक्षा की तैयारी कर रहे है तो आपको पटवारी लिखित चयन परीक्षा का सिलेबस भी पता होना चाहिए जिसके आधार पटवारी के चयन परीक्षा की तैयारी कर सकते है, जो की इस प्रकार है –

हिन्दी (Hindi) – पटवारी परीक्षा में शामिल हिंदी विषय से संधि, काल, वाक्यांश, क्रिया त्रुटि का पता लगाना, व्याकरण से संबन्धित प्रश्न पूछे जाते है।

अँग्रेजी (English) – पटवारी परीक्षा के लिए अंग्रेजी विषय में Vocabulary, Synonyms, Grammar, Antonyms, Idioms And Phrases, आदि से सम्बंधित प्रश्न पूछे है।

गणित (Mathematics) – पटवारी पद के लिए गणित विषय पर अच्छी पकड़ होना चाहिए इसमें साथ ही तार्किक विचार, नंबर सिस्टम, दशमलव, औसत, अनुपात, समय और कार्य आदि से संबन्धित प्रश्न भी पूछे जाते है।

कम्प्युटर ज्ञान (Computer Knowledge) – पटवारी के पद के चयन के लिए लिखित परीक्षा में कंप्यूटर विषय का जानना भी बहुत अहम होता है, क्योकि इसमे Computer Basics, Word Processing, Operating System, Input And Output Devices आदि से संबंधित प्रश्नों के बारे पूछे जाते है।

सामान्य ज्ञान एवं सामयिकी (GK And Current Affairs) – वैसे तो सामान्य ज्ञान से प्रश्न हर सरकारी पदो की परीक्षा मे पूछे जाते है, तो ऐसे मे पटवारी पद की लिखित परीक्षा मे करंट अफेयर्स, सामान्य ज्ञान, इतिहास, रसायन विज्ञान, भारतीय संविधान, खेल, दिवस आदि से संबन्धित प्रश्न पूछे जाते है।

पटवारी के लिए आवेदन कैसे करे (How to Apply for Patwari Post in Hindi)

पटवारी का पद जो की राज्य सरकार के अंतर्गत आते है, ऐसे मे पटवारी यानि लेखपाल के रिक्त पदों को भर्ती के प्रत्येक राज्य सरकार द्वारा इसकी पटवारी भर्ती का आयोजन किया जाता है। तो ऐसे मे पटवारी भर्ती की परीक्षा मे शामिल होने के लिए सबसे पहले आपको इसके Official Website पर ऑनलाइन होकर निकले पद की जानकारी प्राप्त करना होगा।

फिर पटवारी की रिक्त पदो की भर्ती आने पर आपको इसके लिए ऑनलाइन आवेदन करना होगा, जिसके लिए इसकी परीक्षा देना होता है, और मेरिट लिस्ट के आधार पर आधार इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है, और फिर आपको इंटरव्यू पास करने के बाद पटवारी पद के लिए चुन लिया जाता है।

पटवारी भर्ती परीक्षा की तैयारी कैसे करें? (How to Prepare for Patwari Exam in Hindi)

अगर आप पटवारी के भर्ती के परीक्षा की तैयारी कर रहे है, तो इसके आपको बहुत मेहनत करना होता है, क्यूकी हर सरकारी परीक्षाओ की तरह यह परीक्षा कठिन परीक्षाओ मे से एक परीक्षा मानी जाती है, क्यूकी इस परीक्षा मे भी लाखो अभ्यर्थी भाग लेते है, जिस कारण से इसके प्रश्न थोड़ा कठिन ही बनाए जाते है, तो ऐसे मे पटवारी की परीक्षा मे सफलता पाने के लिए लगातार मेहनत और तैयारी करने की जरूरत होती है, तो आइए Patwari Ki Taiyari Kaise Kare के बारे मे जानते है –

  1. पटवारी के परीक्षा की तैयारी के लिए रोजाना 8 से 10 घंटे तैयारी करते है, तो आपके तैयारी के लिए काफी अच्छा होता है।
  2. जैसा की आप सभी जानते है, की किसी भी सरकारी परीक्षा मे लाखो उम्मीदवार भाग लेते है, जिस कारण इन परीक्षाओ मे कंपटीशन बहुत अधिक होता है, तो जिसके तैयारी के लिए भी खूब मन लगाकर पढ़ाई और तैयारी करना चाहिए। ऐसे मे पटवारी की परीक्षा के लिए भी खूब मेहनत से पढ़ाई करना चाहिए।
  3. पटवारी के चयन परीक्षा की तैयारी टाइमटेबल बनाना चाहिए, और उसके अनुसार सभी विषयो की तैयारी रोजाना करना चाहिए।
  4. पटवारी की परीक्षा की तैयारी करते हुए हमेशा खुद पर विश्वास बनाए रखे और अपने अंदर सकरात्मकता का भाव बनाए रखना चाहिए, और खुद के अंदर कभी भी Negative सोच नही लानी चाहिए, और ऐसे नकरात्मक लोगो से दूर रहना चाहिए।
  5. पटवारी की परीक्षा की तैयारी के लिए इंटरनेट के जरिये Online Course या यूट्यूब विडियो की भी मदद ले सकते है, जहा पर आपको परीक्षा तैयारी के लिए विडियो मिल जाएगे।
  6. पटवारी परीक्षा की तैयारी के लिए NCERT पैटर्न की किताबे काफी अच्छी मानी जाती है, तो ऐसे मे पटवारी की परीक्षा की तैयारी के लिए एनसीईआरटी पैटर्न की किताबों से तैयारी करना चाहिए।
  7. पटवारी के लिए पिछले साल हुए Question Paper के सवाल को हल करने की कोशिश करे, जिसके लिए पिछले पांच से छ सालो के Question Paper Solve करना चाहिए, ऐसे करने से यह पता चल जाता है, की पटवारी की परीक्षा मे किस तरह के प्रश्न पूछे जाते है और कैसे दिये गए समय मे हल सकते है।
  8. पटवारी की तैयारी मे जनरल नालेज से बहुत ज्यादा प्रश्न पुछे जाते है, तो ऐसे मे अपने सामान्य ज्ञान पर पकड़ मजबूत बनाना चाहिए।
  9. पटवारी की परीक्षा की तैयारी के लिए नियमित रूप से Current Affairs और अखबार जरूर पढ़ना चाहिए और कुछ समय निकाल कर टीवी मे न्यूज़ चैनल भी एक घंटे के लिए देखना चाहिए, जिससे देश की वर्तमान घटनाओ के बारे मे भी जानकारी हो जाती है,
  10. पटवारी पद के इंटरव्यू के लिए अपनी अच्छी पर्सनालिटी बनाये। जो की यह तैयारी पटवारी के फ़ाइनल राउंड यानि इंटरव्यू मे काफी मदद करेगी।
  11. पटवारी की परीक्षा काफी कठिन माना जाता है, ऐसे मे परीक्षा मे सफलता पाने के लिए अपने Weak points को पहचानते हुए उन्हें सुधारने की कोशिश करना चाहिए।
  12. पटवारी की परीक्षा की तैयारी के लिए Self-Study के साथ साथ किसी अच्छे इंस्टिट्यूट को भी ज्वाइन कर सकते है। जिससे इस परीक्षा की तैयारी के अच्छा मार्गदर्शन मिल जाता है।
  13. पटवारी परीक्षा की तैयारी करते हुए खुद से अपना ऑनलाइन Mock Test भी ले सकते हो इससे आपको अंदाज़ा हो जायेगा की आपकी तैयारी कितने अच्छे से हो रही है।

तो ऐसे मे यदि इन बताए गए पटवारी परीक्षा की तैयारी टिप्स पटवारी की परीक्षा के लिए उपयोग करते है, तो निश्चित ही आप पटवारी की परीक्षा मे सफलता पा सकते है।

पटवारी का काम क्या होता है? (Work of Patwari in Hindi)

पटवारी राज्य सरकार के अंतर्गत राजस्व विभाग का एक सरकारी पद का अधिकारी होता है, जिसकी नियुक्ति गाँवों मे होती है। एक पटवारी के पास उसके कार्य क्षेत्र के अंतर्गत एक या उससे अधिक गांव आते हैं, और इन गांवो की भूमि की पूरी जानकारी उस पटवारी के पास होती है। राज्य सरकार के राजस्व एवं अभिलेखों के अलावा पटवारी के अन्य बहुत से कार्य होते हैं जो की इस प्रकार हैं:-

  1. पटवारी की मदद से ही किसी जमीन को खरीद या बेचा जा सकता है, भूमि का आवंटन करना, राजस्व रिकॉर्ड अपडेट करना, खेतों का स्थानांतरण करना, अपने क्षेत्र में भूमि विवाद से संबंधित मामले निपटाना आदि सभी कार्य पटवारी के अंतर्गत आते है।
  2. पटवारी या लेखपाल का मुख्य काम भूमि पैमाईश करना होता है। इसके अलावा पटवारी सरकार द्वारा निर्देशित कई अन्य काम भी करता है।
  3. पटवारी पूरे गांव की ज़मीन का रिकॉर्ड रखता है।
  4. इसके पास गांव में बेची गई ज़मीन और गांव में ख़रीदी गई ज़मीन की पूरी जानकारी होती है।
  5. पटवारी के कार्य के अंतर्गत फसल बीमा आदि के दावे स्वीकृत करवाने में भी पटवारी मदद करता है।
  6. किसी भी ज़मीन को किसी के नाम पर करने और किसी के नाम से हटाने का कार्य भी करता है।
  7. पटवारी किसी भी आपदा की स्थिति में सरकार को उससे अवगत करता है जिससे किसानों को फ़ायदा मिलता है।
  8. पटवारी को पशु गणना, कृषि गणना, जनगणना में सहयोग देना होता है।
  9. पटवारी को भूमि के हस्तारंतरण से सबंधित मतभेदों को सुलझाने का कार्य होता है।
  10. एक पटवारी अपने गावो के पूरी जमीन का लेखा जोखा और रेकॉर्ड रखता है।
  11. किसी भी गावो में खरीदी गई और बेचीं गई सारी जमीन का लेखा जोखा पटवारी के पास होता है।
  12. किसी भी किसान को फसल बीमा दिलाने मे पटवारी की महत्वपूर्ण भूमिका होती है।
  13. पटवारी सरकार द्वारा जारी किए गए आर्थिक सर्वेषण में भागीदारी देना होता है।
  14. किसी भी प्राकृतिक संकट आने पर पटवारी सरकार के तरह से आर्थिक और सामाजिक रूप से सहायता करना का कार्य होता है।
  15. किसी भी क्षेत्र का पटवारी या लेखपाल को विधवा पेंशन, जन्म, आवास प्रमाण पत्र, कृषक दुर्घटना बिमा करवाना, विकलांग पेंशन बनवाने में समबधित व्यक्ति की मदद करना होता है।

पटवारी का वेतन (Patwari Salary)

पटवारी के वेतन की बात की जाय तो जैसा की पहले भी हमने की बताया की पटवारी का पद राज्य सरकार के अंतर्गत आता है, तो ऐसे पटवारी पद के वेतन का निर्धारण भी हर राज्य सरकारे करती है, जो की ये पदे सी ग्रेड के अंतर्गत आती है, तो ऐसे मे राज्य सरकार द्वारा पटवारी के पद के लिये वेतन 5,200/- रूपए से लेकर के 20,200/- रूपए निर्धारित किया गया है और इसमें कई प्रकार के भत्ते भी जोड़े जाते है। तथा अन्य सभी सरकारी सुविधाए भी पटवारी को दिया जाता है।

निष्कर्ष :-

तो अब आप जान गए होंगे की Patwari Kaise Bane और साथ इसकी इसकी तैयारी, सेलेबस, योग्यता और सैलरी के बारे मे भी विस्तार से जान गए, तो हमने पटवारी कैसे बने के इस पोस्ट मे जो भी कुछ जाना, वो इस प्रकार है –

  • पटवारी क्या है?
  • पटवारी बनने के लिए योग्यता
  • पटवारी बनने के लिए शैक्षणिक योग्यता
  • पटवारी बनने के लिए आयु सीमा
  • पटवारी कैसे बने?
  • पटवारी के लिए चयन प्रक्रिया (Patwari Selection Process)
  • पटवारी में परीक्षा पैटर्न (Patwari Exam Pattern)
  • पटवारी की तैयारी कैसे करें
  • पटवारी की सैलरी कितनी होती है
  • पटवारी बनने के लिए क्या करना पड़ेगा

तो इस पोस्ट मे Patwari Kya Hai? Patwari Kaise Bane? Patwari Ki Taiyari Kaise Kare के बारे मे अच्छे से जान गए, तो ऐसे मे आपको यह पोस्ट आप सभी को काफी पसंद आई होगी, तो आपको यह पोस्ट कैसा लगा, कमेंट मे हमे जरूर बताए और इस पोस्ट को अपने दोस्तों और अन्य लोगों के साथ अधिक से अधिक शेयर करें…

कैरियर से संबन्धित इन अन्य पोस्ट को भी पढे :- 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

close button