हिन्दी दिवस पर कविता Hindi Diwas Kavita Poem

0

हिन्दी भाषा के सम्मान मे प्रत्येक वर्ष 14 सितंबर को हिन्दी दिवस मनाया जाता है, तो हिन्दी भाषा के सम्मान मे हिन्दी दिवस पर कविता लिख रहे है, इन हिन्दी कविताओ मे हिन्दी भाषा की महत्ता देखने को मिलती है।

तो चलिये इस हिन्दी दिवस पर आप सबके लिए हिन्दी दिवस पर कविता | Hindi Diwas Kavita Poem शेयर कर रहे है, जिन्हे आप इन हिन्दी दिवस की कविताओ को दूसरे के साथ शेयर कर सकते है।

हिन्दी दिवस पर कविता

Hindi Diwas Kavita Poem

Hindi Diwas Kavita Poemहिन्दुस्तानी हैं हम गर्व करो हिंदी पर
सम्मान देना,दिलाना कर्तव्य हैं हम पर
खत्म हुआ विदेशी शासन
अब तोड़ो बेड़ियों को
तह दिल से अपनाओ खुले आसमां को
पर ना छोड़ो धरती के प्यार को
हिंदी हैं मातृतुल्य हमारी
इस पर न्यौछावर करो जिन्दगी सारी..

हिन्दी दिवस पर कविता

Hindi Diwas Kavita Poem

हिंदी का सम्मान करो, यह हमारी राज भाषा,
मिलाती देशवाशियों के दिलों को यह, पूरी करती अभिलाषा |

देखो प्रेमचंद और भारतेन्दु के यह हिंदी साहित्य,
जो लोगो के जीवन में ठहाको और मनोरंजन के रंग भरते नित्य |

हिंदी भाषा की यह कथा पुरानी लगभग एक हजार वर्ष,
जो बनी क्रांति की ज्वाला तो कभी स्वतंत्रता सेनानियों का संघर्ष |

आजाद भारत में भी इसका कम नही योगदान,
इसलिए हिंदी दिवस के रुप में इसे मिला यह विशेष स्थान |

विनती बस यही हिंदी को ना दो तुम यह दोयम दर्जे का मान,
हिंदी से सदा करो प्रेम तुम दो इसे विशेष सम्मान |

रोज मनाओ तुम हिंदी दिवस बनाओ इसे अपना अभिमान,
हिंदी है हमारी राजभाषा इसलिए दो इसे अपने ह्रदयों में विशेष स्थान |

अंग्रेजी की माला जपकर ना करो हिंदी का अपमान,
आओ मिलकर सब प्रण ले नित्य करेंगे हिंदी का सम्मान |

हिन्दी दिवस की शुभकामनाए Hindi Diwas Shubhkamnaye Wishes

हिन्दी दिवस पर कविता

Hindi Diwas Kavita Poem

हिंदी हमारी जान है आन बान और शान है
मातृत्व पर मारने वालों की यही तो पहचान है
हिंदी से है हिंदुस्तान यही अपना अभिमान है
सबकी सखी सबसे सरल जैसे सबका सम्मान है
यही तो है अपनी धरती पर प्रेम का दूज नाम है
बोली में ये अपनापन देती अखंडता इसका ईमान है
संविधान में पारित कॉलेज से विधालयों तक पूजित
जन जन का गौरव लेखको के बीच सर्वशक्तिमान है
आओ सब बढ़ाए इसका मान तभी होगी ये हर बोली में विद्यमान।

हिंदी भाषा पर निबन्ध और हिंदी का महत्व | Essay on Hindi Language

हिन्दी दिवस पर कविता

Hindi Diwas Kavita Poem

हिंदी थी वह जो लोगो के ह्रदयों में उमंग भरा करती थी,
हिंदी थी वह भाषा जो लोगो के दिलों मे बसा करती थी |

हिंदी को ना जाने क्या हुआ रहने लगी हैरान परेशान,
पूछा तो कहती है अब कहां है मेरा पहले सा सम्मान |

मैं तो थी लोगो की भाषा, मैं तो थी क्रांति की परिभाषा,
मैं थी विचार-संचार का साधन मैं थी लोगो की अभिलाषा |

मुझको देख अपनी दुर्दशा आज होती है बड़ी निराशा,
सुन यह दुर्दशा व्यथा हिंदी की ह्रदय में हुआ बड़ा आघात,
बात तो सच है वास्तव में हिंदी के साथ हुआ बड़ा पक्षपात |

हिंदी जो थी जन-जन की भाषा और क्रांति की परिभाषा,
वह हिंदी कहती है लौटा दो उसका सम्मान यही हैं उसकी अभिलाषा |

अपने ही देश में हिंदी दिवस को तुम बस एक दिन ना बनाओ,
मैं तो कहता हुं हिंदी दिवस का यह त्योहार तुम रोज मनाओ |

आओ मिलकर प्रण ले हम सब करेंगे हिंदी का सम्मान,
पूरी करेंगे हिंदी की अभिलाषा देंगे उसे दिलों में विशेष स्थान |

हिन्दी दिवस पर कविता

Hindi Diwas Kavita Poem

भाषण देते है हमारे नेता महान

क्यों बाद में समझते है अपना

हिन्दी बोलने में अपमान

क्यों समझते है सब अंग्रेजी बोलने में खुद को महान

भूल गये हम क्यों इसी अंग्रेजी ने

बनाया था हमें वर्षों पहले गुलाम

आज उन्हीं की भाषा को क्यों करते है

हम शत् शत् प्रणाम

अरे ओ खोये हुये भारतीय इंसान

अब तो जगाओ अपना सोया हुआ स्वाभिमान

उठे खडे हो करें मिलकर प्रयास हम

दिलाये अपनी मातृभाषा को हम

अन्तरार्ष्टृीय पहचान

ताकि कहे फिर से हम

हिन्दी-हिन्दु-हिन्दुस्तान,

कहते है, सब सीना तान||

हिन्दी दिवस पर अनमोल विचार सुविचार कोट्स Hindi Diwas Anmol Vichar Suvichar Quotes

हिन्दी दिवस पर कविता

Hindi Diwas Kavita Poem

हिंदुस्तानी हैं हम गर्व करो हिंदी भाषा पर,
उसे सम्मान दिलाना और देना कर्तव्य हैं हम पर।।
ख़त्म हुआ विदेशी शासन,
तोड़दो अब उन बेड़ियों को।।
खुले दिल से अपनाओ इस खुले आसमां को,
लेकिन ना छोड़ो धरती माँ के प्यार को।।
हिंदी हैं राष्ट्रभाषा हमारी,
इस पर करो जिन्दगी न्यौछावर सारी।।

हिन्दी दिवस पर निबन्ध | Speech Essay on Hindi Diwas

हिन्दी दिवस पर कविता

Hindi Diwas Kavita Poem

हिंदी हैं हम, वतन है हिन्दुस्तान हमारा,
कितना अच्छा व कितना प्यारा है ये नारा।
हिंदी में बात करें तो मूर्ख समझे जाते हैं।
अंग्रेजी में बात करें तो जैंटलमेल हो जाते।
अंग्रेजी का हम पर असर हो गया।
हिंदी का मुश्किल सफ़र हो गया।
देसी घी आजकल बटर हो गया,
चाकू भी आजकल कटर हो गया।
अब मैं आपसे इज़ाज़त चाहती हूँ,
हिंदी की सबसे हिफाज़त चाहती हूँ।।

हिन्दी दिवस पर कविता

Hindi Diwas Kavita Poem

हर बरस लगते हैं

राष्ट्रभाषा के नाम पर मेले,

वैसे हिंग्लिश में करते हैं टॉक

पूरे साल  गुरु और चेले,

एक दिन होता है हिन्दी के नाम

कहीं गुरु बैठे ऊंघते है,

कहीं चेले नाश्ते के लिये

इधर उधर सूंघते हैं,

खाते और कमाते सभी हिन्दी से

अंग्रेजी में गरियाते हैं,

पर्सनल्टी विकास के लिये

हिंग्लिश का मार्ग भी बताते हैं …. ”

हिन्दी दिवस पर कविता

Hindi Diwas Kavita Poem

राष्ट्रभाषा की व्यथा।
दु:खभरी इसकी गाथा।।

क्षेत्रीयता से ग्रस्त है।
राजनीति से त्रस्त है।।

हिन्दी का होता अपमान।
घटता है भारत का मान।।

हिन्दी दिवस पर्व है।
इस पर हमें गर्व है।।

सम्मानित हो राष्ट्रभाषा।
सबकी यही अभिलाषा।।

सदा मने हिन्दी दिवस।
शपथ लें मने पूरे बरस।।

स्वार्थ को छोड़ना होगा।
हिन्दी से नाता जोड़ना होगा।।

हिन्दी का करे कोई अपमान।
कड़ी सजा का हो प्रावधान।।

हम सबकी यह पुकार।
सजग हो हिन्दी के लिए सरकार।।

हिन्दी दिवस के 100 नारे स्लोगन Hindi Diwas Naare Slogan in Hindi

हिन्दी दिवस पर कविता

Kavita Poem on Hindi Diwas

संस्कृत की एक लाड़ली बेटी है ये हिन्दी,
बहनों को साथ लेकर चलती है ये हिन्दी |
सुंदर है, मनोरम है, मीठी है, सरल है,
ओजस्विनी है और अनूठी है ये हिन्दी |
पाथेय है, प्रवास में, परिचय का सूत्र है,
मैत्री को जोड़ने की सांकल है ये हिन्दी |
पढ़ने व पढ़ाने में सहज है, ये सुगम है,
साहित्य का असीम सागर है ये हिन्दी |
तुलसी, कबीर, मीरा ने इसमें ही लिखा है,
कवि सूर के सागर की गागर है ये हिन्दी |
वागेश्वरी का माथे पर वरदहस्त है,
निश्चय ही वंदनीय मां-सम है ये हिंदी |
अंग्रेजी से भी इसका कोई बैर नहीं है,
उसको भी अपनेपन से लुभाती है ये हिन्दी |
यूं तो देश में कई भाषाएं और हैं,
पर राष्ट्र के माथे की बिंदी है ये हिन्दी |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here