हिंदी में 5 सर्वश्रेष्ठ प्रेरक कहानियां Best motivational stories in Hindi


Top 5 Motivational Stories in Hindi

प्रेरणा देने वाली हिन्दी में सबसे बेस्ट प्रेरक हिन्दी कहानी

जीवन में अनेक उतार चढाव देखने को मिलते है कभी दुःख के बादल आते है तो कभी खुशियों की बरसात, अक्सर इन उतार चढाव में अक्सर इन्सान अपने लक्ष्य से भटक जाते है ऐसा सिर्फ मन में निराशा के भाव आने से होता है ऐसे समय में अगर लोग आपको आगे बढने की प्रेरणा देते है तो निश्चित ही वह इन्सान आगे भी निकल सकते है तो आज हम इसी पोस्ट के जरिये कुछ ऐसी ही हिंदी में सर्वश्रेष्ठ प्रेरक कहानियां | Best motivational stories in Hindi आपके बीच लेकर आये है जिन्हें पढकर आपके मन में उत्साह का संचार होगा और आप इन कहानी के माध्यम से प्रेरित भी होंगे

तो चलिए जानते है कुछ ऐसी ही हिंदी में सर्वश्रेष्ठ प्रेरक कहानियां | Best motivational stories in Hindi जिनसे हम सभी आगे बढने की प्रेरणा ले सके

हिंदी में सर्वश्रेष्ठ पांच प्रेरक कहानियां

Best 5 motivational stories in Hindi

motivational storiesतो चलिए इन पांच मोटीवेशनल हिन्दी कहानी | Hindi Kahani को जानते है

1:- Motivational stories in Hindi

मक्खन का एक वजन

एक बार एक किसान था जो नियमित रूप से दुकानदार को मक्खन बेचता था। एक दिन दुकानदार ने यह देखने के लिए किसान उसे मक्खन तो पूरा तो दे रहा है ना जितना वह पैसे देता है इसके लिए उसने मक्खन का वजन करने का फैसला किया कि लेकिन यह क्या मक्खन तौलने पर उसे मक्खन का वजन से कम ही पाया फिर मक्खन का वजन कम मिलने पर किसान को दुकानदार ने सजा दिलाने के लिए अदालत ले गया

फिर अदालत में न्यायाधीश ने किसान से पूछा कि आखिर वह मक्खन जितना पैसे पाता है उससे कम क्यों देता है क्या वह मक्खन का वजन सही तरीके से करता है की नही.

तो यह बात सुनकर किसान ने जवाब दिया “सरकार मै आपका सम्मान करता हु मै एक गरीब आदमी हु भला किसी तरह से मै मक्खन बनाता हु लेकिन मेरे पास इतने पैसे कहा है की नापने का बाट खरीद सकू, मेरे पास तो नापने के लिए इतने महगे बाट नही है फिर मुझे कैसे पता चलेगा की मै कम मक्खन दे रहा हु”

न्यायाधीश ने जवाब दिया, “फिर आप मक्खन का वजन कैसे करते हैं?”इस पर किसान ने जवाब दिया; “सरकार मैंने इस दुकानदार के यहाँ से रोटी बनाने के लिए 1 किलो गेहू ख़रीदे थे और और उतना ही उनको मक्खन भी देना था तो फिर मैंने उतना ही गेहू के बराबर मक्खन वजन करके इनको मक्खन देता हु तो भला मक्खन कैसे कम हो सकता है किसान की यह बात सुनकर न्यायधीश को यकीन हो गया की दुकानदार ने किसान को गेहू ही कम वजन करके दिया है तो फिर उस दिए गये गेहू का वजन कराया गया तो वाकई गेहू कम निकला

यह देखकर न्यायधीश ने दूकानदार के ऊपर लोगो के ठगने का मुकदमा चला दिया गया और किसान को उसकी ईमानदारी के लिए इनाम दिया दिया इस तरह धूर्त और ठग दुकानदार को अपने ही किये गये गलत कार्यो की सजा खुद से मिल गयी

कहानी से नैतिक शिक्षा

इस कहानी से यही शिक्षा मिलती है की आप जैसा दुसरो के साथ करते है ठीक वैसा ही आपके साथ होगा इसलिए किसी की मजबूरी का फायदा उठाकर कभी भी किसी को ठगना नही चाहिए इसलिए इस कहानी से हमे यही शिक्षा मिलती है की कभी दूसरों को धोखा देने की कोशिश नही करना चाहिए जो जैसा करेगा ठीक वैसा ही एकदिन भरना भी पड़ेगा

2:- Motivational stories in Hindi

हमारे पथ में बाधा

प्राचीन काल में एक राजा ने अपने लोगों की परीक्षा लेने के लिए एक सड़क के बीचोबीच बड़ा पत्थर रखवा दिया और यह पता लगाना चाहता है कितने लोग अपने बारे के अलावा लोगो के भलाई के बारे में भी सोचते है फिर ऐसा करने के बाद राजा भेष बदलकर पास की झाड़ियों में छुप गया और वहा से लोगो के गुजरने वालो पर निगाह रखने लगा इसके बाद उस रास्ते से पहले कुछ व्यापारी गुजरे फिर उस बड़े पत्थर को देखकर वे पत्थर के दूसरी तरफ से निकल गये

इस तरह उस रास्ते से कई लोग गुजरे लेकिन किसी ने उस बड़े पत्थर को रास्ते से हटाने का निर्णय नही लिया और दूसरी तरफ से निकल जाते थे और इस बीच तो कितनो ने उस राजा को भी कोसा की उनके राजा को अपने राज्य के बारे में चिंता ही नही है रास्ते में इतने बड़े पत्थर आ गये है और राजा कुछ करता ही नही ऐसा ही कहते हुए सब रास्ते से आगे बढ़ते चले जाते

फिर उसी रास्ते से एक किसान अपने बैलगाड़ी से सब्जियों को लेकर जा रहा था फिर उसने बीच सडक में इतना विशाल पत्थर देखकर रुक गया और सोचने लगा मै तो यहा से आसानी से निकल सकता हु लेकिन और कई लोगो को इस रास्ते से गुजरने पर दिक्कत हो सकती है और फिर उसने उस बड़े पत्थर को हटाने का निश्चय किया और फिर उसने बैलगाड़ी से पत्थर को धक्का देकर सड़क के एकदम किनारे पत्थर को लगा दिया

जिससे उस सड़क पर फिर से पूरी जगह मिल गया इसके बाद किसान ने देखा की जहा बड़ा पत्थर था उसके नीचे तो सोने की सिक्के पड़े है जिसे किसान ने उठाकर सोचने लगा की मै इसे लू या की नही लेना चाहिए इसी सोच में पड़ गया इतने में झाड़ियो से निकलकर राजा उस किसान के पास आया

और राजा किसान से बोला “यह सोने के सिक्के तो मैंने पत्थर के साथ रखवाए थे तुमने अपने हिम्मत से काम लेते हुए इतने विशाल पत्थर को हटा दिया सो अब सिक्के तुम्हारे है यानी मै यह देखना चाहता था की कितने लोग परिस्थितियो का सामना करना चाहते है और अपने राज्य की भलाई चाहते है इसलिए यह सोने के सिक्के तुम्हे एक अवसर बनकर प्राप्त हुआ है जो सबको मौका तो मिला लेकिन तुमने ही  इस अवसर का लाभ उठाया

कहानी से नैतिक शिक्षा

हर किसी के जीवन में बाधाये आती है लेकिन जो लोग इनको पार पार करते हैं उन्हें अपनी परिस्थितियों में सुधार करने का मौका देता है, लेकिन अक्सर यही बाधाये जीवन में नये अवसर भी लाती है और जबकि आलसी और खुद से कमजोर व्यक्ति सिर्फ दुसरो की शिकायत करने में ही अपना वक्त लगा देते है

3:- Motivational stories in Hindi

तितली का संघर्ष 

एक बार एक आदमी को एक तितली को देखा जो उसके अभी पैदा हुई थी और अपने कोकून से बाहर निकलने वाली थी फिर वह व्यक्ति तितलियों को घंटों तक देखा क्योंकि यह एक छोटे से छेद के माध्यम से खुद को बाहरी दुनिया में आने के लिए संघर्ष कर रहे थे फिर कुछ तितली अचानक अचानक प्रगति करना बंद कर दिया और ऐसा लग रहा था कि उनमे वह अटक गयी हो

इसलिए उस आदमी को ने तितलीयो की यह दशा देखी नही गयी और उनके मदद करने का फैसला किया फिर उसने कैंची ली और कोकून के शेष हिस्से को काट दिया तितली तब आसानी से बाहर तो निकल गयी लेकिन उनके शरीर में सूजन और शरीर छोटे, एकदम मुलायम पंख थे

उस आदमी ने इसके बारे में कुछ भी नहीं सोचा, और वह तितलियों का समर्थन करने के लिए पंखों को बड़ा करने की प्रतीक्षा कर रहा था हालांकि ऐसा कभी नहीं हुआ। तितली ने अपने बाकी जीवन को उड़ने में असमर्थ, छोटे पंखों और सूजन शरीर के साथ घूमते हुए बिताया

फिर उस मनुष्य के दयालु दिल के बावजूद उसे समझ में नहीं आया कि छोटे छेद के माध्यम से खुद को पाने के लिए तितली द्वारा किए गए कोकून और संघर्ष की आवश्यकता थी, वह तितली के शरीर से तरल पदार्थ को अपने पंखों में तरल पदार्थ लगाने के लिए एक बार उड़ने के लिए तैयार था लेकिन कोकून के कटने से वे ऐसा नही कर सकी जिसके कारण उन्हें अपाहिज रूप में अपना जीवन बिताना पड़ा

कहानी का नैतिक शिक्षा

हमारे जीवन में हमारे संघर्ष हमारी ताकत विकसित करने में मदद करते हैं और संघर्ष के बिना कभी भी बढ़ते और मजबूत नहीं होते हैं इसलिए हमारे लिए चुनौतियों का सामना करना हमारे लिए महत्वपूर्ण है, और हर समय दूसरों से मदद पर निर्भर नहीं होना चाहिए

4:- Motivational stories in Hindi

अंधी लड़की

एक बार की बात है एक अंधी लड़की थी जिसे अंधी होने के कारण खुद से नफरत हो गयी थी अक्सर उसे इसी बात का दुःख रहता था की वह इस दुनिया को देख नही सकती है जिसके कारण उसका प्रेमी उसके दुःख से दुखी हो जाता था और फिर उस प्रेमी ने निश्चय किया की वह अपनी आँखे अपनी उस अंधी प्रेमिका को दे देंगा और फिर उसकी आँखे सही हो जाने पर उससे शादी कर लेंगा

और फिर एक दिन उस लडके ने अपनी आँखे उस लड़की को दान कर दिया इसके बाद उस लड़की की आँखे सही हो गयी अब वह इस दुनिया को देख सकती है लेकिन वह प्रेमी लड़का अब अँधा हो चुका था फिर इसके बाद उस लड़के ने शादी का प्रस्ताव रखा तो लड़की ने साफ़ मना कर दिया की वह अँधा है भला वह अंधे से शादी करके अपनी बची हुई जिन्दगी क्यू खराब करना चाहेगी

यह बात सुनकर उस लड़के की आँखे भर आई अब वह समझ चुका था की हर किसी की सोच एक जैसी नही हो सकती है जैसे ही परिस्थति बदली वह लड़की भी बदल गयी अब उस प्रेमी के हाथ में कुछ न रहा.

कहानी से नैतिक शिक्षा

अक्सर दुःख के समय तो लोग दुसरो के प्रति संवेदनशील होते है लेकिन जैसे ही उनकी परिस्थितियां बदलती हैं तो बदलते समय के साथ साथ उनका दिमाग भी बदल जाता है इसलिए भले ही हमारी सोच अच्छी हो सकती है लेकिन हर कोई हर परिस्थिति में आपके अनुसार हो ऐसा कदापि सम्भव नही है

5:- Motivational stories in Hindi

अच्छे दोस्त की निशानी 

दो दोस्त रेगिस्तान के रास्ते कही जा रहे थे और अपनी यात्रा में एक चरण में वाद- विवाद के चलते एक दोस्त ने चेहरे पर दूसरे को थप्पड़ मार दियाजिसने थप्पड़ मार दी थी उसे चोट लगी थी, लेकिन उसने कुछ भी बताने के बिना रेत में लिखा था, “आज मेरे सबसे अच्छे दोस्त ने मुझे चेहरे पर थप्पड़ मार दिया।”

फिर आगे बढ़ते हुए उन्हें एक नदी मिली जिसे तैरकर पार जाना था लेकिन अबकी बार वह नदी में डूबने लगा तो जिस दोस्त ने थप्पड़ मारा था उसी ने उसे डूबने से बचा लिया उस दोस्त ने एक पत्थर पर लिखा, “आज मेरे सबसे अच्छे दोस्त ने मेरी जान बचाई।”

जिस मित्र ने अपने सबसे अच्छे दोस्त को थप्पड़ मार दिया और बचाया, उससे पूछा, “मैंने तुम्हें चोट पहुचाया तो तो तुमने उस बात को रेत पर लिखे और पानी में डूबने से बचाने की बात को पत्थर पर क्यों लिखे यह बात कुछ समझ में नही आया

तो दूसरे दोस्त ने जवाब दिया, “जब कोई हमें दर्द देता है तो हमें उसे रेत में लिखना चाहिए जहां क्षमा की हवाएं इसे मिटा सकती हैं। लेकिन, जब कोई हमारे लिए कुछ अच्छा करता है, तो हमें इसे पत्थर में उतारना चाहिए जहां कोई भी हवा इसे मिटा नहीं सकती है। “

कहानी से नैतिक शिक्षा

इस कहानी से हमे यही शिक्षा मिलती है की हमे अपने जीवन में उन्ही चीजो को महत्व देना चाहिए जिसकी वजह से हमारा जीवन है बाकी की चीजो पर ध्यान न देना ही बेहतर है

तो आप सबको यह 5 हिन्दी Motivational Stories in Hindi कैसा लगा कमेंट में जरुर बताये और इन कहानियो को भी ज्यादा से ज्यादा शेयर करे

इन कहानी को भी जरुर पढ़े


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *