AchhiAdvice.Com

The Best Blogging Website for Technology, Finance, Make Money, Jobs, Sarkari Naukri, General Knowledge, Career Tips, Festival & Motivational Ideas To Change Yourself

Hindi Stories Hindi Story Moral Story Motivational Hindi Stories हिन्दी कहानी

संघर्ष, सफलता और नए अवसरों का सफर अवसर की पहचान एक कहानी

Avasar ki Pahchan Ek Motivational Kahani

अवसर की पहचान एक कहानी

जीवन में आगे बढने के लिए ईश्वर सबको समान अवसर देते है कुछ लोग इन अवसरों का महत्व समझते हुए इन अवसरों का लाभ उठाते है और यही लोग सफल होते है और लोग ऐसे भी होते है वे ईश्वर के भरोसे पर रहते है की और ईश्वर से अपेक्षा रखते है उन्हें सबकुछ देंगे लेकिन वे लोग भूल जाते है और फिर हमेसा बस इंतजार करते रह जाते है.

तो चलिए इसी सोच पर एक छोटी सी अवसर की पहचान Motivational Short Kahani कहानी बताते है जिनसे हमे बड़ी सीख मिलती है.

अवसर का लाभ एक मोटिवेशनल कहानी

Avasar ki Pahchan Ek Motivational Kahani

Opportunity Motivational Kahani

एक बार की बात है एक नदी के पास ही गाँव था जहा पर सभी लोग सुखपूर्वक जीवन व्यतीत कर रहे थे और फिर एक बार बारिश के दिनों में भयंकर बरसात हुई जिसकी वजह से नदी का पानी अचानक से बढ़ने लगा गाँव में भयंकर बाढ़ आ गया जिसकी वजह से सभी लोग अपना जान बचाने के लिए गाँव छोडकर दूर जाने लगे लेकिन गाँव का एक व्यक्ति जिसे ईश्वर पर विश्वास था की उसे कुछ नही होंगा फिर वह अपना जान बचाने के लिए गाँव के मंदिर में चला गया.

बिना विचारे जो करे सो पाछे पछताय

लेकिन भयंकर बारिश और नदी के बाढ़ के चलते पानी बढ़ता ही जा रहा था जिससे कुछ लोग गाँववालो की जान बचाने की तलाश में मंदिर में आये और उस उस व्यक्ति से साथ चलने को कहा, लेकिन उस व्यक्ति ने साथ जाने से इंकार कर दिया आर कहा की वह ईश्वर की शरण में है उसे कुछ नही होगा.

लेकिन इसके बाद बाढ़ का पानी और भी बढ़ता ही जा रहा था तो कुछ लोग नाव के सहारे उस व्यक्ति के पास आये और अपना जान बचाने के लिए साथ चलने को कहा लेकिन इस बार भी वह व्यक्ति साथ जाने से मना कर दिया और कहा की वह औरो की तरह नही है ईश्वर उसे खुद बचाने आ जायेगे.

बूढ़े माता पिता का सम्मान दिल को छूने वाली कहानी

लेकिन जैसे जैसे बाढ़ का पानी बढ़ता जा रहा था उस व्यक्ति को लगने लगा की वह अब सुरक्षित नही रह पायेगा फिर वह अपना जान बचाने के लिए मन्दिर के के ऊपर गुम्बद वाले हिस्से पर चला गया लेकिन फिर भी पानी बढ़ता ही जा रहा था तो फिर कुछ लोग हेलीकॉप्टर से बाढ़ में फसे लोगो की मदद करने आये,

और हेलिकॉप्टर के जरिये निचे रस्सी लटका दिए और उस व्यक्ति से बोले की अपना जान बचाने के लिए रस्सी को पकड़ कर ऊपर आ जाओ अपनी जान बचा लो लेकिन वह व्यक्ति फिर वही बात दोहराया की वह और लोगो की मदद करे, उसे अपने ईश्वर पर अटूट विश्वास है उसे कुछ नही हो सकता बार बार कहने के बावजूद वह व्यक्ति उस हेलिकॉप्टर में नही गया जिसके बाद फिर हेलिकॉप्टर वाले लोग अन्य व्यक्ति की तलाश में चले गये.

मुसीबत का सामना कैसे करे एक प्रेरक हिन्दी कहानी

समय बीतता गया और पानी बढ़ता ही जा रहा था जिसपर उस व्यक्ति को लगने लगा की अब उसकी जान बच नही सकता फिर अपने स्थिति पर रोते हुए ईश्वर से प्रार्थना करने लगा की “हे ईश्वर, मैंने सारी जीवन आपकी पूजा पाठ में बिताया, पूरी जीवनभर सत्य की राह पर चला फिर भी आप हमे नही बचाने आये, जिसके बाद उसके अंतर्मन से ईश्वर की आवाज सुनाई दिया “ऐ इन्सान मैंने तो तुम्हारी जान बचाने के लिए अलग अलग रूपों में 3 बार आया, लेकिन तुमने उन तीनो अवसरों को युही गँवा दिया, अब तुम्हे इन अवसरों की पहचान नही है तो तुम्हारा कुछ नही हो सकता, इसमें ईश्वर की कोई गलती नही है”

यह बात सुनकर उस व्यक्ति को बहुत ही पछतावा हुआ वह ईश्वर के भरोसे मदद की आस में बैठा रहा और ईश्वर ने उसे हर संभव बचाने का अवसर भी दिया फिर भी वह इन अवसरों को पहचान नही पाया जिसके बाद उसे अपनी गलती का अहसास हो चुका था और वह मन ही मन पछता रहा था फिर कुछ समय बाद हेलिकॉप्टर वाले बचाव दल फिर से वहा आये और इसबार वह व्यक्ति उनके साथ तुंरत चल दिया और इस प्रकार उसने जान भी बचा लिया.

शेख चिल्ली की कहानी

कहानी से शिक्षा

हम सभी के जीवन में ठीक ऐसे ही ण जाने कितने अवसर आते है जिसके जरिये हम सभी अपने जीवन में आगे बढ़ सकते है लेकिन अपनी अज्ञानतावश बस सही समय का इन्तजार करते रह जाते है और हमे अच्छा मौका नही मिला ऐसा ही जीवन भर सिर्फ शिकायते करते रह जाते है.

सच्ची दोस्ती की पौराणिक कहानिया

लेकिन यदि हमे अपना जीवन सफल बनाना है तो जीवन में आये हर मौके का फायदा उठाना चाहिए और सफलता के मार्ग पर आगे बढ़ते रहना चाहिए.

जैसा की एक बार चन्द्रगुप्त ने एक बार चाणक्य से पूछा – “जब हमारे भाग्य पहले से लिखे जा चुके हो तो कोशिश करने से क्या लाभ, जिसपर चाणक्य ने जवाब दिया “क्या पता भाग्य में लिखा हो की कोशिश करने से ही मिलेगा” अर्थात हमे कभी भी भाग्य के भरोसे पर नही बैठना चाहिए जो भी ईश्वर हमे अवसर दिए है उन अवसरों को पहचानते हुए हमेसा आगे बढ़ते रहना चाहिए और जीवन में जो भी मौका आये उसे बेहतर तरीके करने की कोशिश करना चाहिये.

तो आप सबको यह अवसर की पहचान मोटिवेशनल Hindi कहानी कैसा लगा कमेंट में जरुर बताईये और इसे दुसरो को भी शेयर करे.

इन्हें भी पढ़े :- 

शेयर करे

Follow AchhiAdvice at WhatsApp Join Now
Follow AchhiAdvice at Telegram Join Now

LEAVE A RESPONSE

Your email address will not be published. Required fields are marked *