AchhiAdvice.Com

The Best Blogging Website for Help, General Knowledge, Thoughts, Inpsire Thinking, Important Information & Motivational Ideas To Change Yourself

Hindi Stories Hindi Story Moral Story Motivational Hindi Stories हिन्दी कहानी

मिसाईल मैन डॉ. अब्दुल कलाम की सफलता की कहानी

Apj Abdul Kalam Ki Kahani

अब्दुल कलाम की सफलता की कहानी

अब्दुल कलाम | APJ Abdul Kalam हमारे देश के एक ऐसे महान व्यक्ति थे जिनकी महान उपलब्धियों और विज्ञान के क्षेत्र में असीम योगदान के कारण ही अब्दुल कलाम | APJ Abdul Kalam को “मिसाईल मैन” “Missile Man” भी कहा जाता है 2020 तक विकसित भारत का सपना देखने वाले अब्दुल कलाम | APJ Abdul Kalam का व्यक्तित्व धर्म, जाति से ऊपर था जिसके कारण अब्दुल कलाम हर धर्म हर जाति के लोगो के बीच खासे लोकप्रिय थे उनके इसी महान व्यक्तित्व के कारण अब्दुल कलाम आज हम सभी भारतीयों के लिए जीवन का एक आदर्श है जो हम सभी को अब्दुल कलाम के जीवन से प्रेरणा लेकर उनके द्वारा दिखाये गये रास्तो से हमे हमेसा आगे बढने की प्रेरणा देते है.

तो आईये आज हम सभी अब्दुल कलाम के जीवन की ऐसी ही कहानिया Apj Abdul Kalam Ki Kahani को जानते है जो हम सभी को एक सीख मिलती है जिनसे हम सभी प्रेरणा ले सकते है.

अब्दुल कलाम की पहली अद्भुत और प्रेरक कहानी

APJ Abdul Kalam Life Interesting 1 Story Kahani in Hindi

APJ Abdul Kalam Story Kahani

1 कहानी :- मानवता के प्रति प्रेम

हमे सभी जीवो चाहे वह इन्सान हो या पशु- पक्षी, सबके प्रति दया का भाव रखना चाहिए इसी की मिशाल पेश करते हुए जब अब्दुल कलाम के जीवन की यह घटना दिखाती है की किस प्रकार अब्दुल कलाम जीवो के प्रति भी अत्यधिक दयालु थे.

बात उन दिनों की है जब अब्दुल कलाम DRDO में कार्यरत थे तब वहा की बिल्डिंग की सुरक्षा के लिए टूटे कांच के टुकड़े लगाने का सुझाव दिया गया जिस बात की खबर अब्दुल कलाम को भी पता चला तब खुद वहा जाकर अब्दुल कलाम ने ऐसा करने से रोक दिया और वहा के उपस्थित लोगो से कहा की ऐसा करने से जो पक्षी दिवार पर बैठते है वे शीशे के टुकड़े से घायल हो सकते है और इस प्रकार अब्दुल कलाम ने पक्षियों के जीवन के रक्षा के लिए शीशे के टुकड़े नही लगाने दिए इस घटना से पता चलता है की अब्दुल कलाम मानवता के प्रति कितने दयालु थे.

अब्दुल कलाम की दूसरी अद्भुत और प्रेरक कहानी

Abdul Kalam Ki Kahani

2 कहानी :- जीवन में कभी भी हार न मानना

वो कहा जाता है न की मन के हारे हार है मन के जीते जीत, अब्दुल कलाम बचपन से पायलट बनना चाहते थे और जिसके लिए उन्होंने देहरादून एयरफोर्स अकादमी में फॉर्म भी भर दिया लेकिन परीक्षा में कम अंक आने से उनका चयन नही हुआ तो इस पर भी अब्दुल कलाम हारे नही और खुद को जीवन में आगे बढ़ाते हुए विज्ञान की दिशा में बढ गये और फिर पूरी दुनिया में एक वैज्ञानिक के रूप में मिसाइल मैन के नाम से प्रसिद्ध हुए,

भगवान परशुराम की जीवनी इतिहास और उनसे जुडी कथाये

अब्दुल कलाम के जीवन के इस घटना से पता चलता है की क्या हुआ जब हम एक जगह फेल हो रहे है तो हमे उसकी चिंता छोड़कर दूसरी जगह लग जाना चाहिए कही तो सफलता मिलेगी ही न, इसलिए हमे अपने जीवन में कभी भी हार नही मानना चाहिए.

एपीजे अब्दुल कलाम के प्रेरित करने वाले 51 महान विचार

अब्दुल कलाम की तीसरी अद्भुत और प्रेरक कहानी

Apj Abdul Kalam Short Story In Hindi

3 कहानी :- संघर्ष से ही आगे बढ़ते है लोग

अब्दुल कलाम बेहद गरीब मछुवारे परिवार से तालुक्क रखते थे और अपने परिवार की आजीविका चलाने और अपनी पढाई करने के लिए पिताजी का साथ देते हुए बचपन में सडको के किनारे सुबह सुबह अखबार बेचा करते थे भले ही इनके पिताजी ज्यादा पढ़े लिखे नही थे लेकिन कलाम को हमेसा यही शिक्षा देते थे की यदि जीवन में आगे बढना है तो संघर्ष का साथ कभी नही छोड़ना, जितना अधिक संघर्ष करोगे उतना अधिक सफलता भी मिलेगी और इसी संघर्ष के बल पर एक गरीब मछुवारे से देश के राष्ट्रपति के रूप में अपना जीवन सफर किया जो की संघर्ष द्वारा मिली सफलता की एक मिशाल है..

अब्दुल कलाम की चौथी अद्भुत और प्रेरक कहानी

Apj Abdul Kalam Ki Kahani In Hindi

4 कहानी :- एक समान आदर की भावना

अब्दुल कलाम अपने जीवन में खुद को कभी बड़ा व्यक्ति नही मानते थे वे अपने को सबके बराबर एक समान समझते थे जब उन्हें वाराणसी में आईटीआई के दीक्षांत समारोह में बुलाया गया तो उन्होंने देखा की स्टेज में 5 कुर्सिया लगी हुई है जिनमे बीच वाली कुर्सी बड़ी और उन सबसे ऊची भी थी जिसपर उन्हें बैठने को कहा गया तो कलाम सर ने उसपर बैठने से मना कर दिया और कहा की मै भी आप लोगो के बराबर का ही व्यक्ति हु अगर सम्मान करना है तो इसपर कुलपति जी बैठाईए जिसके बाद अब्दुल कलाम सबके समान वाली कुर्सी पर ही बैठे.

इस तरह अब्दुल कलाम अपने को सबके बराबर ही मानते थे यही नही अपनी इसी समानता के भाव के चलते अब्दुल कलाम कुरान और गीता दोनों का अध्धयन करते थे यानी उनके लिए कोई भी ग्रन्थ छोटा या बड़ा नही था बस ज्ञान जहा से मिले ले लेना चाहिए यही उनकी सोच थी।

अब्दुल कलाम की पाचवी अद्भुत और प्रेरक कहानी

Apj Abdul Kalam Struggle Story In Hindi

5 कहानी :- दान की भावना

जब अब्दुल कलाम का चयन राष्ट्रपति के रूप में हो गया तो कलाम सर ने तुरंत एक चैरिटी को फोन किया और अपनी जीवन भर की जमापूंजी दान कर दी और कहा की आज से मेरा ख्याल तो अब भारत सरकार कर रही है इसलिए जो अब सैलरी भी मिलेगा उसे भी हम दान करते है अब्दुल कलाम खुद कहते थे की “सबसे उत्तम कार्य क्या है ? किसी भूखे को भोजन कराना, जरुरतमन्द की बेहिचक मदद करना, इन्सान के रूप दुसरो के लिए काम आना और किसी दुखी व्यक्ति की सेवा करना ही सबसे उत्तम उअर पूण्य देने वाला कार्य होता है”.

इस तरह अब्दुल कलाम का जीवन सादगी से भरा पड़ा था जो की सभी के लिए जीवन में आगे बढने एक प्रेरणास्रोत्र है.

एपीजे अब्दुल कलाम की जीवनी

तो आप सबको पोस्ट एपीजे अब्दुल कलाम की कहानी हिंदी में | Inspirational Story Of Apj Abdul Kalam In Hindi कैसा लगा प्लीज कमेंट बॉक्स में जरुर बताये और हमारे Facebook Page AchhiAdvice को लाइक जरुर करे.

इन्हें भी पढ़े :- 

शेयर करे

1 COMMENTS

LEAVE A RESPONSE

Your email address will not be published. Required fields are marked *