आंगनबाड़ी कार्यकर्ता कैसे बनें

जैसा की हम सभी जानते है की भारत गांवो मे बसता है, तो ऐसे मे गाँव के बच्चो के स्वास्थ्य के लिए आगनवाड़ी की स्थापना किया गया है, आंगनबाड़ी के जरिये अनेक बाल विकास के अनेक कार्यक्रम चलाये जाते है, जिनका मुख्य उदेश्य गाँव के बच्चो का विकास करना होता है, तो ऐसे मे आप भी आंगनबाड़ी मे Anganwadi Worker के रूप मे अपना कैरियर बनाना चाहते है, तो इस पोस्ट के जरिये आंगनबाड़ी कार्यकर्ता कैसे बनें, How to Become Anganwadi Worker  in Hindi के बारे मे बताने जा रहे है,

इस पोस्ट के मुख्य टॉपिक छिपाए

साथ मे Anganwadi Worker के बारे मे जुड़ी बाते जैसे आंगनवाड़ी क्या होता है, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता बनने के लिए आंगनबाड़ी कार्यकर्ता की योग्यता – Skills, आंगनवाड़ी वेतन – Anganwadi Worker Salary , आंगनवाड़ी सुपरवाइजर का क्या काम होता है, आंगनबाड़ी में सहायिका का क्या काम होता है, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता भर्ती नियम, आंगनवाड़ी नियम, आंगनवाड़ी की जानकारी के बारे मे जानेगे।

आंगनबाड़ी क्या है (What is Anganwadi In Hindi)

Anganwadi Worker Kaise Baneयदि आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के रूप मे अपना कैरियर बनाना चाहते है, तो इससे पहले ये आंगनबाड़ी क्या है (What is Anganwadi In Hindi) जान लेना जानना जरूरी होता है,

आंगनबाड़ी का अर्थ है – आंगन आश्रय यानि आंगनबाड़ी के अंतर्गत बच्चो के बाल विकास कार्यक्रम आयोजित किए जाते है, भारत मे आंगनबाड़ी की शुरुआत भारत सरकार द्वारा सर्वप्रथम 1985 मे किया गया। इस योजना के शुरुआत का मुख्य उद्देश्य बच्चो मे बढ़ते कुपोषण और साथ मे बच्चो के माताओ के स्वास्थ्य को उत्तम बनाना होता है, तथा गरीब बच्चो को भोजन उपलब्ध कराना होता है,

आंगनवाड़ी कार्यक्रम Indian Public Health Care System का एक अंग है, आंगनवाड़ी में बच्चो के शारीरिक विकास के अलावा उन्हें उठना बैठना सिखाया जाता है, और प्रारंभिक शिक्षा भी दी जाती है, आंगनवाड़ी में बच्चों को खेलना कूदना अक्षरों का ज्ञान तथा खाना पीना सब अच्छी तरह सिखाया जाता है, आंगनवाड़ी में जो देखभाल करती है जो आंगनवाड़ी में काम करते है उन्हे Anganwadi Teacher या फिर आंगनवाड़ी कार्यकर्ता कहते है, और जो पुरुष कार्य करते है, उन्हे आंगनवाड़ी सुपरवाइजर कहा जाता है, इसके अतिरिक्त आंगनवाड़ी कार्यकर्ता की मदद करने के लिए एक आंगनवाड़ी सहायक महिला भी होती है, जिसे या फिर आंगनवाड़ी सहायिका कहते है,

भारत सरकार की तरफ से हर एक गाँव के लिए एक आंगनवाड़ी के लिए बजट पास किया जाता है, जिस किसी गांव में भी 400 से 800 लोगों की जनसंख्या होती है वहां पर एक आंगनवाड़ी केंद्र बनाया जाता है, उस आंगनवाड़ी केंद्र में 3 साल से लेकर 6 साल की उम्र तक के बच्चों की प्रारंभिक शिक्षा, स्वास्थ्य तथा पोषण की ज़िम्मेदारी होती है, बच्चों के साथ-साथ ग्रामीण गर्भवती महिलाओं के रेगुलर चैकअप की जिम्मेदारी भी आंगनवाड़ी की होती है, गांव में गर्भवती महिला की पूरी जिम्मेदारी आंगनवाड़ी की होती है, ज्यादातर आंगनवाड़ी को हमेशा गांव के बीचो-बीच बनाया जाता है, ताकि गांव के बच्चे वहां आसानी से पहुच सके, और समय व्यतित कर सके और शिक्षा के साथ खेलकुद मे भी भाग ले सके।

आंगनबाडी कार्यकर्ता कौन होती है? (What is Anganwadi Worker In Hindi)

अब जानते हैं कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ता कौन होते हैं। जो आंगनबाड़ी केंद्र का संचालन करें, आंगनवाड़ी में जो देखभाल करती है जो आंगनवाड़ी में काम करते है उन्हे Anganwadi Teacher या फिर आंगनवाड़ी कार्यकर्ता कहते है, आंगनबाड़ी केंद्र में कार्यकर्ता के साथ सहायिका भी होती है। जो कार्यकर्ता की मदद करती है।

आंगनबाड़ी को भारतीय सार्वजनिक स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली में रखा गया है इसमें जो भी Worker होते है वह गाँव में जागरूपता फ़ैलाने का कार्य करते है. और साथ ही साथ उनकी देख भाल भी करते है जिसको आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के नाम से जाना जाता है. गाँवों में अक्सर आंगनबाड़ी सहायिका होती है जो की आंगनबाड़ी कार्यकता की मदद करती है.

आंगनवाड़ी कार्यकर्ता का काम (Anganwadi Worker Work in Hindi)

आंगनबाड़ी केंद्र के अंतर्गत कार्य करने वाले आंगनबाड़ी के कार्यकर्ता का काम होता है की वे अपने केंन्द्र के अंतर्गत जो गाँव आते हो, वे उन गांवो के बच्चो जिनकी उम्र 3-6 साल के बीच हो, उन्हे पोषण, स्वस्थ, उचित शिक्षा आदि देने का कार्य होता है तथा साथ ही ग्रामीण गर्भवती महिलायों के स्वास्थ्य की देखभाल करे और उनकी नियमित जांच करे, जो की यह सारे कार्य Anganwadi Worker द्वारा किया जाता है.

आंगनबाड़ी केंद्र में उपलब्ध कराई जाने वाली सेवाएं

आंगनवाड़ी में Anganwadi Worker द्वारा निम्नलिखित सेवाएं बच्चों तथा उनकी माताओं को उपलब्ध कराई जाती है:

  • नवजात बच्चों की माताओं तथा उनकी देखभाल करने वाली औरतों को पोषक आहार देना।
  • किसी कुपोषित बच्चे को उचित स्वास्थ्य प्रदान करना तथा उन्हें केंद्र अस्पताल भेजना।
  • 6 वर्ष तक के बच्चों को अच्छे स्वास्थ्य के लिए स्वस्थ वातावरण प्रदान करना।
  • बच्चों के खान-पान तथा पानी पीने का ध्यान भी आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को रखना पड़ता है।
  • बच्चों का मल मूत्र भी आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को ही साफ करना पड़ता है।
  • सरकार द्वारा जो भी बच्चों तथा माताओं के लिए जो भी सामान आता है उसे घर-घर तक पहुंचाना भी आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं का भी काम होता है।
  • 6 वर्ष से कम आयु के बच्चों के लिए टीकाकरण कराना और उन्हे पोषक आहार उपलब्ध कराना होता है।
  • गर्भवती महिलाओं की देखभाल और उनके प्रसव के समय तक टीकाकरण उपलब्ध कराना।
  • 15 से 45 वर्ष के बीच की महिलाओं को स्वास्थ्य शिक्षा का ज्ञान देना।
  • बच्चों तथा गर्भवती महिलाओं को समय-समय पर टीकाकरण की जानकारी देना भी आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं की जिम्मेवारी होती है।
  • 6 वर्ष तक के बच्चों के लिए अनौपचारिक पढ़ाई की सुविधा देना।
  • नवजात तथा 6 वर्ष तक के बच्चों की देखभाल करना।

अब तक आपने आंगनवाड़ी क्या है, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता कौन होते है, उनके कार्य क्या होते है, और उनके द्वारा क्या क्या सुविधाए दी जाती है, इन सभी के बारे मे जान लिया, तो चलिये अब जानते है Anganwadi Worker Kaise Bane.

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता कैसे बने (How to Become Anganwadi Worker in Hindi)

पहले जहा आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को ग्रामीण स्तर पर ग्राम प्रधान या सरपंचों द्वारा चुना जाता था। परंतु अब राज्य सरकारों ने आंगनवाड़ी कार्यकर्ता बनने के लिए नियमों में बदलाव कर दिया है। अब आंगनवाड़ी कार्यकर्ता बनने के लिए नीचे दिये प्रक्रियाओ से गुजरना पड़ता है, तभी एक आंगनबाड़ी कार्यकर्ता (Anganwadi Worker) बन सकते है।

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता बनने के लिए योग्यता (Eligibility for Anganwadi Worker in Hindi)

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता बनने के लिए निम्नलिखित योग्यता होनी चाहिए –

  • आंगनबाड़ी केंद्र के लिए केवल विवाहित महिलायें  ही आवेदन कर सकती है |
  • आंगनबाड़ी कार्यकर्ता बनने के लिए जो भी महिलाए आवेदन करती है, वे उसी राज्य की स्थानीय निवासी होना चाहिये।
  • आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के लिए महिला की न्यूनतम उम्र 21 साल और अधिकतम उम्र 45 साल होनी चाहिए।
  • और जो महिलाए अनुसूचित जाति एवं जनजाति (SC/ST) से आती है, उन महिलाओं को 5 साल की छूट दी जाती है।
  • अन्य पिछड़ा वर्ग (OBC) की महिलाओं को 3 साल की छूट दी जाती है।
  • आवेदक महिला विवाहित होनी चाहिए।

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता बनने के लिए शैक्षिक योग्यता (Education Qualification for Anganwadi Worker in Hindi)

जो महिला आंगनबाड़ी कार्यकर्ता बनने के लिए आवेदन करती है,  उस महिला को दसवीं पास होना जरूरी है। वहीं जो महिला आंगनबाड़ी सहायिका के लिए आवेदन करती है,  उसका 8वीं पास होना जरूरी है। इसमें ज्यादा पढ़ी-लिखी महिलाएं भी कार्यकर्ता के लिए अप्लाई कर सकती हैं।

  • आंगनबाड़ी कार्यकर्ता बनने के लिए कार्यकुशलता (Skills for Anganwadi Worker in Hindi)
  • आंगनबाड़ी कार्यकर्ता बनने के लिए आपको नवजात बच्चे की देखभाल करना आना चाहिए।
  • आंगनवाड़ी कार्यकर्ता बनने के लिए आपको बच्चों की देखरेख करना आना चाहिए।
  • आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को पौष्टिक आहार और टीका करण के बारे में भी जानकारी होनी चाहिए।
  • 6 वर्ष से कम आयु के बच्चों को पढ़ाने के लिए आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को पढ़ाई लिखाई भी आनी चाहिए।
  • सरकार द्वारा भेजे गए सामान बांटने के लिए आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को घर-घर जाना पड़ता है। इसलिए Communication Skills अच्छी होनी चाहिए।

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता की चयन प्रक्रिया (Selection Process for Anganwadi Worker in Hindi)

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता की भर्ती मेरिट के आधार पर की जाती है| और आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के चयन प्रक्रिया में पर्सनल इंटरव्यू भी होता है। इसलिए जो महिलाए आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के लिए अप्लाई करती है, उन्हे को साक्षात्कार (Anganwadi Worker Interview) में 25 अंक प्राप्त करने आवश्यक होते है, जिसके लिए 25 अंक तय किए गए हैं। इन 25 अंकों को अलग अलग योग्यताओं के आधार पर दिया जाता है। जो की इस प्रकार है –

  • आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के लिए भर्ती होने वाली महिलाओं को निर्धारित की गई योग्यता के मुताबिक़,  कुल 7 अंक,  ग्रेजुएशन की डिग्री के लिए कुल 2 अंक,  पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री के लिए 1 अंक  प्राप्त करने अनिवार्य है |
  • 40 फीसदी या इससे अधिक विकलांगता वाली अभ्यर्थी के लिए 2 अंक निर्धारित किये गए है|
  • एससी / एसटी / ओबीसी से संबंधित अभ्यर्थी के लिए – 2 अंक निर्धारित किये गए है |
  • पर्सनल इंटरव्यू में – 3 अंक प्राप्त करने अनिवार्य है |
  • अगर अभ्यर्थी के परिवार में दो बेटी  होने पर – 2 अंक ही निर्धारित किये गए है |
  • पति से सात साल से अलग रह रहने वाली महिला या अनाथ आश्रम में  रहने वाली महिला या फिर तलाकशुदा महिला के लिए – 3 अंक
  • नर्सरी टीचर या बाल सेविका का पद प्राप्त करने के लिए महिलाओं को 10 माह या इससे अधिक का अनुभव होना आवश्यक है, जिसके लिए  3 अंक निर्धारित किये गए है |

इस तरह अंकों का कुल योग करने के बाद महिला अभ्यर्थी की मेरिट तैयार की जाती है, जिसके बाद  उसकी  भर्ती कर ली जाती है | लेकिन यदि दो महिला आवेदकों के नंबर समान होते हैं तो ऐसी स्थिति मे उस महिला को प्राथमिकता दी जाती है जिसकी उम्र ज्यादा हो। उसकी अधिकतम उम्र के आधार पर आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के लिए चुन ली जाती है।

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता का वेतन (Anganwadi Worker Salary)

लगभग भारत के प्रत्येक राज्य की आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को एक जैसी Salary ही दी जाती है। जिनका वेतनमान 8000 से लेकर 10000 तक हो सकती है, इसके अतिरिक्त जो आंगनवाड़ी में सहायिका महिला होती है उसकी तनख्वाह 4000 से लेकर 6000 तक हो सकती है, परंतु नए वेतन आयोग लागू हो जाने पर इनके तनख्वाह में कुछ वृद्धि भी हो सकती है.

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के लिए अप्लाई कैसे करे (How To Apply For Anganwadi Worker Vacancy)

Anganwadi Worker बनने के लिए बहुत ही सीधा सा प्रक्रिया है यदि कोई महिला आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के लिए आवेदन देना चाहती है, तो उसको अपने नजदीकी किसी भी आंगनवाड़ी में जाना होता है, और वह वहां पर जाकर फॉर्म भर सकती है, उसके बाद जैसे ही उस आंगनवाड़ी केंद्र मे आंगनवाड़ी कार्यकर्ता की आवश्यकता होगी तो इंटरव्यू के लिए कॉल आ जाएगी फिर आपको इंटरव्यू पास करना है, उसके पश्चात आप आंगनवाड़ी कार्यकर्ता बन जाते हैं.

इसके अतिरिक्त दूसरा प्रक्रिया यह है, कि आप आंगनवाड़ी कार्यकर्ता बनने के लिए ऑनलाइन आवेदन (Anganwadi Worker Online Vacancy) भी दे सकते हैं, जिसकी संपूर्ण जानकारी आपको किसी भी कंप्यूटर सेंटर के द्वारा मिल जाएगी आप वहां से ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं, उसके कुछ समय पश्चात ही आपको इंटरव्यू के लिए बुला लिया जाता है, तो इस तरह आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के लिए अप्लाई कर सकते है।

आंगनवाड़ी कार्यकर्ता के रूप में कैरियर (Anganwadi Worker Career Scope in Hindi)

यदि कोई महिला आंगनवाड़ी कार्यकर्ता के रूप में कैरियर बनाना चाहती है, तो उसके लिए Anganwadi Worker एक बेहतर कैरियर ऑप्शन है, इस नौकरी की सबसे अच्छी बात यह है कि इसके लिए ज्यादा पढ़े लिखे होने की जरूरत नहीं है। दसवीं पास लोग भी आंगनवाड़ी कार्यकर्ता बनने के लिए आवेदन कर सकते हैं। इसलिए यदि आप आंगनवाड़ी कार्यकर्ता बन जाते हैं तो जब तक आप काम करना चाहेंगे ताबतक आपको निर्धारित सैलरी आपको हर महीने मिलती रहेगी। दसवीं पास लोगों के लिए यह नौकरी बहुत अच्छा करियर Scope है। इसलिए Anganwadi Worker के रूप मे अपने क्षेत्र मे ही अपना कैरियर बना सकते है।

आंगनबाड़ी केंद्र की देखरेख

आंगनबाड़ी केंद्र की देखरेख का जिम्मा उप जिलाधिकारी के अंतर्गत आता है, वैसे तो आंगनबाड़ी केंद्र मे काम करने वाली Anganwadi Worker काफी मेहनत से अपने काम को निभाती है, फिर भी आंगनबाड़ी केंद्र की निगरानी राज्य सरकारे पूरी सतर्कता के साथ करती है, इसलिये बीच बीच उप जिलाधिकारी यानि एसडीएम या बड़े अधिकारी भी इन केन्द्रो का निरीक्षण करते रहते है, जिसमे आंगनवाड़ी कार्यकर्ता स्वास्थ्य सुविधा, शिक्षा, गर्भवती महिलाओं की देखभाल की जिम्मेदारी ढंग से निभा रही हैं या नहीं। इसके लिए Attendance Register का भी निरीक्षण किया जाता है। इस तरह आंगनवाड़ी कार्यकर्ता के कार्य काफी ज़िम्मेदारी पूर्ण होती है।

Conclusion –

तो कैरियर के रूप मे इस पोस्ट के जरिये हमने जाना की ये आंगनबाड़ी क्या है, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता कौन होते है, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता का काम, आंगनबाड़ी केंद्र में उपलब्ध कराई जाने वाली सेवाएं, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता कैसे बनें, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता बनने के लिए योग्यता, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता बनने के लिए शैक्षिक योग्यता, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता का वेतन, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के लिए अप्लाई कैसे करे, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता के रूप में कैरियर, Anganwadi Worker Salary, आंगनबाड़ी केंद्र की देखरेख के बारे मे जान चुके होंगे। तो ऐसे मे आंगनबाड़ी कार्यकर्ता से जुड़े कोई और भी प्रश्न पूछना चाहते है, तो हमे कमेंट बॉक्स मे पूछ सकते है।

इन पोस्ट को भी पढे :-

4.3/5 - (44 votes)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

close button