वीर सावरकर के अनमोल विचार Veer Savarkar Quotes Anmol Vichar in Hindi

0

Veer Savarkar Quotes Anmol Vichar – वीर सावरकर भारतीय स्वतंत्रता के महान क्रन्तिकारी थे, इसके अलावा वे कुशल वक्ता, लेखक, इतिहासकार, कवि, दार्शनिक, विद्वान और सामाजिक कार्यकर्ता भी थे, इन्होने अपना पूरा जीवन की भारत की स्वत्रंतता के लिए लगा था, इनका पूरा विनायक दामोदर सावरकर था,

तो चलिए ऐसे वीर सेनानी वीर सावरकर के अनमोल विचारो, Quotes को जानते है, जो हम सभी के लिए प्रेरणा के श्रोत है.

वीर सावरकर के अनमोल विचार

Veer Savarkar Quotes Anmol Vichar in Hindi

Veer Savarkar Quotes –

परतंत्रता तथा दासता को प्रत्येक धर्म ने सर्वदा धिक्कारा है। धर्म के उच्छेद और ईश्वर की इच्छा के खंडन को ही परतन्त्रता कहते हैं। सभी परतंत्रताओं से नीच परतंत्रता है, राजनीतिक परतंत्रता और यही नर्क का द्वार है।

Veer Savarkar Quotes –

हिन्दू धर्म कोई ताड़ –पत्र पर लिखित पोथी नहीं जो ताड़ – पत्र के चटकते ही चूर–चूर हो जायेगा, आज उत्पन्न होकर कल नष्ट हो जायेगा. यह कोई गोलमेज परिषद का प्रस्ताव भी नहीं, यह तो एक महान जाति का जीवन है; यह एक शब्द- भर नहीं, अपितु सम्पूर्ण इतिहास है – अधिक नहीं तो चालीस सहस्त्राब्दियों का इतिहास इसमें भरा हुआ है.

Veer Savarkar Quotes –

Veer Savarakr Quotes Anmol Vichar in Hindiदुसरो का समान करने की शक्ति रखने वालों में ही मैत्री संभव है।

Veer Savarkar Quotes –

अन्याय का जड़ से उन्मूलन कर सत्य धर्म की स्थापना हेतु क्रांति, प्रतिशोध आदि प्रकृतिप्रदत्त साधन ही हैं। अन्याय के परिणामस्वरूप होनेवाली वेदना और उद्दण्डता ही तो इन साधनों का नियन्त्रण करती है।

Veer Savarkar Quotes –

वर्तमान परिस्थिति पर इसका क्या प्रभाव पड़ेगा – इस तथ्य की चिंता किये बिना ही इतिहासलेखक को इतिहास लिखना चाहिए और समय की जानकारी को विशुद्ध और सत्य – रूप में ही प्रस्तुत करना चाहिए.

Veer Savarkar Quotes –

महान हिन्दू संस्कृति के भव्य मन्दिर को आज तक पुनीत रखा है संस्कृत ने. इसी भाषा में हमारा सम्पूर्ण ज्ञान, सर्वोत्तम तथ्य संगृहीत हैं. एक राष्ट्र, एक जाति और एक संस्कृति के आधार पर ही हम हिन्दुओं की एकता आश्रित और आघृत है.

Veer Savarkar Quotes –

मनुष्य की सम्पूर्ण शक्ति का मूल उसके अहम की प्रतीति में ही विद्यमान है.

Veer Savarkar Quotes –

मन सृष्टि के विधाता द्वारा मानव-जाति को प्रदान किया गया एक ऐसा उपहार है, जो मनुष्य के परिवर्तनशील जीवन की स्थितियों के अनुसार स्वयं अपना रूप और आकार भी बदल लेता है.

Veer Savarkar Quotes –

कष्ट ही तो वह चाक शक्ति है जो इंसान को कसौटी पर परखती है और उसे आगे बढ़ाती है।

Veer Savarkar Vichar –

हमारे देश और समाज के माथे पर एक कलंक है – अस्पृश्यता .हिन्दू समाज के, धर्म के ,रास्त्र के करोड़ों हिन्दू बन्धु इससे अभिशप्त हैं. जब तक हम ऐसे बनाए हुए हैं, तब तक हमारे शत्रु हमें परस्पर लदवाकर, विभाजित क्र सफल होते रहेंगे. इस घातक बुराई को हमें त्यागना ही होगा.

Veer Savarkar Vichar –

जिस राष्ट्र में शक्ति की पूजा नहीं, शक्ति का महत्व नहीं, उस राष्ट्र की प्रतिष्ठा कौड़ी कीमत की है. प्रतिष्ठा के न होने का प्रमाण है – पड़ोसी देश लंका ,पूर्वी पकिस्तान, पश्चिमी पकिस्तान में हिन्दुओं के साथ हो रहा दुर्व्यहार, जिसके लिए भारत सरकार मात्र विरोध – पत्र ही भेज सकती है, कर कुछ नहीं सकती.

Veer Savarkar Vichar –

अगर संसार को हिन्दू जाति का आदेश सुनना पड़े, ऐसी स्थिति उपस्थित होने पर, उनका वह आदेश गीता और गौतम बुद्ध के आदेशों से भिन्न नहीं होगा.

Veer Savarkar Quotes –

समय से पूर्व कोई मृत्यु को प्राप्त नहीं करता और जब समय आ जाता है तो कोई अर्थात कोई भी इससे बच नहीं सकता. हजारों – लाखों बीमारी से ही मर जाते हैं, पर जो धर्मयुद्ध में मृत्यु प्राप्त करते हैं, उनके लिए तो अपूर्व सौभाग्य की बात है. ऐसे लोग तो हुतात्मा ही होते हैं.

Veer Savarkar Quotes –

हमारी पीढी ऐसे समय में और ऐसे देश में पैदा हुई है कि प्रत्येक उदार एवं सच्चे हृदय के लिए यह बात आवश्यक हो गई है कि वह अपने लिए उस मार्ग का चयन करे जो आहों, सिसकियों और विरह के मध्य से गुजरता है. बस,यही मार्ग कर्म का मार्ग है.

Veer Savarkar Quotes –

कर्तव्य की निष्ठा संकटों को झेलने में, दुःख उठाने में और जीवनभर संघर्ष करने में ही समाविष्ट है। यश अपयश तो मात्र योगायोग की बातें हैं।

Veer Savarkar Quotes –

हम परमाणु कभी नहीं बनाएगे यह घोषणा मुर्खता एवं कायरता की निशानी होगी. यदि हमारे दुश्मन चीन के पास परमाणु एवं हाइड्रोजन बम हैं तो हमें इसके मुकाबले अधिक ताकतवर हथियार बनाने का प्रयास करते रहना चाहिए, साथ ही हमारे शासकों को यह समझ लेना चाहिए कि आज के युग में जिसके पास सशक्त सेना हैं उसी का राष्ट्र सुरक्षित हैं.

Veer Savarkar Anmol Vichar –

मनुष्य की सम्पूर्ण शक्ति का मूल उसके अहम की प्रतीति में ही विद्यमान है.

Veer Savarkar Anmol Vichar –

ब्राह्मणों से चाण्डाल तक सारे के सारे, हिन्दू समाज की हड्डियों में प्रवेश कर, यह जाति का अहंकार उसे चूस रहा है और पूरा हिन्दू समाज इस जाति अहंकारगत द्वेष के कारण जाति कलह के यक्ष्मा की प्रबलता से जीर्ण शीर्ण हो गया है।

Veer Savarkar Anmol Vichar –

आततायी, अत्याचारी और आक्रामक को मार डालना अहिंसा व सदाचार हैं न कि हिंसा. हमने अत्यधिक अहिंसा की भावना के चलते मन में अनेक भ्रांतियों तथा कायरपन को जन्म दिया हैं जिसके चलते लोग हमारे विरोध को भी हिंसा मान लेते हैं.

Veer Savarkar Quotes –

मन सृष्टि के विधाता द्वारा मानव-जाति को प्रदान किया गया एक ऐसा उपहार है, जो मनुष्य के परिवर्तनशील जीवन की स्थितियों के अनुसार स्वयं अपना रूप और आकार भी बदल लेता है.

Veer Savarkar Quotes –

वर्तमान परिस्थिति पर इसका क्या प्रभाव पड़ेगा, इस तथ्य की चिंता किये बिना ही इतिहासलेखक को इतिहास लिखना चाहिए और समय की जानकारी को विशुद्ध और सत्य रूप में ही प्रस्तुत करना चाहिए।

Veer Savarkar Quotes –

हिन्दू जाति की गृहस्थली है – भारत, जिसकी गोद में महापुरूष, अवतार, देवी-देवता और देव – जन खेले हैं. यही हमारी पितृभूमि और पुण्यभूमि है. यही हमारी कर्मभूमि है और इससे हमारी वंशगत और सांस्कृतिक आत्मीयता के सम्बन्ध जुड़े हैं.

Veer Savarkar Anmol Vichar –

देश-हित के लिए अन्य त्यागों के साथ जन-प्रियता का त्याग करना सबसे बड़ा और ऊँचा आदर्श है, क्योंकि – “वर जनहित ध्येयं केवल न जनस्तुति” शास्त्रों में उपयुक्त ही कहा गया है।

Veer Savarkar Quotes –

कर्तव्य की निष्ठा संकटों को झेलने में, दुःख उठाने में और जीवन – भर संघर्ष करने में ही समाविष्ट है. यश – अपयश तो मात्र योगायोग की बातें हैं.

Veer Savarkar Quotes –

संस्कृत भाषा ने ही हिन्दू संस्कृति के भव्य मन्दिर रुपी इतिहास को सुरक्षित रखा हैं. हमारे इतिहास तथा धर्म का सम्पूर्ण ज्ञान सर्वोत्तम तथ्य संगृहीत हैं. एक राष्ट्र, एक जाति और एक संस्कृति के आधार पर ही हम हिन्दुओं की एकता आश्रित और आघृत की मुख्य कारण संस्कृत ही हैं.

Veer Savarkar Quotes –

अपने देश की, राष्ट्र की, समाज की स्वतन्त्रता – हेतु प्रभु से की गई मूक प्राथर्ना भी सबसे बड़ी अहिंसा का द्दोतक है.

Veer Savarkar Quotes –

वीर सावरकर का मानना था कि गाय की पूजा करने का अर्थ है इंसानियत के स्तर को निम्न करना, कभी भी मुसलमानों ने हिन्दुओं को नहीं हराया बल्कि वे गाय का पूजन करने से हारे है.

Veer Savarkar Quotes –

इतिहास, समाज और राष्ट्र को पुष्ट करनेवाला हमारा दैनिक व्यवहार ही हमारा धर्म है. धर्म की यह परिभाषा स्पष्ट करती है कि कोई भी मनुष्य धर्मातीत रह ही नहीं सकता. देश इतिहास, समाज के प्रति विशुद्ध प्रेम एवं न्यायपूर्ण व्यवहार ही सच्चा धर्म है.

Veer Savarkar Quotes –

उन्हें शिवाजी को मनाने का अधिकार है, जो शिवाजी की तरह अपनी मातृभूमि को आजाद कराने के लिए लड़ने के लिए तैयार हैं।

Veer Savarkar Quotes –

अपने वतन की, राष्ट्र की, समाज की स्वतन्त्रता के लिए इश्वर से की गयी मौन आराधना अहिंसा की सबसे बड़ी निशानी हैं.

Veer Savarkar Quotes –

ज्ञान प्राप्त होने पर किया गया कर्म सफलतादायक होता है, क्योंकि ज्ञान – युक्त कर्म ही समाज के लिए हितकारक है. ज्ञान – प्राप्ति जितनी कठिन है, उससे अधिक कठिन है – उसे संभाल कर रखना . मनुष्य तब तक कोई भी ठोस पग नहीं उठा सकता यदि उसमें राजनीतिक, ऐतिहासिक, अर्थशास्त्रीय एवं शासनशास्त्रीय ज्ञान का अभाव हो.

Veer Savarkar Quotes –

महान लक्ष्य के लिए किया गया कोई भी बलिदान व्यर्थ नहीं जाता है।

Veer Savarkar Quotes –

अन्याय का जड़ से उन्मूलन कर सत्य –धर्म की स्थापना – हेतु क्रांति, रक्तचाप प्रतिशोध आदि प्रकृतिप्रदत्त साधन ही हैं. अन्याय के परिणामस्वरूप होनेवाली वेदना और उद्दण्डता ही तो इन साधनों की नियन्त्रण करती है.

इन अनमोल विचारो को भी पढ़े :-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here