महात्मा गाँधी के 100 अनमोल विचार और अनमोल वचन | Anmol Vichar


Mahatma Gandhi Anmol Vichar Vachan Great Quotes in Hindi

अहिंसा को प्रेरित करते महात्मा गाँधी के 100 प्रेरणादायक अनमोल वचन और अनमोल विचार

महात्मा गाँधी जिन्हें भारत का राष्ट्रपिता कहा जाता है उन्होंने अहिंसा के बल पर भारत माँ को अंग्रेजो के चंगुल से आजाद कराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाया, एक तरफ जहा पूरी विश्व की मानवता में हथियारों की होड़ लगी थी दो दो विश्व युद्ध लड़े जा चुके थे हर राष्ट्र अपने आपको हथियारों के दम पर सर्वश्रेष्ठ और शकिशाली साबित करना चाहता है ऐसे काल और परिस्थितियों में भी महात्मा गाँधी ने बिना हथियार उठाये पूरे विश्व को अहिंसा का पाठ देते हुए भारत माँ को आजाद कराने में सफल रहे

तो आईये आज हम सभी इसी अहिंसा के पुजारी महात्मा गाँधी के अनमोल विचारो | Anmol Vichar को जानते है जिनसे प्रेरणा लेते हुए आज भी अहिंसा के रास्ते मानवता को शांति का पाठ पढाया जा सकता है

महात्मा गाँधी के 100 अनमोल वचन और अनमोल विचार

Mahatma Gandhi 100 Great Inspirational Quotes & Thoughts in Hindi

Anmol Vichar :-1

भगवान का कोई धर्म नही है जिस रूप में देखेगे उसी रूप में मिलेगे

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-2

तुम मुझे बाध सकते हो, यातनाये दे सकते हो, इस शरीर को कष्ट दे सकते हो लेकिन मेरे दिमाग को कभी कैद नही कर सकते हो

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-3

जो कमजोर होते है वे किसी को माफ़ नही कर सकते है माफ़ करना तो ताकतवर लोगो की निशानी है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-4

आँख के बदले आँख पूरी दुनिया को अँधा बना सकती है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-5

कुछ लोग सिर्फ सफलता के सपने देखते है जबकि कुछ लोग ही इसे पूरा करने के लिए जागते है और मेहनत करते है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-6

ईश्वर ने मनुष्य को अपने जैसा ही बनाया लेकिन दुर्भाग्य से मनुष्य ने ईश्वर को अपने जैसा बना डाला

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-7

पाप से हमे घृणा करनी चाहिए, न की पापी से

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-8

जैसा आप इस दुनिया को बनाना चाहते है पहले वैसा खुद ही बनिये

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-9

इन्सान की पहचान उसके कपड़ो और पहनावों से नही किया जाता है बल्कि इन्सान की पहचान तो उसके गुणों और चरित्र से किया जाता है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-10

पहले वो आप पर ध्यान नही देंगे, फिर आप पर हँसेगे फिर वो आप से लड़ेगे और फिर तब आप जीत जायेगे

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-11

जहा गलती करने की कोई स्वतंत्रता नही हो वहा स्वतंत्रता होने का कोई अर्थ नही है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-12

मौन सबसे सशक्त भाषण है जिससे धीरे धीरे दुनिया आपको सुनेगी

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-13

जहा प्रेम बसता है वही जीवन है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-14

व्यक्ति अपने विचारो से निर्मित एक प्राणी है जो जैसा सोचता है ठीक वैसा ही बन जाता है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-15

अहिंसा ही वह धर्म है जो जीवन जीने का रास्ता दिखलाती है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-16

यदि इन्सान को सीखने की ललक हो तो उसकी भूल भी उसे बहुत कुछ सीखा देती है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-17

वास्तविक सौन्दर्य तो हृदय की पवित्रता में ही है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-18

यदि आप नम्र है तो पूरी दुनिया को झुका सकते है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-19

भूल करना तो पाप है लेकिन उसे छुपाना और भी बड़ा पाप है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-20

मेरी इच्छा के बिना मुझे कोई भी नुकसान नही पंहुचा सकता है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-21

इंसानियत से कभी भी विश्वास नही खोना चाहिए, इंसानियत तो एक ऐसे सागर की तरह है अगर कुछ बुँदे मैली भी हो तो सागर को गंदा नही कर सकती है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-22

अहिंसा परमो धर्म अर्थात अहिंसा ही सबसे बड़ा धर्म है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-23

किसी देश की महानता देखना हो तो उस देश के द्वारा उसके जानवरों के प्रति किये जाने वाले व्यवहार को ही देखकर पता लगाया जा सकता है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-24

सत्य एक है इसके मार्ग कई हो सकते है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-25

हिन्दी को व्यवहारिक काम में लाना राष्ट्र की उन्नति का परिचायक है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-26

दबाव से आप अनुशासन सीख नही सकते है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-27

प्रेम ही वह चुम्बक है जो मनुष्य को अपनी ओर खिचता है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-28

परमेश्वर सत्य है यह कहने के बजाय “सत्य ही परमेश्वर है” कही अधिक उपयुक्त है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-29

हृदय की कोई भाषा नही होती, हृदय तो हृदय से ही बात कर लेते है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-30

हम जिसकी पूजा करते है या जिसको मानते ही उसी के समान हो जाते है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-31

कायर होने से कही अच्छा लड़ते लड़ते मर जाना बेहतर है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-32

जो लोग सिर्फ अपने तारीफ और प्रंशसा के भूखे होते है वे साबित करते है की उनमे योग्यता नही है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-33

क्रोध को जीतने के लिए मौन ही सबसे बड़ा सहायक है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-34

जो समय बचाते है वे धन बचाते है और बचाया हुआ धन कमाए हुए धन के बराबर होता है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-35

हमे ऐसा जीवन जीना चाहिए लगे की कल ही मरना है और ऐसे सीखना चाहिए की जैसे हम हमेसा जीने वाले है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-36

हमे स्वछता और सफाई का मूल्य पता होना चाहिए स्वस्थ्य रहने के लिए गंदगी को हटाना होगा, स्वच्छता क्या अपने आप में इनाम नही है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-37

काम की अधिकता नही बल्कि काम की अनियमितता ही इन्सान को मार डालती है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-38

एक अच्छी कितब एक अच्छा शिक्षक होता है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-39

कुरीतियों के अधीन होना कायरता है और उसका विरोध करना पुरुषार्थ है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-40

थोडा सा अभ्यास भी बहुत सारे उपदेशो से बेहतर है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-41

विश्वास को हमेसा तर्क की कसौटी पर खरा उतरना चाहिए जब विश्वास अँधा हो जाता है तो वह मर जाता है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-42

ख़ुशी तभी मिलेगी जो आप कहते हो जैसा सोचते हो ठीक वैसा ही करते हो जो की सामंजस्य में हो

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-43

क्रोध और असहिष्णुता सही समझ के दुश्मन होते है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-44

अपनी गलती को मानना उस झाड़ू लगाने के समान है जो सतह को साफ और सुथरा बना देते है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-45

किसी आर भरोषा और विश्वास करना अच्छी बात है क्युकी यदि भरोषा और विश्वास ही नही हो तो कमजोरी पैदा हो जाती है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-46

प्रसन्नता ही एकमात्र ऐसी चीज है जो बाटने पर वापिस जरुर मिलता है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-47

आपका नम्र व्यवहार सभी को बदल सकता है इसलिए सबके साथ प्रेम से मिलिए

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-48

मेहनत का फल हमेसा मीठा ही होता है और जो लोग मेहनत करना जानते है उनको अपने मेहनत का फल जरुर मिलता है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-49

शक्ति शारीरिक क्षमता से नही बल्कि अदम्य इच्छा से ही शक्ति प्राप्त होती है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-50

संसार के सभी धर्म भले ही चीजो में अलग अलग फर्क मानते हो लेकिन यह बात सत्य है की दुनिया में हमेसा सत्य ही जीवित रहेगा

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-51

दुनिया हर किसी की आवश्यकता के लिए पर्याप्त है लेकिन लालच के लिए कभी नही पूरी हो सकती

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-52

जब आपका सामना अपने विरोधी से भी हो तो उसे प्रेम से ही जीते

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-53

सरलता के साथ जीना चाहिए ताकि अन्य लोग भी सरलता से जी सके

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-54

मानवता की महानता सिर्फ मानव होने में नही बल्कि मानवीय होने में है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-55

ईश्वर को भले ही हम हजारो नामो से जानते है लेकिन वो एक है और सबके लिए एक समान है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-56

गरीबी हिंसा का सबसे बड़ा बुरा रूप है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-57

आप तभी बोलो जब वो मौन से बेहतर हो

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-58

मै दुनिया के सभी धर्मो के मुलभुत सच्चाई पर विश्वास करता हु

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-59

मै उसे ही धार्मिक मानता हु जो दुसरो का दुःख दर्द समझता है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-60

जो आज आप कर रहे है उसपर आपका भविष्य निर्भर है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-61

मेरा धर्म तो सत्य और अहिंसा पर आधारित है सत्य ही मेरा भगवान है और उसे पाने का अहिंसा ही मेरा साधन है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-62

किसी चीज में यकीन भी करना और उसे ना जीना बेईमानी है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-63

प्रेम दुनिया की सबसे बड़ी शक्ति है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-64

हंसी मन की गाठो को बहुत आसानी से खोल देते है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-65

जो अक्लमंद होते है वे काम करने से उसके बारे में सोचते है जबकि मुर्ख उस काम को करने के बाद सोचते है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-66

दुनिया में तो कई ऐसे लोग भी है जो इतने भूखे है की उन्हें रोटी के सिवाय भगवान किसी रूप में नही दिख सकते है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-67

हो सकता है जो करते है उसक परिणाम नही जान पाए लेकिन यदि आप कुछ करेगे ही नही तो कोई परिणाम ही नही होगा

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-68

पूंजी होना कोई बुराई नही है लेकिन उसका उपयोग गलत में ही बुराई है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-69

डर शरीर की बीमारी नही है बल्कि धीरे धीरे आत्मा को मारता है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-70

विश्वास करना एक गुण है और विश्वास दुर्बलता की निशानी है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-71

तुम जो भी करोगे वह नगण्य हो सकता है लेकिन यह जरूरी है की तुम वह करो

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-72

हर रात मै जब सोने जाता हु तो मर जाता हु और हर एक नये दिन मेरा पुनर्जन्म होता है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-73

खुद के अंदर को उत्साह को जगाने के लिए किये गये प्रयास इन्सान को जानवरों से बेहतर बनाते है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-74

एक महिला का सबसे बड़ा आभूषण उसका चरित्र और उसकी शुद्दता है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-75

मै अपने विचारो को स्वतंत्र बना सकू इसलिए मै आजादी चाहता हु

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-76

ग़रीबी ईश्वर का अभिशाप नही बल्कि यह मानवीय षडयंत्र है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-77

अहिंसा जो की कभी न बदलने वाला धर्म है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-78

यदि जिज्ञासा न हो तो कोई ज्ञान प्राप्त नही होता और दुःख के बिना कभी सुख नही होता

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-79

शक्ति दो प्रकार के होते है पहला जो दंड के डर से उत्पन्न होता है जबकि दूसरा प्यार की शक्ति होता है और प्यार की शक्ति हमेसा हजार गुना ज्यादा ही प्रभावी होती है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-80

प्रार्थना सुबह की शक्ति होती है और शाम का सौन्दर्य बन जाता है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-81

स्वय को जानने के लिए एकमात्र तरीका है दुसरो की सेवा में खुद को डुबो देना

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-82

मनुष्य की प्रकृति हमेसा बुरी नही हो सकती है प्यार की कमी से ही बुरा स्वभाव उत्पन्न होता है इसलिए मानव स्वभाव को कभी निराश नही करना चाहिए

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-83

आप बंद मुटठी से हाथ नही मिला सकते है इसके लिए आपको खुलना पड़ेगा

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-84

अगर दुनिया में वास्तविक शांति चाहते है तो इसकी शुरुआत बच्चो से कर सकते है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-85

मै ईश्वर के अलावा किसी से नही डरता हु

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-86

अन्याय चाहे कितना ताकतवर क्यों न हो मै कभी नही झुकुगा

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-87

जिस कार्य को आप खुद कर सकते है उसके लिए दुसरे का इंतजार मत करे उसे खुद करे

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-88

जिसके अंदर आत्मविश्वास होता है वही ईश्वर पर विश्वास करता है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-89

प्रार्थना और भजन ऊचे उचे आवाजो से लोगो को सुनाकर नही बल्कि मन से किया जाता है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-90

गुस्से को सिर्फ प्यार से काबू कर सकते है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-91

एक अच्छी पुस्तक हजार रत्नों से कही भली अच्छी है क्योकि इन पुस्तको से हमारे मन के अंतकरण को उज्ज्वल बनाते है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-92

भविष्य में क्या होगा इसपर सोचने के बजाय वर्तमान में ध्यान देना बेहतर होता है भगवान ने आने वाले समय पर हमे कोई नियन्त्रण नही दिया है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-93

दुनिया में कुछ भी असम्भव नही है इसके लिए कोशिश करना होता है भले ही उसे पूरा होने में वक्त लग सकता है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-94

जितना हो सके पाप से बचना चाहिए और पाप को खत्म करना है तो पाप से घृणा करो और पापी को भी अपना प्यार दे

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-95

मै किसी को भी अपने गंदे पाँव के साथ मेरे मन से गुजरने नही दूंगा

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-96

अपने कार्यो से लोगो को सुख देना, प्रार्थना में झुके हजारो सर से कही बेहतर है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-97

मृत, अनाथ और बेघर को इससे क्या फर्क पड़ता है की यह तबाही सर्वाधिकार या फिर स्वतंत्रता के पवित्र नाम पर लायी जाती है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-98

चिंता से सिर्फ शरीर बर्बाद होता है जिसे ईश्वर पर यकीन होता है उसे किसी भी चीज के बारे में चिंता करना शर्मिंदा करता है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-99

जिस दिन प्रेम की शक्ति, शक्ति के प्रेम पर हावी हो जाएगी उस दिन पूरे विश्व में अमन और शांति आ जायेगा

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

Anmol Vichar :-100

एक सभ्य घर के बराबर कोई विद्यालय नही है और भले और अच्छे अभिवावक जैसा कोई शिक्षक नही है

महात्मा गाँधी | Mahatma Gandhi

तो आप सबको यह पोस्ट महात्मा गाँधी के 100 अनमोल वचन और अनमोल विचार | Anmol Vichar | Mahatma Gandhi Anmol Vachan Vichar Great Quotes in Hindi कैसा लगा कमेंट में जरुर बताये और इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा शेयर भी जरुर करे

इन पोस्ट को भी जरुर पढ़े


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *