विश्वकर्मा पूजा पर विशेष जानकारी हिंदी में Vishwakarma Puja


विश्वकर्मा पूजा 

Vishwakarma Puja in Hindi

दोस्तों वैसे तो भारत देश में अनेको हिन्दू धर्म के त्यौहार मनाये जाते है उन्ही त्योहारो में से विश्वकर्मा पूजा | Vishwakarma Puja भी एक बहुत प्रसिद्ध हिन्दू त्यौहार है जो की हर साल  17 सितम्बर को बड़े धूमधाम से मनाया जाता है

जैसा की हम सभी देखते है की आजकल हमारे देश में रेल से लेकर सुई तक खुद बड़े बड़े इंजीनयर की सहायता से बनाये जाते है तो क्या हमने कभी सोचा है की ये जो ब्रह्माण्ड है उसे तो भी किसी ने बनाया ही होगा या किसी के द्वारा बनाया गया होंगा

तो इसका जवाब हिन्दू धर्म में देवताओ के इंजीनयर यानि शिल्पकार देव भगवान विश्वकर्मा को माना जाता है

पुराणों में वर्णित लेखों के अनुसार इस सृस्टि की रचना आदिदेव ब्रह्मा जी को माना जाता है विश्वकर्मा जी की सहायता से इस सृष्टि का निर्माण हुआ,  इसी कारण इन्हें आज के समय में देवताओ का इंजीनियर भी कहा जाता है

विश्वकर्मा जी के जन्म की कथा

Story of God Vishwakarma

Viswakarma-Pujaहिन्दू धर्म शास्त्रो के अनुसार सबसे ब्रह्मा जी के पुत्र धर्म के सातवे संतान जिनका नाम वास्तु था विश्वकर्मा जी वास्तु के पुत्र थे जो अपने माता पिता की भाती महान शिल्पकार हुए जिन्होंने इस सृस्टि में अनेको प्रकार के निर्माण इन्ही के द्वारा हुआ

देवताओ का स्वर्ग हो या लंका के रावण की सोने की लंका हो या भगवान कृष्ण जी की द्वारिका और पांडवो की राजधानी हस्तिनापुर इन सभी राजधानियों का निर्माण भगवान विश्वकर्मा  द्वारा की गयी है जो की वास्तु कला की अद्भुत मिशाल है

विश्वकर्मा जी को औजारों का देवता भी कहा जाता है महृषि दधीचि द्वारा दी गयी उनकी हड्डियों से ही ब्रज का निर्माण इन्होंने ही किया है जो की देवताओ के राजा इंद्र का प्रमुख हथियार है

विश्वकर्मा पूजा विशेष

Vishwakarma Puja Essay in Hindi

विश्वकर्मा पूजा के दिन भारत देश के विभिन राज्यो में तो सार्वजानिक अवकाश भी रहता है चूँकि जैसा की मान्यता है की विश्वकर्मा जी की पूजा करने से व्यापारमें तरक्की होती है इसलिए इस दिन फैक्ट्री, कल कारखानों, हार्डवेयर की दुकानों में विश्वकर्मा पूजा बड़े ही धूम धाम से मनाया जाता है

इस दिन सभी लोग जो मशीनों औजरो आदि से अपना काम करते है वे सुबह सबसे पहले अपने कल कारखानों की सफाई के साथ अपने मशीनों और औजारों की भी अच्छी तरह से साफ़ सफाई किया जाता है फिर इसके बाद विश्वकर्मा भगवान की विधिवत पूजा की जाती है

इस दिन कल कारखानो में बड़े ही हर्सोल्लास के साथ भगवान विश्वकर्मा जी की मूर्ति स्थपित की जाती है कई सार्वजनकि जगहों पर भी विश्वकर्मा जी की मूर्ति स्थपित की जाती है

विश्वकर्मा पूजा का महत्व

Vishwakarma Puja ka Mahatv

वैसे तो सभी त्योहारो का अपना महत्व है इसलिए आज के ज़माने में जहा विज्ञानं अपने ज्ञान को श्रेष्ठ करने के लिए अनेको प्रयोग हो रहे है ऐसे में विश्वकर्मा जी के बिना आशीर्वाद के बिना कुछ भी सम्भव नही है

इसलिए विश्वकर्मा पूजा का आज के ज़माने में भी उतना महत्व है और ऐसी मान्यता है की विश्वकर्मा जी की पूजा करने से हमारे व्यापार में उन्नति और घर में धन्य धान्य से परिपूर्ण होता है

विश्वकर्मा जी मूर्ति विसर्जन

विश्वकर्मा पूजा जब इस दिन हो जाती है तो अगले दिन जहा पर मुर्तिया स्थापित की जाती है उनका विषर्जन भी बड़े धूमधाम से किया जाता है लोग विश्वकर्मा जी को मूर्ति को बड़े बड़े वाहनों में सजाकर ले जाते है और एक दूसरे के ऊपर गुलाल साथ में डांस भी करते है तथा रास्ते में मिलने वाले हर राहगीर को प्रसाद वितरण भी किया जाता है जो की देखने में बहुत अद्भुत और सुखद आनंद का हमे अहसास कराता है

इसलिए जीवन में जहां हमारे ऊपर अनेक कार्यो का बोझ होता है वही इन त्योहारो के आने से हमे सुखद अनुभव भी प्राप्त होता है और हमारे मानसिक संतुलन को सुखद बनाने में सहायक भी होता है इसलिए हमे अपने जीवन में अपने कार्यो के साथ साथ इन त्योहारो में भी सम्मिलित होकर सुखद अनुभव लेना चाहिए

तो आप सबको यह पोस्ट कैसा लगा जरूर बताये

साथ में यह भी पढ़े- 


21 Comments

  1. Sir I m Ashok vishwakarma from Jabalpur mp sir first of all I want to know that who has written purana and vedas. Why do people not know about Vedas and sanatan dharma in western countries and other countries. In our epics we know that the whole universe has been created by Brahma but in other countries no body knows about Brahma
    Please make me understand

    1. Ashok Hindu dharma khaskar asia me kafi adhik prabhav dekhne ko milta hai aur kisi dharm ki mul utpatti puratan kaal me kahi na kahi hindu yani sanatan dhram se jarur juda hota hai baaki western culture ye baad ki sabhyataye viksit hui hai so in logo me ka apna dhram dekhne ko milta hai aur ved, puran rishiyo, muniyo ke kahe gye amritvaani hote the jinhe sangrhit karke ved , puran bhi kaha jata hai

    1. सुनील पूजा करना हमारी आस्था और मन के विश्वास पर निर्भर करता है जिस व्यक्ति को जहा ठीक लगता है वही पूजा अर्चना करता है और किसी के पूजा करने या न करने से क्या फर्क पड़ता है किसी चीज में बदलाव लाना चाहते है पहले हमे खुद अमल करना चाहिए । हमे देखकर लोग खुद बदल सकते है यही हमारी सोच होनी चाहिए

  2. 17 september ko visvkarma jayanti nahi hai. 17 September ko bhagwaan visvkarma poojan diwas mamaya jata hai. jayanti uski manayi jaati he jiska janm huaa, bhagwaan visvkarma to sristi ke nirmaankarta he aadi anant sabhi bahi he ,jyada jaankari chahiye to viswkarma puran ,visnupuran,skandh puran ,bayupuran,matsya puran,aaditya puran, rigved,yajurved aadi grantho ka adhyayan kare
    Aap jin ki baat kar rahe bo prabhash rishi ke putra visvkarma rishi bhi huye he par unki jayanti 17september ko nahi he ,unki magh sulk triodasi ko jayanti he ,17september ko shram diwas ke roop me manaya jaata he
    Bhagwaan visvkarma ji ke kai awtaar bataye huye he

    1. थैंक यू ज्योति.. ऐसे ही अच्छे बातो के लिए आप अच्छीएडवाइस डॉटकॉम पर आते रहिये

  3. कृपया सही उत्तर दें ..
    विश्वकर्मा जी की जन्मतिथि —————
    विश्वकर्मा जी के पिता. —————–
    विश्वकर्मा जी की माता —————-
    विश्वकर्मा जी की अन्तिम सांस———-
    विश्वकर्मा जी द्वारा किये गये निर्माण का कोई
    प्रूफ……….

    1. दिलीप आप इन उत्तर को पढ़े जो विभिन्न स्रोतों के आधार पर बता रहे है जो हम किसी तथ्य का दावा भी नही करते है
      विश्वकर्मा जी की जन्मतिथि ————— भाद्रपद शुक्ला प्रतिपदा कन्या की संक्राति (17 सितम्बर)
      विश्वकर्मा जी के पिता. —————–महर्षि प्रभास वसु
      विश्वकर्मा जी की माता —————-वरस्त्री
      विश्वकर्मा जी की अन्तिम सांस———-कोई जानकारी नही क्यूकी देवताओ को अजर अमर माना गया है
      विश्वकर्मा जी द्वारा किये गये निर्माण का कोई प्रूफ……….पुराणों में वर्णित लंका इन्ही के द्वारा बनाया गया है

    1. नेहा जी विश्कर्मा जी के जन्मदिन 17 सितम्बर के दिन ही विश्वकर्मा पूजा मनाया जाता है

      1. 17 सितंबर तो अंग्रेजी तारीख है,
        जबकि हिन्दू कैलेंडर तो भिन्न होता है

        और भगवान विश्वकर्मा तो अंग्रेजो से पहले की पैदाइश है तो ये 17 सितंबर वाला मामला समझ नही आया, जरा बताए…?

        1. रिजवान अधिकांश हिंदू त्योहारों जैसे जन्माष्टमी, गणेश चतुर्थी, दुर्गा पूजा आदि चंद्र कैलेंडर पर आधारित हैं। मकर संक्रांति जैसे कुछ त्योहार विक्रम सम्वत कैलेंडर के आधार पर हैं। इसलिए इन त्योहारों की तारीखें वर्ष-दर-साल ग्रेगोरियन (अंग्रेज़ी) कैलेंडर पर भिन्न होती हैं।
          विश्वकर्मा भगवन भी एक हिंदू देवता है। लेकिन विश्वकर्मा पूजा हमेशा 17 सितंबर ग्रेगोरीयन कैलेंडर के दिन मनाई जाती है
          क्यूकी त्योहारों में से अधिकांश उसी तिथि पर नहीं गिरते हैं क्योंकि वे चंद्र कैलेंडर और ग्रहों की स्थिति पर निर्भर हैं। लेकिन विश्वकर्मा पूजा को 17 सितंबर को मनाया जाता है क्योंकि यह सूर्य के पारगमन पर आधारित है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *