साक्षी मलिक की जीवनी जीवन परिचय Sakshi Malik Biography in Hindi


Sakshi Malik Biography in Hindi 

साक्षी मलिक की जीवनी जीवन परिचय

सफलता किसे अच्छी नही लगती है और जब वो सफलता हमारे मन मुताबिक हो तो ख़ुशी दोगुनी हो जाती है इसी कड़ी में साक्षी मलिक का भी नाम जुड़ गया जिन्होंने अपने मेहनत और परिश्रम के दम पर वो कर दिखया जिसे करना हर इंसान का सपना होता है

तो आइए जानते है साक्षी मलिक और उनकी सफलता के बारे में जिनके चर्चे आज हर भारतीय कर रहा है

साक्षी मालिक का जीवन परिचय 

 Sakshi Malik Biography in Hindi

Sakshi-Malik- saflta ka ek naya nam

साक्षी मलिक ने इस बार भारत के तरफ से खेलते हुए रियो ओलम्पिक खेलो में पहलवानी यानि रेसलिंग का दम दिखाते हुए कास्य पदक जीतकर एक नया इतिहास रच दिया जो की अपने आप में एक अद्भुत मिशाल है और इस तरह ओलम्पिक खेलो में पदक जितने वाली पहली महिला पहलवान बन गयी है

साक्षी मलिक के पिता सुखबीर मलिक जो की भारत के हरियाणा राज्य के रोहतक के रहने वाले है और भारत की राजधानी नयी दिल्ली में डीटीसी (दिल्ली ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन) में कंडक्टर की नौकरी करते है और साक्षी मालिक की माँ सुदेश मलिक रोहतक में आंगनबाड़ी में कार्य करती है

साक्षी मलिक के बारे में | Sakshi Malik Biography in Hindi

नाम साक्षी मलिक | Sakshi Malik
जन्म 03-Sep-1992
जन्म स्थान  गाव- मोखरा, जिला – रोहतक , राज्य – हरियाणा – भारत
पिता सुखबीर मलिक | Sukhbir Malik
माता सुदेश मलिक | Sudesh Malik
कोच ईश्वर दहिया | Ishwar Dahiya
करियर पहलवानी | Wrestling
रेसलिंग केटेगरी 58 KGS
आदर्श गीता फोगाट | Geeta Phogat

 

 

 

Must Read:- गीता फोगट Family Member Geeta Phogat Family Biography जीवन परिचय हिन्दी

साक्षी मलिक को बचपन से ही पहलवानी का शौक था महज 12 साल की उम्र में इन्होंने रेसलिंग यानि पहलनवानी में शुरुआत की, लेकिन हर माँ की तह साक्षी मलिक की माँ भी नहीं चाहती थी की उनकी बेटी साक्षी मालिक पहलवान बने क्यू की वे सोचती थी की पहलवानो में बुद्धि कम होती है

लेकिन सबको क्या पता था की जिसके दादा पहलवान रह चुके है उनकी पोती भी अपने अपने दादा की तरह एक दिन पहलवान बनेगी और और अपने इस कार्य से पूरे गांव के साथ पूरे देश का नाम रोशन करेगी लेकिन साक्षी मलिक ने ऐसा करके दिखा दिया

एक सीख साक्षी मलिक से

A Name of Success

दोस्तों भारत जैसे विकाशील देश में आज भी खेलो को उतना महत्व नहीं दिया जाता है दोस्तों इसका सबसे बड़ा कारण  है गरीबी लेकिन हमारे देश में ऐसे अनेको उदाहरण मिलते है जो की काफी गरीब और हजार दिक्कतों की सामना करते हुए लोग सफलता की एक नयी उचाई लिखते आ रहे है और ऐसा कारनामा साक्षी मलिक ने भी कर दिखाया है जो की अपने आप में बेमिशाल है

यह भी पढ़े-अरुणिमा सिन्हा के बुलन्द हौसलो की कहानी Arunima Sinha Story

साक्षी मलिक भारत के उस राज्य से आती है जहा लड़कियों की जनसख्या का अनुपात लड़को के मुकाबले सबसे कम है फिर भी साक्षी मलिक ने इन सब बातो को नजरअंदाज करते हुए आज सफलता के सर्वोच्च शिखर पर है जो की हर भारतवासी के लिए एक अद्भुत क्षण है

दोस्तों जब साक्षी मलिक प्रैक्टिस करने जाती थी की अक्सर उन्हें लोगो की सुनने को मिलती थी की पहलवानी लड़को का खेल है न की लड़कियों का, जिसका अहसास इनकी माँ को भी थी लेकिन साक्षी मलिक सबकी बातो को नजरअंदाज करते हुए अपने मकसद में लगी रही और वे 2016 के ओलम्पिक में एक नया इतिहास को रचा जिसे अब सभी गौरवन्तित कर रहे है

साक्षी मलिक की इस महान उपलब्धि का अंदाजा इसी से लगाया जा रहा है जहा लोग बेटियो को उतना महत्व नहीं देते है आज पूरे देश में एक ही नारा गूंज रहा है

 ”बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ और और देश के लिए लिए मैडल लाये

दोस्तों ये सच है जब कोई इंसान जब भी कुछ नया करना चाहता है तो निश्चित ही हजार लोग उसे रोकने वाले मिल ही जाते है लेकिन जो लोग सिर्फ अपने एम् पर ध्यान देते है वे निश्चित ही एक दिन सफलता के शिखर पर जरूर जाते है

पढ़े एक और सच्ची कहानी – मलावथ पूर्णा के सफलता की सच्ची कहानी Malavath Poorna Real Story

इसलिए दोस्तों जब भी कोई हमारा दोस्त, रिश्तेदार या अपने गांव, मुहल्ले या देश का कोई भी आगे बढ़ना चाहता है तो सबसे पहले हमारा यही फर्ज बनता है की उसे आगे बढ़ने में हौसला बढ़ाये और एक अच्छे नागरिक होने का पहचान बने

तो आपको ये  पोस्ट कैसा लगा Comment में जरूर बताये

साथ में यह भी पढ़े- 


Share On:-

5 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *