बेटी बचाओ बेटी पढाओ पर प्रेरक हिन्दी निबन्ध | Beti Bacaho Beti Padhao in Hindi

AchhiAdvice.Com की तरफ से आप सभी को दिवाली की ढेर सारी शुभकामनाये

पढ़े - दिवाली से सम्बंधित लेख

रोशनी और प्रकाश का त्यौहार शुभ दीपावली

दिवाली की हार्दिक शुभकामनाये सन्देश Happy Diwali Greetings Massages

दीपावली की शुभकामनाये

धनतेरस पूजा पर विशेष जानकारी, कथा और महत्व | Dhanteras Puja

Facebook पर AchhiAdvice.Com Page Like करने के लिए Click करे !


Beti Bacaho Beti Padhao Inspirational Essay in Hindi

बेटी बचाओ बेटी पढाओ अभियान पर प्रेरित हिंदी निबन्ध

सदियों से हमारे देश भारत में बेटियों को लक्ष्मी देवी का दर्जा दिया जाता रहा है लक्ष्मी यानी धन, ऐश्वर्य  एंव सुख समृधि की देवी जिनके आने से ही से ही घरो में खुशिया आ जाती है पूरा परिवार खुशहाल हो जाता है ठीक उसी प्रकार बेटियों के जन्म से लोगो में अपरम्पार खुशिया होती थी लेकिन समय के बीतने के साथ ही कुछ सामाजिक कुरूतियो के चलते इन सामाजिक कुरूतियो का कोपभाजन इन बेटियों को ही उठाना पड़ा है इन सामाजिक कुरूतियो में दहेज़ प्रथा, बाल विवाह, बेटियों की अशिक्षा, समाज में बराबर का हिस्सा न होना, भूर्ण हत्या, सामजिक शोषण, यौन शोषण जैसे अनेको बुराईयों के चलते आज के समय में अब यही बेटिया इस समाज में खुद को सुरक्षित नही पाती है और इन्ही बुराईयों से इन बेटियों को बचाने के लिए हमारे देश में अनेको प्रयास भी किये जाते रहे है जिसका जीता जागता उदाहरण वर्तमान में बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना / Beti Bacaho Beti Padhao भी है

बेटी बचाओ बेटी पढाओ  पर हिंदी में निबन्ध

Beti Bacaho Beti Padhao Essay in Hindi

हमारे देश में खासकर दहेज़ प्रथा एक ऐसी कुप्रथा है जिसके चलते बेटियों के विवाह में बहुत अधिक धन देना पड़ता है जो की एक गरीब माँ बाप के लिए इस दहेज़ प्रथा को निर्वहन करना आसान नही होता है जिसके चलते बेटियों के जन्म को एक गरीब के लिए अभिशाप माना जाने लगा जिसका दुष्परिणाम यह हुआ की बच्चियों के जन्म या जन्म से पहले ही उन्हें गर्भ में मार दिया जाता है क्यूकी अगर कोई गरीब किसी तरह अपनी बच्ची की परवरिश कर भी दिया तो अप्पने इस प्यारी सी बेटी के शादी के लिए इतने धन कहा से लाएगा और यदि कम धन के चलते किसी तरह अपनी बच्ची की शादी कर भी दिया तो दहेज़ रूपी इस राक्षस के चलते उस बच्ची को दहेज़ के चलते मार या जला दी जाती है यानी हर हाल में इन सामाजिक कुरूतियो का कोपभाजन इन प्यारी बेटियों को ही होना पड़ता है

लेकिन अब इन बेटियों के बचाव और सुरक्षित भविष्य के लिए हमारे देश की सरकारे नई नई योजनाये भी ला रही है जिनमे बेटियों की जीवन रक्षा और उनके जीवन को सुचारू रूप से चलाने के लिए बेटियों की शिक्षा पर जोर दिया जा रहा है जिसे बेटी बचाओ बेटी पढाओ अभियान के नाम से जाना गया है जिसका मुख्य मकसद बेटियों की जीवन की रक्षा के साथ साथ बेटियों को समाज में उचित शिक्षा और एक समान अधिकार भी मिले

बेटी बचाओ बेटी पढाओ अभियान पर एक प्रेरित करने वाली कहानी

Beti Bacaho Beti Padhao Ek Kahani in Hindi

हमारे देश में किसी मुद्दे की बात हो और फिल्म जगत इससे कभी अछुता नही रहा है आज आप सबको हम बेटी बचाओ बेटी पढाओ के तहत एक ऐसी कहानी बताने जा रहा हु जिसे सुनकर आप भी खुद को बेटियों के सम्मान करने में पीछे नही रहेगे

एक तरफ जहा आज भी हमारे देश में बेटियों को दहेज़ प्रथा के चलते इन्हें अभिशाप समझा जाता है जिनके जन्म के बाद ही इन्हें कूड़े या कचरे के ढेर पर फेक दिया जाता है लेकिन इन सब से परे हमारे देश में ऐसे महान लोग भी है इन घटनाओ को लोगो के लिए खुद को एक आदर्श के रूप में स्थापित किये हुए है इसी कड़ी में बालीवूड के मशहुर अभिनेता मिथुन चक्रवती का नाम आता है जिन्होंने अपने रियल जीवन में एक ऐसा काम किया है जिनसे आज के माँ बाप प्रेरणा ले सकते है वैसे तो मिथुन के 3 बेटे है लेकिन यह बात उन दिनों की है जब एक दिन मिथुन चक्रवती न्यूजपेपर पढ़ रहे थे की उन्हें एक ऐसे न्यूज़ का पता चला जिसमे लिखा गया था की किसी ने अपनी जन्मजात बच्ची को कूड़े के ढेर में फेक दिया है जिसे कोई भी अपनाना नही चाहता था फिर बिना देर किये मिथुन चक्रवती अपनी पत्नी योगिता बाली के साथ उस स्थान पर पहुच गये और फिर कानूनी प्रकिया पूरी करते हुए उस प्यारी सी बच्ची को माँ बाप के रूप में अपना नाम दिया उअर उस बच्ची को गोद ले लिया जो की हमारे समाज के ऐसे लोग के लिए एक मिशाल है जो जन्म देते ही अपनी जान सी प्यारी बच्चियों को भी कूड़े के ढेर में फेक देते है

लेकिन इन सब से परे मिथुन चक्रवती ने अपने बेटो से भी ज्यादा उस प्यारी बच्ची को अपना प्यार दिया और उनकी अच्छे से परवरिश भी कर रहे है और यही प्यारी बच्ची अब दिशानी चक्रवती / Dishani Chakravarti के नाम से जानी जाती है जो की जल्द ही पढाई पूरी करके अपने पिता के कदमो पर चलते हुए फिल्मो में भी एंट्री कर सकती है

हमने ये कहानी आप सबको इसलिए बताया की अक्सर आप लोग तो फ़िल्मी पर्दे पर हमे ऐसी कहानिया खूब देखने को मिलती है लेकिन वास्तविक जीवन में ऐसा बहुत कम ही देखने को मिलता है जरा सोचिये अगर समाज के ऐसे लोग आगे न आये तो भला इन बच्चियों की परवरिश के लिए कौन जिम्मेदार होंगा कौन इन बच्चियों को पढ़ायेगा.

बेटी बचाओ बेटी पढाओ का महत्व

Beti Bacaho Beti Padhao Ka Mahatva

अक्सर कहा जाता है की “बेटी है तो कल है”, जरा सोचिये अगर हमारे समाज में बेटिया ही नही रहेगी तो फिर मानव जाति का अंत ही हो जायेया, क्यूकी वंश को आगे बढ़ाने के लिए बेटियों का होना आवश्यक है जरा सोचिये बहु तो सब लाना चाहते है लेकिन बेटियों को कोई नही पालना चाहता है यदि सब अपनी बेटियों को ही मार देंगे तो फिर बहु कहा से लायेगे ? यह कथन हमारे समाज की उस सच्चाई को दिखाता है की आज भी इन बेटियों के रूप एक लड़की के जन्म को तिरस्कार के ही रूप में देखा जाता है

एक बाप अपने बेटी की गर्भ में हत्या कराना चाहता है तो सुनिए उस बेटी के मुख से क्या निकलता है “ पापा मुझे मत मारो, मै भी तो आपके इस प्यारे परिवार रूपी बगीचे का एक फूल ही तो हु, भले ही आप मुझे नही चाहते तो कोई नही पापा जरा सोचिये पापा, जैसे मै अपने पैरो पर चलना सीख जाउंगी सबसे पहले मै ही अपने इन नन्हे नन्हे हाथो से आपके लिए दौड़ कर मै ही पानी लाउंगी पापा, आप को जब कोई जरूरत होगी सबसे पहले मै ही आपके दुःख में हाथ बटाउंगी पापा, अप मुझे भले ही मुझे अपनी परी नही बनाकर रखना चाहते है कोई नही पापा, मै तो अपने जीवन के बदले आपसे कभी कुछ न मागूगी और न ही कोई ऐसी इच्छा भी रखुगी जिससे आपको कोई तकलीफ हो, मै तो आप लोगो के लिए जीवन भर सेवा धर्म निभाउंगी, जब तक आपके पास रहूंगी आपको तकलीफ नही आने दूंगी और ससुराल में जाने के बाद भी आपके मान मर्यादा को मै ही आगे हमेसा बढ़ाउंगी पापा, और जब कोई तकलीफ हो पापा मुझे एक बार पुकार लेना मै कही भी रहू दौड़ी चली आउंगी पापा, बस आप मुझे इस दुनिया में आने दो, मुझे आप एक जीवन देंगे और फिर मैं आपके दिए इस जीवन से आपका हमेसा मान बढ़ाउंगी पापा”

भले ही उपरोक्त बाते काल्पनिक हो सकती है लेकिन एक बेटी अपने पूरे जीवन में हमेसा त्यागभाव से सदैव दुसरो की सेवा में तत्पर रहती है

इसलिए हर माता पिता को अपने बेटे और बेटी में कोई फर्क न करते हुए अपनी बेटियों को भी जीवन जीने का अधिकार देना चाहिए और बेटियों को भी शिक्षा जरुर दिलानी चाहिए क्यूकी जब एक बेटी पढ़ती है तो दो परिवार मजबूत होते है

आज के समय में बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना

Beti Bacaho Beti Padhao Yojna in Hindi

वैसे देखा जाय तो बेटी बचाओ बेटी पढाओ कोई एक योजना नही है यह समय के मांग की जरूरत है जिस प्रकार हमारे समाज में चिकित्सा क्षेत्र में नये नये आविष्कार हुए है जिनके चलते अब गर्भ में पता लगा लिया जाता है की जो गर्भ में पल रहा है वह बेटी है या बेटा, अगर बेटी है तो लोग गर्भ में ही बेटियों कोमार दिया जा रहा है जिसके चलते कन्या भ्रूण हत्या में बहुत अधिक वृद्धि आई है जो की एक बहुत चिंताजनक और सोचने वाली बात है आज भी हमारे समाज में यह समझा जाता है अगर बेटा हुआ तो वह पढ़लिखकर परिवार का नाम रोशन करेगा और पानी कमाई से परिवार को आगे बढ़ाएगा लेकिन लोग यह भूल जाते है अगर इन बेटियों को भी उचित शिक्षा और सम्मान मिले तो कभी भी ये बेटिया भी किसी भी क्षेत्र में पीछे नही रहती है

पढ़े – कैसे बनेगा भ्रष्टाचार मुक्त भारत | Corruption Free India Essay in Hindi

इसलिए यदि यह कहा जाय की बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना नही हम सबकी एक जिम्मेदारी है तो इसमें कोई गलत नही है यदि हम सभी एक अच्छे समाज का निर्माण करना चाहते है तो हम सबका यही फर्ज बनता है हम इन बेटियों को भी पढाये और उन्हें इतना सशक्त बनाये की खुद गर्व से कह सके की देखो वह हमारी बेटी है जो इतना बड़ा काम कर रही है खुद को गौरवान्वित करने वाली बात होंगी

तो आप सभी को यह निबन्ध बेटी बचाओ बेटी पढाओ पर प्रेरक हिन्दी निबन्ध | Beti Bacaho Beti Padhao in Hindi कैसा लगा प्लीज हमे कमेंट बॉक्स में जरुर बताये और हमसे जुड़ने के लिए हमारे Facebook Page AchhiAdvice को भी लाइक जरुर करे

बेटियों पर आधारित इन पोस्ट को जरुर पढ़े :- 

  1. भारत की 10 आदर्श बेटिया Top 10 Ideal Girls Of India
  2. अरुणिमा सिन्हा के बुलन्द हौसलो की कहानी Arunima Sinha Story
  3. मलावथ पूर्णा के सफलता की सच्ची कहानी Malavath Poorna Real Story
  4. माँ के प्यार की 3 प्रेरणादायक कहानी Mothers Love Moral Stories
  5. मातृ दिवस पर विशेष Mother’s Day Special In Hindi Language
  6. अंतराष्ट्रीय महिला दिवस INTERNATIONAL WOMAN DAY IN HINDI
  7. साक्षी मलिक की प्रेरणादायक जीवनी Sakshi Malik Biography in Hindi


One thought on “बेटी बचाओ बेटी पढाओ पर प्रेरक हिन्दी निबन्ध | Beti Bacaho Beti Padhao in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *