मजदूर का बेटा कैसे बना करोडपति की कहानी पीसी मुस्तफा Success Story PC Mustafa

अच्छी बातो, जानकारियों के लिए Facebook पर AchhiAdvice.Com Page Like के लिए Click करे !



विद्यार्थी / Students Exam की तैयारी के लिए इन महत्वपूर्ण Exam Study Tips जरुर पढ़े

परीक्षा में टॉप करने के लिए दस बेहतरीन तरीके

विद्यार्थियों को याद करने के लिए जरुरी बाते


मजदूर के बेटे से करोडपति बनने की कहानी

Success Story PC Mustafa

Kaise Bane Crorepati ki Kahani In Hindi 

कौन कहता है की एक गरीब और मजदूर कभी करोडपति नही बन सकता है अगर मन में अपने कर्तव्य के प्रति सच्ची लगन हो तो एक गरीब का बेटा भी अपने मेहनत के दम पर सफलता की उन बुलन्दियो को छू सकता है जिसकी हम कल्पना भी नही कर पाते है ऐसे हमारे देश में तमाम उदहारण देखने को मिल जायेगे जो अपने मेहनत और अपने निर्णय लेने की क्षमता के दम पर सफलता की सबसे उचाईयो पर पहुच गये है

अक्सर हम टीवी, समाचारपत्र में तमाम लोगो के करोडपति बनने की कहानी और खबर सुनते और देखते है तो सबके मन में जरुर प्रेरणा मिलती है और यह जरुर ख्याल आता है की क्या हम करोडपति नही बन सकते है तो अगर देखेगे तो जो आज के समय में करोडपति बने है वे पैदायशी करोडपति नही होते है उनके बचपन बहुत ही गरीबी में बिता होता है लेकिन मेहनत और खुद के निर्णय लेने की क्षमता ही उन लोगो को आम लोगो से अलग करती है और यही काबलियत उन्हें सफलता के सर्वोच्च शिखर पर ले जाती है

ऐसे हमे हजारो लोग मिल जायेगे जो लोग अपने किस्मत का रोना रोते है और हमारे पास है ही क्या जो कुछ कर पाए ऐसा वाक्य उन लोगो के मुह से सुना जा सकता है जो की कही न कही नकरात्मक मानसिकता / Negative Thinking को दर्शाता है

लेकिन जो लोग अपनी किस्मत की अपेक्षा अपने आप पर विश्वास करते है और खुद निर्णय लेने की क्षमता रखते है ऐसे ही लोग अपने जीवन की शुरुआत तो शून्य यानी गरीबी से जरुर करते है लेकिन अपने मेहनत और लीक से हटकर फैसले लेने और उसपर अमल करने की क्षमता ही ही उन्हें सफलता के सर्वोच्च शिखर पर ले जाती है

हमारे देश में ऐसे तमाम लोग मिल जायेगे जो की ग़रीबी में पैदा जरुर हुए है लेकिन अपने मेहनत के दम पर करोडो के मालिक बनकर हम सभी के लिये सफलता का प्रेरणाश्रोत्र बने है इन्ही सफल लोगो की कहानी / Success Story में पीसी मुस्तफा / PC Mustafa का भी नाम आता है जो की गरीबी में जरुर पैदा हुए है लेकिन आज के समय में मेहनत और लगन के साथ अपने निर्णय लेने की क्षमता के दम पर 100 करोड़ से अधिक टर्नओवर के मालिक है और ऐसा कारनामा करने के लिए किसी को भी पैसा से अधिक अपनी यूनिक आईडिया / Unique Idea  की जरूरत पड़ती है तो आईये जानते है मजदूर के बेटे से करोडपति बनने वाले पीसी मुस्तफा / PC Mustafa की सफलता की कहानी / Success Story जो की कही न कही हमे अपने जीवन में निरासा से आशा की तरफ ले जाती है

मजदूर के बेटे से करोडपति बनने की कहानी पीसी मुस्तफा

Millionaire PC Mustafa Success Story in Hindi

पीसी मुस्तफा / PC Mustafa का जन्म भारत देश के केरल राज्य के एक छोटे से गाव वयनाड / Wayanad में हुआ था वयनाड एक ऐसा गाव था जहा न तो तो बिजली था और न ही लोगो को जाने के लिए सड़के ऐसे में मुस्तफा जब अपने प्राइमरी की पढाई के लिए लगभग 4 किलोमीटर दूर पैदल ही जाना पड़ता था और गाव की ऐसी हालत थी की कबडे स्कूल न होने के कारण लोग आगे की पढाई के बारे में सोचते ही नही थे पीसी मुस्तफा के पिता का नाम अहमद और माता का नाम फातिमा है इनके पिता अहमद जो की कुली का काम करते थे और इनकी माता तो कभी स्कूल भी नही गयी थी ऐसे में पीसी मुस्तफा का MNC Company में काम करना कुछ अद्भुत दिखलाता है पीसी मुस्तफा बचपन से ही गणित पढने का शौक था सब विषयों में सामान्य होने के बावजूद इनकी गणित काफी अच्छी थी और पढाई में मन न लगने कारण जब वे 6 के क्लास में फेल हो गये तो इनके पिता ने स्कूल जाने से मना कर दिया और अपने पिता के साथ कुली के काम में हाथ बटाने लगे लेकिन पीसी मुस्तफा के अध्यापक के कहने पर पीसी मुस्तफा ने दुबारा पढाई शुरू की

और पीसी मुस्तफा के जीवन यही Turning Point था जो की उनके अध्यापक उनके लिए प्रेरणा के श्रोत्र बने और उनके गणित के अध्यापक ने पीसी मुस्तफा से पूछा की तुम क्या बनना चाहते हो एक कुली या या हमारी तरह एक शिक्षक, इस पर पीसी मुस्तफा ने अपने पिता और अपने शिक्षक के बारे में सोचते हुए बोले की मुझे शिक्षक बनना है लेकिन पीसी मुस्तफा ने अपने मेंहनत के दम पर सातवी कक्षा में पूरे क्लास में टॉप किया जिसे देखकर हर कोई आश्चर्यचकित हो गया और फिर इसके बाद पीसी मुस्तफा ने अपने सफलता के कदम में काफी पीछे मुडकर नही देखे

फिर हाईस्कूल की परीक्षा में टॉप करने के बाद पीसी मुस्तफा ने इजीनियरिंग की पढाई के लिए प्रवेशपरीक्षा दिया जहा उन्हें 63वा रैंक मिला और फिर कोझिकोड के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी / NIT में प्रवेश किया

इसके बाद पीसी मुस्तफा ने जब अपनी इंजिनियरिंग की पढाई पूरी की तो पढाई के बाद उन्हें बंगलुरु में अमेरिका की कम्पनी मोटोरोला / Motorola में जॉब मिल गया जहा कम्पनी के एक प्रोजेक्ट के पीसी मुस्तफा को ब्रिटेन भेज दिया गया लेकिन कुछ अलग करने की चाहत रखने वाले पीसी मुस्तफा का मन वहा नही लगा जिसे पीसी मुस्तफा ने मोटोरोला / Motorola कम्पनी की जॉब छोडकर दुबई चले गये और फिर वह सिटी बैंक / City Bank के Technology Department में 7 साल तक नौकरी किया और इसके पश्चात एक बार अपनी कम्पनी की जॉब छोडकर वापस वे भारत लौट आये और MBA करने की ठानी जिसके लिए IIM बंगलुरु यूनिवर्सिटी में प्रवेश लिया

loading...

और फिर जब छुट्टी में पीसी मुस्तफा बिताने अपने भाईयो के पास जाते तो देखते थे की उनके भाईयो के दुकान से कुछ महिलाये इडली डोसा बनाने के लिए पैक आटे का पेस्ट ले जाती थी जो की एक तरह से पैक फ़ूड था और यही से पीसी मुस्तफा के दिमाग में Pack Food का आईडिया आया जो की आगे चलकर एक बिजनेस / Business का रूप लिया

फिर पीसी मुस्तफा ने बिना देरी किये अपने नौकरी से बचाए हुए पैसो से 2005 में अपनी अपनी आईडिया का उपयोग करते हुए बिना Chemical के Natural Batter बनाकर बेचना शुरू किया जिसके लिए पीसी मुस्तफा खुद अपने भाईयो के सैंपल लेकर लोगो में प्रचार करते थे जिसके कारण अच्छी और नेचुरल होने के कारण जल्द ही मार्केट में इसे पसंद किया जाने लगा

और फिर यही से पीसी मुस्तफा के करोडपति बनने का सफर शुरू होता है और फिर 2008 में अपने काम को कम्पनी का रूप दिया जिसे मार्केट में ID Special Foods Pvt. Ltd. के नाम से जाना गया शुरूआती दिनों में पीसी मुस्तफा लगभग २० स्टोर में 100 पैकेट बनाकर डिलीवरी करते थे लेकिन जैसे जैसे मार्केट में इनके रेडी प्रोडक्ट को पसंद किया जाने लगा और फिर 2010 तक आते आते रोज लगभग 2000 Packed Batter की सप्लाई करने लगे और पीसी मुस्तफा की ID Special Foods Pvt. Ltd कम्पनी की लगातार वृद्धि को देखते हुए 2014 में हेलियन वेंचर पार्टनर्स ने 35 करोड़ रूपये का निवेश किया इस तरह पीसी मुस्तफा की कम्पनी लगभग 62 करोड़ की हो गयी इस तरह एक कुली के बेटे से करोडपति बनने वाले पीसी मुस्तफा का अब यही सपना है की उनकी कम्पनी जल्द ही 1000 करोड़ के टर्नओवर को भी पार कर लेगी

और वतर्मान में पीसी मुस्तफा की ID Special Foods Pvt. Ltd / आईडी फ्रेश कम्पनी के साथ कारखाने है और जिसमे 1000 लोगो से ज्यादा कार्यरत है और जिसमे प्रतिदिन 50000 किलो इडली डोसा का घोल तैयार किया जाता है इससे एक कदम आगे बढ़ते हुए पीसी मुस्तफा ने मालाबार पराठा और कई प्रकार की चटनियो का निर्माण शुरू कर दिया है जो की अब दक्षिण भारत के घर घर में अपना एक अलग पहचान बना चुकी है

तो देखा हम सबने की कैसे एक कुली का बेटा भी करोडो की कम्पनी अपने दम पर खड़ा कर सकता है किसी को भी अगर आज के समय में खुद को मार्केट में लाना है तो अपने आप में खुद की पहचान होनी चाहिए और जब बात गुणवत्ता की हो तो वही लोग मार्केट में अपना नाम कमा पाते है जिनमे नेचुरल क्वालिटी होती है और बिज़नेस में पीसी मुस्तफा ने सिद्ध करके दिखाया है की अगर हम लोगो को एक अच्छी क्वालिटी प्रोडक्ट देते है फिर हमे अपने बिजनेस में आगे बढ़ने से कोई भी नही रोक सकता है चाहे हमारी बिजनेस की शुरुआत नुक्कड़ के किसी एक छोटे दुकान से क्यू ही नही की गयी हो

पीसी मुस्तफा का मानना है की अगर आपके पास कोई भी आईडिया है जो की खुद की सोच से हो और अगर आप अपने आईडिया पर काम करते है तो निश्चित ही अपने Idea को आगे वास्तविक मूर्त देने के लिए इसे अपना Hobby बनाते हुए इसे Business के तौर पर शुरू कर सकते है शुरू में लोगो को थोडा अटपटा लग सकता है कोई भी सोच सकता है की आप इतनी पढाई करने के बाद जब इडली डोसा ही बनाना था तो पढाई ही क्यू किये लेकिन लोगो पर मत जाईये की लोगो का काम ही बोलना, सोचिये अगर पढ़लिखकर बिज़नेस शुरू करते है तो आप अपने पढाई का पूरा लाभ अपने Business Growth में लगा सकते है इसलिए अगर खुद पर विश्वास है तो दुसरो के बारे में मत सोचिये की कोई क्या सोचेगा, अपने आईडिया को कल पर न छोड़कर आज से ही अपने शुरू कर दे तो सारे सफलता के मार्ग खुलते चले जायेगे बस इस बात का ध्यान जरुर रखे की कभी भी अपने बिजनेस में क्वालिटी और गुणवत्ता से कोई भी समझौता न करे फिर सफलता आपके कदमो को चूमेगी

यह पोस्ट केवल लोगो को प्रेरित करने के लिए लिखा गया है की किस प्रकार शून्य से भी शुरुआत किया जा सकता है अगर यह प्रेरित करने वाला लेख आपको पसंद आया हो तो विचारो को हमे कमेन्ट बॉक्स में जरुर बताये

कुछ और प्रेरित करने वाले लेखो को पढना न भूले


loading...

5 thoughts on “मजदूर का बेटा कैसे बना करोडपति की कहानी पीसी मुस्तफा Success Story PC Mustafa

  1. प्रेरक प्रस्तुति …ऐसे लोगों से ही जबरदस्त प्रेरणा मिलती हैं औरो को ….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *