सकरात्मक विचारो की शक्ति

अच्छी बातो, जानकारियों के लिए Facebook पर AchhiAdvice.Com Page Like के लिए Click करे !



विद्यार्थी / Students Exam की तैयारी के लिए इन महत्वपूर्ण Exam Study Tips जरुर पढ़े

परीक्षा में टॉप करने के लिए दस बेहतरीन तरीके

विद्यार्थियों को याद करने के लिए जरुरी बाते

जॉब इंटरव्यू कैसे दे जाने हिंदी में


Power of Positive Think Hindi Story

power-of-positive-thinking

सकरात्मक सोच की शक्ति

एक बार की बात है एक महात्मा किसी गाव के पास ठहरे महात्मा की प्रसिद्धि की चर्चा दूर दूर तक फैली हुई थी जिनके आगमन के बारे में जानकर गाववालो ने महात्मा जी के दर्शन का मन बनाया और इसके बाद सभी गाववाले महात्माजी के पास पहुच गये

तो गाववालो के आने की बात सुनकर महात्माजी बहुत खुश हुए और थोड़ी देर बाद महात्मा जी तैयार होकर गाववालो के सामने उपस्थित हुए महात्मा जी के ललाट पर तेज था जिसे देखकर सभी अत्यंत प्रसन्न हुए और सबने प्रार्थना किया की हे महात्मा आप हमे ज्ञान की कुछ अच्छी बाते बताईये, तो गाववालो के कहने पर महात्मा जी बोले ठीक है आप लोग बैठ जाईये और जिसको जो पूछना है पूछ सकता है इसके बाद महात्मा जी अपने सिंहासन पर बैठ गये

तो उन गाववालो में से एक व्यक्ति महात्मा जी पूछता है की हे महाराज आप ही बताईए की हम सभी अपने दुखो और चिन्ताओ से कैसे छुटकारा पा सकते है तो महात्मा जी ने एक अपनी गठरी मगाया और गठरी को अपने हाथ में उठाकर बोले की आप लोग बताये की इस गठरी का वजन कितना होगा तो सबने अपने अपने हिसाब से उस गठरी का वजन बताया

तो सबकी बात सुनकर महात्मा जी ने कहा की देखो गठरी का वजन चाहे कितना भी हो कोई फर्क नही पड़ता है फर्क तो सिर्फ इस बात का पड़ता है की इस गठरी को मै इसे कितने समय तक अपने हाथ में उठाये रखता हु

अगर इसे मै अपने हाथ में एक मिनट तक उठाये रखता हु तो कोई फर्क नही पड़ेगा लेकिन अगर इसी गठरी को अपने हाथो में घंटो तक उठाये रखता हु तो हो सकता है की मेरा हाथ दर्द करने लगे और देर तक उठाने से मेरा हाथ अकड भी जाए

लेकिन सोचो अगर इसे मै सारे दिन या हर दिन इस गठरी को उठाये रखता हु तो निश्चित ही मै दर्द और परेशानी में पड़ सकता हु और ऐसा करने से मेरे हाथ कमजोर होकर अपाहिज हो सकते है और हाथ उठाने में असमर्थ भी हो सकते है

तो आप सभी बताईये की इन सभी परिस्थितियों में क्या गठरी का वजन कम हुआ शायद नही, ठीक उसी प्रकार यदि हम अपने जीवन में भी गठरी रुपी दुःख और चिंता को लेकर परेशान रहे तो क्या हमारी दुःख और चिंता कभी कम होगी क्या, शायद कभी नही, हा लेकिन हम सभी अपने दुःख और चिंता को अपने पास कुछ समय तक ही रखे तो हमे उतना कष्ट नही होगा जितना की हम अपने दुखो और चिन्ताओ को जिन्दगी भर ढोते रहे,

इसलिए हमे अपने जीवन में कभी भी चिंता के साथ अपना जीवन कष्टमय नही बनाना चाहिए और यदि हम सब Positive Thinking के साथ अपना जीवन व्यतीत करे तो निश्चित ही अपना जीवन सुखमय बना सकते है

सीख –

दोस्तों अक्सर हम सभी के साथ ऐसा होता है की अगर हमारे जीवन में थोडा सा भी दुःख आता है तो उस दुःख के कारण अत्यंत चिंतित हो जाते है और अपना सारा कामधाम छोड़कर बस उसी दुखो की चिंता लिए फिरते है जिसके कारण हमारे बने बनाये अनेको काम बिगड़ जाते है इसलिए हमे कभी भी अपने जीवन में अपने दुखो की चिंता नही करनी चाहिए

loading...

दुनिया में आप चाहे किसी को भी देख ले हर एक के जीवन में दुःख कभी न कभी जरुर आते है लेकिन वही व्यक्ति ज्यादा सुखी होता है वो अपने इन दुखो के कारण चिंतित नही रहता है इसलिए हम सभी को अपने जीवन में हमेसा Positive Thoughts के साथ आगे बढ़ते रहना चाहिए क्यू की सकरात्मक सोच की शक्ति से हमारे चिन्ताओ का समूल नाश हो जाता है

आप सभी को जीवन की सोच बदलने वाली Positive Thinking की ये Hindi Kahani कैसा लगा प्लीज हमे जरुर बताईये

Loading...

जीवन की सोच को सकरात्मक दिशा में ले जाने वाली इन हिंदी कहानियो को भी जरुर पढ़े


loading...

7 thoughts on “सकरात्मक विचारो की शक्ति

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *