मिसाइल मैंन अब्दुल कलाम का जीवन परिचय


अब्दुल कलाम का जीवन परिचय /  APJ ABDUL KALAM LIFE BIOGRAPHY –

apj-abdul-kalam-biographyये दुनिया अपार संभावनाओ से भरा पड़ा है ऐसे में अगर हम थोड़ा कुछ भी हासिल कर लेते है तो हमे लगता है की हम अपने जीवन में कितना सफल व्यक्ति है लेकिन याद करिये हमारे देश भारत में अनेक महान विभूतियों ने जन्म लिया और जिन्होंने अपने कर्मो की बदौलत पूरी दुनिया को एक नया रास्ता दिखलाया फिर भी इतना कुछ हासिल करने के बाद भी कभी भी अपनी सादगी को नही त्यागा यही पुरुष महान कहलाये उनमे से एक नाम आता है अब्दुल कलाम का जिन्होंने अपने कार्यो से दुनिया को एक नई रास्ता प्रदान किया. तो आईये आज महान व्यक्ति को नमन करते हुए इनके जीवन से जुडी कुछ बातो को जानते है

एक परिचय – अब्दुल कलाम / APJ Abdul Kalm Introduction –

अब्दुल कलाम का जन्म 15 अक्टूबर 1931 को तमिलनाडु के रामेश्वरम में धनुषकोडी गाँव में हुआ था इनके पिता का नाम जैनुलाब्दीन / Jainulabudeen  था जो की ज्यादा पढ़े लिखे नही थे और ज्यादा धन दौलत वाले भी नही थे यानी अब्दुल कलाम का बचपन बहुत ही गरीबी में बिता था अब्दुल कलाम पाँच भाई और पाँच बहन थे इनका पूरा परिवार एक साथ रहता था सयुंक्त परिवार के कारण अब्दुल कलाम के ऊपर इनके पिता का बहुत अधिक प्रभाव पड़ा इनके संस्कार के सारे गुण इनके पिता और इनके परिवार से ही मिला था

अब्दुल कलाम की प्रारम्भिक पढ़ाई रामेश्वरम में प्राथमिक पाठशाला में हुई थी अब्दुल कलाम अपनी पढ़ाई के साथ साथ घर की आर्थिक में सहायता देने के लिए ये समाचार पत्रो को भी बेचा करते थे.

पढ़े- एपीजे अब्दुल कलाम के प्रेरित करने वाले कुछ महान विचार

अब्दुल कलाम की आगे स्नातक की की पढ़ाई 1958 में मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलजी से किया जहा उन्होंने अंतरिक्ष विज्ञान में स्नातक की उपाधि प्राप्त किया इसके बाद अब्दुल कलाम ने भारतीय रक्षा अनुसंधान एवं विकास संस्थान (DRDO) में प्रवेश किया

अब्दुल कलाम का वैज्ञानिक जीवन / Scientist Life of Abdul Kalam – 

इसके पश्चात १९६२ में उन्होंने भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन में प्रवेश किया जहां उन्होंने अपने अथक मेहनत के बल पर कई उपग्रहों का निर्माण कराया और इनका सफलतापूर्वक इनका प्रक्षेपण भी कराया इनके ही देखरेख में भारत के प्रथम स्वदेशी उपग्रह एसएलवी3 (SLV3) जिसे पृथ्वी के नाम से भी जाना जाता है सम्पन्न हुआ और इसे सफलतापूर्वक सम्प्पन कराये.

इसके बाद इसरो के निदेशक पद पर रहते हुए वैज्ञानिक रम्मना के साथ मिलकर भारत के पहले परमाणु परीक्षण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई इसके बाद अनेक मिसाइल का निर्माण किया जिसके कारण इन्हें मिसाइल मैंन के नाम से भी जाना जाता है 

अब्दुल कलाम एक ऐसे सख्स थे जो कुरान और गीता दोनों का अध्धयन करते थे इन्होंने अपना पूरा जीवन एक अनुशासित जीवन जीया, अब्दुल कलाम की सबसे बड़ी यही ख्वाहिश थी भारत 2020 तक पूरे विश्व में एक विकसित राष्ट्र बने

अब्दुल कलाम अपने पूरे जीवन में अनेक वैज्ञनिक कार्य किये इनके द्वारा पोखरण में दूसरी बार 1998 में परमाणु परीक्षण से भारत विश्व का परमाणु सम्प्पन राष्ट्र बन गया

अब्दुल कलाम को भारतीय मिसाइलों का जनक भी कहा जाता है जिसके तहत अब्दुल कलाम ने अनेक मिसाइल बनाये जो की भारत के रक्षा एक दिवार की तरह खड़े हो गए जिसके कारण इन्हें मिसाइल मैन ( Missile Man ) के नाम से जाने जाना लगा 

अब्दुल कलाम का राजनितिक जीवन / Political Life of Abdul Kalam – 

अब्दुल कलाम की अभूतपूर्व उपलब्धियों के कारण ही 2002 में इन्हें भारत के ग्यारहवे राष्ट्रपति बनने का अवसर प्राप्त हुआ फिर 18 जुलाई 2002 को डॉक्टर अब्दुल कलाम को नब्बे प्रतिशत बहुमत द्वारा भारत का राष्ट्रपति चुना गया राष्ट्रपति पद पर रहते हुए अब्दुल कलाम ने सामाजिक कार्यो में भाग लिया जिसके कारण इन्हें जनता का राष्ट्रपति भी कहा जाता है अपने इस कार्यकाल के दौरान ही भारत को 2020 तक विकसित भारत बनने का रास्ता भी दिखलाया लेकिन अब्दुल कलाम राष्ट्रपति होते हुए भी अपनी सादगी कभी नही छोड़ी और बहुत अनुसासन प्रिय जीवन बिताया और फिर इनका कार्याकाल 25 जुलाई 2007 को समाप्त हुआ जिसके पश्चात इन्होंने राजनितिक जीवन से सन्याश लेकर फिर से सामाजिक कार्यो में जुट गए

अब्दुल कलाम इसके बाद एक बार वे फिर अपने लेखन कार्यो में जुट गए और कई यूनिवर्सिटी में जैसे  कलाम भारतीय प्रबंधन संस्थान शिलोंग, भारतीय प्रबंधन संस्थान अहमदाबाद, भारतीय प्रबंधन संस्थान इंदौर व भारतीय विज्ञान संस्थान,बैंगलोर के विजिटिंग प्रोफेसर बन गए और फिर बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी से भी सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में पढ़ाया और भारत भर में कई अन्य शैक्षणिक संस्थानों और अनुसंधान संस्थानों में सहायक भी बन गए।

अब्दुल कलाम के अनमोल विचार / Thoughts of  Abdul Kalam –

अब्दुल कलाम की सोच विकाश और युवाओ पर केंद्रित था इनका मानना था की यदि हमारी युवा पीढ़ी अगर विकसित होगी तो फिर हमे विसकती राष्ट्र बनने से कोई रोक नही सकता है इनकी लोकप्रियता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है अब्दुल कलाम कही भी जाते इनके कार्यक्रम में युवा वर्ग जरूर रहता था 

कलाम चाहते थे की युवाओ का अधिक से अधिक विकास हो जिससे एक बेहतर समाज का निर्माण किया सकता है

अब्दुल कलाम का कहना था – ”सपने देखना अच्छी बात है लेकिन इन सपनो को पूरा करने के लिए नीद खो देना सबसे बड़ी बात है”

यानि अब्दुल कलाम कलाम चाहते थे युवा अपने देश के विकास के लिए रात दिन एक कर दे तो निश्चित ही हम दुनिया के सबसे सम्पन्न राष्ट्र बना सकते है

अब्दुल कलाम का निधन –

अब्दुल कलाम 27 जुलाई 2015 की शाम भारतीय प्रबंधन संस्थान शिलोंग में ‘रहने योग्य ग्रह’ पर एक व्याख्यान दे रहे थे तभी अचानक इन्हें दिल का दौरा पढ़ा और अचानक गिर पड़े जिसके बाद बेहोश होने पर इन्हें तुरन्त अस्पताल में भर्ती कराया गया जहा पर डॉक्टरों ने चेकअप के बाद इन्हें मृत घोसित कर दिया

ये वही वक़्त था जब भारत का हर नागरिक इनके लिए रोया था और इस प्रकार अब्दुल कलाम हम सबको छोड़कर इस दुनिया से विदा ले लिया अब्दुल कलाम जाते जाते हर भारतीयों को प्रेरणा के लिए एक श्रोत्र बन गए, एक गरीब मछुवारे के बेटे से राष्ट्रपति तक का सफर करने वाले अब्दुल कलाम का जीवन सबको प्रेरणा देती है.

कुछ महान हस्तियों की जीवनी पढ़े – 


जीवन की सोच को Positive बनाने वाले इन पोस्ट को भी जरुर पढ़े / Read Life Changing Quotes ........ एपीजे अब्दुल कलाम के प्रेरित करने वाले कुछ महान विचार

Life me Khud ko Kaise Success Banaye

सफलता के प्रेरणादायी और अच्छे विचार

जीवन में सफल होने के लिए सात कुछ अच्छी आदते

जीवन का लक्ष्य एक अच्छी कहानी

सफलता के अनमोल बाते और अनमोल विचार हिंदी में

5 thoughts on “मिसाइल मैंन अब्दुल कलाम का जीवन परिचय

  1. अब्दुल कलाम जी के जीवनी से हम जितना भी सिखें कम है। शेयर करने के लिए धन्यवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *