आत्मसम्मान की भावना एक अच्छी कहानी Self Respect Hindi Kahani

AchhiAdvice.Com Facebook Group से जुड़ने के लिए Click करे !


Facebook पर AchhiAdvice.Com Page Like करने के लिए Click करे !



विद्यार्थी / Students Exam की तैयारी के लिए इन महत्वपूर्ण Exam Study Tips जरुर पढ़े

परीक्षा में टॉप करने के लिए दस बेहतरीन तरीके

विद्यार्थियों को याद करने के लिए जरुरी बाते

जॉब इंटरव्यू कैसे दे जाने हिंदी में

"पढाई के लिए टाईमटेबल कैसे बनाये Study Time Table Kaise Banaye"


रामू का आत्मसम्मान की भावना की कहानी / Self Respect Achhi kahani –

self-respectरामू बहुत ही गरीब लड़का था उसके माता पिता की पूरी जिन्दगी हमेशा गरीबी में ही बीती जिसके चलते रामू की पढाई लिखाई नही हो पायी रामू के माँ बाप बहुत ही बूढ़े और गरीबी से लाचार थे जिसके चलते रामू अपने माँ बाप की आर्थिक सहायता के लिए वह शहर के एक सडक के किनारे जूते पॉलिश किया करता था जिससे उसकी थोड़ी बहुत ही आमदनी हो जाती है जिसके चलते उन कमाए पैसे से रामू का घर चलता था

रामू बचपन से ही बहुत मेहनती और ईमानदार था वह शहर के बड़े बड़े इमारतो को देखता था उसे भी लगता था की उसकी भी गरीबी एक दिन जरुर खत्म होगी और वह अपने माता पिता की अच्छी जिन्दगी जीने में सहायता करेगा यही सब सोचकर रामू अपने अपने जूते पॉलिश की दूकान पर खूब मेहनत करता था लेकीन वह कभी भी अपने ग्राहकों से अपने मेहनत के पैसो से ज्यादा पैसा कभी नही लेता था जिसके चलते उसके दूकान पर खूब भीड़ होती थी सभी रामू के व्यवहार से खुश रहते थे

एक दिन की बात है रोज की तरह आज भी रामू अपने घर से अपने दुकान के लिए जल्दी से निकल गया और फिर अपना दूकान खोलकर ग्राहकों की प्रतीक्षा करने लगा इसी बीच उसके दूकान के पास एक बड़ी सी गाडी आकर रुकी और उस गाडी में से एक कोट वाले साहब निकले जो की रोज की तरह अपने ऑफिस जा रहे थे सो उन्होंने रामू के पास बोला की मेरे जूते खूब अच्छे से चमका दो क्यू की आज हमारे कम्पनी में बहुत बड़ी मीटिंग है

पढ़े हिंदी कहानी  – मुसीबत में कभी भी हिम्मत न हारना

तो रामू भी फटाफट उन साहब के जूते पॉलिश कर दिया जिससे खुश होकर उस साहब ने 500 रूपये का नोट थमाया लेकिन रामू के पास तो इतने पैसे कभी एक साथ इक्कठे भी नही हुए थे और न ही रामू के पास उस समय छुट्टे पैसे भी थे की वह अपने पैसे काटकर बाकि पैसे लौटा सके

तो यह बात रामू उस साहब से बताया की की उसके पास तो छुट्टे पैसे नही है तो वह साहब थोडा जल्दी में थे बोले की अभी तो मेरे पास भी छुट्टे पैसे नही है इसलिए तुम पूरे पैसे को ले लो

एक कहानी – लालच का फल हमेसा बुरा होता है

तो रामू तुरंत बोल पड़ा साहब हम गरीब जरुर है लेकिन मेहनत करके पैसा कमाना चाहते है अगर आप ने मुझे एक बार इन पैसो को दे दिया तो हमे यह पैसा कमाने का तरीका तो आसान लग सकता है लेकिन यह ठीक नही है इससे हर कोई मेहनत करना ही छोड़ देंगा लोग बस दुसरो के अहसान के बदले जीना सीख जायेगे और मै ऐसा नही चाहूँगा सो आप इन पैसो को वापस रख लीजिये और जब अगली बार आना तो मेरे जितने पैसे बनते है उतना दे देना

यह भी पढ़े – धन से बढकर मेहनत की सफलता

loading...

यह बात सुनकर उन साहब की आखे खुल गयी और मन ही मन सोचने लगे की हमने इस लड़के की आत्मसम्मान की भावना को ठेश पंहुचा दिया है इसलिए वे साहब रामू से बोले बेटा तुम अपनी परिस्थिति से गरीब जरुर हो लेकिन अपने आत्मसम्मान की भावना से अमीर हो इसलिए हमे माफ़ करना और इस प्रकार रामू ने अपने कार्यो से एक इन्सान का दिल बदल दिया और फिर वे साहब बार बार यही सोचते रहे की वे अमीर है या वो गरीब लड़का रामू जो गरिब होते भी दिल से अमीर है

सीख –

दोस्तों गरीबी एक ऐसी चीज है जिसे इन्सान के जीवन में कभी न कभी जरुर रहता है लेकिन अगर हम गरीब होते हुए भी अपनी आत्मसम्मान की भावना को कभी भी कम नही होने देना चाहिए क्यू की आत्मसम्मान ही एक ऐसी चीज है जो की इन्सान के इन्सान होने का अहसास कराती है

हो सकता था रामू अपनी गरीबी की परवाह करते हुए साहब के दिए हुए पैसो को ले लेता लेकिन अगर वह उन पैसो को एक बार ले लेता तो जिन्दगी भर उसे उस साहब के अहसानतले रहना पड़ता लेकिन रामू ने अपनी मेहनत और ईमानदारी को हमेशा आगे रखा जिसके चलते वह लोगो का दिल जितने में सफल रहा

यह कहानी हमे यही सिखाती है की हम अपने जीवन में चाहे कितनी ही कठिन दौर से क्यू न गुजर रहे हो लेकिन कभी भी अपने आत्मसम्मान की भावना को कभी नही खोना चाहिए क्यू की अगर हमने अपना एक बार आत्मसम्मान की भावना को खो दिया तो हो सकता है की हमे फिर लोगो के अहसानों के तले अपनी जिन्दगी गुजारनी पड़े

दोस्तों आप सबको यह आत्मसम्मान की भावना की Hindi Kahani कैसा लगा प्लीज हमे जरुर बताये

धन्यवाद दोस्तों

कुछ और प्रेरित करने वाली कहानियो को भी पढ़े 


loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *