थॉमस ऐल्वा एडीसन जीवनी Thomas Alva Edison Biography in Hindi

AchhiAdvice.Com Facebook Group से जुड़ने के लिए Click करे !


Facebook पर AchhiAdvice.Com Page Like करने के लिए Click करे !



विद्यार्थी / Students Exam की तैयारी के लिए इन महत्वपूर्ण Exam Study Tips जरुर पढ़े

परीक्षा में टॉप करने के लिए दस बेहतरीन तरीके

विद्यार्थियों को याद करने के लिए जरुरी बाते

जॉब इंटरव्यू कैसे दे जाने हिंदी में

"पढाई के लिए टाईमटेबल कैसे बनाये Study Time Table Kaise Banaye"


थॉमस ऐल्वा एडीसन / Thomas Alva Edison in Hindi – 

दोस्तों जैसे ही अँधेरा होता है तो हम तुरंत बिजली बोर्ड चालू करते है फिर तुरंत बल्ब के द्वारा चारो तरफ उजाला हो जाता है तो ये हमारे अँधेरे को दूर करने वाली बल्ब का प्रकाश हमे तुरंत अँधेरे से दूर कर देता है लेकिन क्या आपने कभी सोचा है की ये बल्ब किसने बनाया होगा या कैसे पहली बार बना होगा जो हमारे जीवन के अस्तित्व में आया तो शायद हमने कभी इसके बारे में सोचने का वक़्त ही नही मिला हो

जरा सोचिये एक छोटे से बल्ब बनाने में अगर हम आज एक बार असफल हो जाए तो क्या हम दोबारा इसे बनाने का प्रयाश करेगे उत्तर सबका शायद ना में ही हो, क्यूकी आज के ज़माने में जब हम एक बार अगर अपनी जिन्दगी में किसी काम को करने में असफल हो गये तो हमे आगे के सारे रास्ते बंद नजर आने लगते है

लेकिन जरा आप सोचिये इस बल्ब को बनाने में थॉमस ऐल्वा एडीसन 10000 बार से भी ज्यादा हुए फिर भी उन्होंने कभी हार नहीं मानी लेकिन हजारो बार असफल होने के बाद भी महान वैज्ञानिक थॉमस ऐल्वा एडीसन ने अपने जीवन में कभी हार नही मानी और प्रकाश देने वाले बल्ब का आविष्कार किया जो की सबकी जिन्दगी में एक तरह से प्रकाश से भर दिया.

असफलता ही सफलता का नाम थॉमस ऐल्वा एडीसन  

Inspiring Life of Great Scientist Thomas Elva Edison

तो आईये दोस्तों जानते है थॉमस ऐल्वा एडीसन के जीवन और जीवन से जुडी से कुछ बाते –

थॉमस ऐल्वा एडीसनजीवन परिचय

Thomas Elva Edison Biography in Hindi 

थॉमस ऐल्वा एडीसन का जन्म 11 फ़रवरी 1847 ईस्वी को अमेरिका के ओहायो राज्य के मिलैन नगर में हुआ था, थॉमस अल्वा एडिसन को दुनिया में सबसे अधिक आविष्कारक करने वाले के रूप में जाना जाता है

लेकिन सोचो दोस्तों क्या थॉमस ऐल्वा एडीसन बचपन में भी ऐसे थे तो शायद नही, उन्हें बचपन में मंदबुद्धि के रूप में जाना जाता है एक बार तो उनके स्कूल के अध्यापक तो उन्हें स्कूल के ड्रेस और फीस न होने के कारण उन्हें स्कूल से निकाल दिया गया

गरीबी के कारण उनकी माँ ने उन्हें घर पर ही पढ़ाने का निर्णय लिया और जिस बेटा के पीछे माँ की पढाई हो तो उसे अपनि जीवन में सफलता मिलना निश्चित ही है फिर इसके बाद वे Open School से फॉर्म भरकर माँ से ही पढाई करते हुए सारे Exam पास करते गये और माँ द्वारा दी गयी शिक्षा के चलते ही मात्र दस साल की आयु में उन्होंने अपना पहला प्रयोगशाला भी बना लिया था और माँ के द्वारा दी गयी पुस्तको पर अपना प्रयोग करना शुरू कर दिया था

इतना ही नही जब वे बारह साल के थे अपनी माँ की आर्थिक स्थिति सुधराने के लिए वे समाचारपत्रों को  भी बेचना शुरू कर दिए थे इस तरह से वे प्रतिदिन एक डालर कमाने लगे

और फिर आगे चलकर उन्होंने तार कर्मचारी के रूप में नौकरी करने लगे और इन्ही कमाए पैसो से अपना प्रयोग करते थे

एडिसन बचपन से ही माँ की शिक्षा से वे काफी जिज्ञाशु हो गये थे और उनकी सबसे बड़ी खूबी यही थी की जो जानते या मालूम होता तो उसपर प्रयोग करना शुरू कर देते थे ताकि पता चल सके की कही गयी बाते सत्य तो है न

एक बार इनके बचपन में इन्हें बताया गया की कीड़े खाने से ही पक्षी उड़ते है तो उन्होंने जिज्ञासावश इसे सिद्ध करने के लिए वे बगीचे से ढेर सारे कीड़े उठा लाये और उनका घोल बनाकर अपने दोस्त को पिला की शायद उनका दोस्त उड़ने लगे लेकिन इसका उल्टा असर हुआ और वह बीमार हो गया

वैज्ञानिक थॉमस अल्वा एडिसन को आविष्कार के प्रति इनका जूनून को देखकर इन्हें लोग पागल और सनकी कहने लगे थे लेकिन इनकी कभी हार न मानने की प्रवित्ति ही इन्हें महान बनाती है शायद दूसरा कोई होता तो बल्ब का अविष्कार नही हो पाता लेकिन हाजार बार असफल होने के बावजूद भी इन्होने वो कर दिखाया जो शायद इस दुनिया के लिए अद्भुत भेट है पूरी दुनिया आज इन्ही की देंन से प्रकाश से प्रकाशित है

वैज्ञानिक थॉमस अल्वा एडिसन अपने प्रयोगों की खातिर अपने नौकरी तक छोड़ दिए थे जो की एक अदम्य साहस का परिचय दिखता है बचपन में मंदबुद्धि का बालक अपने जीवन काल में 1093 आविष्कारों का जनक बने जो की शायद एक विश्व रिकॉर्ड है इतने अधिक आविष्कार इनके अलावा अब तक किसी ने नही किया है

loading...

दोस्तों थॉमस अल्वा एडिसन का मानना था की अगर हम हजार बार असफल हो रहे है तो इसका मतलब हम कुछ गलत कर रहे है वरना हम पहली ही बार में सफल हो सकते है इसलिए जब हम पहली बार या कितनी बार भी असफल हो रहे है तो हमारे मन में बस यही होना चाहिए की बस एक बार और इसके बाद अब गलती नही करना तो अगर हजार बार असफल होकर भी हम सफलता के कदम चूम सकते है

उनका मानना था की हम किसी से अगर प्रेरणा ले सकते है तो निश्चित ही हम उसे पूरा करने में अपना 100% परिश्रम भी दे सकते है अगर परिश्रम सही से किया जाय तो हजार बार असफल होने के बाद भी हम सफल हो सकते है

और अगर हम अपनी कमजोरियों से हार मान लेते है तो यही हमारी सबसे बड़ी असफलता है जो की कोई भी ऐसा नही चाहेगा यानी असफलता से सीख लेने से ही हम सफलता की ओर बढ़ सकते है 21 अक्टूबर 1879 ई. को एडिसन ने बल्ब विश्व को भेंट किया, और उन्होंने अपने जीवनकाल में ऐसा करके दिखाया जो की मानवता जाति के लिए एक मिशाल है

अगर इन्सान का जन्म हुआ है तो उसे इस दुनिया से एक दिन जाना भी पड़ेगा और यही सार्वभौमिक सत्य है इस महान वैज्ञानिक थॉमस अल्वा एडिसन ने 18 अक्टूबर 1931 को संसार से विदा ली। और जाते जाते पूरी दुनिया को रोशन कर गए.

थॉमस ऐल्वा एडीसन का हमारे जीवन में सीख 

Nice Thoughts With Thomas Elva Edison in Hindi

दोस्तों आज के समय में सोचिये अगर हम कुछ भी करते है तो उसका पहली बार में सौ प्रतिशत अपने पक्ष में परिणाम चाहते है जो की हमारे अनुकूल हो और जिससे हम अपने कार्यो में पहली ही बार में सफल के रूप में जाने जाए लेकिन ऐसा कदापी विरलय लोग कर पाते है

लेकिन अगर हम पहली बार में असफल हो भी गये तो इसका मतलब कदापि ये नही है की अब हम कभी सफल ही नही हो सकते है क्यू की सफलता के पीछे असफलता जरुर होती है

असफलता एक चुनौती

Safalta Ka Mantra

सफलता और असफलता भी एक सिक्के के दो पहलु है अगर हम बार बार असफल हो हो रहे है इसका सीधा मतलब है की हमारे द्वारा कुछ गलत किया जा रहा है जो की हमरे सफलता की राह में रुकावट डाल रही है

तो जो लोग सच में कुछ करना चाहते है वे ही लोग अगर हजार बार असफल हो भी जाये तो भी वे कभी हार नही मानते है और यही उनकी परिश्रम और लगन एक दिन निश्चित सफलता दिलाती है

मान लीजिये हम किसी भी क्षेत्र में अपना सौ प्रतिशत दे रहे है फिर भी हम असफल हो रहे है इसका मतलब हमारे द्वारा कही न कही कोई गलती की जा रही है तो ये वही स्थिति होती है जब हमारे जीवन की सबसे बड़ी परीक्षा होती है

अगर इस समय मन में ठान ले की एक बार और कोशिश करेगे तो निश्चित ही अगली बार पहले की अपेक्षा हम और अच्छा करे फिर भी न सफल हो तो हम खुद से हार माने ही न

क्यू की जैसा कहा भी गया है –

”मन के हारे हार है मन के जीते जीत”

यानी हमने मान की हम जीत नही सकते है तो हमारी सबसे बड़ी हार है इन्सान परिस्थतियो से हार जाए तो आगे जीत भी सकता है लेकीन खुद से मान ले की वह कभी जीत नही सकता तो वो फिर चाहकर भी जीत नही पाता है

तो दोस्तों हम जो भी कुछ अपनी जीवन में बनना चाहते है हो सकता है हमे पहली बार में निराशा हाथ लगती हो लेकिन हमे खुद से कभी हार न मानना चाहिए और फिर से कोशिश एक बार का मन्त्र अपनी जीवन में अपनाना चाहिए फिर तो हमारी सफलता निश्चित ही होंगी

तो दोस्तों आप सबको थॉमस अल्वा एडिसन के बारे में दी गयी जानकारी कैसा लगा कृपया कमेंट बॉक्स में जरुर बताये जो की हमारे उत्साह को भी बढ़ावा देता है

प्रेरित करने वाली महापुरुषों की जीवनी पढ़े – 


loading...

11 thoughts on “थॉमस ऐल्वा एडीसन जीवनी Thomas Alva Edison Biography in Hindi

  1. असफलता ही सफलता का नाम है सच कर दिखाया महान् आविष्कारक ने अन्धकार को उजाले में परिवर्तित कर के..
    आपने बहुत ही सरल ढंग से प्रस्तुत किया हैं विश्व के महान् आविष्कारक एडिसन जी की जीवनी को
    इससे हमें प्रेरणा मिलती हैं की कार्य के प्रति बार बार मिल रही असफलताओ से ना घबराये और असफलता क्यों मिल रही हैं उसके कारण को खोजे और कार्य को करे तो सफलता अवश्य ही कदम चूमेगी
    धन्यवाद आप का ब्लॉग तारीफे काबिल हैं हमेशा ज्ञान से जुडी सामग्री यहाँ प्राप्त होती हैं हम जैसे पाठको को….

  2. धन्यवाद थॉमस ऐल्वा जी जो की आपने पूरी
    दुनिया को रोशन किया।।।
    Thanks

    • थॉमस ऐल्वा एडीसन की कहानी पसंद करने के लिए आपको धन्यवाद

  3. Sochne wali bat hai ki hamare pas to itne examples hai phi bhi ham toot jate hai Aaj hame pata chala ki kami hamare me hi hai. Prakasak ko Bahut Bahut Dhanyabad

    • धीरज बहुत ही अच्छे तरीके से आपने सीखा जो की बहुत ही अच्छी बात है जैसा की आपने कहा की कमी हमारे अंदर ही है तो अगर हम अपनी कमियों को दूर करे तो निश्चित ही हम सभी सफलता के मार्ग पर जा सकते है

  4. कोशिश करनेवाले की कभी हार नहीं होती। बहुत बढ़िया प्रस्तुति।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *