समय का महत्व एक आलसी राजा की कहानी

AchhiAdvice.Com की तरफ से आप सभी को दिवाली की ढेर सारी शुभकामनाये

पढ़े - दिवाली से सम्बंधित लेख

रोशनी और प्रकाश का त्यौहार शुभ दीपावली

दिवाली की हार्दिक शुभकामनाये सन्देश Happy Diwali Greetings Massages

दीपावली की शुभकामनाये

धनतेरस पूजा पर विशेष जानकारी, कथा और महत्व | Dhanteras Puja

Facebook पर AchhiAdvice.Com Page Like करने के लिए Click करे !


Samay ka Mahatv Ek Raja ki Kahani / समय का महत्व एक आलसी राजा की कहानी – raja ka kila

बहुत समय पहले की बात है किसी नगर में एक राजा राज्य करता था वह बहुत ही आलसी था वह अपने राजकाज में ज्यादा ध्यान नही देता था

उसे तो सिर्फ अपने मनोरंजन में समय व्यतीत करना अच्छा लगता था और बाकि समय सिर्फ सोने में ही व्यतीत करता था जिससे उसकी जनता और सिपाही सभी परेशान और चिंतित रहते थे

कई बार उसके मंत्रियो ने उसे समझने की कोशिश भी किये लेकिन वह आगे सब करेगा ऐसा कहकर हर बातो को टाल देता था और फिर जब उसके मंत्री उसके किये गए वादों को याद दिलाते तो फिर से आगे के लिए टाल देता था

वक़्त ऐसे ही बीतता जा रहा था उस राज्य के किले की दीवारे अत्यंत जर्जर हो चुकी थी और कभी भी कोई दुश्मन उस राज्य पर आक्रमण कर सकता था सबने किले की मरमत के लिए कई बार राजा से गुहार लगायी लेकिन आलसी राजा को तो सिर्फ अपने भोग विलास में ही मस्त था उसे तो अपने राज्य की तनिक भी चिंता न थी

वह हर बार की तरह इस बार भी कहकर किले की मरमत की बात को टाल दिया की वह जल्द ही इसके बारे में सोचेगा और फिर किले की मरमत करवाएगा

उस राजा के इस आलसीपन के चर्चे दूर दूर राज्यो तक फ़ैल चुके थे जब पडोसी राज्यो को किले पुराने हो जाने का पता चला तो उसके दुश्मन राज्य ने उस आलसी राजा के राज्य पर आक्रमण करने का मन बना लिए

और मौका देखकर उसके दुश्मनो ने उसके राज्य पर हमला कर दिया

लेकिन आलसी राजा को अब भी कोई सुध नहीं थी वह अपने सैनिको को दुश्मनो का सामना करने के लिए भेजकर वह अपने मनोरंजन में व्यस्त रहा लेकिन जल्द ही उसके सारे सैनिक पराजित हो गए और फिर दुश्मनो ने उसके राज्य के किले को तोड़कर उस पर कब्जा कर लिया और उस आलसी राजा को बन्दी बना लिया

इतना सबकुछ होने के बाद भी उस आलसी राजा को थोड़ा सा भी गम न था और जब उसके दुश्मनो ने उसको उसके जनता के सामने खड़ा किया तो किसी भी जनता ने उसका साथ नहीं दिया

और सबने यही कहा की आलसी राजा के छत्र छाया में रहने से अच्छा है की दुश्मनो के राज्य में ही जीवन बिताये इतना सब बाते सुनकर अब उस आलसी राजा को पछतावा हो रहा था की काश वह समय का महत्व समझकर अपने राज्य पर ध्यान दिया होता और राज्य के हित के लिए काम किया होता तो शायद ये दिन नहीं देखना पड़ता

लेकिन अब पछताने से भी क्या फायदा जब उसने समय का महत्व समझा ही नही तो उसका कोई साथ नही दे सकता है

दोस्तों हमारी जिंदगी में ऐसे तमाम ऐसे अवसर आते है जिस समय हमे उस काम को करे तो हमारा भविष्य अच्छा हो सकता है लेकिन अपने आलसीपन के कारण हम लोग हर काम को कल के लिए टालते रहते है जिससे फिर हमे वो काम करने को मौका ही नहीं मिलता है और हमे अंत में सिर्फ पछतावा ही हासिल होता है

इसलिए दोस्तों हमे समय को बिना गवाये तुरन्त समय का महत्व समझते हुए अपने पास आये अवसर को तुरन्त लाभ उठाना चाहिए और अपने काम को जी जान से उसे उसी वक़्त खत्म करना चाहिए

जैसा की कबीरदास जी ने भी कहा है

”काल करे सो आज कर, आज करे सो अब , पल में प्रलय होएगी,बहुरि करेगा कब”

अर्थात हमे जो कार्य कल करना है उसे आज ही कर ले और जो काम आज करना है उसे हमे बिना समय गवाये तुरन्त अभी कर लेना चाहिए और यदि यही समय निकल गया तो क्या पता इस काम को करने के लिए हमारे पास समय और जिंदगी ही न हो तो सिर्फ हमे अंत में पछतावा ही हासिल हो सकता है

शिक्षा – ”समय को महत्व को समझना ही सबसे बड़ी समझदारी है ”

तो दोस्तों आप सबको ये Raja ki Hindi Kahaniya कैसी लगी Please Comment Box में जरुर बताये

धन्यवाद दोस्तों

साथ में और  Hindi Kahaniya पढ़ने के लिए क्लिक करे –

लालच का फल हमेसा बुरा होता है

जीवन का लक्ष्य एक अच्छी कहानी

निराला का निराला दान

लक्ष्य के प्रति एकाग्रता


12 thoughts on “समय का महत्व एक आलसी राजा की कहानी

  1. कहते है कि जिन्दगी बदलने के लिए लडना पडता है और आसान करने के लिए समझना पडता हैं ।
    वक्त आप का है चाहे तो सोना बना लो और चाहो तो सोने में गुजार दो । Nice story. Thanks.

  2. समय बड़ा बलवान होता हैं, इसके आगे किसी का बस नहीं चलता हैं, आलस्य सबसे बड़ा शत्रु होता हैं, जो आलस्य के वश में हो गया, उनका समय साथ नहीं देता , इस कहानी में आलस्यपन ही राजा को कमजोर दिखाया गया हैं, लेकिन बाद में सदबुद्धि आने पर समय का ज्ञान हुआ ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *