लालच का फल हमेसा बुरा होता है

अच्छीएडवाइस से तरफ से आप सभी को नवरात्री पूजा की हार्दिक शुभकामनाये / AchhiAdvice.Com wishes Happy Navratri to All

नवरात्री पूजा दुर्गा पूजा का त्यौहार के बारे में जरुर पढ़े और जाने / Read About Navratri Puja Special in Hindi



परीक्षा में टॉप करने के लिए दस बेहतरीन तरीके

विद्यार्थियों को याद करने के लिए जरुरी बाते


लालच का फल / Laalch ka Fal Ek Achhi Hindi Kahani –

किसी गाव में एक गरीब किसान रहता है जिसके साथ उसकी पत्नी भी रहती थी किसान तो बहुत इमानदार था लेकिन उसकी पत्नी बहुत ही Lalchi स्वाभाव की थी जिसके कारण वह अपने पति को हमेसा ताने मारती रहती थी की जाओ कुछ कमा के लाओ

बेचारा गरीब किसान रोज रोज अपनी पत्नी की तानो से सुनकर परेशान हो गया था वह दिन भर अपने खेतो में मेहनत करता था फिर भी उसकी पत्नी सोचती की हम एक झटके में कितना अमीर हो जाए की दुनिया की सारी खुशिया मिल जाए

लेकिन किसान बार बार अपनी पत्नी को समझाता था की जो हमें मेहनत करने के बाद हमे मिलेगा उसकी ख़ुशी और Achhi होती है लेकिन उसकी पत्नी कहा समझने वाली थी उसे तो बस अपने लालची स्वाभाव के कारण ये सब Baate उसे समझ में ही नही आती थी

बेचारा गरीब किसान रोज रोज अपनी पत्नी की तानो को सुनकर बहुत दुखी था और वह एक दिन जंगल में लकड़ी काटने चला गया और उस दिन धुप बहुत तेज थी तो किसान धुप और गर्मी की वजह से बहुत जल्दी थक गया और वह आराम करने के लिए एक पेड़ के नीचे बैठ गया और फिर वह अपने पत्नी के बारे में सोचने लगा

इतने में उधर से एक साधू जंगल से गुजर रहे थे तो उन्होंने किसान को देखा तो समझ गये की किसान जरुर परेशान है इसलिए उसके पास गये

साधू किसान के पास पहुचकर तुरंत किसान के बारे में पूछा तो किसान सबसे पहले साधू को प्रणाम किया फिर बोला की नही मै परेशान नही हु बस थक गया हु इसलिए चेहरे पर थोड़ी चिंता जैसी भावना दिख रही होगी

लेकिन साधू ने कहा नही तुम जरूर किसी वजह से परेशान हो इसलिए हमे बताओ शायद मै तुम्हारे किसी काम आ जाऊ तो पहले किसान ने मना किया की ऐसी कोई बात नही है लेकिन साधू के कहने बार बार कहने पर किसान अपने घर और पत्नी की स्थिति के बारे में सब बता दिया

तो साधू ने कहा बस इतनी सी बात है तुम गरीब हो इसलिए यह सब समस्या तुम्हारे साथ है इसलिए मै तुम्हे एक ऐसी थाली दे रहा हु जिसमे अगर रात को जो थाली से मागकर थाली  को ढककर सो जाओगे सुबह उसमे तुम्हारा मागा हुआ चीज जरुर मिलेगा लेकिन तुम्हे इस बात का ध्यान भी रखना होगा की एक रात में एक ही चीज मागना है और यदि एक ही रात में एक से ज्यादा चीजे इस थाली से मागोगे तो अगले दिन इस थाली द्वारा दी गयी सभी चीजे गायब हो जाएगी और और यह थाली भी गायब हो जाएगी और तुम फिर से गरीब हो जाओगे

तो साधू की बात सुनकर किसान बहुत खुश हुआ और मन ही मन सोचा चलो सब चीजे धीरे धीरे हम गरीब से अमीर हो जायेगे और हमारी पत्नी भी खुश रहेगी ऐसा Soch कर किसान ने उस साधू महाराज को धन्यवाद किया और और फिर हसी खुशी अपने घर लौट आया

और उस थाली के बारे में अपनी पत्नी को बताया तो पहले उसकी पत्नी को विश्वास नही हुआ लेकिन किसान के समझाने पर वह मान गयी और रात होने का इन्तजार करने लगी

और जब रात हो गयी तो किसान और उसकी पत्नी ने थाली से सोने के सिक्के मागकर उसे ढककर सो गये और जल्द ही दोनों सो गये

LALACH BURI BALA ACHHIADVICE

और जब अगले दिन सुबह उठे तो देखा की उस थाली में सोने के सिक्के भरे हुए है अब तो किसान और उसकी पत्नी की खुशी का ठिकाना न रहा क्यू की साधू महाराज की बात सच हो गयी थी

अब तो किसान की पत्नी को इतने सारे सोने के सिक्के देखकर उसके मन में और ज्यादा लालच उत्पन्न हो गयी और अब तो वह सुख के सपनो को मन ही मन सजाने लगी और फिर एक रात उसने महल फिर दासी , फिर नौकर चाकर सबकुछ एक एक करके मागने लगी तो हर अगले दिन उसे अपना मनचाहा चीज मिल जाती थी

loading...

अब तो किसान की पत्नी गरीब से अमीर हो चुकी थी और उसके ख़ुशी का ठिकाना ही नही रहता था लेकिन उसके मन की Lalach दिन प्रतिदिन और बढती ही जा रही थी लेकिन किसान उसे बहुत समझाता की हमे इतना सुख सम्पति बहुत है लेकिन वह कहा मानने वाली थी

इस बीच किसान एक दिन जरुरी काम से कही बाहर गया हुआ था और रात को घर वापस नही लौट पाया तो किसान की पत्नी ने उस रात थाली से एक साथ ढेर सारी चीजे मांग ली थी

फिर क्या था अगले दिन साधू महाराज के कथन के अनुसार वह थाली और थाली द्वारा दी गयी शुरू से लेकर अब तक की सभी चीजे गायब हो चुकी थी और किसान की पत्नी फिर से अपने टूटे हुए झोपडी में आ गयी थी

यह सब देखकर वह अब पछताने लगी इतने में किसान भी आ गया और यह सब देखकर उसे समझने में जरा सा भी देर न लगी और अपनी पत्नी को खूब बोला और कहा और करो लालच, लेकिन अब सिर्फ पछताने के सिवा कुछ भी न बचा था

क्यू की जैसा कहा भी गया लालच बुरी बला होती है इन्सान को जल्दी समझ नही आती है और तभी समझ में आती है जब सब कुछ खत्म हो चुका होता है और सिर्फ पछताने ही शेष था

इसलिए अब ”पछताने से भी क्या फायदा जब चिड़िया चुग गयी खेत”

यानी जब जब हमे अपनी Life में सजग रहना पड़ता है तो हम अक्सर यही कहते है चलो सब देख लेंगे और जब सबकुछ अपने हाथ से सबकुछ निकल चुका होता है तो हम सिर्फ पछताते रह जाते है

इसलिए दोस्तों हमे कभी भी लालच नही करना चाहिए क्यू की जब मन में लालच की भावना उत्पन्न हो जाती है तो हमे चाहे कितनी ही चीजे प्राप्त क्यू न हो जाए फिर भी हमे कम ही लगती है

और हमे लगता है उन चीजो को और जल्दी पा ले लेकिन हर चीजो का प्राप्त होना भी एक Time होता है जैसा की हम रोज देखते है की सूर्य अपने ही Time सूर्योदय होता है बरसात अपने ही Time पर होती है फिर हमे हर चीजो को पाने की न जाने की इतनी जल्दी क्यू हो जाती है की जो चीजे हमारे पास होती भी है तो हमे कम ही लगती है इसलिए हमे अपने मन में हमेशा संतोष की भावना रखनी चाहिए

जैसा की कहा भी गया है संतोषम परम सुखम यानी संतोष करना ही सबसे आनंदायक होता है

इसलिए दोस्तों हमे कभी भी अपने मन में लालच की भावना नही लानी चाहिए 

”लालच का फल हमेशा बुरा होता है” 

तो दोस्तों आप सबको ये लालच का फल पर कहानी कैसा लगा Please Comment Box में जरुर बताये

साथ में यह भी पढ़े-

जीवन का लक्ष्य एक अच्छी कहानी

निराला का निराला दान

लक्ष्य के प्रति एकाग्रता

सच्ची दोस्ती

Sachhi Dosti

Bhalai Kabhi Bekar Nahi Jati

Thanks और धन्यवाद आप सभी का दोस्तों ……


loading...

3 thoughts on “लालच का फल हमेसा बुरा होता है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *